विज्ञापन
विज्ञापन
ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक
Astrology Services

ढाई साल बाद शनि बदलेंगे अपनी राशि , कुदृष्टि से बचने के लिए शनि शिंगणापुर मंदिर में कराएं तेल अभिषेक

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

बिहार

शुक्रवार, 24 जनवरी 2020

अमित शाह बोले, बिहार में चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा

नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के समर्थन में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह गुरुवार को बिहार के वैशाली में जनसभा को संबोधित किया। सभा को संबोधित करते हुए गृह मंत्री अमित शाह ने विपक्ष पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि आजादी के बाद जो हिंदू, सिख, बौद्ध और जैन पाकिस्तान और बांग्लादेश में थे, वह अब तीन प्रतिशत भी नहीं बचे हैं। इसके साथ ही उन्होंने साफ किया कि बिहार में चुनाव नीतीश कुमार के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। 

शाह बोले, नीतीश के नेतृत्व में लड़ेंगे चुनाव

इस दौरान अमित शाह ने कहा- मैं सभी अटकलों को खारिज करते हुए फिर साफ कर देना चाहता हूं कि बिहार में चुनाव नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में ही लड़ा जाएगा। भाजपा और जदयू साथ मिलकर चुनाव लड़ेंगे। 

कांग्रेस-ममता पर हमला 

गृह मंत्री ने कहा कि राहुल बाबा और लालू यादव बताएं वह कम कैसे हुए। उन्होंने सीएए के विरोध कर रहे विपक्ष को लेकर कहा कि सीएए के विरोध में कांग्रेस-ममता एंड कंपनी ने देश में दंगे करवाए हैं। मैं बिहार के मुस्लिमों को बताने आया हूं कि सीएए से किसी की नागरिकता नहीं जाएगी। 

अमित शाह ने कहा कि कांग्रेस पार्टी ने धर्म के आधार पर देश का विभाजन कराकर गलत किया। उन्होंने कहा कि पाकिस्तान और बांग्लादेश में हिंदुओं के धर्म परिवर्तन कराए गए, उनकी हत्याएं कराई गईं, इसलिए वह यहां आने को मजबूर हुए हैं। 

गृह मंत्री ने कहा कि पाकिस्तान में मंदिर-गुरुद्वारे तोड़े गए। इसलिए वहां से लोग प्रताड़ित होकर यहां आए। उन्होंने कहा कि महात्मा गांधी ने कहा था 26 सितंबर 1947 को कहा था कि पाकिस्तान में रहने वाला हर हिंदू और सिख भारत आ सकता है। उसे नौकरी और आश्रय देना आजाद भारत की जिम्मेदारी है। 

कांग्रेस पर आरोप लगाते हुए शाह ने कहा कि गांधी जी की इस बात को नेहरू, राजेंद्र प्रसाद, कृपलानी जी और मौलाना आजाद ने भी दोहराया। कांग्रेस वाले हमारी नहीं मान रहे अपने नेताओं की तो मान लें।

गौरतलब हो कि इससे पहले अमित शाह सीएए पर दिल्ली, जोधपुर, गांधीनगर और जबलपुर में सभाएं कर चुके हैं। शाह की इस जनसभा में राज्य के उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, केंद्रीय गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय भी संबोधित करेंगे। 


 


सीएए पर जदयू साथ, लेकिन एनआरसी का कर रही विरोध
फिलहाल बिहार में एनडीए की सरकार है। भाजपा के नेता जहां एनआरसी के पक्ष में हैं, लेकिन जदयू को यह बात मंजूर नहीं है। सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार यह साफ कह चुके हैं कि बिहार में एनआरसी लागू नहीं होगा। राष्ट्रीय जनसंख्या पंजी (एनपीआर) के मुद्दे पर सोमवार को नीतीश ने विधान परिषद में कहा था कि इस पर सदन में चर्चा होनी चाहिए। 
... और पढ़ें

चारा घोटाला: लालू सीबीआई की विशेष अदालत में पेशी के लिए पहुंचे

बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव को आज सीबीआई की विशेष अदालत में चारा घोटाला मामले के तहत पेशी के लिए पहुंचे। उनका राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस (रिम्स) में इलाज चल रहा है। उन्हें बीते साल इस मामले में आईपीसी के तहत सात साल और भ्रष्टाचार रोधी कानून के तहत भी इतने साल की सजा सुनाई गई थी। उन पर साठ लाख का जुर्माना भी लगाया गया था।

