विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान
Puja

एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

पंजाब: बटाला में जमीन विवाद पर चलीं गोलियां, एक युवक की मौत, दो घायल

कस्बा फतेहगढ़ चूडियां के गांव सैद मुबारक-कुलियां में रविवार देर रात जमीन विवाद को लेकर हुए विवाद में गोलियां चल गई। गोली लगने से एक युवक की मौत हो गई और दो घायल हो गए। घायलों का अमृतसर में इलाज चल रहा है। थाना सदर पुलिस ने गांव के ही रहने वाले पांच लोगों के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। वहीं मामले में नामजद एक व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

फतेहगढ़ चूडियां के डीएसपी बलबीर सिंह ने बताया कि रविवार की रात दोनो पक्षों के बीच हुए जमीन विवाद के दौरान गांव सैद मुबारक कुलियां के रहने वाले गुरजीत सिंह ने गोली चला दी। इससे दूसरे पक्ष के मनजोत सिंह (24) निवासी सैद मुबारक कुलियां, अर्शप्रीत सिंह और लवदीप सिंह को गोली लगी। तीनों को बटाला से अमृतसर रेफर कर दिया। इलाज के दौरान मनजोत सिंह की अमृतसर में मौत हो गई। अर्शप्रीत सिंह और लवदीप सिंह का इलाज अमृतसर में चल रहा है। 

डीएसपी ने बताया कि पुलिस ने प्रत्यक्षदर्शी मृतक मनजोत सिंह के रिश्तेदार कुलदीप सिंह के बयान पर गुरजीत सिंह, उसके पिता जोगिंदर सिंह और परिवार की तीन महिलाओं के खिलाफ थाना सदर बटाला में हत्या और आर्म्स एक्ट के तहत का मामला दर्जकर लिया गया है। डीएसपी ने बताया कि हमलावर गुरजीत सिंह के पिता जोगिंदर को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। 

वहीं सोमवार को अकाली नेता व माझा जोन के प्रधान रविकरण सिंह काहलों बटाला के सिविल अस्पताल पहुंचे। उन्होंने कहा कि मृतक मनजोत सिंह गरीब परिवार का एकलौता कमाने वाला था। अकाली दल पुलिस से मांग करता है कि मनजोत सिंह के हत्यारों के खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए। 
... और पढ़ें

चंडीगढ़: चार युवकों ने सब्जी विक्रेता को पीटा फिर लूटा, 6 दिन बाद पीड़ित की पीजीआई में मौत

धनास में सब्जी विक्रेता से मारपीट कर लूटपाट के मामले में वारदात के छह दिन बाद पीड़ित ने पीजीआई में इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। मृतक की पहचान धनास निवासी सूरज (20) के रूप में हुई है। सारंगपुर थाना पुलिस ने धनास निवासी बिल्ला, धनुष, सैंडी, टल्ली के खिलाफ आईपीसी 304 और 34 के तहत मामला दर्ज कर छानबीन शुरू कर दी है। वारदात बीती 17 मई की रात की है। सूरज के रिश्तेदार गजेंद्र ने बताया कि परिवार तलाश में रहता है। सूरज सब्जी बेचने का काम करता था।

आरोप है कि बीते 17 मई की रात सूरज सब्जी बेचकर अपने घर लौट रहा था। इस दौरान जब वह कॉलोनी में पहुंचा तो बिल्ला, धनुष, सैंडी, टल्ली नामक युवकों ने सूरज से मारपीट की और कुछ नगदी छीनकर फरार हो गए। किसी तरह सूरज ने अपने घर पहुंचकर इसकी जानकारी परिजनों को दी। जख्मी को जीएमएसएच 16 में भर्ती करवाया गया, जहां उसे दो दिन बाद छुट्टी दे दी गई। 21 मई को दर्द की वजह से उसे दोबारा जीएमएसएच-16 ले जाया गया। वहां हालत गंभीर होते देख डॉक्टरों ने सूरज को पीजीआई रेफर कर दिया।

तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ा था सूरज  
सूरज तीन भाई-बहनों में सबसे बड़ा था। घटना के बाद सूरज के परिजनों का रो-रो कर बुरा हाल है। सूरज का पोस्टमार्टम पीजीआई में होगा। पोस्टमार्टम की रिपोर्ट के बाद खुलासा होगा कि सूरज की मौत किन कारणों से हुई है। वहीं दूसरी ओर पुलिस आरोपियों को गिरफ्तार करने में जुटी है। पुलिस का कहना है कि मामले की छानबीन की जा रही है।   

