विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

अनिल थापरः कूड़ा बीनने वाले बच्चों को पाठशाला खोल कर रहे शिक्षित, मिल चुका राज्य पुरस्कार

समाज सेवी अनिल थापर स्लम एरिया निवासी और कूड़ा बीनने वाले बच्चों के हाथ में किताब थमाने का काम करना अपने जीवन का अहम हिस्सा मानते हैं।

16 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चंडीगढ़

गुरूवार, 9 अप्रैल 2020

तैयार हो रहा पोस्ट लॉकडाउन प्लान: मनोज परिदा

चंडीगढ़। प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने रोजाना की तरह बुधवार को भी यूटी सचिवालय के वॉर रूम में ट्राइसिटी के अधिकारियों की बैठक ली। बैठक में प्रशासक को एडवाइजर मनोज परिदा ने बताया कि शहर में कोरोना के मरीजों की संख्या फिलहाल स्थिर गई है। चंडीगढ़ में पिछले 6 दिन से कोई नया केस सामने नहीं आया है। वहीं, अन्य राज्यों से आने वालों पर सख्त निगरानी रखी जा रही है। इसके अलावा शहर के लिए पोस्ट लॉकडाउन प्लान भी तैयार किया जा रहा है।
प्रशासक वीपी सिंह बदनौर ने शहरवासियों को मास्क पहनने की आदत डालने की बात कही। उन्होंने कहा कि लोगों को सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखना पड़ेगा। कोरोना से लड़ने का यही सबसे बड़ा हथियार यही है। उन्होंने कहा कि मुंबई ने भी मास्क पहनना अनिवार्य कर दिया है। बदनौर ने डेराबस्सी से कोरोना के तेजी से बढ़े मामलों को लेकर अपनी चिंता व्यक्त की। उन्होंने अधिकारियों को निर्देश दिए कि पॉजीटिव मरीजों के संपर्क में आने वाले लोगों की जल्द से जल्द पहचान की जाए और उन्हें क्वारंटीन किया जाए ताकि यह संक्रमण चंडीगढ़ में न फैले। उन्होंने मोहाली के कमिश्नर को भी संपर्क में रहने और संयुक्त अभियान शुरू करने की सलाह दी।
कोरोना से लड़ रहे कर्मचारियों को कुछ हुआ तो मिलेगा मुआवजा
बैठक में प्रशासक को जानकारी दी गई कि कोरोना वायरस से लड़ रहे कर्मचारियों को अगर कुछ होता है तो उन्हें मुआवजा दिया जाएगा। वित्त सचिव अजॉय कुमार सिन्हा ने कहा कि कोरोना से लड़ रहे फ्रंटलाइन कर्मचारियों को किसी भी दुर्भाग्यपूर्ण घटना के मामले में मुआवजा राशि के भुगतान की व्यवस्था की गई है। इसके अलावा स्वास्थ्य सचिव अरुण कुमार गुप्ता ने कहा कि भारत सरकार द्वारा जारी दिशा-निर्देशों के आधार पर एक इंटीग्रेटेड प्लान तैयार किया गया है, जिसमें डायरेक्टर हेल्थ सर्विस डॉ. जी दीवान, जीएमसीएच के डायरेक्टर प्रिंसिपल डॉ. बीएस चवन और पीजीआई के डायरेक्टर प्रो. जगत राम ने मदद की है।
मास्क नहीं पहनने वालों को पुलिस दे रही चेतावनी: डीजीपी
चंडीगढ़ पुलिस के डीजीपी संजय बेनीवाल ने कहा कि शहर में कर्फ्यू का सख्ती से पालन हो रहा है। इसके अलावा बुधवार को सार्वजनिक जगहों पर निकले जिन लोगों ने मास्क नहीं लगाए थे, उन्हें पुलिस की तरफ से चेतावनी दी गई है। प्रशासक ने सेक्टर-26 मंडी में बढ़ रही भीड़ को कम करने और जरूरत पड़ने पर अतिरिक्त पुलिस बल तैनात करने के भी निर्देश दिए। डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने बताया कि वीरवार को शहर के विभिन्न हिस्सों में 54,793 कुक्ड फूड पैकेट जरूरतमंदों को बांटे गए हैं। प्रशासक ने डीसी को शहर के विभिन्न एनजीओ और चैरिटेबल संस्थाओं की मदद लेने की भी सलाह दी। उन्होंने जरूरतमंदों को खाना पहुंचाने के लिए सेक्टर-45 के मस्जिद मैनेजमेंट कमेटी का भी धन्यवाद किया।
... और पढ़ें

