कंबोडिया के शिव मंदिर का जीर्णोद्धार करेगा भारत, दोनों देशों के बीच हुए दो समझौते

एजेंसी, नामपेन्ह Updated Thu, 30 Aug 2018 02:51 AM IST
विज्ञापन
India and cambodia signed two agreements to enhance mutual cooperation

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने आज कंबोडियाई विदेश मंत्री प्राक सोकोन से मुलाकात कर द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और प्रमुख अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की। इस दौरान दोनों देशों ने आपसी सहयोग बढ़ाने के लिए दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए।
विज्ञापन


विदेश मंत्री सुषमा स्वराज दो देशों की चार दिवसीय यात्रा के अंतिम चरण में मंगलवार को कंबोडिया पहुंची थीं। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने ट्वीट कर जानकारी दी कि सोकोन ने गर्मजोशी से स्वराज का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि विदेश मंत्रालय में हुई प्रतिनिधिमंडल स्तरीय वार्ता के दौरान दोनों मंत्रियों ने द्विपक्षीय, बहुपक्षीय और महत्वपूर्ण अंतरराष्ट्रीय मुद्दों पर चर्चा की। स्वराज आज कंबोडिया के प्रधानमंत्री हुन सेन और सीनेट (देश की संसद) के अध्यक्ष से चुम से भी मिलेंगी।


दोनों देशों ने जिन दो समझौतों पर हस्ताक्षर किया उनमें से एक कंबोडिया के प्रीहा विहार में स्थित भगवान शिव के मंदिर की विश्व विरासत स्थल की बहाली और संरक्षण को लेकर है। वहीं दूसरा समझौता भारत के विदेश सेवा संस्थान (एफएसआई) और कंबोडिया कूटनीति और अंतरराष्ट्रीय संबंध के राष्ट्रीय संस्थान (एनआईडीआईआर) को लेकर है।

कंबोडिया और वियतनाम जैसे दो महत्वपूर्ण आसियान देशों के स्वराज के इस दौरे को दक्षिणपूर्वी एशियाई क्षेत्र में चीन के बढ़ते प्रभाव के मद्देनजर संतुलन बनाने की भारत की कोशिश के तौर पर देखा जा रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X