विज्ञापन
विज्ञापन
अपनी जन्मकुंडली से जानें कब होगी आपकी शादी
Astrology

अपनी जन्मकुंडली से जानें कब होगी आपकी शादी

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

बिहार: पूर्व पंचायत सदस्य ने घर में घुसकर विवाहिता को उठाया, हथियार के बल पर किया दुष्कर्म

बिहार के बेतिया-नरकटियागंज में हथियार के बल पर एक महिला को उसके घर से अगवा करके दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया गया है। यह घटना शिकारपुर थाना क्षेत्र के मंगरहरी गांव में घटित हुई। महिला ने गांव के ही एक व्यक्ति को पूरी घटना के लिए जिम्मेदार ठहराया है। पीड़िता के बयान के आधार पर पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है। 

शिकारपुर थाना की पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है। वहीं आरोपी को गिरफ्तार करने के लिए छापेमारी की जा रही है। घटना के बारे में पीड़िता के पति ने बताया कि गांव के ही रामविलास पटेल ने पहले भी कई बार महिला के साथ दुष्कर्म की कोशिश की थी। उन्होंने बताया कि देर रात आरोपी घर में घुसा और बंदूक के बल पर महिला को सरेह में खींचकर ले गया। यहां उसने महिला के साथ दुष्कर्म की घटना को अंजाम दिया।

महिला ने दुष्कर्म की इस घटना की जानकारी अपने पति को दी। इसके बाद दोनों शिकारपुर थाना पहुंचे और पुलिस में लिखित शिकायत दर्ज कराई। घटना के बारे में शिकारपुर थानाध्यक्ष कृष्ण कुमार गुप्ता ने बताया कि पीड़ित महिला के बयान पर मामला दर्ज कर लिया गया है और पुलिस मामले की छानबीन में जुट गई है।

थानाध्यक्ष गुप्ता ने बताया कि महिला के पति के बयान भी दर्ज किए गए हैं। उन्होंने बताया कि घटनास्थल पर जाकर पूरे मामले की जांच की जाएगी। दुष्कर्म की घटना का आरोपी पूर्व पंचायत समिति सदस्य है। इस साल पंचायत चुनाव होने हैं। ऐसे में पुलिस आरोपी की पूरी तरह से पड़ताल करने में जुट गई है।
... और पढ़ें

राजद के विधान पार्षद रामबली सिंह ने की पीएम मोदी व सीएम योगी की जमकर तारीफ 

बिहार विधान परिषद में उस समय अजब स्थिति पैदा हो गई जिस समय राजद के विधायक ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की जमकर तारीफ की। विधान परिषद में सभी आश्चर्यचकित हो गए कि भाजपा के घोर विरोधी लालू की पार्टी राजद के विधान पार्षद रामबली सिंह ने पीएम मोदी व सीएम योगी के तारीफों के पुल बांध दिए।

राजद के रामबली सिंह कोरोना काल में पलायन कर आ रहे लोगों की सुविधा का मसला उठा रहे थे। इसी बीच वह पड़ोसी राज्य की तारीफ करने लगे। सत्ता पक्ष के विधायकों ने जब सीएम का नाम लेने को कहा तो उन्हाेंने स्पष्ट किया कि उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री योगी जी। फिर बोले, अच्छा काम होगा तो वह भी तारीफ करेंगे।  
... और पढ़ें

कांग्रेस की बागी विधायक अदिति सिंह बोलीं- जहां से हारे हैं उस क्षेत्र को नीचा न दिखाएं राहुल

राहुल गांधी द्वारा उत्तर भारतीय पर दिए गए विवादित बयान को लेकर जहां भारतीय जनता पार्टी हमलावर हो गई है वहीं अब उन्हीं की पार्टी की बागी विधायक अदिति सिंह ने भी उनपर हमला बोला है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी के बयान को किसी भी स्तर से सही नहीं ठहराया जा सकता है। उन्होंने कहा कि हो सकता है कि राहुल को अपना बयान सही लगता हो लेकिन अगर आप अपने वर्तमान क्षेत्र की प्रशंसा करते हुए अपने पिछले निर्वाचन क्षेत्र को कमजोर दिखाने की कोशिश करते हैं तो यह बिल्कुल गलत है।