इससे पहले, झारखंड हाईकोर्ट ने लालू प्रसाद यादव की जमानत याचिका खारिज कर दी थी। लालू ने 1990 के दशक में दुमका कोषागार से 3.97 करोड़ रुपये की फर्जी निकासी करने के चारा घोटाला मामले में जमानत मांगी थी।

जस्टिस अपरेश कुमार सिंह की पीठ ने बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री की जमानत याचिका खारिज की थी। उन्होंने याचिका खारिज करने के लिए लालू को विशेष सीबीआई अदालत से मिली जेल की सजा का आधा समय भी पूरा नहीं होने को आधार माना। विशेष सीबीआई अदालत ने दुमका मामले में लालू प्रसाद को सात साल कैद की सजा सुनाई थी।

बता दें कि लालू के मुख्यमंत्री रहने के दौरान पशुपालन विभाग में 900 करोड़ रुपये से ज्यादा का चारा घोटाला किया गया था। अभी तक इस घोटाले से जुड़े चार मामलों में कोषागार से फर्जी धन निकासी के दोष में लालू को सजा घोषित हो चुकी है। इनमें दो मामले चाईबासा कोषागार के हैं, जबकि एक-एक मामला दुमका व देवघर कोषागार का है।

हालांकि चाईबासा और देवघर के एक-एक मामले में लालू को जमानत मिल चुकी है। उन पर दोरांदा कोषागार से जुड़े पांचवां मामले में रांची की विशेष सीबीआई अदालत में सुनवाई जारी है। दिसंबर, 2017 से जेल में बंद लालू फिलहाल रांची में राजेंद्र इंस्टीट्यूट ऑफ मेडिकल साइंस में इलाज करा रहे हैं।
... और पढ़ें

बिहार : सीएए-एनआरसी पर प्रश्न को हाथ जोड़कर मुस्कुराते हुए टाल गए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने बुधवार को संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) से जुड़े प्रश्न को मुस्कुराते हुए हाथ जोड़कर टाल दिया। मकर संक्रांति के अवसर पर यहां आयोजित कार्यक्रम में मुख्यमंत्री ने कहा कि आज के दिन उस विषय की चर्चा मत करिए जिसमें लगे कि अलग-अलग सोच और झगड़े का माहौल है। दूसरी ओर राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव ने ट्वीट कर नीतीश कुमार पर आरोप लगाया कि वह सीएए और एनआरसी पर जनता के साथ धोखा कर रहे हैं। वहीं, तेलंगाना के गृह मंत्री ने कहा है कि केवल पाकिस्तान और बांग्लादेश ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में प्रताड़ित हो रहे हिंदुओं को भारत की नागरिकता दी जानी चाहिए।

शहर के हार्डिंग रोड स्थित जदयू प्रदेश अध्यक्ष वशिष्ठ नारायण सिंह के आवास पर मकर संक्रांति के अवसर पर आयोजित दही-चूड़ा भोज में सम्मिलित हुए मुख्यमंत्री ने सीएए-एनआरसी को लेकर पूछे गए प्रश्न को मुस्कुराते हुए हाथ जोड़कर टाल दिया और कहा कि मकर संक्रांति पर आपस में प्रेम व सद्भावना का भाव होता है।

उन्होंने जल, जीवन, हरियाली के प्रति लोगों के बीच जागरूकता पैदा करने के लिए 19 जनवरी को मानव श्रृंखला में बढ़-चढ़कर भाग लेने की अपील करते हुए कहा कि आपको जितनी और जो भी बात करनी हो, चाहे वह मुद्दा कुछ भी हो उस पर आप 19 जनवरी को बात करिएगा।

समारोह में शामिल हुए प्रदेश की प्रमुख विपक्षी पार्टी राजद के विधायक फराज फातमी ने कहा कि उनके आज यहां आने का कोई राजनीतिक मतलब नहीं निकाला जाना चाहिए। उन्होंने कहा कि ऐसे मौके पर आमंत्रण दिए जाने पर लोग एक-दूसरे के घर जाया करते हैं और बधाई देते हैं।