Coronavirus: चंडीगढ़ में यहां लगी सैनिटाइजर टनल, कोरोना संक्रमण से बचाएगा ये 'खास स्नान'

चंडीगढ़ के सेक्टर-26 स्थित ग्रेन मार्केट के प्रवेश द्वार पर लगी शहर की पहली सैनिटाइजर टनल का शुभारंभ बुधवार को एडवाइजर मनोज परिदा ने किया। इस दौरान टनल में प्रवेश कर उन्होंने खुद को सैनिटाइज करने के साथ नगर निगम के अधिकारियों से टनल के विषय में जानकारी ली। एडवाइजर ने निगम अधिकारियों को निर्देश दिया कि ग्रेन मार्केट को लेकर जारी प्रशासन के निर्देशों का सख्ती से पालन किया जाए।

इस दौरान डीसी मनदीप सिंह बराड़, नगर निगम कमिश्नर केके यादव, एसडीएम नाजुक कुमार ने भी टनल में जाकर खुद को सैनिटाइज किया। डीसी मनदीप सिंह बराड़ ने कहा कि कोरोना संक्रमण रोकना प्रशासन की पहली प्राथमिकता है। इसी को लेकर शहर में जहां-जहां ज्यादा संख्या में लोग एकत्र होते हैं वहां अन्य सैनिटाइज टनल लगाई जाएगी। 

टनल के शुभारंभ के बाद एडवाइजर मनोज परिदा ने ग्रेन मार्केट परिसर पर भ्रमण भी किया। इस दौरान उन्होंने मंडी परिसर में कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए की गई तैयारियों का जायजा भी लिया। 

सेक्टर-16 और 32 के अस्पतालों में लगेगी सैनिटाइज टनल:  सेक्टर-26 की ग्रेन मार्केट में पहली सैनिटाइज टनल के शुरू होने के बाद अब शहर के दो बड़े अस्पतालों में भी सैनिटाइज टनल लगाई जाएगी। इसके लिए प्रशासन ने नगर निगम को सेक्टर-16 और 32 के अस्पतालों के मुख्य द्वार पर सैनिटाइज टनल लगाने के निर्देश दिए हैं। नगर निगम कमिश्नर केके यादव ने बताया कि निगम ने इसको लेकर तैयारियां शुरू कर दी है। जल्द ही निगम इस कार्य को मूर्तरूप दे देगा। 
... और पढ़ें

हरियाणा में कोरोना वायरस से हुई मौत तो घर नहीं जाएगा शव, दूर से होंगे अंतिम दर्शन, पढ़ें- गाइडलाइन

कोविड-19 प्रभावित शवों का निपटान कर रहे लोगों के संक्रमित होने के भय व संभावना को मद्देनजर रखते हुए हरियाणा सरकार ने गाइडलाइंस जारी की है। शहरी स्थानीय निकाय विभाग की ओर से जारी की गई गाइडलाइंस में बताया गया है कि नगर निगमों के सभी आयुक्तों, नगर परिषदों के कार्यकारी अधिकारियों और नगर समितियों के सचिवों को स्वास्थ्य सेवाएं महानिदेशालय (ईएमआर डिवीजन) स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत सरकार द्वारा जारी दिशा निर्देशों का कड़ाई से पालन करते हुए शवों का निपटान करने के लिए प्राधिकृत किया है।

आदेश का उल्लंघन अपराध माना जाएगा
इस संदर्भ में किसी व्यक्ति, संस्था और संगठन द्वारा किसी भी संबंधित आदेश के उल्लंघन को भारतीय दंड संहिता की धारा 188 (1860 में 45) के तहत दंडनीय अपराध माना जाएगा। नगर निगम आयुक्त इस कार्य के लिए संयुक्त आयुक्त या अधीक्षक अभियंता या कार्यकारी अभियंता के स्तर के वरिष्ठ अधिकारी को नोडल अधिकारी पदनामित करेगा। जबकि कार्यकारी अधिकारी और सचिव नोडल अधिकारी होंगे।

