पंजाब यूनिवर्सिटी में कानून की पढ़ाई करने वाले सैंकड़ों बच्चों के सपने हो रहे चकनाचूर, जानिए कैसे

अमर उजाला, चंडीगढ़ Updated Wed, 21 Oct 2020 10:48 AM IST
विज्ञापन
प्रतीकात्मक तस्वीर
प्रतीकात्मक तस्वीर - फोटो : Pixabay

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें

सार

  • कानून की पढ़ाई को जारी मेरिट में बड़ा खेल, लीगल स्टडीज के नाम पर दिए अंक
  • कक्षा 12 में लीगल स्टडीज पढ़ने वाले विद्यार्थियों को दिया दो फीसदी अंकों का लाभ
  • प्रॉस्पेक्ट्स में जिक्र नहीं, सैकड़ों छात्रों को नुकसान, उच्च न्यायालय जाने की तैयारी 

विस्तार

पंजाब विश्वविद्यालय से कानून की पढ़ाने करने वाले सैकड़ों छात्रों का सपना चकनाचूर हो रहा है। पीयू ने कक्षा 12 में लीगल स्टडीज पढ़े विद्यार्थियों को दो फीसदी अंकों का लाभ दे दिया जबकि इसकी जानकारी प्रॉस्पेक्ट्स में दी ही नहीं गई। प्रारंभिक मेरिट लिस्ट जारी हुई तो इस खेल का खुलासा हुआ। छात्रों में इसे लेकर आक्रोश है।
विज्ञापन

उन्होंने यूआईएलएस के अलावा वाइस चांसलर के पास बड़ी संख्या में आपत्तियां दायर की हैं। पीयू के यूआईएलएस विभाग से पांच वर्षीय कानून (लॉ) की पढ़ाई करवाई जाती है। इस कोर्स में दाखिले के लिए बड़ी संख्या में विद्यार्थी आते हैं। इस बार भी छात्रों ने आवेदन किए थे। इसी तरह तीन वर्षीय कानून (लॉ) की पढ़ाई भी पीयू करवाती है। इसके लिए भी आवेदन मांगे गए थे।
दोनों के आवेदन आने के बाद मेरिट जारी कर दी गई। सोमवार शाम मेरिट जारी हुई तो विद्यार्थियों ने अपने-अपने लॉगिन, पासवर्ड से मेरिट चेक की। जांच करने के बाद विद्यार्थी खुद हैरत में पड़ गए। उन्होंने देखा कि कक्षा 12 में लीगल स्टडीज विषय पढ़ने वाले विद्यार्थियों को दो फीसदी अंकों का लाभ दे दिया गया। इस कारण सैकड़ों विद्यार्थियों की मेरिट प्रभावित हो गई। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

गुरमन गीत की मेरिट 40 से पहुंची 150 पार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X