सिर्फ फोर्टिस ही नहीं, इन बड़ी कंपनियों के में भी हुआ है विवाद, लगा करोड़ों रुपये हेरफेर का आरोप

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Wed, 05 Sep 2018 04:02 PM IST
विज्ञापन
not only fortis these corporate groups also in legal tangle

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बड़े अस्पताल में शामिल फोर्टिस के प्रमोटर बंधुओं में आपसी विवाद अब एनसीएलटी कोर्ट में चला गया है। देश के कार्पोरेट इतिहास में यह पहला ऐसा मामला नहीं हैं, जिसमें मामला कोर्ट में गया है। इससे पहले मुंबई के लीलावती अस्पताल और टाटा समूह-साइरस मिस्त्री का विवाद भी शामिल है। इन कंपनियों में संपत्ति को लेकर के विवाद राष्ट्रीय कंपनी लॉ ट्रिब्यूनल (एनसीएलटी) में पहुंच गए थे, जिनमें कुछ मामले विचाराधीन चल रहे हैं। 
विज्ञापन

फोर्टिस का यह है विवाद
फोर्टिस हेल्थकेयर में नियंत्रक हिस्सेदारी मलेशियाई कंपनी को सौंपे जाने के बाद इसके पूर्व प्रमोटर बंधुओं में तनाव पैदा हो गया है। छोटे भाई शिवइंदर मोहन सिंह ने मंगलवार को बड़े भाई मलविंदर मोहन सिंह के खिलाफ एनसीएलटी में याचिका दाखिल की है। छोटे भाई शिवइंदर ने बड़े भाई मलविंदर पर फोर्टिस को डुबोने का आरोप लगाया है। सिंह बंधुओं पर कंपनी से एक साल पहले 7.8 करोड़ डॉलर निकालने का आरोप लग रहा है। 
90 के दशक में हुई थी शुरुआत

नब्बे के दशक के आखिर में शिवइंदर ने अपने बड़े भाई मालविंदर मोहन सिंह के साथ फोर्टिस हेल्थकेयर की शुरुआत की थी। 2008 में सिंह बंधुओं ने रैनबैक्सी में अपने स्टॉक को जापान की प्रमुख दवा कंपनी दाइची संक्योन को बेच दिया था। फिलहाल फोर्टिस हैल्थकेयर की शाखाएं भारत, दुबई, मॉरिशस और श्रीलंका में काम कर रही हैं।

यह है विवाद की असली वजह

कंपनी की बैलेंस शीट में इस 500 करोड़ रुपये का जिक्र है, लेकिन इस पैसे का इस्तेमाल दूसरी कंपनियों को फंड डायवर्ट कर दिया। यही नहीं कंपनी के ऑडिटर डेलॉयट ने दूसरी तिमाही के नतीजों को मंजूरी नहीं दी है। 

बोर्ड से नहीं ली मंजूरी

इतनी बड़ी रकम को निकालने के लिए दोनों भाइयों ने कंपनी के बोर्ड से भी मंजूरी नहीं ली। इस मामले से जुड़े लोगों का कहना है कि यह अभी तक साफ नहीं है कि इस फंड का क्या हुआ। हालांकि जानकारों का कहना है कि दोनों सिंह भाई इस पैसे को लौटाने जा रहे हैं। इसके बाद ही फोर्टिस का रिजल्ट जारी किया जा सकेगा।

खरीदा था यह बड़ा अस्पताल

2005 में सिंह बंधुओं ने 2005 में दिल्ली के प्रसिद्ध अस्पताल एस्कॉर्ट्स को 650 करोड़ रुपये में खरीदा था। तब यह हेल्थकेयर सेक्टर में सबसे बड़ी डील मानी गई थी। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

टाटा संस-साइरस मिस्त्री विवाद

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X