विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in Uttarakhand: बुखार से किशोरी की मौत, परिजन समेत अंत्येष्टि में शामिल लोगों को किया क्वारंटीन

कोरोना वायरस के खौफ के बीच हरिद्वार में बुखार से एक किशोरी की मौत का मामला सामने आया है। पुलिस ने किशोरी के परिजनों समेत अंत्येष्टि में शामिल लोगों को होम क्वारंटीन में रहने के लिए कहा है।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चम्पावत

मंगलवार, 31 मार्च 2020

कोरोना का खौफ, ऊपर से हाथियों का उत्पात बस्तिया के किसानों के लिए बना आफत

टनकपुर (चंपावत)। बस्तिया गांव के किसानों के लिए हाथी मुसीबत बन गए हैं। हाथी रोज खेतों में खड़ी फसलों को रौंदकर किसानों की मेहनत पर पानी फेर रहे हैं। समस्या के समाधान के लिए किसान लंबे समय से सोलर फैंसिंग की मांग कर रहे हैं, लेकिन उनकी मांग पर अमल नहीं हो रहा है।
देश भर में इन दिनों कोरोना वायरस के संक्रमण का खौफ बना हुआ है। ऐसे में बस्तिया के किसानों को कोरोना से बचाव के साथ ही हाथियों के झुंड से खेतों में खड़ी फसल बचाना चुनौती बना हुआ है। ग्राम प्रधान कविता धौनी ने बताया कि हाथियों का झुंड पिछले तीन-चार दिनों से शाम होते ही गांव में घुसकर खेतों में खड़ी फसल तबाह कर रहा है। शुक्रवार को भी हाथियों का झुंड शाम करीब साढ़े सात बजे गांव की सीमा में घुस आया। हाथियों ने मान सिंह, सुरेश चंद, नरेंद्र भट्ट, लाल, अमर सिंह, गंगा दत्त की खेत में खड़ी गेहूं की फसल नष्ट की है। उप प्रधान राम सिंह धौनी, पूर्व प्रधान मिलाप सिंह, वार्ड सदस्य सुंदर सिंह आदि ने गांव और जंगल की सीमा पर शीघ्र सोलर फैंसिंग लगाने की मांग की है। संवाद
... और पढ़ें

घाट में फंसे 500 से ज्यादा मजदूरों को भोजन कराया

लोहाघाट (चंपावत)। जिले की सीमा लॉक होने से पिथौरागढ़ से चंपावत की ओर आ रहे पांच सौ से दिहाड़ी मजदूर घाट में फंस गए। घाट में मजदूरों के फंसे होने की सूचना मिलने पर व्यापार मंडल अध्यक्ष भैरव राय के नेतृत्व में सतीश मुरारी, मनोज गर्ग, दीपक ढेक, हितेश मुरारी, क्षतिज जुकरिया, अर्जुन ढेक, भुवन गड़कोटी ने उनके लिए घाट में ही भोजन भिजवाया। व्यापार मंडल ने नगर में भी पिथौरागढ़ को आने वाले और नगर क्षेत्र के मजदूरों व असहाय लोगों को भोजन कराया। एसओ मनीष खत्री ने बताया कि लॉकडाउन के तहत जिले की सीमा को सील कर दिया है। जरूरी सेवा में लगे वाहनों को छोड़कर किसी को सीमा में प्रवेश नहीं होने दिया जा रहा है। संवाद ... और पढ़ें

