आओ कैरियर संवारेः आप बापू को पढ़ेंगे तो रोजगार की चिंता स्वत: खत्म हो जाएगी, जानिए कैसे

अमर उजाला नेटवर्क, चंडीगढ़ Updated Mon, 09 Mar 2020 03:24 PM IST
विज्ञापन
महात्मा गांधी
महात्मा गांधी - फोटो : फाइल फोटो

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
बढ़ती आबादी के साथ साथ देश में रोजगार का संकट भी गहरा रहा है। तमाम युवाओं ने अपना स्वरोजगार शुरू किया है तो कुछ ने अपनी फील्ड बदली है। फील्ड बदलकर पढ़ाई करने के बाद भी नौकरी की गारंटी नहीं रही, लेकिन पंजाब यूनिवर्सिटी के डिपार्टमेंट ऑफ गांधीयन एंड पीस स्टडीज में आपका दाखिला हो गया तो समझो रोजगार की चिंता खत्म हो गई। यहां से 48 साल में निकले लगभग 1100 विद्यार्थियों में से 950 से अधिक को नौकरियां मिली हैं।
विज्ञापन

कोई प्रशासनिक अफसर बना तो कोई जज। ईरान, कोरिया, थाईलैंड, नाइजीरिया के विद्यार्थियों ने भी यहां से पीएचडी की है। वह भी अपने अपने देशों में वाइस चांसलर तक बने हैं। पंजाब यूनिवर्सिटी में वर्ष 1970 तक राजनीतिक विज्ञान के साथ विद्यार्थियों को गांधी दर्शन का पाठ पढ़ाया गया। इसके बाद राष्ट्रपिता महात्मा गांधी पर स्टडी के लिए अलग से डिपार्टमेंट ऑफ गांधीयन एंड पीस स्टडीज की शुरुआत हुई। इसके लिए अनोखा गांधी भवन पीयू में तैयार हुआ।
इस भवन में गांधी दर्शन से जुड़ी हर चीज विद्यमान है। यहां शुरूआत में 20 सीटों के लिए एमए की पढ़ाई शुरू हुई। धीरे धीरे देश में युवाओं को रोजगार मिलता गया और डिमांड के आधार पर एमफिल, पीएचडी शुरू कर दी गई। वर्तमान में एमए में 44 सीटें हैं। एमफिल में 10 व पीएचडी में 12 सीट हैं। यहां विभिन्न सेक्टर से जुड़े विद्यार्थी एडमिशन के लिए आते हैं। पासआउट होते होते वह गांधी के प्रिंसिपल को अपनाते हुए आगे बढ़ते हैं।
रोजगार के आंकड़ों को देखते हुए आज इस विभाग में दिल्ली, हरियाणा, पंजाब, चंडीगढ़, हिमाचल प्रदेश, राजस्थान, बिहार, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड समेत 11 राज्यों के विद्यार्थी एडमिशन के लिए आवेदन करते हैं। हर साल एमए की 44 सीटों के लिए 500 से अधिक आवेदन आते हैं। मई जून में दाखिले की प्रक्रिया शुरू होती है जो प्रवेश परीक्षा के जरिये होती है। रिसर्च के लिए विदेशी स्टूडेंट्स की भी भरमार रहती है।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

इन्होंने देश दुनिया में बजाया डंका

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us