अमेरिका: फिर भड़के प्रदर्शनकारियों को ट्रंप ने चेताया, कहा- नहीं माने तो उतारनी पड़ेगी सेना

वर्ल्ड डेस्क, अमर उजाला, वाशिंगटन Updated Tue, 02 Jun 2020 06:09 AM IST
विज्ञापन
अमेरिका में प्रदर्शनों का दौर जारी
अमेरिका में प्रदर्शनों का दौर जारी - फोटो : PTI

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
मिनियापोलिस शहर में पुलिस हिरासत में अश्वेत जॉर्ज फ्लॉयड की मौत के बाद अमेरिका के कई शहरों में हिंसा भड़क गई है। प्रदर्शनकारियों की तरफ से स्टोर को लूटा गया और पुलिस की गाड़ियों के साथ कई इमारतों में आग लगा दी गई। प्रशासन ने वाशिंगटन समेत 40 शहरों में कर्फ्यू लगा दिया है। ट्रंप ने सभी प्रभावित शहरों के गवर्नरों से दंगाइयों के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने को कहा है।
विज्ञापन

200 साल पुरानी सेंट जॉन चर्च का सरप्राइज विजिट
हिंसा के बीच राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने व्हाइट हाउस के पास 200 साल पुराने चर्च का दौरा किया। बता दें कि यह वही चर्च है, जहां पुलिस से झड़प के बाद प्रदर्शनकारियों ने आग लगा दी थी।
उन्होंने रोज गार्डन में कहा कि वह शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के सहयोगी हैं। हालांकि, इस दौरान उन्होंने जोर देकर कहा, "मैं कानून और व्यवस्था को लेकर आपका अध्यक्ष हूं।"

चर्च के बाहर दागे गए आंसू गैस के गोले

ट्रंप की यात्रा से पहले कानून प्रवर्तन ने प्रदर्शनकारियों को क्षेत्र से बाहर कर दिया। रोज गार्डन में ट्रंप के भाषण के दौरान प्रदर्शनकारियों को काबू में करने के लिए आंसू गैस के गोले दागे गए।

सेना को उतारने का फैसला

हिंसा की आग में जल रहे देश में हालात पर काबू पाने के लिए अब अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी मिलिट्री को उतारने का फैसला किया है।



गवर्नरों को बताया कमजोर

इससे पहले ट्रंप ने शहरों में हो रही हिंसा के लिए यहां के गवर्नरों को जिम्मेदार ठहराते हुए उन्हें कमजोर बताया था। ट्रंप ने गवर्नरों से दंगाइयों पर सख्त कार्रवाई की मांग की थी।

ट्रंप के बड़े बयान,
  • हम जॉर्ज फ्लॉयड और उनके परिवार को न्याय दिलाने के लिए पूरी तरह से प्रतिबद्ध हैं।
  • हाल के दिनों में हमारे देश को पेशेवर अराजकतावादियों, हिंसक भीड़, आगजनी, लुटेरों, अपराधियों, दंगाइयों, एंटीफा और अन्य लोगों ने जकड़ लिया है।
  • दंगाइयों के कारण आम आदमी और शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों को प्रभावित नहीं होने दे सकते।
  • दंगों से सबसे ज्यादा पीड़ित हमारे सबसे गरीब समुदायों में शांति पसंद नागरिक हैं और राष्ट्रपति के रूप में मैं उन्हें सुरक्षित रखने के लिए लड़ूंगा।
  • हम हर किसी को चेतावनी दे रहे हैं, 7 बजे से कर्फ्यू को सख्ती से लागू किया जाएगा। 
  • निर्दोष लोगों और संपत्ति की धमकी देने वालों को गिरफ्तार किया जाएगा, हिरासत में लिया जाएगा और कानून के तहत उनपर मुकदमा चलाया जाएगा।
  • वाशिंगटन, डीसी में कल रात जो हुआ वह बहुत बड़ा अपमान था। 
  • मैं दंगाइयों, लूटपाट, बर्बरता, हमले और संपत्ति के विनाश को रोकने के लिए हजारों सशस्त्र सैनिकों, सैन्य कर्मियों और कानून प्रवर्तन अधिकारियों को भेज रहा हूं।
  • मैंने सभी गवर्नरों को सड़कों पर हथियारों से लैस नेशनल गार्ड को सड़कों पर तैनात करने की सिफारिश की है। 
  • महापौरों और राज्यपालों को हिंसा को शांत करने तक एक भारी कानून प्रवर्तन उपस्थिति स्थापित करनी चाहिए।
  • जॉर्ज फ्लॉयड के साथ हुई घटना ने देश को भय, क्रोध और शोक से भर दिया है। 
  • मैं न्याय और शांति की मांग करने वाले हर अमेरिकी का दोस्त और सहयोगी बनकर आपके सामने खड़ा हूं।
  • जॉर्ज फ्लॉयड को लेकर मैं इस दर्द को समझता हूं जो इस समय लोग महसूस कर रहे हैं। 
  • प्रशासन शांतिपूर्ण प्रदर्शनकारियों के अधिकार का समर्थन करता है और उनकी दलीलों को सुनता है। 
  • अमेरिका की सड़कों पर जो कुछ भी देखने को मिला है उसका शांति और इंसाफ से कोई लेना-देना नहीं है।
  • निर्दोषों को डराने, नौकरियों को खत्म करने, व्यवसायों को नुकसान पहुंचाने और इमारतों को जलाने वाले दंगाइयों, लुटेरों और अराजकतावादियों ने जॉर्ज फ्लॉयड की यादों का अपमान किया है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get latest World News headlines in Hindi related political news, sports news, Business news all breaking news and live updates. Stay updated with us for all latest Hindi news.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us