विज्ञापन

Corona World LIVE : भारत समेत दो दर्जन देश लॉकडाउन, दुनिया की 20 फीसदी आबादी घरों में कैद

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 26 Mar 2020 05:03 AM IST
विज्ञापन
दुनिया में कोरोना वायरस
दुनिया में कोरोना वायरस - फोटो : पीटीआई
ख़बर सुनें

सार

वैश्विक महामारी कोरोना वायरस के चलते दुनिया थमने के कगार पर पहुंच चुकी है। तेजी से आते नए मामलों और लगातार बढ़ती मृतकों की संख्या से पूरा विश्व जूझ रहा है। अब तक 21,000 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। कोरोना को और फैलने से रोकने के लिए 200 करोड़ से अधिक लोगों को उनके घरों में ‘कैद’ कर दिया गया है। यानी दुनिया की 20 फीसदी आबादी घरों में रहने को मजबूर है। यूरोप समेत कई देशों ने अपनी सीमाएं सील कर आवाजाही पूरी तरह से रोक दी है। भारत ही नहीं, इटली, स्पेन और फ्रांस समेत दो दर्जन देशों में लॉकडाउन है।

विस्तार

अमेरिका ने कहा- कोरोना से जंग में हम भारत के साथ
विज्ञापन
अमेरिका के विदेश विभाग ने कहा है कि कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में अमेरिका भारत के साथ खड़ा है। विभाग की ओर से जारी बयान में कहा गया, 'म भारत के साथ खड़े हैं और अपने जज्बे को बनाए रखने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्री मोदी के आह्वान का समर्थन करते हैं। कोविड 19 से लड़ने के लिए अमेरिका भारत के साथ कंधे से कंधा मिलाकर काम करेगा। हम अपने नागरिकों को और बाकी लोगों को सुरक्षित रख सकते हैं।



फ्रांस में मृतकों की संख्या 1,300 के पार पहुंची
फ्रांस में कोरोना वायरस के संक्रमण से 231 और लोगों की मौत के साथ ही इस खतरनाक वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 1,331 पहुंच गई है। देश के शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारी जेरोम सालोमोन ने बताया कि अभी तक इस वायरस से संक्रमित 11,539 लोग अस्पताल में भर्ती हैं। चीन, ईरान, इटली और स्पेन के बाद फ्रांस पांचवां ऐसा देश है, जहां कोरोना ने सबसे अधिक कहर ढाया है। फ्रांस 16 मार्च से लॉकडाउन है और लोगों के घरों से बाहर निकलने पर पूरी तरह से पाबंदी है। स्कूल, कॉलेज, कैफे, बाजार और बार पहले ही बंद हो चुके हैं।

इटली में छह करोड़ लोग दो सप्ताह से कैद
कोरोना की सबसे ज्यादा मार झेल रहे इटली ने 10 मार्च को लॉकडाउन घोषित किया था। यहां अब तक 7503 लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि करीब 70 हजार लोग इसकी चपेट में हैं। लाशों को दफनाने के लिए सेना की मदद ली जा रही है। इटली ने देश के भीतर गैर आवश्यक गतिविधियों पर पूरी तरह से रोक लगा दी है। इस महीने की शुरुआत से ही स्कूल, कालेज, दुकानें, मॉल और बाजार बंद हैं। यहां करीब छह करोड़ लोग दो सप्ताह से अपने घरों में कैद हैं।

स्पेन बढ़ा सकता है लॉकडाउन
एक और यूरोपीय देश स्पेन में 40 हजार से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हैं और 3500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी है। इटली के बाद स्पेन यूरोप में सबसे ज्यादा प्रभावित है। स्पेन पहले ही राष्ट्रीय आपदा घोषित कर चुका है और अब लॉकडाउन को 15 और दिनों के लिए बढ़ाने की तैयारी कर रहा है। 14 मार्च को घोषित लॉकडाउन के बाद से कड़े प्रतिबंध लागू हैं।

90 दिन से लॉकडाउन था हुबेई प्रांत
चीन के हुबेई प्रांत से ही कोरोना दुनिया के दूसरे देशों में पहुंचा था। हालांकि, चीन ने अपने यहां इस पर काफी हद तक काबू पा लिया है। लेकिन अब तक 3281 लोग इसका शिकार बन चुके हैं। अब भी 81,218 लोग संक्रमित हैं और रोज नए मामले सामने आ रहे हैं। इस वायरस का केंद्र रहे हुबेई में 90 दिनों बाद बुधवार को लॉकडाउन समाप्त कर दिया गया।

द. अफ्रीका में आज से लॉकडाउन
अन्य देशों की राह पर चलते हुए दक्षिण अफ्रीका ने भी 26 मार्च (बृहस्पतिवार) से लॉकडाउन की घोषणा कर दी है। आवश्यक प्रतिष्ठानों को छोड़कर बाजार बंद रहेंगे। लोगों के घरों से बाहर निकलने पर रोक लगा दी गई है। पुलिस और सेना को सड़कों पर उतार दिया गया है।

न्यूजीलैंड में महीने भर का लॉकडाउन
कोरोना के मामले बढ़ने के बाद भारत के साथ ही न्यूजीलैंड में भी बुधवार से लॉकडाउन शुरू हो गया। कोरोना को फैलने से रोकने के लिए यहां एक महीने का लॉकडाउन घोषित किया गया है। इस दौरान लोग घरों से बाहर नहीं निकल सकेंगे।

ब्रिटेन
हालात बिगड़ते देख ब्रिटेन ने सोमवार से लॉकडाउन कर दिया गया था। प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा था कि बंद को कड़ाई से लागू किया जाएगा। जरूरी कामों के लिए ही लोगों को घरों से बाहर निकलने की छूट दी जाएगी।

यहां भी है लॉकडाउन
भारत के अलावा कुवैत, अर्जेंटीना, ऑस्ट्रेलिया, पोलैंड, डेनमार्क, कोलंबिया, आयरलैंड, पुर्तगाल, चेक गणराज्य, बेल्जियम, नार्वे, चीन, ब्रिटेन, न्यूजीलैंड, इटली, स्पेन, फ्रांस, स्पेन, जर्मनी और स्लोवेनिया में भी लॉकडाउन हैं। कई अमेरिकी राज्यों में भी लॉकडाउन हैं। जॉर्डन में शनिवार से अनिश्चितकालीन लॉकडाउन लागू है। इस्राइल में आंशिक लॉकडाउन है। यूरोपीय संघ 16 मार्च से 30 दिनों के लिए गैर जरूरी यात्राओं पर बैन लगा चुका है। मलयेशिया बैंकिंग, ब्रॉडकास्टिंग, हेल्थकेयर और जरूरी सामान वाली दुकानों को छोड़कर सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों पर रोक लगा चुका है।

इन देशों ने सील की सीमाएं
कनाडा ने अपनी अंतरराष्ट्रीय सीमाओं को बंद कर दिया है। इसके अलावा मालदीव, लिथुआनिया, उत्तर कोरिया, नार्वे, पेरू, कतर, रूस, सऊदी अरब, यूक्रेन और क्रोशिया ने अपनी सीमाओं पर आवाजाही रोक दी है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us