उन्होंने कहा कि आप अमेठी के बारे में ऐसी बातें कहते हैं जिसने आपको राजनीति का एबीसी सिखाया है, जहां आपके पूर्वजों को सम्मान एवं जीत मिली थी और जहां से आप दिल्ली पहुंचे थे। हम सभी एक राष्ट्र के नागरिक हैं। उन्होंने कहा कि आपसे गलती हुई है इसलिए आपको अमेठी के लोगों से और उत्तर भारतीय से माफी मांगनी चाहिए।

संजय मयूख ने बताया बिहार का अपमान
बिहार विधान परिषद के सदस्य संजय मयूख ने केरल के त्रिवेंद्रम में की गई राहुल गांधी की टिप्पणी पर आपत्ति जताई है। इस संबंध में उन्होंने कहा है कि यह बिहार की सीमा तक फैले उत्तर भारत का सवाल है। कांग्रेस के राष्ट्रीय नेता ने एक विभाजनकारी बयान देकर बिहार के लोगों की भावनाओं को आहत किया है, इसलिए मैंने विधानसभा में एक निंदा प्रस्ताव रखा है।

बता दें कि इससे पहले केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी ने राहुल गांधी पर तीखा हमला बोलते हुए उन्हें एहसान फरामोश बताया है। स्मृति ईरानी ने कहा कि राहुल जिस उत्तर भारत पर सवाल खड़े कर रहे हैं, उन्हें याद रखना चाहिए कि सोनिया गांधी भी यहां से ही सांसद हैं।

एक न्यूज चैनल से बात करते हुए स्मृति ईरानी ने गांधी परिवार पर निशाना साधा। स्मृति ने कहा कि अगर उत्तर भारत के लोगों के प्रति हीन भावना है, तो ये उत्तर भारत में क्यों राजनीति कर रही हैं। प्रियंका वाड्रा ने अभी तक राहुल के बयान का खंडन क्यों नहीं किया। अमेठी की सांसद स्मृति ईरानी ने कहा कि गांधी परिवार जब फिर से अमेठी लौटेगा, तो उन्हें इस बात का जवाब देना होगा।

उन्होंने कहा कि राहुल गांधी जिस उत्तर भारत का अपमान कर रहे हैं, वो भूल रहे हैं कि उसी इलाके से उनकी माता सोनिया गांधी भी सांसद हैं, ऐसे में राहुल गांधी ने जो बात कही, वो माफ करने लायक ही नहीं है।इससे पहले, स्मृति ने राहुल के बयान पर ट्वीट कर हमला बोला था।

क्या है राहुल गांधी का विवादित बयान 
राहुल गांधी ने त्रिवेंद्रम में आयोजित एक कार्यक्रम में कहा था कि मैं 15 साल तक उत्तर भारत में सांसद था। मुझे एक अलग तरह की राजनीति की आदत हो गई थी। मेरे लिए केरल आना बेहद नया था क्योंकि मुझे अचानक लगा कि यहां के लोग मुद्दों में दिलचस्पी रखते हैं और जमीनी तौर पर मुद्दों के विस्तार में जाने वाले है। राहुल गांधी के इस बयान स्मृति ईरानी ने उन्हें आड़े हाथों लिया है।  केंद्रीय मंत्री ने ट्वीट पर करके लिखा, ''एहसान फरामोश! इनके बारे में तो दुनिया कहती है- थोथा चना बाजे घना।''
... और पढ़ें

Bihar: एलआईसी अफसर की पीट-पीटकर की गई थी हत्या, सामने आई सीसीटीवी फुटेज

बिहार के नालंदा जिले में एलआईसी अधिकारी प्रवीण कृष्ण की हत्या के मामले में पुलिस के हाथ अहम सुराग लगा है। इस मामले से संबंधित एक सीसीटीवी फुटेज सामने आया है। इसमें साफ तौर पर दिख रहा है कि किस तरीके से बदमाशों ने लाठी-डंडों से पीट-पीटकर एलआईसी अधिकारी की हत्या कर दी थी। 

एलआईसी अधिकारी प्रवीण कृष्ण की रविवार को पीट-पीटकर हत्या कर दी गई थी। हत्या का आरोप लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) के नेता छोटे लाल यादव पर लगा है। दिल्ली में एलआईसी में कार्यरत प्रवीण कृष्ण अपने दोस्त की 25वीं सालगिरह में शामिल होने के लिए बिहार शरीफ आए हुए थे। 

