एक ऐसा देश, जिसे नहीं लगता कोरोना वायरस से डर, यहां पहले की तरह ही है जनजीवन

फीचर डेस्क, अमर उजाला, नई दिल्ली Updated Fri, 27 Mar 2020 02:30 PM IST
विज्ञापन
बेलारूस (प्रतीकात्मक तस्वीर)
बेलारूस (प्रतीकात्मक तस्वीर) - फोटो : pixabay

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
बीते कुछ दिनों से यूरोप कोरोना वायरस महामारी का केंद्र बना हुआ है। कई देशों में सरकारें लोगों से घरों में बंद रहने के लिए कह रही हैं और वायरस को फैलने से रोकने के लिए पाबंदियां लगा रही हैं। लेकिन यूरोप में एक देश ऐसा भी है जहां अधिकारी इस वायरस के बढ़ते कदमों को रोकने के लिए आम जनजीवन पर पाबंदियां नहीं लगा रहे। 
विज्ञापन

कोरोना महामारी से निपटने के लिए बेलारूस अपने निकट पड़ोसी यूरोपीय देश, यूक्रेन और रूस की तरह कड़े कदम नहीं उठा रहा। यूक्रेन जल्द ही कोरोना को रोकने के लिए आपातकाल का एलान कर सकता है। रूस ने सभी स्कूलों को बंद कर दिया है, सार्वजनिक कार्यक्रमों पर पाबंदी लगाई है और देश से आने जाने वाली सभी उड़ानों को भी रद्द किया है, लेकिन बेलारूस में कामकाज आम दिनों की तरह ही चल रहा है। देश की सीमाएं पहले की तरह खुली है, लोग काम पर जा रहे हैं और लोग जरूरी सामान खरीदने के लिए दुकानों की तरफ नहीं भाग रहे।  
'दहशत की जरूरत नहीं'
बेलारूस के राष्ट्रपति अलेक्जेंडर लूकाशेन्को कहते हैं कि फिलहाल देश में कोरोना को पैर पसारने से रोकने के लिए एहतियातन कदम उठाने की जरूरत नहीं है। मंगलवार को मिंस्क में चीन के राजदूत से मुलाकात के बाद उन्होंने कहा, 'घटनाएं तो होती रहती हैं। जरूरी है कि उन्हें लेकर लोगों में दहशत न फैले।' 

बेलारूस में न तो सिनेमाघर और थिएटर बंद किए गए हैं और न ही यहां सार्वजनिक कार्यक्रम करने पर किसी तरह को पाबंदी लगाई गई है। बेलारूस दुनिया के उन चंद देशों में से है जिसने यहां होने वाली फुटबॉल चैंपियनशिप कैंसिल नहीं की है। यहां हो रहे फुटबॉल मैच सामान्य दिन की तरह कराए जा रहे हैं और पड़ोसी रूस के फुटबॉल प्रेमियों के लिए टेलीविजन पर भी मैचों का सीधा प्रसारण भी किया जा रहा है। 

'कोरोना वायरस को रोकेगा ट्रैक्टर'

राष्ट्रपति लूकाशेन्को ने हाल में कहा था कि 'कोरोना वायरस को एक ट्रैक्टर रोकेगा।' उनका ये बयान बेलारूस के सोशल मीडिया पर सुर्खियों में रहा और लोगों ने इस पर चर्चा की, कइयों ने इस बयान का मजाक भी बनाया। हालांकि राष्ट्रपति का बयान खेतों में मेहनत करने को लेकर था। उन्होंने ये भी कहा था कि वो खुद शराब नहीं पीते हैं लेकिन कोरोना को रोकने के लिए पीना पड़ा तो वो एक घूंट वोदका तो पी ही सकते हैं। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all Bizarre News in Hindi related to Weird News - Bizarre, Strange Stories, Odd and funny stories in Hindi etc. Stay updated with us for all breaking news from Bizarre and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us