चंपावत में परफेक्ट लॉकडाउन: वाहन नदारद, बाजार में भीड़ भी हुई कम

चंपावत/लोहाघाट/टनकपुर। कोरोना वायरस संक्रमण को रोकने के लिए लॉकडाउन को चंपावत जिले में अब लोग हाथों हाथ ले रहे हैं। शनिवार को सुबह सात से दोपहर एक बजे तक जरूरी सेवा वाली दुकानें खुले रहने से भीड़भाड़ काफी कम रही। चौपहिया वाहन नदारद रहे। लोगों ने सोशल डिस्टेंसिंग का भी पालन किया। रसोई गैस सिलिंडर लेने गए लोगों से लेकर समितियों में दूध बेंचने वाले ग्रामीणों ने तक सोशल डिस्टेंसिंग को माना।
डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय व एसपी लोकेश्वर सिंह ने बताया कि चंपावत जिले में सब्जियों की अधिकांश दुकानों में मूल्य सूची चस्पा होने से लोगों को वाजिब दामों पर सब्जियां मिल रही हैं। प्रशासन ने मजदूरों को खाद्य सामग्री वितरित कराई। लोहाघाट में एसडीएम आरसी गौतम ने कहा कि बाजार में सब्जी, खाद्य पदार्थों सहित सभी जरूरी वस्तुएं पर्याप्त मात्रा में हैं। टनकपुर में भी शनिवार को सुबह सात से दोपहर एक बजे तक लॉकडाउन में छूट रही। बाजार में जरूरी सामान खरीदने के लिए अब लोगों में भीड़ नजर नहीं आ रही है। लोग एक मीटर की दूरी बनाए रखकर खरीददारी करने लगे हैं।
लोहाघाट में झुंड बना निकल रहे मजदूर
लोहाघाट (चंपावत)। लोहाघाट में सुबह के समय निकल रहे मजदूर व नेपाली लोग सोशल डिस्टेंडिंग का ठीक से पालन नहीं कर रहे हैं। वह झुंड बनाकर एक स्थान में एकत्र हो रहे हैं। व्यापारियों ने ऐसे लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग की जानकारी देने के साथ उन्हें बिना कारण बाजार न आने देने की मांग की है। संवाद
जरूरतमंदों को दो साल का वेतन देंगे विधायक फर्त्याल
लोहाघाट (चंपावत)। कोरोना वायरस के बचाव के लिए जारी लॉकडाउन होने वाले नुकसान से लोगों को राहत देने के लिए लोहाघाट के विधायक पूरन सिंह फर्त्याल ने दो साल का वेतन देने का एलान किया है। कहा कि दो साल के वेतन के रूप में मिलने वाले करीब 10 लाख रुपये की रकम से लोहाघाट विधानसभा क्षेत्र के जरूरतमंद लोगों को राशन किट दिए जाएंगे। संवाद
मथुरा में फंसी हैं दवा लेने गईं मल्ली मादली निवासी हेमा
चंपावत। कोरोना वायरस के संक्रमण को लेकर जारी लॉकडाउन में मल्ली मादली निवासी हेमा पाठक वर्तमान में उत्तर प्रदेश के मथुरा में फंसी हुई हैं। महिला अपने पैर के टखने के आपरेशन के बाद दवाएं लेने के लिए 19 मार्च को मथुरा गईं थी। लेकिन उसके लौटने से पहले ही लॉकडाउन होने के कारण महिला वहीं फंसी रह गईं। हेमा पाठक पत्नी अजय पाठक वर्तमान में गोपश्वर वृंदावन बर्फ फैक्ट्री सुदामा कुटी मथुरा में फंसी है। जहां उनका कोई परिचित और रिश्तेदार नहीं है। उसके दो छोटे बच्चे और अपंग पति चंपावत में उसका इंतजार कर रहे हैं। विधायक प्रतिनिधि दीपक मुरारी ने बताया कि सोशल मीडिया के माध्यम से जानकारी मिलने पर विधायक कैलाश गहतोड़ी ने हेमा को सकुशल वापस लाने के प्रयास शुरू कर दिए हैं। संवाद
... और पढ़ें

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रिहा होंगे सात कैदी

लोहाघाट (चंपावत)। कोरोना के खतरों को देखते हुए अदालत के आदेश पर विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ा जाना है। इसके चलते लोहाघाट न्यायिक बंदीगृह के सात विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है।
न्यायिक बंदीगृह प्रभारी राजस्व उपनिरीक्षक सलमान ने बताया कि विभिन्न मामलों में लोहाघाट बंदीगृह में रखे गए सात विचाराधीन कैदियों का सोमवार को स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है। इन कैदियों को छोड़ने से पूर्व निजी मुचलके भराने के साथ अन्य जरूरी प्रपत्र तैयार कराए जा रहे हैं। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि डीएम के आदेश के बाद इन कैदियों को जमानत पर छह माह के लिए रिहा कर दिया जाएगा।
डॉक्टरों ने सातों विचाराधीन कैदियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण में सभी स्वस्थ पाए गए। बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि सात साल से कम उम्र की सजा वाली धाराओं के आरोपियों को जमानत पर छोड़ा जा रहा है। इसमें वन्यजीव अंग तस्करी, बिजली चोरी, झगड़े आदि के मामले मुख्य रूप से शामिल हैं। फिलहाल न्यायिक बंदीगृह में तीन महिलाएं और 41 पुरुष हैं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन में वृंदावन में फंसी महिला की सकुशल वापसी

