एक ऐसा भारतीय सैनिक, जिसपर पाकिस्तान ने रखा था 50 हजार रुपये का इनाम

फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Thu, 16 Jul 2020 11:02 AM IST
विज्ञापन
ब्रिगेडियर उस्मान
ब्रिगेडियर उस्मान - फोटो : Social media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
भारत के कई सैन्य इतिहासकारों की राय है कि अगर ब्रिगेडियर उस्मान की समय से पहले मौत न हो गई होती तो वो शायद भारत के पहले मुस्लिम थल सेनाध्यक्ष होते। एक कहावत है कि ईश्वर जिसे चाहता है उसे जल्दी अपने पास बुला लेता है। बहादुरों की बहुत कम लंबी आयु होती है। ब्रिगेडियर उस्मान के साथ भी ऐसा ही था। 
विज्ञापन

जब उन्होंने अपने देश के लिए अपनी जान दी तो उनके 36वें जन्मदिन में 12 दिन बाकी थे, लेकिन अपने छोटे से जीवनकाल में उन्होंने वो सब हासिल कर लिया जिसको बहुत से लोग उनसे दोहरा जी कर भी नहीं पा पाते हैं। वो शायद अकेले भारतीय सैनिक थे जिनके सिर पर पाकिस्तान ने 50,000 रुपये का इनाम रखा था, जो उस जमाने में बहुत बड़ी रकम हुआ करती थी। 1948 में नौशेरा का लड़ाई के बाद उन्हें 'नौशेरा का शेर' कहा जाने लगा था। 
12 साल की उम्र में कुएं में डूबते बच्चे को बचाया
उस्मान का जन्म 15 जुलाई 1912 को मऊ जिले के बीबीपुर गांव में हुआ था। उनके पिता काजी मोहम्मद फारूक बनारस शहर के कोतवाल थे और उन्हें अंग्रेज सरकार ने खान बहादुर का खिताब दिया था। एक बार जब वो 12 साल के थे तो वो एक कुएं के पास से गुजर रहे थे। उसके चारों तरफ भीड़ जमा देखकर वो वहां रुक गए। पता चला कि एक बच्चा कुएं में गिर पड़ा है। 

12 साल के उस्मान ने आव देखा न ताव, वो उस बच्चे को बचाने के लिए कुएं में कूद पड़े। उस्मान बचपन में हकलाया करते थे। उनके पिता ने सोचा कि इस कमी के कारण वो शायद सिविल सेवा में न चुने जाएं,  इसलिए उन्होंने उन्हें पुलिस में जाने के लिए प्रेरित किया। वो उन्हें अपने साथ अपने बॉस के पास ले गए। इत्तेफाक से वो भी हकलाया करते थे। उन्होंने उस्मान से कुछ सवाल पूछे और जब उन्होंने उनके जवाब दिए तो अंग्रेज अफसर ने समझा कि वो उनकी नकल उतार रहे हैं। वो बहुत नाराज हुआ और इस तरह उस्मान का पुलिस में जाने का सपना भी टूट गया। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पाकिस्तान न जाने का फैसला 

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Bizarre News in Hindi related to Weird News - Bizarre, Strange Stories, Odd and funny stories in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Bizarre and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us