इसका पालन अनिवार्य होगा
इसके अतिरिक्त, आइसोलेशन एरिया, शवगृह एवं एंबुलेंस में शवों की देखभाल के लिए चिह्नित सभी कर्मचारियों और श्मशान घर एवं कब्रिस्तान में कार्यरत कर्मचारियों में संक्रमण को रोकने के लिए किए जाने वाले उपायों के बारे में प्रशिक्षित किया जाना चाहिए। अधिकारियों द्वारा परिवार को बताया जाएगा कि सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए श्मशान घर में बड़ी संख्या में लोगों की उपस्थिति से बचना चाहिए, क्योंकि ऐसे में संक्रमण के फैलने की संभावना अधिक रहती है।

10 वर्ष से कम आयु के बच्चों और 60 वर्ष से अधिक आयु के बुजुर्गों को शव के सीधे संपर्क में आने से बचना चाहिए और उन्हें श्मशान घर नहीं ले जाना चाहिए। शव को नहलाने, चूमने या आंलिगन करने की अनुमति नहीं दी जानी चाहिए। संस्कार के समय धार्मिक ग्रंथों को पढ़ने, पवित्र जल के छिड़काव या कोई ऐसा कार्य, जिसमें शव को छूने की आवश्यकता नहीं है, की अनुमति होगी। संस्कार के उपरांत परिवार के सदस्यों को अपने हाथों को अच्छे से धोना चाहिए। राख से संक्रमण के फैलने का खतरा नहीं है इसलिए अस्थि प्रवाह के लिए उसे एकत्रित किया जा सकता है।
... और पढ़ें

पंजाब में कोरोना से नौवीं मौत, मोहाली में एक दिन में 10 नए केस, प्रदेश में पीड़ितों की संख्या हुई 115

पंजाब में मोहाली जिला कोरोना वायरस का सबसे बड़ा हॉटस्पॉट बनने लगा है। बुधवार को कोरोना के पॉजिटिव मरीजों के 10 और मामले सामने आने के बाद जिले में कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़कर 36 हो गई। यह राज्य में अन्य प्रभावित जिलों के मुकाबले काफी अधिक है। मोहाली के बाद नवांशहर में इसके सबसे अधिक 19 मामले हैं। रोपड़ के एक मरीज की चंडीगढ़ पीजीआई में मौत हो गई। यह पंजाब में कोरोना से होने वाली नौवीं मौत है।

बुधवार को कुल 16 नए मामले दर्ज किए गए। इनमें 10 मोहाली, दो जालंधर, दो लुधियाना और एक-एक फरीदकोट व मुक्तसर का है। लुधियाना में एक केस को छोड़कर सभी पहले से पॉजिटिव पाए गए लोगों के संपर्क में थे। लुधियाना में जो दो नए मामले सामने आए हैं, इनमें से एक 15 साल का किशोर है। वह तब्लीगी जमात में शामिल हुए व्यक्ति का भतीजा है। 

वहीं दूसरा मरीज 24 साल का है। सिविल सर्जन ने बताया कि उसके यात्रा इतिहास को तलाशा जा रहा है। मुक्तसर में तब्लीगी जमात से संबंधित एक 17 वर्षीय युवक की रिपोर्ट में पॉजिटिव आई है। यह युवक मूलरूप से मेरठ (उत्तर प्रदेश) का है। दिल्ली के निजामुद्दीन मरकज से साथियों समेत मुक्तसर आने के बाद कर्फ्यू के चलते वह लौट नहीं सका था। राज्य में अब तक 14 लोग कोरोना को मात देने में भी कामयाब हुए हैं। प्रदेश में इस घातक रोग से नौ मरीजों की मौत हो चुकी है।