चंपावत। विधायक कैलाश गहतोड़ी के प्रयासों से लॉकडाउन के दौरान उत्तर प्रदेश के मथुरा वृंदावन में फंसी चंपावत जिला मुख्यालय की एक महिला की सकुशल वापसी हो सकी है। जिला मुख्यालय के मल्ली मादली त्यारकूड़ा निवासी हेमा पाठक पत्नी अजय पाठक अपने इलाज के लिए वृंदावन गई थी। इस बीच में ही लॉकडाउन होने के कारण वह वहां फंस गई थी। वह किसी अनजान के घर में शरण ठहरी थी। संकट की इस घड़ी में उनके परिजनों की ओर से विधायक गहतोड़ी को संपर्क किया गया। जिस पर विधायक ने अपने स्वयं के खर्चे से 28 मार्च को महिला को रेस्क्यू करने के लिए डीएम से अनुमति लेकर एक प्राइवेट वाहन मथुरा भेज महिला की सकुशल वापसी कराई है। महिला के पति दिव्यांग हैं। उनके दो छोटे-छोटे बच्चे यहां अकेले रह रहे थे। सोमवार को महिला हेमा ने विधायक के घर आकर आभार जताया। विधायक प्रतिनिधि दीपक मुरारी ने बताया कि पीड़िता को पांच हजार रुपये की आर्थिक सहायता भी दी गई है। ... और पढ़ें

जिले का सबसे बड़ा आश्रयस्थल बना भजनपुर जीआईसी

चंपावत/बनबसा। रामदत्त, बच्चू, अंबा, होरी, मोहन, अंबिका, माया सहित 401 खनन मजदूर और अन्य श्रमिक बनबसा के पास भजनपुर इंटर कॉलेज में रविवार से रात काट रहे हैं। कोरोना वायरस के खतरों के बीच दो हॉलों सहित 18 कमरों वाला यह केंद्र मजदूरों के लिए जिले का सबसे बड़ा आश्रयस्थल बन गया है। इन श्रमिकों के लिए 6 भोजनमाता खाना बना रहीं हैं। मजदूरों का कहना है कि यहां उन्हें भोजन तो भरपेट मिल रहा है, मगर काम के बगैर उन्हें दिन काटना दूभर हो रहा है।
चल्थी, चंपावत और टनकपुर क्षेत्र के 400 से अधिक श्रमिकों ने बीते चार दिनों में अपने घरों को जाने की कोशिश की। मजदूरों का कहना है कि पल्ले में पैसा नहीं होने से उन्होंने यहां भूख और अन्य दिक्कत से बचने के लिए पैदल आगे बढ़ने की सोची, लेकिन उन्हें घर जाते वक्त बनबसा में रोक लिया गया। अलग-अलग जत्थों से रविवार शाम तक बनबसा पहुंचे मजदूरों की पूरी व्यवस्था भजनपुर जीआईसी में कर दी गई। प्रधानाचार्य आईडी तिवारी बताते हैं कि मजदूरों के लिए दोनों वक्त के खाने की व्यवस्था भोजनमाताओं के जरिये की गई है। छोटे बच्चों के लिए सोमवार से दूध का प्रबंध भी किया गया है।
मजदूरों के लिए आसरा बना देवीधुरा बाराही धाम
12 मजदूरों के खाने, रहने का किया गया इंतजाम
चंपावत। मां बाराही धाम देवीधुरा के कपाट इस बार नवरात्र में बंद हैं, लेकिन ये धाम मजदूरों के लिए आश्रयस्थल बना है। बिहार और हरिद्वार के 12 मजदूरों के लिए यहां खाने व रहने की व्यवस्था की गई है। शिक्षक डॉ. विपिन चंद्र जोशी अपनी ओर से 15 किलो आटा, चावल, 3 किलो दाल, 3 किलो नमक, 1.5 किलो तेल सहित जरूरी सामग्री की हर रोज व्यवस्था कर रहे हैं। डॉ. जोशी इन मजदूरों को दूर-दूर रहने सहित कोरोना वायरस से बचाव के तरीके भी बता रहे हैं। धाम की ओर से किए गए आग्रह को मानते हुए इन मजदूरों ने अब आगे न जाकर लॉकडाउन तक यहीं रुकने की बात कही है।
पहाड़ से पैदल पहुंचे 40 यात्री टनकपुर में फंसे, जीजीआईसी में ठहराया
टनकपुर (चंपावत)। कोरोना के चलते सीमाएं सील किए जाने से साधन के अभाव में परिवार और बच्चों के साथ पैदल ही गंतव्य को रवाना हुए यात्री रास्तों में फंस गए हैं। सोमवार को पहाड़ से मैदान पहुंचे करीब 40 यात्री टनकपुर में फंसे हैं। प्रशासन ने ऐसे यात्रियों के लिए भोजन और ठहरने की व्यवस्था की है। तहसीलदार खुशबू पांडेय ने बताया क्षेत्र में फंसे यात्री, गरीब और असहाय लोगों के लिए किचन खोला गया है। जहां मुफ्त में खाना खिलाया जा रहा है। उन्होंने बताया कि भोजन के साथ ही राजकीय बालिका इंटर कॉलेज भवन में रहने की भी व्यवस्था की गई है। उधर, बनबसा सीमा पर पहाड़ जाने के लिए पहुंचे 150 यात्रियों को टनकपुर में रहने और खाने की व्यवस्था की गई।
... और पढ़ें

कोरोना की जंग में युवा व्यवसायी मुकेश ने बढ़ाया डॉक्टरों का हौंसला

टनकपुर (चंपावत)। कोरोना का संक्रमण रोकने में जुटे डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों को लोगों के स्वास्थ्य की चिंता है तो कुछ लोग डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों के स्वास्थ्य की भी चिंता कर रहे हैं। शहर के एक युवा व्यवसायी ने ऐसी ही मिसाल पेश की है। उसने वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए अपनी ओर से फेस प्रोटेक्शन इक्विपमेंट (एफपीई) बनाकर डॉक्टरों की टीम को भेंट किए हैं।
इलाज में जुटे डॉक्टरों समेत सहयोग स्वास्थ्यकर्मियों के पास जरूरी संसाधनों की कमी बताई जा रही है। ऐसे में शहर के सीमेंट रोड स्थित खर्कवाल गद्दी मेकर के स्वामी मुकेश खर्कवाल ने डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों को सुरक्षा संसाधन उपलब्ध कराने की ठानी। मुकेश ने डॉक्टर और स्वास्थ्य कर्मियों के लिए अपने खर्च पर एफपीई बनाकर देने की ठानी। मुकेश ने दो दिन में करीब 17 एफपीई बनाकर सोमवार को डॉ. हेमंत शर्मा को सौंपे। मुकेश अभी और एफपीई बना रहा है। स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने मुकेश की पहल को सराहा है। एसीएमओ डॉ. एचएस ह्यांकी, डॉ. वीके जोशी, डॉ. हेमंत शर्मा, डॉ. आफताब अंसारी, डॉ. मानवेंद्र शुक्ल आदि ने कहा कि मदद की ऐसी सोच हर जंग में हौसला बढ़ाती है।
फील्ड में काम कर रहे ज्यादातर कर्मचारियों के पास कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए जरूरी संसाधन नहीं हैं। मुकेश का एफपीई वायरस का संक्रमण रोकने में कारगर रहेगा। हालांकि यह उपकरण प्रामाणिक तो नहीं है, लेकिन सुरक्षा में यह बेहद उपयोगी रहेगा। - डॉ. एचएस ह्यांकी, एसीएमओ चंपावत।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर रिहा होंगे सात कैदी