एनआरसी को लेकर बिहार विधानसभा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के रुख के बारे में प्रतिक्रिया पूछे जाने पर फातमी ने कहा कि मुख्यमंत्री ने स्पष्ट रूप से कहा था कि वह एनआरसी के खिलाफ हैं, ऐसे में इस बात को आगे बढ़ाना उचित नहीं है।

राजद नेता तेजस्वी यादव सीएए और एनआरसी के विरोध में गुरुवार से बिहार में दौरा करने वाले हैं। इस बारे में पूछे जाने पर फातमी ने कहा कि वह ऐसा करके गलत कर रहे हैं। मुख्यमंत्री के अपना रुख स्पष्ट कर दिए जाने पर उन्हें भी अपने निर्णय पर फिर से विचार करना चाहिए।

मकर संक्रांति के अवसर पर शहर स्थित सदाकत आश्रम में आयोजित समारोह में भाग लेते हुए तेजस्वी ने मुख्यमंत्री पर निशाना साधते हुए कहा कि एनपीआर जो कि एनआरएसी को लेकर पहला कदम है उसे तो वह रोक नहीं पाए।

तेजस्वी ने कहा, ‘उनके (नीतीश के) मन में छल-कपट तो है ही। मामले को टालना था, उन्होंने टाला पर वे कितने दिनों तक टालेंगे। बिहार की जनता देख रही है कि कैसे यह पार्टी (जदयू) और उसके नेता अपने दल के संविधान को नहीं मानते।’
... और पढ़ें

बिहार: 'ट्रबल इंजन' के बाद लालू की 'पटना-होटवार करप्शन मेल' पोस्टर पर जंग

बिहार विधानसभा चुनाव से पहले जनता दल यूनाइटेड और राष्ट्रीय जनता दल के बीच जारी जुबानी जंग अब पोस्टर में तब्दील होती दिखाई दे रही है। दोनों पार्टियां पोस्टर्स की सहायता से वोटों को अपने खेमे में करने के लिए पुरजोर कोशिश कर रहे हैं।

गुरुवार को पटना में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी के खिलाफ आरजेडी समर्थकों ने 'ट्रबल इंजन' पोस्टर लगवाए। जिसके जवाब में आज जेडीयू समर्थकों ने लालू यादव की 'अपराध गाथा' और 'पटना-होटवार करप्शन मेल' नाम से पोस्टर्स जारी किए।

इन पोस्टरों में 'चारा घोटाले' की सांकेतिक तस्वीर को भी दर्शाया गया है। पोस्टरों में लालू प्रसाद यादव के साथ तेजस्वी यादव को भी दिखाया गया है। बता दें कि चारा घोटाले में लालू प्रसाद यादव होटवार केंद्रीय कारागार में सजा काट रहे हैं। जिन्हें तबीयत खराब होने के बाद रांची के रिम्स में इलाज के लिए भर्ती करवाया गया है।



नए साल की शुरुआत से जारी है पोस्टर वॉर
नए साल की शुरुआत से जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने एक-दूसरे पर पोस्टर के जरिए निशाना साधा था। जदयू ने राजद के 15 सालों पर निशाना साधते हुए 'हिसाब दो हिसाब लो' का पोस्टर लगाया था। 

जिसके जवाब में राजद ने पोस्टर जारी किया और लिखा था कि ‘झूठ की टोकरी, घोटालों का धंधा’। राजद प्रदेश कार्यालय के बाहर लगाए गए इस पोस्टर में केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा गया था।
... और पढ़ें
बिहार पोस्टर वॉर बिहार पोस्टर वॉर

बिहार में पोस्टर वार: आरजेडी ने नीतीश-सुशील मोदी को बताया 'ट्रबल इंजन'

बिहार में विधानसभा चुनावों से पहले राजनीति गर्म हो गई है, पार्टियां एक-दूसरे पर आरोप लगातर जनता के वोटों को अपने पक्ष में करने की पुरजोर कोशिश कर रही हैं। वहीं, एक बार फिर राजधानी पटना में पोस्टर वार शुरू हो गई। 