नवांशहर में आठ, मोहाली में पांच लोग हो चुके हैं ठीक  
सेहत विभाग के अनुसार मोहाली जिले में एक संक्रमित की मौत हो चुकी है जबकि पांच लोग ठीक होकर घर जा चुके हैं। नवांशहर में कुल 19 मरीजों में से आठ लोग ठीक हो चुके हैं। अमृतसर जिले में 10 मरीजों में से 2 की मौत हो चुकी है। जालंधर जिले में 8 मरीजों का इलाज चल रहा है जबकि होशियारपुर व पठानकोट में 7-7 मरीज हैं।

होशियारपुर में अब तक एक मरीज की मौत हुई है और एक मरीज ठीक हुआ है। लुधियाना में आठ मरीजों में से 2 की मौत हो चुकी है। इनके अलावा मानसा में 5, मोगा में 4, रोपड़ में 3, फतेहगढ़ साहिब और फरीदकोट में 2-2, पटियाला, बरनाला व कपूरथला में 1-1 मरीज का इलाज चल रहा है। 
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

पंजाब: कैप्टन अमरिंदर सिंह बोले- लॉकडाउन से धीरे-धीरे निकलने के उपाय ढूंढने को बनेगी टास्क फोर्स

पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि राज्य को लॉकडाउन से धीरे-धीरे बाहर निकालने के उपाय ढूंढने के लिए टास्क फोर्स बनाई जाएगी। वहीं, राज्य में बुधवार को कोरोना से संक्रमित सात नए मामले सामने आए हैं। इसी के साथ पीड़ितों की संख्या यहां 106 पर पहुंच गई है। 

सीएम ने बुधवार को राज्य के प्रसिद्ध उद्योगपतियों को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिये संबोधित करते हुए भरोसा दिलाया कि नाजुक मसलों और चुनौतियों को हल करने के लिए सरकार द्वारा उद्योगों की पूरी मदद की जाएगी। उन्होंने उद्योग जगत को अपने सुझाव देने के लिए कहा और मौजूदा हालात में राज्य सरकार के फैसले लेने की प्रक्रिया का हिस्सा बनने का भी न्योता दिया। 

उन्होंने कहा कि यदि कोई उद्योग चलाना चाहता है तो वह राज्य सरकार के पास पहुंच सकता है। उनके अनुरोध को दिशा-निर्देशों के दायरे के अंदर हल करने के लिए सभी प्रयास किए जाएंगे। सीएम ने उद्योग विभाग से कहा कि उद्योगपतियों द्वारा उठाए गए मामलों पर गंभीरता से विचार करते हुए इन्हें जल्द से जल्द हल किया जाए। 

कर्फ्यू बढ़ाने संबंधी कोई फैसला कैबिनेट की बैठक के बाद: अमरिंदर
मीडिया रिपोर्टों को खारिज करते हुए पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को स्पष्ट किया कि राज्य में 14 अप्रैल के बाद कर्फ्यू को आगे बढ़ाने का अभी तक कोई फैसला नहीं लिया गया है। ऐसी रिपोर्टों को बेबुनियाद करार देते हुए सीएम ने कहा कि कोई भी फैसला 10 अप्रैल को बुलाई कैबिनेट की मीटिंग के बाद लिया जाएगा।

सीएम ने स्पष्ट किया कि कर्फ्यू को और आगे बढ़ाने की रिपोर्टें, आम राज्य प्रबंधन विभाग द्वारा सरकारी मुलाजिमों को जारी एडवाइजरी के कारण शुरू हुई थी। कैप्टन ने कहा कि उनकी हिदायतों पर मुख्य सचिव ने एडवाइजरी वापस ले ली है। 

हालात को देखकर लेंगे फैसला
अमरिंदर ने कहा कि हालांकि सूबे में महामारी अभी तक नियंत्रण में है लेकिन लगातार बदलते हालात को देखते हुए भविष्य के बारे में कुछ नहीं कहा जा सकता। कोई भी फैसला राज्य और लोगों के हितों को ध्यान में रखते हुए अप्रैल के मध्य की संभावित स्थितियों के आधार पर लिया जाएगा। इस समय लोगों की जान बचाना ही सरकार की प्राथमिकता है।
... और पढ़ें

Coronavirus: हरियाणा में कोरोना पीड़ितों की संख्या पहुंची 155, 13882 लोग चिकित्सा निगरानी में

हरियाणा में कोरोनाग्रस्त मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है। मरीजों की संख्या अब 155 तक पहुंच गई है। किसी तरह इस संक्रमण को हरियाणा में रोका जाए, इसे लेकर सरकार भी जी-तोड़ कोशिशों में लगी हुई है। इन 155 संक्रमित मरीजों में से 61 लोग विभिन्न राज्यों से ताल्लुक रखने वाले तब्लीगी जमात से है, जो हरियाणा पहुंचे थे। जबकि दो मरीजों का निधन हो चुका है।

अभी बहुत से तब्लीगी जमात से संबंधित लोग ऐसे हैं, जिनके सैंपल लिए गए हैं और इनकी रिपोर्ट आना बाकी है। इनके समेत कुल 612 सैंपल की रिपोर्ट का इंतजार है। अभी तक कुल 2650 सैंपल में से 1885 लोगों के सैंपल निगेटिव आए हैं। बढ़ते कोरोनाग्रस्त मरीजों की संख्या को देखते हुए सरकार ने अभी तक प्रदेश में 13882 लोगों को मेडिकल सर्विलांस के दायरे में रखा है।

कुल कोरोनाग्रस्त मरीजों में से अभी तक 18 लोग ही स्वस्थ हो पाए हैं। इन्हें अस्पतालों से छुट्टी दे दी गई है। उधर, जो मरीज तब्लीगी जमात से संबंधित है,  वे उत्तर प्रदेश, हिमाचल प्रदेश, तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल, केरल, पंजाब, कर्नाटक, मध्य प्रदेश, चेन्नई, असम, महाराष्ट्र, जम्मू-कश्मीर, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश राज्यों से संबंधित हैं।

जिलों में अब तक आ चुके इतने मामले
कोरोनाग्रस्त मरीजों में अब तक अंबाला में 4, भिवानी में 2, चरखी दादरी में 1, फरीदाबाद में 28, फतेहाबाद में 1, गुरुग्राम में 32, हिसार में 1, जींद में 1, करनाल में 5, कैथल में 1, नूंह में 38, पलवल में 28, पानीपत में 4, पंचकूला में 2, रोहतक में 2, सिरसा में 3 व सोनीपत में 2 मरीज सामने आए हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस: हरियाणा को मिली रैपिड टेस्टिंग किट, 8 घंटे की जगह 5 मिनट में आएगी जांच रिपोर्ट

हरियाणा में कोरोना संक्रमितों का पता अब और तेजी से चलेगा। प्रदेश सरकार को आईसीएमआर से रैपिड टेस्टिंग किट मिल गई हैं। जिससे कोरोना संक्रमितों का पता और जल्दी चल पाएगा। अब 8 घंटे की बजाय पांच मिनट में रिपोर्ट आएगी। बुधवार को ही आईसीएमआर से टेस्टिंग के लिए ये किट मिली हैं। जिन्हें मेडिकल कॉलेजों को कोरोना की जांच के लिए भेज दिया गया है। 

सीएम मनोहर लाल के निवास पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से हुई सर्वदलीय बैठक के बाद डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने जानकारी दी। उन्होंने बताया कि रैपिड टेस्टिंग किट को आईसीएमआर ने मंजूरी दी है। एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) के जिन जिलों में कोरोना के ज्यादा मामले सामने आए हैं, उन जिलों मे कम्युनिटी लॉकडाउन भी किया जा सकता है। इन जिलों की विशेष निगरानी की जाएगी। तहसीलों में सामाजिक दूरी का ध्यान रखते हुए पंजीकरण का काम शुरू करने पर भी सहमति बनी है।

बैठक में सीएम और उप मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला के अलावा वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग से गृह मंत्री अनिल विज, नेता प्रतिपक्ष भूपेंद्र सिंह हुड्डा, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सुभाष बराला, कांग्रेस अध्यक्ष कुमारी सैलजा, इनेलो विधायक अभय चौटाला व जजपा प्रदेशाध्यक्ष निशान सिंह ने भी भाग लिया। गेहूं व सरसों के खरीद केंद्रों को बढ़ाने की सरकार ने जानकारी दी। 
... और पढ़ें

