पीयू: एबीवीपी ने सौंपा ज्ञापन, कहा- छात्रों की सुरक्षा के प्रबंध के बाद ही हों अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Sun, 24 May 2020 03:43 PM IST
विज्ञापन
फाइल फोटो
फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
पंजाब विश्वविद्यालय ने परीक्षाओं लेकर अपने पत्ते अभी तक नहीं खोले हैं। इसी को लेकर छात्र अभी असमंजस की स्थिति में हैं। छात्रों की समस्याओं को ध्यान में रखते हुए एबीवीपी ने पीयू (पंजाब विश्वविद्यालय) के परीक्षा नियंत्रक को ज्ञापन सौंपा। कहा कि अंतिम सेमेस्टर की परीक्षाएं तभी कराई जाएं जब पीयू छात्रों की सुरक्षा का बंदोबस्त पूरा करे। कोविड-19 के कारण छात्र अभी भी डरे हुए हैं। 
विज्ञापन

एबीवीपी के संयोजक जतिन सिंह ने कहा कि छात्रों को सेमेस्टर परीक्षा में वही सवाल पूछे जाएं जोकि 17 मार्च तक पढ़ाया गया है। कहा कि इसके बाद ऑनलाइन कक्षाएं आदि लगी हैं लेकिन छात्रों के पास नेट आदि की सुविधाएं न हो पाने के कारण वह पढ़ाई नहीं कर पा रहे हैं। यदि परीक्षाएं आयोजित होती हैं तो छात्रों को सुरक्षित रूप से परीक्षा केंद्र तक लाना होगा। इसके लिए परिवहन आदि की व्यवस्था भी करनी होगी। छात्रों के पास शैक्षणिक सामग्री का अभाव होने की भी बात कही। एबीवीपी चंडीगढ़ सचिव अजय सूद ने भी छात्रों की समस्याओं को रखा।
इसे भी पढ़ें- लालच की इंतहा... मजदूरों के पास नहीं थे पैसे, मकान मालिक ने घर से मंगवाकर भरवाया तीन महीने का किराया

रेड जोन में छात्र फंसे, कैसे भर पाएंगे फीस
इनसो के चेयरमैन रजत नैन ने पीयू को पत्र भेजा है। उन्होंने छात्रों की कई समस्याओं को उठाया और समाधान की मांग की है। उन्होंने कहा है कि पीयू लेट फीस वसूलने में लगा है, जबकि विद्यार्थी रेड जोन में फंसे हैं। वह बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। ऐसे में वह फीस कहां से जमा करेंगे। यह फीस माफ कर देनी चाहिए। यदि लेट फीस ली जा रही है तो पीयू को यह बताना चाहिए कि छात्रों के कल्याण के लिए वह क्या करेंगे। छात्रों के वेलफेयर के लिए पीयू क्या कर रहा है।
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us