बताया जा रहा है कि बिहार शरीफ में प्रवीण और उनके दो भाईयों की एक जमीन पर है जिसपर परिवार के लोग रविवार को निर्माण कार्य शुरू कर रहे थे। आरोप है कि लोजपा नेता छोटे लाल इसपर कब्जा करने की फिराक में था। जैसे ही उसे निर्माण कार्य के बारे में पता चला वह मौके पर पहुंच गया। उसने तीनों भाईयों के साथ मारपीट शुरू कर दी।

इस दौरान छोटे लाल यादव और उसके गुर्गों ने प्रवीण कृष्ण की लाठी-डंडों से जमकर पिटाई की। जिसमें प्रवीण की मौत हो गई। इस घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। इस मामले में पुलिस ने छोटे लाल सहित सात लोगों को नामजद आरोपी बनाया है। सभी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो चुकी है। हालांकि किसी को गिरफ्तार नहीं किया गया है।
... और पढ़ें
बिहार: सांकेतिक तस्वीर बिहार: सांकेतिक तस्वीर

बिहार: रिसेप्शन पार्टी से लौट रही दो बहनों को अपराधियों ने मारी गोली, पटना रेफर

बिहार के भोजपुर जिले में अपराधियों के हौसले बुलंद हैं और उनके अंदर पुलिस का कोई खौफ नहीं है। इसका अंदाजा यहां बढ़ते अपराध से लगाया जा सकता है। अपराधी यहां किसी भी आपराधिक घटना को अंजाम देकर आसानी से निकल जाते हैं। ताजा मामला शहर के टाउन थाना क्षेत्र के वलीगंज धरहरा चौकी इलाके का है जहां बुधवार की मध्य रात्रि हथियारबंद अपराधियों ने रिसेप्शन से लौट रही दो बहनों को गोली मार दी।

गोलीबारी की इस घटना में दोनों गंभीर रूप से जख्मी हो गई हैं। इसके बाद उन्हें इलाज के लिए सदर अस्पताल लाया गया जहां से प्राथमिक उपचार के बाद दोनों की चिंताजनक हालत को देखकर उन्हें पटना रेफर कर दिया गया है। जानकारी के अनुसार जख्मी युवती में उत्तरप्रदेश के बनारस के मुबारक अली की 17 साल की बेटी शमा परवीन और उसकी बक्सर जिले की 16 साल की मौसेरी बहन अलीशा नाज है।

जख्मी युवतियों के मामा चांद ने बताया कि वो दोनों टाउन क्षेत्र के रौजा मोहल्ला में स्थित अपनी नानी के घर आई थीं। जहां से बुधवार रात दोनों वलीगंज स्थित अपने रिश्तेदार एहसान खान के बेटे सोनू के रिसेप्शन में शामिल होने के लिए गई थीं। जब मामा चांद के साथ दोनों बहनें बाइक से घर लौट रही थीं तभी वलीगंज धरहरा चौकी के पास नशे में धुत तीन हथियारबंद अपराधी वहां आ पहुंचे।

इसके बाद अपराधियों ने पहले बाइक को रोकने के लिए कहा लेकिन जब चांद ने उनकी बात नहीं मानी तो उन्होंने गलियां चला दीं। इस दौरान दोनों बहनें जख्मी हो गईं। जख्मी अलीशा नाज को दाहिने हाथ में कंधे के पास गोली लगी है जो आर-पार हो गई है। वहीं उसकी मौसेरी बहन शमा परवीन को बाएं हाथ की बांह में गोली लगी है जो फंसी हुई है। उन्हें इलाज के लिए आरा सदर अस्पताल लाया गया था जहां से प्राथमिक इलाज के बाद उन्हें पटना रेफर कर दिया गया है। घटना की सूचना मिलने के बाद स्थानीय थाने की पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की छानबीन शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

आपातकाल के बाद देश कांग्रेस के विरोध में : नीतीश कुमार

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने राहुल गांधी के आपातकाल पर दिए गए बयान पर कहा कि यह पहले से ही सबको मालूम है कि देश में इमरजेंसी लगाना गलत था। आपातकाल के शिकार हम सब लोग हुए थे।

हम लोग उस समय युवा अवस्था में थे। उस समय लोकनायक जयप्रकाश नारायण के नेतृत्व में पूरे देश में आंदोलन चला था और बड़ी संख्या में लोगों की गिरफ्तारी हुई थी। इस दौरान आपातकाल के नाम पर लोगों के मौलिक अधिकारों को छीन लिया गया था।

