ज्यादा वेतन पाने वालों के लिए निवेश का बेहतर विकल्प है नेशनल पेंशन स्कीम

बिजनेस डेस्क, अमर उजाला Updated Mon, 18 Nov 2019 05:44 PM IST
विज्ञापन
nps
nps

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) में निवेश करना भविष्य की सुरक्षा के लिहाज से सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है। सेवानिवृत्ति के बाद निवेशक को जहां एकमुश्त बड़ी राशि का लाभ मिलता है, वहीं कुल जमा राशि के कुछ हिस्से से मासिक पेंशन भी बंध जाती है। इसके अलावा एनपीएस में निवेश की गई राशि कर मुक्त होने से यह वर्तमान में भी फायदेमंद है। इसके आकर्षक नियमों की वजह से यह उच्च वेतनभोगियों के लिए निवेश का सबसे बेहतर विकल्प माना जाता है।

नौकरी और पेशेवर पर अलग नियम

एनपीएस में टियर-1 और टियर-2 खाते खोले जा सकते हैं, जिसमें पहला अनिवार्य और दूसरा वैकल्पिक है। आयकर अधिनियम की धारा 80सीसीडी के तहत टियर-1 में वेतनभोगी को कुल वेतन के 10 फीसदी राशि पर टैक्स छूट मिलेगी। केंद्रीय कर्मचारियों के लिए यह सीमा 14 फीसदी है। इसमें मूल वेतन और डीए शामिल होता है। अगर आप पेशेवर हैं तो, कुल आय के 10 फीसदी के बराबर कर कटौती का दावा कर सकेंगे। इस आय में आपकी सभी तरह की आय शामिल है और इसकी गणना आयकर प्रावधानों के अनुरूप की जाती है।

इस तरह मिलेगा दोहरा लाभ

आयकर अधिनियम की धारा 80सीसीडी(1) के तहत एनपीएस के टियर-1 खाते में आप भी 1.5 लाख रुपये सालाना जमा कर सकते हैं। हालांकि, इसके तहत 1.5 लाख की सीमा में ही जीवन बीमा का प्रीमियम, ईपीएफ, पब्लिक प्रोविडेंट फंड, नेशन सेविंग सर्टिफिकेट जैसे निवेश विकल्प भी शामिल हैं।
विज्ञापन

सरकार ने हाल में ही एनपीएस में निवेश के लिए अलग से 50 हजार रुपये पर टैक्स छूट देने की बात कही है। यानी अगर आप सिर्फ एनपीएस में निवेश करना चाहते हैं, तो सालाना 2 लाख रुपये पर आयकर छूट का दावा कर सकते हैं। इसके अलावा आपका नियोक्ता भी वेतन के 10 फीसदी के बराबर एनपीएस में डाल सकता है।
अगर आपका सालाना वेतन 50 लाख रुपये है, तो एनपीएस के तहत 5 लाख रुपये के निवेश पर कोई टैक्स नहीं देना होगा। ऐसे में कुल 7 लाख रुपये का निवेश एनपीएस के तहत कर मुक्त हो जाएगा। सबसे रोचक बात यह है कि नियोक्ता इस रकम को कारोबारी खर्च के रूप में दिखाकर खुद भी कर लाभ ले सकेगा।

60 फीसदी निकासी भी कर मुक्त 

सरकार ने एनपीएस की परिपक्वता अवधि के बाद धन निकासी की सीमा को बढ़ाने के साथ इस पर टैक्स से छूट भी दे दी है। अगर आप 60 साल के बाद एनपीएस से पैसे निकालते हैं, तो कुल जमा राशि का 60 फीसदी हिस्सा निकाल सकते हैं, जिस पर कोई टैक्स नहीं देना होगा। शेष 40 फीसदी राशि से एन्युटी खरीदना अनिवार्य होता है, जो आपको किस्तों में पेंशन के रूप में दिया जाता है। अगर आप चाहें तो बाद में इसे एकमुश्त भी ले सकते हैं, जिस पर कोई कर नहीं देय होगा।

ये सावधानियां जरूरी

  • एनपीएस खाते में सालाना 6,000 रुपये की राशि जमा करना जरूरी है।
  • किसी भी साल राशि जमा न करने पर निवेशक पर जुर्माना लग सकता है।
  • 60 साल से पहले की आयु तक कुल जमा रकम का 20 फीसदी ही निकाल सकते हैं। 
  • आपका एनपीएस खाता 70 साल की उम्र होने तक बंद होना जरूरी है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें कारोबार समाचार और बजट 2020 से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। कारोबार जगत की अन्य खबरें जैसे पर्सनल फाइनेंस, लाइव प्रॉपर्टी न्यूज़, लेटेस्ट बैंकिंग बीमा इन हिंदी, ऑनलाइन मार्केट न्यूज़, लेटेस्ट कॉरपोरेट समाचार और बाज़ार आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X