सूबे के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरोध राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने पोस्टर लगाए हैं। इन पोस्टरों में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को बिहार को बर्बाद करने वाला 'ट्रबल इंजन' (परेशान करने वाला) करार दिया है। 

इन पोस्टरों में सीएम नीतीश को लूट एक्सप्रेस के तौर पर दिखाया गया है और उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी को झूठ एक्सप्रेस के तौर पर दिखाया है। इससे पहले भी आरजेडी ने नीतीश कुमार के विरोध में पोस्टर लगाएं थे। 



नए साल की शुरुआत में राज्य की दो मुख्य पार्टियों जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) और राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने एक-दूसरे पर पोस्टर के जरिए निशाना साधा था। नए साल के मौके पर जदयू ने राजद के 15 सालों पर निशाना साधते हुए 'हिसाब दो हिसाब लो' का पोस्टर लगाया था। 

जिसके जवाब में राजद ने पोस्टर जारी किया और लिखा है- ‘झूठ की टोकरी, घोटालों का धंधा’। राजद प्रदेश कार्यालय के बाहर लगाए गए इस पोस्टर में केंद्र और राज्य सरकार पर निशाना साधा गया था।
... और पढ़ें

नीतीश कुमार की दो टूक के बाद बोले पवन वर्मा- पार्टी अपनी विचारधारा स्पष्ट करे

सीएए-एनआरसी को लेकर जनता दल यूनाइटेड (जेडीयू) दो धड़ों में बंटती हुई दिख रही है। पार्टी के वरिष्ठ नेता और महासचिव पवन वर्मा ने नीतीश कुमार को सीएए और एनआरसी को लेकर 21 जनवरी को पत्र लिखा था। जिसमें उन्होंने भाजपा, सीएए, एनपीआर और एनआरसी पर नीतीश कुमार को अपने विचार साफ करने के लिए कहा था। इतना ही नहीं उन्होंने दिल्ली में भाजपा के साथ जेडीयू के गठबंधन को लेकर भी सवाल उठाए थे। जिसपर बिहार के मुख्यमंत्री ने उन्हें फटकारते हुए कहा कि वह जहां जाना चाहते हैं जा सकते हैं।

कुछ लोगों के बयान पर मत जाइये: नीतीश कुमार

नीतीश कुमार ने कहा, 'यदि किसी के पास किसी भी तरह की समस्या है तो व्यक्ति पार्टी या पार्टी की बैठकों में उसकी चर्चा कर सकता है, विमर्श कर सकता है लेकिन इस तरह के सार्वजनिक बयान आश्चर्यजनक हैं। वह जा सकते हैं और अपनी पसंद की किसी भी पार्टी में शामिल हो सकते हैं। मेरी शुभकामनाएं उनके साथ हैं। कुछ लोगों के बयान पर मत जाइये, हमारा रुख साफ है।'

पार्टी अपनी विचारधारा स्पष्ट करे: पवन वर्मा

नीतीश की फटकार पर पवन वर्मा ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा, 'मैं नीतीश कुमार के बयान का स्वागत करता हूं कि पार्टी में चर्चा के लिए जगह है। इसकी ही मैंने मांग की थी। मेरा इरादा कभी भी उन्हें चोट पहुंचाने का नहीं था। मैं चाहता हूं कि पार्टी अपनी विचारधारा को स्पष्ट करे। अपने पत्र के जवाब का इंतजार कर रहा हूं। इसके बाद आगे की कार्रवाई का फैसला लूंगा।'
 


कौन हैं पवन वर्मा

पवन कुमार वर्मा का जन्म पांच नवंबर, 1953 को महाराष्ट्र के नागपुर में हुआ था। वह भारतीय विदेश सेवा के अधिकारी रह चुके हैं। जनवरी 2013 में विदेश सेवा से सेवानिवृत्ति के बाद बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के सांस्कृतिक सलाहकार रह चुके हैं। 2014 से 2016 के बीच वह राज्यसभा सांसद रहे हैं। वर्तमान में वह जेडीयू के महासचिव और राष्ट्रीय प्रवक्ता हैं। वह दिल्ली में रहते हैं और एशियन एज, टाइम्स ऑफ इंडिया के लिए लेख लिखते हैं।
... और पढ़ें