आपातकाल के बाद हुए चुनाव में देश की जनता ने कांग्रेस को पराजित कर अपना संदेश दे दिया था कि देश कांग्रेस के विरोध में है। लोकनायक जयप्रकाश नारायण के विचारों से प्रभावित होकर देश की सभी विपक्षी पार्टियों ने एक साथ आकर जनता पार्टी का गठन किया था। इसके बाद केंद्र में जनता पार्टी की सरकार बनी थी। राहुल गांधी ने आज जो कुछ भी कहा है, यह उनका निजी विचार है।
... और पढ़ें

बिहार : मेडिकल कॉलेज के एक छात्र की कोरोना से मौत, फरवरी के पहले हफ्ते में ली वैक्सीन की पहली खुराक

बिहार के नालंदा मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस के फाइनल ईयर में पढ़ रहे एक छात्र की कोरोना से मौत हो गई। हालांकि फरवरी के पहले हफ्ते में ही छात्र ने कोरोना की वैक्सीन ली थी, शुभेंदु सुमन को अभी कोरोना वैक्सीन की दूसरी खुराक नहीं दी गई थी।

छात्र की मौत पर बिहार के स्वास्थ्य मंत्री मंगल पांडे का बयान आया है। उन्होंने कहा कि छात्र की मौत की खबर सुनकर दुखी हूं। कोरोना को रोकने के लिए सरकार हर संभव कदम उठा रही है। उन्होंने बताया कि छात्र की मौत के बाद कुछ और डॉक्टर भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। 

बता दें कि छात्र की मौत के बाद मेडिकल कॉलेज के सभी छात्रों का आरटी-पीसीआर टेस्ट किया जा रहा है। शुभेंदु सुमन ने फरवरी के पहले हफ्ते में वैक्सीन ली थी लेकिन 25 फरवरी को वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। कोरोना संक्रमित होने के बाद वो अपने घर बेगूसराय चले गए थे और 27 फरवरी को एक स्थानीय अस्पताल में उन्हें भर्ती किया गया था। 



हालांकि इलाज के दौरान ही सोमवार की शाम को शुभेंदु का निधन हो गया। इस अस्पताल में अब तक 15 छात्र कोरोना पॉजिटिव आ चुके हैं। इनमें से ज्यादातर छात्रों ने कुछ दिन पहले ही कोरोना वैक्सीन की पहली खुराक ली थी। बता दें कि देश में कोरोना के खिलाफ टीकाकरण का अभियान 16 जनवरी से शुरू हो गया था।

पहले चरण के तहत हेल्थकेयर वर्कर्स और फ्रंटलाइव वर्कर्स को कोरोना वैक्सीन लगाई गई थी, जबकि एक मार्च से कोरोना वैक्सीनेशन ड्राइव का दूसरा चरण शुरू हो गया है, इस चरण के तहत 60 साल से ज्यादा उम्र और 45 साल से ज्यादा उम्र के उन लोगों को वैक्सीन दी जा रही है, जिन्हें पहले से कोई बीमारी है। 

दूसरे चरण के तहत अब तक कई नेता, सेलिब्रिटी और बिजनेसमैन टीका लगवा चुके हैं। हालांकि आम लोगों को टीका लगवाने के लिए कोविन एप या आरोग्य सेतु एप पर रजिस्ट्रेशन कराना होगा। 
... और पढ़ें

बिहार : केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एम्स पटना में 250 रुपये देकर लगवाया टीका

कोरोना वैक्सीन (सांकेतिक तस्वीर)
केंद्रीय विधि व न्याय, संचार और इलेक्ट्रॉनिक्स व सूचना प्रौद्योगिकी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने मंगलवार को एम्स पटना में कोरोना वैक्सीन लगवाई। देशव्यापी टीकाकरण अभियान के दूसरे चरण में प्रसाद ने अपने लोकसभा संसदीय क्षेत्र पटना साहिब में टीके के लिए 250 रुपये की सहयोग राशि देकर पहली खुराक ली। 

केंद्रीय मंत्रिमंडल परिषद के सभी सदस्यों ने स्वैच्छिक निर्णय किया था कि वे सभी मुफ्त में कोरोना वैक्सीन नही लगवाएंगे। इसकी निर्धारित कीमत 250 रुपये सहयोग राशि बतौर भुगतान करेंगे। 

इस मौके पर प्रसाद ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में देश में आत्मनिर्भर भारत अभियान के अंतर्गत बनी कोरोना वैक्सीन सिर्फ भारत में ही नही अपितु अन्य दर्जनों देशों में भी जनता के टीकाकरण हेतु उपयोग में लाई जा रही है। 

बिहार में निशुल्क वैक्सीन के निर्णय का स्वागत
प्रसाद ने बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश  कुमार के निर्णय का स्वागत किया है, जिसके अंतर्गत राज्य में सभी को मुफ्त में वैक्सीन लगवाने की सुविधा उपलब्ध कराई गई है। प्रसाद ने बिहार के लोगो से आग्रह किया की वो बढ़-चढ़ कर कोरोना का टीका लगाए और एक नई जागरूकता का परिचय दें। 
... और पढ़ें

सीएम नीतीश को विधानसभा छोड़ लौट रही बस दीवार से टकराई, आज ही हुआ उद्घाटन

बिहार में मंगलवार को इलेक्ट्रिक बस सेवा का शुभारंभ किया गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने खुद बस को हरी झंडी दिखाई और बस में बैठकर विधानसभा पहुंचे। यहां तक तो सब ठीक रहा। लेकिन लौटते समय बस चालक ने नियंत्रण खो दिया और बस विधानसभा परिसर की ही एक दीवार से टकरा गई। 

हादसा होते ही आस-पास मौजूद लोग वहां पहुंचे और बस को वहां से रवाना करवाया। गनीमत रही कि इस दौरान दीवार के पास कोई मौजूद नहीं हुआ। बस चालक भी सुरक्षित है। नई बस में खरोंच जरूर आ गईं। बता दें कि बिहार देश का ऐसा तीसरा राज्य से जहां इलेक्ट्रिक बस सेवा शुरू की जा रही है। 

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने मंगलवार को इलेक्ट्रिक समेत 82 अन्य बसों की परिचालन सेवा का उद्घाटन किया। इन बसों में 70 डीलक्स व सेमी डीलक्स और 12 इलेक्ट्रिक बसें हैं। इस महीने कुल 25 इलेक्ट्रिक बसें सड़कों पर उतारी जाएंगी, जिनमें से 12 बसों का परिचालन शुरू हो गया है।
... और पढ़ें

बिहार: लालू-नीतीश में 'जय-वीरू' जैसी दोस्ती, लेकिन सियासत ने खींच दी 'गहरी खाई'

मौका कोई भी हो, हर किसी को अपने खास दोस्त का इंतजार रहता है, लेकिन यह बात बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से इत्तेफाक नहीं रखती। दरअसल, बिहार में चौथी बार सत्ता संभाल रहे सीएम नीतीश कुमार का आज 70वां जन्मदिन है। जदयू कार्यकर्ता उनके जन्मदिन को 'विकास दिवस' के रूप में मना रहे हैं, लेकिन नीतीश को अपने खास दोस्त का इंतजार बिल्कुल भी नहीं है। दरअसल, उनके खास दोस्त उनके प्रतिद्वंद्वी राजनीतिक दल के प्रमुख लालू प्रसाद यादव हैं। किसी जमाने में एक-दूसरे से दांत काटी दोस्ती रखने वाले ये दोनों राजनीतिक दिग्गज अब एक-दूसरे से मिलना भी पसंद नहीं करते। नीतीश कुमार के जन्मदिन पर जानते हैं इन दोनों की दोस्ती होने और उसके टूटने की कहानी...
... और पढ़ें

बिहार: जन्मदिन पर नीतीश ने पूरा किया चुनावी वादा, निजी अस्पतालों में भी मुफ्त मिलेगी वैक्सीन

बिहार विधानसभा चुनाव के दौरान नीतीश कुमार ने राज्य की जनता को मुफ्त कोरोना वायरस वैक्सीन देने का वादा किया था, अब वे इसे अमल में लाने की तैयारी में हैं। बिहार सरकार ने फैसला लिया है कि राज्य सरकार एक मार्च यानी आज से निजी अस्पतालों में लगाई जाने वाली कोविड-19 वैक्सीन का पूरा खर्च उठाएगी। मुख्यमंत्री नीतीश की अध्यक्षता में रविवार को हुई एक अहम बैठक में यह फैसला लिया गया कि निजी अस्पतालों में भी कोरोना की वैक्सीन मुफ्त में दी जाएगी।