कोरोना और कर्फ्यूः ईमेल-व्हाट्सऐप पर भेजकर ओपीडी के सवाल पूछिए, जवाब देंगे चिकित्सा विशेषज्ञ

मुख्यमंत्री मनोहर लाल
कोरोना महामारी की वजह से अस्पतालों और क्लीनिक की ओपीडी बंद हैं। ऐसे में छोटी-बड़ी दिक्कतों के लिए डॉक्टरों से लोग संपर्क नहीं कर पा रहे। ऐसे में लोगों की मुश्किलें बढ़ गईं हैं। अमर उजाला और शहर के वरिष्ठ डॉक्टरों ने मिलकर इस समस्या का समाधान निकालने की कोशिश की है। जब तक ओपीडी नहीं खुलती, तब तक शहर के वरिष्ठ डॉक्टर अमर उजाला के माध्यम से लोगों की बीमारी से संबंधित सवालों के जवाब देंगे।

आप अपने सवाल ई-मेल या 8054009839 पर व्हाट्सऐप करें। सवाल शाम पांच बजे तक भेज सकते हैं। इन सवालों के जवाब अगले दिन के अंक में प्रकाशित किए जाएंगे। आप सामान्य खांसी-बुखार, डायबिटीज, यूरोलॉजी, सर्जरी, हाइपरटेंशन, कोरोनावायरस, थायराइड और बच्चों के रोग से संबंधित सवाल पूछ सकते हैं।

ये हैं हमारे पैनलिस्ट
डॉ. संजीव भाटिया
डायरेक्टर, ग्लोबल हेल्थ केयर
डॉॅ. गुरप्रीत सिंह भाटिया
एमडी (इंटरनल मेडिसिन)
डॉ. संजीव सिंगला
बच्चों के विशेषज्ञ
लैंडमार्क हास्पिटल सेक्टर 33
... और पढ़ें

कोरोना और कर्फ्यूः पीजीआई चंडीगढ़ ने टेली कंसल्टेंट सर्विस को दिया विस्तार, फोन करके सलाह लें

कोरोना के कारण अस्पतालों की व्यवस्था प्रभावित होने में कारण मरीजों को हो रही परेशान को कम करने के लिए पीजीआई टेलीमेडिसिन डिपार्टमेंट ने टेली कंसल्टेंट सर्विस शुरू की है। कुछ दिनों पहले कुछ विभागों के मरीजों के लिए शुरू की गई इस सुविधा को अब थोड़ा और विस्तार दिया गया है।

इस सुविधा के तहत पंजीकृत पुराने मरीजों का फालोअप किया जा रहा है। इस सुविधा के अंतर्गत इंटरनल मेडिसिन, पीडियाट्रिक, गाइनी, ईएनटी, न्यूरो और हैपेटोलॉजी के साथ ही साइकेट्री और पोस्ट किडनी ट्रांसप्लांट के मरीजों को परामर्श दिया जा रहा है।

इसके तहत संबंधित विभागों के दो-दो कंसल्टेंट सुबह 10 बजे से दोपहर 1 बजे तक मरीजों को टेलीमेडिसिन की तर्ज पर परामर्श दे रहे हैं। इस सुविधा का लाभ लेने के लिए मरीजों को सुबह 9 से 10 बजे के बीच अपना पुन: पंजीकरण कराना होगा। इसके लिए नंबर और ई मेल आईडी जारी की गई है जो इस प्रकार है। पंजीकरण कराने के बाद मरीज के पास कॉल आएगी।

ये हैं हेल्पलाइन नंबर
- इंटरनल मेडिसिन, पीडियाट्रिक, गाइनी, ईएनटी, न्यूरो और हैपेटोलॉजी के लिए 0172-2756181, 0172-2756149, 7087008306
- साइकेट्री के लिए 0172-2756809
- पोस्ट किडनी ट्रांसप्लांट के लिए- 8427694184 (सिर्फ व्हाट्सएप)
- ईमेल आईडी- [email protected]
... और पढ़ें

हाईअलर्ट: जानवरों को कोरोना से बचाने को छतबीड़ जू प्रबंधन ने कसी कमर, सीसीटीवी से निगरानी

जानवरों को कोरोना से बचाने के लिए छतबीड़ चिड़ियाघर प्रबंधन ने कमर कस ली है। अपने स्तर पर कई कदम उठाए जा रहे हैं। न्यूयार्क (अमेरिका) के ब्रॉक्स जू के एक बाघ के कोरोना पॉजिटिव पाए जाने के बाद छतबीड़ जू भी हाईअलर्ट पर है। हाईअलर्ट का यह आदेश भारतीय केंद्रीय चिड़ियाघर प्राधिकरण द्वारा दिया गया है। आदेश में स्पष्ट किया गया है कि चौबीस घंटे जानवरों की निगरानी की जाए।

इसके साथ ही जानवरों के किसी प्रकार के असामान्य लक्षण या असामान्य व्यवहार के लिए सीसीटीवी के माध्यम से उनके ऊपर नजर रखें। इसमें यह कहा गया है कि कोरोना वायरस अमेरिकी जानवरों को भी अपनी गिरफ्त में ले रहा है। बता दें कि अमेरिका में न्यूयार्क सिटी कोरोना का हॉटस्पाट है। न्यूयार्क में तीन कोरोना पॉजिटिव बाघ के अतिरिक्त एक और बाघ और तीन अफ्रीकी शेर में भी सूखी खांसी है।

जू में की सख्ती, सीसीटीवी से कर रहे निगरानी: डायरेक्टर
छतबीड़ चिड़ियाघर के डायरेक्टर एम सुधागर ने बताया कि हाई अलर्ट की जानकारी मिलने के बाद जानवरों की सुरक्षा कड़ी कर दी गई है। जू कीपर सभी निर्देशों का सख्ती से पालन कर रहे हैं। जानवरों से काफी दूरी बनाकर रखी जा रही है। फीड देने के वक्त सेफ्टी गियर पहनाए जा रहे हैं। मास्क एवं दस्ताने पहने जाते हैं।

इसके अलावा कर्मचारियों की संख्या भी काफी कम कर दी गई है और सभी गेट बंद हैं, केवल आवासीय परिसर की ओर से एक ही गेट खुला हुआ है। सीसीटीवी कैमरों की मदद से जानवरों के असामान्य व्यवहार या किसी और सामान्य लक्षण पर कड़ी निगरानी रखी जा रही है। बिना सैनिटाइजेशन के कोई भी कर्मचारी जू के अंदर प्रवेश नहीं कर सकता।
... और पढ़ें

कोरोना महामारीः चंडीगढ़ में 14 अप्रैल के बाद कर्फ्यू हटेगा या नहीं, केंद्र सरकार के फैसले पर निर्भर

चंडीगढ़ में पिछले पांच दिनों से कोरोना वायरस से संक्रमित कोई नया केस सामने नहीं आया है। वहीं, इस दौरान करीब सात मरीजों की रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा चुकी है। बावजूद इसके चंडीगढ़ प्रशासन शहर में लगा कर्फ्यू हटाने में कोई जल्दबाजी नहीं करना चाहता। प्रशासन की तरफ से साफ संकेत मिले हैं कि 14 अप्रैल के बाद भी सख्ती जारी रहेगी।

इस मामले में एडवाइजर मनोज परिदा ने कहा कि एक केंद्र शासित प्रदेश होने के नाते वह केंद्र सरकार के आदेशों का इंतजार कर रहे हैं। इसके अलावा शहर में लगा कर्फ्यू 14 अप्रैल को हटाया जाएगा या नहीं, यह आने वाले दिनों में कोरोना के मरीजों की संख्या और संक्रमण के फैलने की दर पर निर्भर करेगा। उन्होंने कहा कि अभी इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया गया है।

14 अप्रैल को ही फैसला लिया जाएगा। यहां बता दें कि प्रशासन ने 24 मार्च को शहर में कर्फ्यू लगाने की घोषणा की थी लेकिन आदेशों में यह नहीं लिखा गया था कि यह कर्फ्यू कब तक जारी रहेगा। इसके अगले ही दिन 25 मार्च को केंद्र सरकार ने देशभर में 21 दिन के लॉकडाउन की घोषणा कर दी थी।
... और पढ़ें

कोरोना महामारीः कर्फ्यू से वाहनों पर लगी ब्रेक, 70 फीसदी शुद्ध हुई 'सिटी ब्यूटीफुल' की आबोहवा

कोरोना वायरस के चलते लॉकडाउन और कर्फ्यू का शहर के जनजीवन पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। वहीं, शहर के लाखों वाहनों की चाल पर ब्रेक लगने से आबोहवा पहले से कहीं बेहतर हुई है। वाहनों के नहीं चलने से एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) में 70 प्रतिशत से भी ज्यादा सुधार हुआ है। पर्यावरण विशेषज्ञों का मानना है कि शहर की हवा को दूषित करने में 50 प्रतिशत से ज्यादा योगदान वाहनों का ही है।

चंडीगढ़ को वाहनों की बढ़ती संख्या के कारण देश के सबसे अधिक दूषित 102 शहरों की सूची में शामिल कर लिया गया है। एनजीटी के सर्वे में चंडीगढ़ के पीएम-2.5 और पीएम-10 का स्तर बढ़ा हुआ मिला था, जिसके बाद एनजीटी से अगले दो साल में शहर के प्रदूषण के स्तर में सुधार के लिए यूटी प्रशासन को निर्देश मिले थे। यूटी और चंडीगढ़ पर्यावरण नियंत्रण कमेटी की ओर से शहर की आबोहवा को 20 प्रतिशत तक शुद्ध करने की कवायद चल रही है।

इसी बीच कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए शहर में कर्फ्यू लगा हुआ है। इस कारण लाखों वाहनों के पहिये पर ब्रेक लगी है। वाहनों के नहीं चलने से शहर के वायु प्रदूषण में 70 प्रतिशत से ज्यादा सुधार हुआ है। 10 दिनों में शहर का एक्यूआई 90 से गिरकर 26 तक पहुंच गया है। रात में हालात और भी सुधर जाते हैं। एक्यूआई का स्तर 23 तक पहुंच जाता है।
... और पढ़ें

संकट में सब साथ: पंजाब की टेक्सटाइल इकाइयां मास्क और पीपीई किट तैयार करने में जुटीं

कोरोना को हराने में मास्क और पीपीई किट (पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट) सबसे अहम हथियार है। पंजाब में 17 यूनिटों को पीपीई किट बनाने की अनुमति दी गई है। इसमें अकेले लुधियाना में नौ यूनिट पीपीई किट और मास्क तैयार करेंगी। सरकार से नौ यूनिटों को अनुमति मिलते ही मास्क और पीपीई किटों का निर्माण तेजी से शुरू हो गया है। तीन यूनिटों को अभी उत्पादन की अनुमति नहीं मिली है।

आने वाले कुछ दिन के अंदर इन्हें भी पीपीई किट और मास्क बनाने की अनुमति मिल जाएगी। तैयार होने वाले मास्क और पीपीई किट की आपूर्ति पूरे देश में की जाएगी।

बता दें कि लुधियाना की नौ यूनिटों में पीपीई किट और मास्क तैयार करने का काम तेजी से शुरू हो चुका है। अभी तक लाखों की संख्या में मास्क और पीपीई किट की आपूर्ति भी हो चुकी है। डीमार्ट इंडस्ट्री के निदेशक सेहज बताते है कि उनकी यूनिट में हर रोज लगभग अढ़ाई लाख थ्री प्लाई मास्क तैयार हो रहे हैं। पीपीई किट का सैंपल अप्रूवल को भेजा है। अनुमति मिलते ही उत्पादन शुरू हो जाएगा।

एवरशाइन इंडस्ट्रीज के विशाल अग्रवाल ने बताया कि उनके यहां पर पीपीई किट का निर्माण शुरू हो चुका है। रोजाना तीन सौ किट तैयार की जा रही हैं। आने वाले कुछ दिनों में इनकी संख्या और भी बढ़ा दी जाएगी। शिवा टेक्सफैब के अखिल मल्होत्रा ने बताया कि उनके यहां पर प्रतिदिन दस हजार बॉडी कोट तैयार करने का काम चल रहा है। एन-95 मास्क को तैयार कर सरकार के पास अप्रूवल को भेजा है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us