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर मची मछलियों की 'लूट', कई लोग हादसे का शिकार होने से बचे

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे पर बुधवार सुबह मछलियों की लूट मच गई। दरअसल मछलियों से भरी एक मैक्स गाड़ी ट्रॉला से टकरा गई जिससे सड़क पर मछलियां बिखर गईं। मछली उठाने के लिए स्थानीय नागरिक पहुंच गए। जान जोखिम में डालकर लोग सड़क के बीचोंबीच मछली बीनने लगे। घने कोहरे के चलते कई लोग दूसरे वाहनों से टकराने से भी बच गए।

राजस्थान के जिला टोंक के बीसलपुर डैम से मछलियों के डिब्बों से भरी मैक्स गाड़ी संख्या आरजे 26 जीए 5068 बिहार के माझेपुर मछली फार्म पर जा रही थी।

आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे के फिरोजाबाद मैनपुरी बॉर्डर के 78 नंबर पर एक ट्रॉला से टकरा गई। हादसे का कारण घना कोहरा बताया जा रहा है। जिसकी वजह से गाड़ी चालक को धीमी गति से चल रहा ट्रॉला दिखाई नहीं दिया।
... और पढ़ें

बिहार: दवा दुकानदारों की तीन दिवसीय हड़ताल जारी, फार्मासिस्ट की नियुक्ति में चाहते हैं छूट

हादसे के बाद सड़क पर बिखरी मछलियां और डिब्बे
बिहार में दवा की दुकानें आज से शुक्रवार तक हड़ताल के कारण बंद रहेंगी। दवा दुकानदार फार्मासिस्ट की नियुक्ति में छूट चाहते हैं। हालांकि बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन के अनुसार तीन दिवसीय हड़ताल के दौरान निजी एवं सरकारी अस्पताल परिसर की दवा दुकानें खुली रहेंगी। 

बिहार में सरकार ने सभी दवा की दुकानों में एक फार्मासिस्ट की नियुक्ति को अनिवार्य कर दिया है। लेकिन बिहार केमिस्ट एंड ड्रगिस्ट एसोसिएशन ने सरकार के इस फैसले का विरोध जताया है। एसोसिएशन ने कहा कि राज्य में सात हजार फार्मासिस्ट हैं जबकि दुकाने 40 हजार से ज्यादा हैं। ऐसे में वे फार्मासिस्ट को कैसे रख पाएंगे।

एसोसिएशन ने यह भी आरोप लगाया कि औषधि निरीक्षक जांच के नाम पर दवा दुकानदारों का आर्थिक रूप से शोषण कर रहे हैं। उनकी मांग है कि सरकार को अन्य राज्यों की तरह दवा दुकानदारों को विशेष कोर्स कराकर दुकान चलाने की अनुमति प्रदान करनी चाहिए।
... और पढ़ें

शाह को पीके की चुनौती, विरोध की परवाह नहीं तो लागू करें सीएए-एनआरसी की क्रोनोलॉजी

नागरिकता संशोधन अधिनियम और एनआरसी को लेकर मचे घमासान के बीच जनता दल यूनाइटेड के उपाध्यक्ष और चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने गृहमंत्री अमित शाह पर निशाना साधा है। प्रशांत किशोर ने बुधवार को ट्वीट के जरिए अमित शाह को पूरे देश में सीएए-एनआरसी लागू करने की चुनौती दे डाली। बता दें कि अमित शाह ने मंगलवार को एक सभा के दौरान कहा था कि केंद्र सरकार नागरिकता कानून पर पीछे नहीं हटेगी।

प्रशांत किशोर ने ट्वीट कर लिखा कि नागरिकों की असहमति को खारिज करना किसी भी सरकार की ताकत को नहीं दर्शाता है। अमित शाह जी, अगर आप सीएए, एनआरसी का विरोध करने वालों की फिक्र नहीं करते हैं तो फिर आप इस कानून को लागू करवाने के लिए प्रयास क्यों नहीं करते हैं। जैसे की आपने देश को इसकी क्रोनोलॉजी समझाई थी।
 