चिकित्साधिकारी डॉ. हेमंत शर्मा को फेस प्रोटेक्शन इक्यपूमेंट सौंपते युवा व्यवसायी मुकेश खर्कवा?
लोहाघाट (चंपावत)। कोरोना वायरस के खतरों को देखते हुए अदालत के आदेश के बाद विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोडऩे की प्रक्रिया शुरू हो गई है। इसके चलते लोहाघाट न्यायिक बंदीगृह के सात विचाराधीन कैदियों को अंतरिम जमानत पर छोड़ने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी राजस्व उप निरीक्षक सलमान ने बताया कि विभिन्न मामलों में लोहाघाट बंदीगृह में रखे गए सात विचाराधीन कैदियों का सोमवार को स्वास्थ्य परीक्षण कराया गया है। इन कैदियों को छोड़ने से पूर्व निजी मुचलके भराने के साथ अन्य जरूरी प्रपत्र तैयार कराए जा रहे हैं। न्यायिक बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि डीएम के आदेश के बाद इन कैदियों को जमानत पर छह माह के लिए रिहा कर दिया जाएगा। डॉ. एलएम रखोलिया, डॉ. पुष्कर पांगती, वार्डब्वॉय संदीप वर्मा ने सातों विचाराधीन कैदियों का स्वास्थ्य परीक्षण किया। परीक्षण में सभी सातों कैदी स्वस्थ पाए गए। बंदीगृह प्रभारी ने बताया कि ऐसी धाराएं, जिनमें सात साल से कम उम्र की सजा वाली धाराओं के आरोपियों को जमानत पर छोड़ा जा रहा है। इसमें वन्य जीव, बिजली चोरी, झगड़े आदि के मामले मुख्य रूप से शामिल हैं। फिलहाल न्यायिक बंदीगृह में 3 महिलाएं और 41 पुरुष कैदी हैं।  ... और पढ़ें

उत्तराखंड में है जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की कमी

अमर उजाला ब्यूरो चंपावत। प्रदेश के खेल व शिक्षा मंत्री और जिले के प्रभारी मंत्री अरविंद पांडेय ने माना कि उत्तराखंड में वेंटिलेटर, पर्सनल प्रोटेक्शन किट, मास्क सहित जरूरी स्वास्थ्य सुविधाओं की भारी कमी है। बावजूद इसके सरकार कोरोना वायरस (कोविद-19) के खतरे से निपटने के लिए युद्धस्तर पर काम कर रही है। सरकार डॉक्टरों की संख्या बढ़ाने का लिए हालात के हिसाब से तैनाती कर रही है। पिथौरागढ़ जाते वक्त सोमवार को चंपावत के खेतीखान तिराहे में अमर उजाला से बात करते हुए उन्होंने कहा कि कोरोना के खतरों से निपटने के लिए सरकार सबसे कारगर बचाव की प्रणाली सोशल डेस्टेंसिंग का सहारा ले रही है। आवाजाही को पूरी तरह रोकने के लिए सभी जरूरी उपाय किए गए हैं। मंत्री ने कहा कि भूख और बेरोजगार हो चुके मजदूरों को जहां हैं-वहीं रोकने के लिए चंपावत के डीएम को सभी कदम उठाने के निर्देश दिए गए हैं। मजदूरों की भोजन और रहने की समुचित व्यवस्था सरकार कर रही है। इसलिए मजदूरों को कतई चिंतित होने की जरूरत नहीं है। भोजन बनाने के लिए चंपावत सहित पूरे प्रदेश में स्कूलों की भोजन माताओं को लगाया जा रहा है। डीएम सुरेंद्र नारायण पांडेय ने बताया कि जिले की स्थिति पूरी तरह नियंत्रण में है। ... और पढ़ें

फासला रख डॉक्टर कर रहे इलाज

चंपावत। कोरोना वायरस के खतरे के मद्देनजर अब स्वास्थ्य विभाग भी एहतियात बरत कर इलाज कर रहा है। जिला अस्पताल में सामान्य मरीजों के परीक्षण में भी पूरी सावधानी बरती जा रही है। मुख्य चिकित्साधीक्षक डॉ. आरके जोशी ने बताया कि रविवार को 34 लोग सर्दी-जुकाम, खांसी व अन्य दिक्कतों से संबंधित मरीज आए। डॉक्टरों से पसर्नल प्रोटेक्शन किट पहन उपचार करने को कहा गया है। ब्यूरो
आशा वर्कर्स लड़ी गांव से गर्भवती महिला को परीक्षण के लिए लाई
चंपावत। कोरोना वायरस के खतरे से गांवों के स्तर पर सबसे बड़ी जिम्मेदारी आंगनबाड़ी वर्कर्स के साथ आशा की हैं। रविवार को बाराकोट ब्लाक के दूर के गांव तल्ली लड़ी से एक आशा वर्कर्स माया तीन माह की गर्भवती महिला सोनिया देवी को जिला अस्पताल लाई और यहां महिला का परीक्षण कराने के साथ उसे जरूरी इलाज दिया। ब्यूरो
300 लीटर सैनिटाइजर दिया
चंपावत। 55 लाख रुपये की विधायक निधि देने के बाद अब जिले के दोनों विधायक कैलाश गहतोड़ी और पूरन सिंह फर्त्याल ने चारों (चंपावत, टनकपुर, लोहाघाट व बनबसा) नगर निकायों को सैनिटाइज करने के लिए 300 लीटर सैनिटाइजर के लिए अपनी ओर से रकम दी है। 300 लीटर सैनिटाइजर से 90 हजार लीटर सैनिटाइजर तैयार किया जाएगा। बनबसा से लेकर घाट तक सभी शहरी क्षेत्रों को सैनिटाइज किया जाएगा। ब्यूरो
... और पढ़ें

लॉकडाउन में जरूरतमंदों की मदद को बढ़े हाथ

टनकपुर (चंपावत)। कोरोना वायरस के खौफ के बीच कई समाजसेवी जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आए हैं। शारदा रेंज के वन क्षेत्राधिकारी महेश सिंह बिष्ट और वन कर्मियों ने खनन श्रमिकों को खाद्यान्न के पैकेट बांटे। इसके अलावा ककरालीगेट बैरियर पर पैदल आ रहे यात्रियों भोजन कराया।
यहां डिप्टी रेंजर कैलाश गुणवंत, दान सिंह भाकुनी, मोहन राम, मुनीष राणा, नंदू कांडपाल, गिरीश पांडेय, निर्मल खुल्वे आदि थे। बरियाम सिंह मानव सेवा मंडल की ओर से क्वारंटीन में रखे गए लोगों को खाना खिलाने के साथ जरूरतमंदों को भोजन कराया जा रहा है। इसमें कुलविंदर सिंह, मनीमीन सिंह, संजीव आर्य छुट्टू, रविंद्र सिंह महर, भूपेंद्र सिंह गांधी, ज्ञानी सुखविंदर सिंह आदि शामिल हैं। इधर तहसीलदार खुशबू पांडेय ने बताया कि प्रशासन की ओर से जीजीआईसी में चालू किए गए कम्यूनिटी किचन में हर दिन जरूरतमंदों को तीन वक्त का भोजन मुहैया कराया जा रहा है। संवाद
बेरोजगार श्रमिकों को कराया भोजन
बनबसा (चंपावत)। एनएचपीसी के टनकपुर पावर स्टेशन के अधिकारियों एवं कर्मियों ने लॉकडाउन के चलते बेरोजगार हो चुके श्रमिकों को भोजन कराया। श्रमिकों की सहायता को मदद की चेन बनाई गई है। रविवार को दस श्रमिकों के भोजन की व्यवस्था की गई है। यहां विनोद उप्रेती, अमित आनंद, भगवान सिंह, अमित कुमार, बंशीधर रुवाली, गोविंद सोनाल, विजय सिंह ने सहयोग दिया। नगर पंचायत अध्यक्ष रेनू अग्रवाल, संतोष गुप्ता, मनोज अग्रवाल आदि की ओर से बनबसा से गुजर रहे श्रमिकों को भोजन कराया जा रहा है। पूर्णागिरि इंटर कालेज में प्रधानाचार्य आईडी तिवारी के नेतृत्व में मजदूरों के भोजन की व्यवस्था की जा रही है। वंदेमातरम संगठन कार्यकर्ताओं ने बंगाली कालोनी स्थित निर्धन वर्ग के लोगों को राशन के किट बांटे। इस मौके पर कनिष्ठ प्रमुख मोहन चंद, उपप्रधान सौरभ चंद, प्रकाश गोस्वामी, योगेश पांडेय, सुनील नाथ, दीपक चंद, शिखर चंद, ने सहयोग दिया। संवाद
जरूरतमंदों को बांट रहे मॉस्क
टनकपुर। संयुक्त चिकित्सालय के चिकित्साधिकारी डॉ. आफताब अंसारी की ओर से जरूरतमंदों को कोरोना के संक्रमण से बचाने के लिए मॉस्क तैयार करा कर मुफ्त में बांटे जा रहे हैं। इस मुहिम में डॉ. अंसारी के साथ टेलर राकेश भी बगैर मेहनताना लिए मॉस्क तैयार कर जरूरतमंदों की मदद मेें हाथ बंटा रहा है। संवाद
... और पढ़ें

