विज्ञापन
Home ›   Video ›   Spirituality ›   story of saint kabir magahar

नरक का द्वार माने जाने वाले मगहर को ही संत कबीर ने क्यों चुना अंतिम समय के लिए..

कन्वर्जेंस डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 29 Jun 2018 06:15 PM IST

सोलहवीं सदी के महान संत कबीरदास वाराणसी में पैदा हुए और लगभग पूरा जीवन उन्होंने वाराणसी यानी काशी में ही बिताया लेकिन जीवन के आखिरी समय वो मगहर चले आए और अब से पांच सौ साल पहले वर्ष 1518 में यहीं उनकी मृत्यु हुई।

अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें  
विज्ञापन

Latest

Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X