पार्टी से अगल हैं प्रशांत किशोर के विचार
नागरिकता संशोधन कानून का जेडीयू ने संसद में समर्थन किया था। पार्टी के सांसदों ने लोकसभा और राज्यसभा में कानून के पक्ष में मतदान किया था। वहीं प्रशांत किशोर पार्टी लाइन से अलग हटकर लगातार सीएए और एनआरसी का विरोध कर रहे हैं।

प्रशांत किशोर ने कांग्रेस को सीएए-एनआरसी का विरोध करने के लिए दिया था धन्यवाद
प्रशांत किशोर ने कुछ दिनों पहले सीएए और एनपीआर, एनआरसी का खुलकर विरोध करने के लिए कांग्रेस नेताओं प्रियंका गांधी वाड्रा और राहुल गांधी का धन्यवाद दिया था। उन्होंने यह भी दावा किया था कि बिहार में सीएए भी लागू नहीं होगा।

वहीं बिहार जेडीयू पार्टी प्रमुख वशिष्ठ नारायण सिंह ने कहा था कि सीएए और एनपीआर पर प्रशांत किशोर के बयान का कोई मतलब नहीं है। पार्टी एनआरसी के विरोध में है लेकिन समस्या एनआरसी, सीएए और एनपीआर को मिलाकर देखने से हो रही है।  
... और पढ़ें

पीएम मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ने दूसरे एकीकृत चेक पोस्ट का किया उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने मंगलवार को संयुक्त रूप से जोगबनी-विराटनगर में दूसरे एकीकृत चेक पोस्ट (आईसीपी) का उद्घाटन कर दिया है। यह चेक पोस्ट व्यापार और लोगों के आवागमन को सुविधाजनक बनाने के लिए भारतीय सहायता से बनाए गए हैं।
 


इस मौके पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, 'भारत पड़ोस के सभी मित्र देशों के साथ यातायात को सरल और आसान बनाने और व्यापार, संस्कृति, शिक्षा आदि जैसे क्षेत्रों में हमारे बीच संपर्क को और अधिक सुविधाजनक बनाने के लिए प्रतिबद्ध है।'

प्रधानमंत्री ने आगे कहा, 'भारत और नेपाल सीमापार कनेक्टिविटी परियोजनाओं जैसे सड़क, रेल और ट्रांसमिशन लाइनों पर काम कर रहे हैं। हमारे देशों के बीच प्रमुख सीमा बिंदुओं पर एकीकृत चेक पोस्ट आपसी व्यापार और गतिविधियों को बहुत सुविधाजनक बनाएंगे।'

वहीं नेपाल के प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने कहा, 'दोनों देशों के स्थायी हित में बातचीत के माध्यम से सभी लंबित मुद्दों को हल करने का समय आ गया है। दोनों देशों में स्थिर और बहुसंख्यक सरकार एक उपयुक्त समय है। मेरी सरकार इस तरफ भारत सरकार के साथ मिलकर काम करने के लिए प्रतिबद्ध है।'
... और पढ़ें

दिल्ली चुनाव में भाजपा से गठबंधन पर बोले पवन वर्मा, विचारधारा साफ करें नीतीश

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की जनता दल यूनाइटेड के एक वरिष्ठ नेता और पार्टी महासचिव पवन वर्मा ने दिल्ली चुनाव के लिए भाजपा के साथ पार्टी के गठबंधन पर उनका विरोध किया है। नीतीश कुमार को लिखे गए पत्र में वर्मा ने इस गठबंधन पर सवाल उठाए हैं। मुख्यमंत्री को लिखे पत्र में पवन वर्मा ने कहा कि वह इस गठबंधन को लेकर बेहद दुविधा में हैं और भाजपा और सीएए-एनपीआर-एनआरसी पर नीतीश कुमार अपने विचार को साफ करें।


वर्मा ने लिखा है कि एक से अधिक अवसरों पर आपने भाजपा-आरएसएस को लेकर अपनी गंभीर आशंकाएं व्यक्त की हैं। अगर ये आपके वास्तविक विचार हैं, तो मैं यह समझने में असफल हूं कि जेडीयू अब बिहार से परे भाजपा के साथ अपना गठबंधन कैसे बढ़ा रहा है, जब लंबे समय तक भाजपा की सहयोगी रही अकाली दल ने भी ऐसा करने से इनकार कर दिया है।