बच्चों के पहुंचने से गदगद पूरा परिवार

चंपावत। माता-पिता से दूर तीन नाबालिग भाई-बहन रविवार को रुद्रपुर से अपने घर लोहाघाट पहुंच गए। अमर उजाला ने 28 मार्च को इन भाई-बहनों के परिवार से दूर होने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसके बाद ऊधमसिंह नगर और चंपावत जिले का प्रशासनिक अमला हरकत में आया। इन बच्चों को उनके घर लाने के लिए प्रक्रिया को आगे बढ़ाया गया। घर पहुंचने के बाद तीनों भाई-बहनों और उनके परिजनों ने अमर उजाला को थैंक्यू कहा।
रुद्रपुर में सिडकुल में ड्राइविंग करने वाले लोहाघाट के सुई गांव के किशोर ओली के तीनों बच्चे 20 मार्च से रुद्रपुर घर में अकेले रह रहे थे। परिवार में बुजुर्ग की मौत होने पर किशोर ओली अपनी पत्नी के साथ 20 मार्च को गांव आ गए थे। बेटी की हाईस्कूल की परीक्षा थी, इसके चलते तीनों नाबालिग भाई-बहन अंकित, सपना व पूजा को रुद्रपुर में ही रुकना पड़ा। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू व उसके बाद से लगातार लॉकडाउन से तीनों भाई-बहन रुद्रपुर में कमरों में कैद थे। अमर उजाला में खबर छपने के बाद यूएस नगर के जिला प्रशासन ने चंपावत प्रशासन से संपर्क किया। इसके बाद एडीएम टीएस मर्तोलिया ने तीनों भाई-बहन को रुद्रपुर से चंपावत लाने के लिए पास दिया। रविवार शाम को ये बच्चे घर पहुंचे। तीनों बच्चों के घर पहुंचने पर माता-पिता और परिजन गदगद हैं।
... और पढ़ें

बच्चों के पहुंचने से गदगद पूरा परिवार

चंपावत। माता-पिता से दूर तीन नाबालिग भाई-बहन रविवार को रुद्रपुर से अपने घर लोहाघाट पहुंच गए। अमर उजाला ने 28 मार्च को इन भाई-बहनों के परिवार से दूर होने की खबर को प्रमुखता से प्रकाशित किया था। जिसके बाद ऊधमसिंह नगर और चंपावत जिले का प्रशासनिक अमला हरकत में आया। इन बच्चों को उनके घर लाने के लिए प्रक्रिया को आगे बढ़ाया गया। घर पहुंचने के बाद तीनों भाई-बहनों और उनके परिजनों ने अमर उजाला को थैंक्यू कहा।
रुद्रपुर में सिडकुल में ड्राइविंग करने वाले लोहाघाट के सुई गांव के किशोर ओली के तीनों बच्चे 20 मार्च से रुद्रपुर घर में अकेले रह रहे थे। परिवार में बुजुर्ग की मौत होने पर किशोर ओली अपनी पत्नी के साथ 20 मार्च को गांव आ गए थे। बेटी की हाईस्कूल की परीक्षा थी, इसके चलते तीनों नाबालिग भाई-बहन अंकित, सपना व पूजा को रुद्रपुर में ही रुकना पड़ा। 22 मार्च को जनता कर्फ्यू व उसके बाद से लगातार लॉकडाउन से तीनों भाई-बहन रुद्रपुर में कमरों में कैद थे। अमर उजाला में खबर छपने के बाद यूएस नगर के जिला प्रशासन ने चंपावत प्रशासन से संपर्क किया। इसके बाद एडीएम टीएस मर्तोलिया ने तीनों भाई-बहन को रुद्रपुर से चंपावत लाने के लिए पास दिया। रविवार शाम को ये बच्चे घर पहुंचे। तीनों बच्चों के घर पहुंचने पर माता-पिता और परिजन गदगद हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us