आज से टीकाकरण के दूसरे चरण में देश के निजी अस्पतालों में 60 साल से ज्यादा और गंभीर रोगों से ग्रसित 45 साल के लोगों को कोरोना का टीका लगाया जाएगा। केंद्र सरकार ने प्रत्येक डोज की कीमत अधिकतम 250 रुपये रखी है। बिहार में लोगों को इसके लिए कोई शुल्क नहीं चुकाना है। चुनाव के दौरान भाजपा ने वादा किया था कि यदि वे सत्ता में आते हैं तो बिहार के हर नागरिक को मुफ्त में कोरोना का टीका दिया जाएगा।
 

इसे ही आगे बढ़ाते हुए सरकार गठन के बाद नीतीश कैबिनेट ने राज्य के प्रत्येक नागरिक को मुक्त कोविड-19 वैक्सीन दिए जाने के प्रस्ताव को मंजूरी दी थी। इसी के तहत सरकार बिहार में सभी को मुफ्त में वैक्सीन दे रही है। 

 

 


नीतीश भी लगवाएंगे कोरोना का टीका
बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार आज कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लेंगे। मुख्यमंत्री  सोमवार को दोपहर एक बजे आईजीआईएमएस अस्पताल जाएंगे जहां पर टीकाकरण के दूसरे चरण की शुरुआत के साथ ही वे खुद भी टीका लगवाएंगे। बता दें कि आज नीतीश कुमार का जन्मदिन है। अपने जन्मदिन के मौके पर उन्होंने प्रदेशवासियों को ये बड़ा तोहफा दिया है।

पीएम मोदी ने लगाया कोरोना का टीका
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को दिल्ली स्थित एम्स अस्पताल में कोरोना वायरस का टीका लगवाया है। उन्होंने कोवैक्सीन की पहली डोज ली। वे खुद सुबह-सुबह एम्स अस्पताल पहुंचे और कोरोना का टीका लगवाया। उन्होंने लोगों से कोरोना का टीका लगाने और भारत को कोविड-19 से मुक्त कराने के लिए साथ आने आने की अपील की है।
... और पढ़ें

बिहार: बाहुबली विधायक का छलका दर्द, कहा- नहीं मांगता रंगदारी फिर भी मिल रही हैं शिकायतें

रीतलाल यादव की बातें सुनकर सभी हैरान हो गए। दरअसल, विधायक बनने के बाद यादव अपनी छवि को लेकर काफी सतर्क हो गए हैं। उन्होंने मीडिया से बात करते हुए कहा कि मैं लंबे समय से बहुत दुखी हूं। मैं इसे लेकर मीडिया के सामने अपनी बात रखना चाहता था। लेकिन समझ नहीं आ रहा था कि कैसे कहूं। 

उन्होंने कहा कि सात-आठ लोग मेरे नाम पर लोगों को फोन करके रंगदारी मांग रहे हैं। वे दो से बीस लाख तक की रंगदारी मांगते हैं। वे लोगों को फोन करके कहते हैं कि मैं विधायक बोल रहा हूं। 15 लाख रुपये दो नहीं तो तुम्हारे बेटा का काम तमाम कर दूंगा। तुम्हारे पूरे परिवार का सत्यानाश कर दूंगा। जानते नहीं हो कि हम कौन हैं, रीतलाल यादव नाम है मेरा।

राजद विधायक ने बताया कि कई बार उनके भाई के नाम पर भी रंगदारी मांगी जाती है। इतना ही नहीं रंगदारी मांगने का ऑडियो तक वायरल हो रहा है। उन्होंने कहा कि आवाज सुनकर मैं चकित था क्योंकि ऐसा लग रहा था कि मैं ही बोल रहा हूं। जब कुछ पीड़ित मेरे घर रंगदारी मांगने की शिकायत लेकर पहुंचे तब मुझे सारी बात पता चली।

भाजपा से झटकी सीट
दानापुर सीट वीआइपी सीटों में शुमार है। राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव भी यहां से 1995 और 2000 में चुनाव जीत चुके हैं। फिलहाल यह सीट भाजपा के कब्जे में थी। पिछले साल हुए विधानसभा चुनाव में रीतलाल ने भाजपा को हराकर यहां जीत हासिल की है।

मनी लॉड्रिंग के मामले में जेल में थे बंद
रीतलाल मनी लॉड्रिंग और कुछ फौजदारी मामलों में पटना की ब्योर जेल में बंद थे। उन्हें बीच में भागलपुर भी शिफ्ट किया गया था। फरवरी 2020 में बेटी की शादी के लिए पटना उच्च न्यायालय ने उन्हें 15 दिनों की औपबंधिक जमानत दी थी। वे छह साल नौ महीने मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में जेल में बंद रहे थे।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X