वर्मा ने एक ट्वीट में अपने पत्र को सार्वजनिक करते हुए कहा कि वह नीतीश कुमार से पूछ रहे है कि कैसे जदयू ने दिल्ली चुनाव के लिए भाजपा के साथ गठबंधन किया है। साथ ही उन्होंने पूछा कि वह भाजपा पर अपने विचारों को साफ करें। 

पत्र में, वर्मा ने अपने पार्टी अध्यक्ष को याद दिलाया है कि कैसे जब उनके औपचारिक रूप से भारतीय विदेश सेवा छोड़ देने के बाद साल 2012 में हुई पहली बैठक में उन्होंने उनसे लंबे समय तक और दृढ़ विश्वास के साथ नरेंद्र मोदी और उनकी नीतियों के बारे में बात की थी। वर्मा ने पत्र में लिखा कि किस प्रकार नीतीश कुमार ने आरएसएस मुक्त भारत की बात की थी।

वर्मा ने पत्र में लिखा है कि 2017 में फिर से भाजपा के साथ गठबंधन करने के बाद भी, भ्रम की स्थिति इस तथ्य से उत्पन्न होती है कि भाजपा के बारे में आपकी निजी आशंकाएं नहीं बदलीं। वर्मा ने दावा किया कि किस प्रकार नीतीश ने उनसे निजी तौर पर कहा था कि वर्तमान भाजपा नेतृत्व ने उन्हें अपमानित कर रही है। 
... और पढ़ें

बिहार: गया एयरपोर्ट पर तीन लाख डॉलर के साथ पांच म्यांमार की महिलाएं हिरासत में

बिहार में कस्टम विभाग ने म्यांमार की पांच महिलाओं को तीन लाख अमेरिकी डॉलर के साथ हिरासत में लिया है। शनिवार को गया एयरपोर्ट पर कस्टम विभाग ने म्यांमार की पांच महिलाओं के पास से तीन लाख डॉलर बरामद किए। पुलिस पांचों महिलाओं को हिरासत में लेकर पूछताछ कर रही है।

बताया जा रहा है कि ये महिलाएं म्यांमार इंटरनेशल के विमान से म्यांमार जाने की तैयारी में थीं। इसी दौरान एयरपोर्ट पर जांच के समय कस्टम अधिकारियों ने इन्हें पकड़ा। महिलाओं ने अलग-अलग बैगों में डॉलर रखे हुए थे। सभी से पूछताछ की जा रही है कि इनके पास इतनी मात्रा में विदेशी मुद्रा कहां से आई? महिलाओं के लोकल कनेक्शन की भी जांच की जा रही है।
 



 
... और पढ़ें

दो साल बाद खुला परचून व्यापारी की हत्या का 'राज', एक फोन कॉल ने पकड़वाए हत्यारोपी

सिकंदरा के गांव जऊपुरा के जंगल में नौ फरवरी, 2018 को हुई परचून व्यापारी ओमप्रकाश की हत्या का पुलिस ने खुलासा कर दिया है। पुलिस ने तीन आरोपियों को गिरफ्तार किया है। प्लाट के विवाद में एक सटोरिये ने 60 हजार रुपये की सुपारी देकर हत्या कराई थी। गिरफ्तार एक आरोपी कमल सिंह को पूर्व में आजीवन कारावास की सजा हो चुकी है। जेल से जमानत पर बाहर आने के दौरान अपने तीन साथियों के साथ मिलकर हत्याकांड को अंजाम दिया।

मूलरूप से मोहम्मदपुर निवासी ओमप्रकाश (50) अरतौनी में रहते थे। घर में ही परचून की दुकान चलाते थे। बेटी गुड्डो और उसके दो बच्चे भी उनके साथ ही रहते थे। दस फरवरी, 2018 को जऊपुरा के जंगल में ओमप्रकाश की लाश मिली थी। उनके चेहरे और सिर पर प्रहार किए गए थे।

अज्ञात में हत्या का मुकदमा दर्ज कराया गया। एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि हत्या के मामले में बिहार के बक्सर निवासी गोविंद पांडेय, मलपुरा के भांडई निवासी शैलेंद्र और मैनपुरी निवासी कमल सिंह को गिरफ्तार किया है। कमल ओम प्रकाश के घर में किराएदार था। 
 
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन