भारत ने अंतरराष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन को दिए 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर, पीएम बोले- हमारा उद्देश्य मानवता की सेवा

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला Updated Thu, 04 Jun 2020 09:44 PM IST
विज्ञापन
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी - फोटो : ANI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
ब्रिटेन द्वारा आयोजित गुरुवार को कोरोना वैक्सीन शिखर सम्मेलन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत की ओर से अंतरराष्ट्रीय वैक्सीन गठबंधन गावी को 15 मिलियन अमेरिकी डॉलर की मदद दी है।वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा आयोजित शिखर सम्मेलन में ब्रिटिश प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन द्वारा दुनिया भर के राष्ट्रों से आग्रह किया गया था कि वे लाखों लोगों को बचाने और भविष्य में संक्रमक रोगों से दुनिया की रक्षा के लिए टीकाकरण के लिए वित्त पोषण करने का संकल्प लें।
विज्ञापन

शिखर सम्मेलन को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि गावी को हमारा समर्थन केवल वित्तीय नहीं है। भारत की भारी मांग टीकों की वैश्विक कीमत को कम करती है। आज के चुनौतीपूर्ण संदर्भ में मैं दोहराना चाहता हूं कि भारत दुनिया के साथ एकजुट खड़ा है। कम लागत पर गुणवत्तापूर्ण दवाएं और टीके का उत्पादन करने की हमारी सिद्ध क्षमता, तेजी से फैलते टीकाकरण में हमारा अपना घरेलू अनुभव हैं। हमारा उद्देश्य मानवता की सेवा है।
मोदी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप सहित लगभग 35 देशों के प्रमुखों और सरकारी प्रतिभागियों में शामिल थे, जो 2025 तक दुनिया के सबसे गरीब देशों में 300 मिलियन से अधिक बच्चों का टीकाकरण करने के लिए 7.4 मिलियन अमेरिकी डॉलर जुटाने के उद्देश्य से सम्मेलन में शामिल हुए थे।
पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया संक्रमक रोगों के खिलाफ टीकाकरण के महत्वपूर्ण मिशन में भारत के समर्थन पर भरोसा कर सकती है। भारतीय प्रधानमंत्री ने सरकार के मिशन इंद्रधनुष की ओर भी इशारा किया, जिसका उद्देश्य देश के भीतर बच्चों और गर्भवती महिलाओं का पूर्ण टीकाकरण सुनिश्चित करना है। उन्होंने कहा कि हम दुनिया के लगभग 60 प्रतिशत बच्चों के टीकाकरण में योगदान करने के लिए भाग्यशाली हैं। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us