सेक्टर 30 में व्यक्ति की मौत
वहीं, दूसरी ओर सेक्टर 30 निवासी जनरैल सिंह (50) की रविवार तड़के जीएमएसएच 16 में मौत हो गई। बताया गया कि जनरैल सिंह बीते शनिवार सुबह करीब 11.30 बजे सेक्टर 30 कंटेनमेंट जोन में सब्जी लेने लाइन में खड़े थे। इस दौरान बीपी कम होने के कारण बेहोश होकर जमीन पर गिर पड़े। इसके बाद मामले की सूचना कंट्रोल रूम 112 पर दी गई। मौके पर पहुंची एंबुलेंस में अस्पताल पहुंचाया था।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ से दूध के टैंकर में शराब भरकर ले जा रहा मोहाली निवासी चालक, क्राइम ब्रांच ने दबोचा

क्राइम ब्रांच ने शराब तस्करी का भंडाफोड़ कर बड़ी सफलता हासिल की है। अवैध तरीके से दूध के टैंकर में शराब लेकर गुजरात जा रहे एक चालक को टीम ने गिरफ्तार किया है। टीम ने टैंकर से शराब की 440 पेटियां बरामद की हैं। आरोपी की पहचान मोहाली फेज-5 निवासी गौरव खत्री (34) के रूप में हुई है।

पूछताछ के दौरान आरोपी ने खुलासा किया है कि इससे पहले भी वह इसी तरह शराब लेकर गुजरात जाता रहा है। रविवार को क्राइम ब्रांच के इंस्पेक्टर रंजीत सिंह को गुप्त सूचना मिली कि दूध के टैंकर में अवैध तरीके से शराब की पेटियां लोड गुजरात भेजी जा रही हैं।

सूचना पर क्राइम ब्रांच टीम ने पोल्ट्री फार्म चौक के पास नाका लगाया। इस दौरान इंडस्ट्रियल एरिया फेज 1 की तरफ से आ रहे एक दूध टैंकर नंबर (जीजे-25 यू3717) को रोका गया। गाड़ी पर लिखा हुआ था ‘मिल्क नॉट फॉर सेल’। चालक को रोककर जब टैंकर की तलाशी ली गई तो अंदर शराब की 440 पेटियां (21120 बोतल पौवा) मिलीं।

टीम ने जब इस संबंध में टैंकर चालक से शराब का परमिट मांगा तो कोई भी दस्तावेज नहीं दिखा सका। इसके बाद आरोपी चालक को गिरफ्तार कर लिया गया। इंडस्ट्रियल एरिया थाना पुलिस ने आरोपी गौरव के खिलाफ एक्साइज 61/1/14 एक्ट के तहत मामला दर्ज कर लिया है। वहीं मामले का खुलासा होने पर अन्य लोगों की भूमिका की जांच की जा रही है। क्राइम ब्रांच का कहना है कि मामले में शामिल अन्य लोगों की गिरफ्तारी जल्द की जाएगी।

नेपाली मूल का आरोपी है पांचवीं पास
क्राइम ब्रांच की जांच में सामने आया है कि आरोपी काफी शातिर है। इस गोरखधंधे को चलाने के लिए आरोपी गुजरात नंबर के दूध के टैंकर का इस्तेमाल कर रहा था। जांच में यह भी सामने आया कि टैंकर चालक आरोपी पांचवीं पास है। आरोपी मूल रूप से नेपाल का रहने वाला है। काफी सालों से मोहाली में रह रहा है।
... और पढ़ें

आठ माह की गर्भवती को जबरन जहर खिलाकर मार डाला, पति, सास और जेठ पर केस दर्ज

हरियाणा की थाना गुहला पुलिस ने पंजाब के समाना में सीआईए स्टाफ में तैनात पंजाब पुलिस के एक एएसआई गुरसेवक सिंह, उसके छोटे भाई गुरमित्तर सिंह व मां के खिलाफ हत्या का केस दर्ज किया गया है। यह पर्चा एएसआई के छोटे भाई गुरमित्तर सिंह की पत्नी लखविंदर कौर की मौत के मामले में दर्ज हुआ है। आरोप है कि तीनों ने जबरन जहर खिलाकर लखविंदर कौर को मारा है। जो करीब आठ महीने की गर्भवती भी थी। 

पुलिस से मिली जानकारी के मुताबिक लखविंदर कौर की शादी 2004 में थाना गुहला के गांव दाबा निवासी गुरमित्तर सिंह से हुई थी। शादी के बाद से लखविंदर कौर को दहेज के लिए परेशान किया जाता था। पहले तो विवाहिता के मायके वालों ने ससुराल वालों की डिमांड पूरी कर दी। गुरमित्तर ने जर्मनी जाने के लिए पांच लाख की मांग की थी। बाद में जब उनकी मांग पूरी करनी बंद कर दी तो लखविंदर कौर व उसके बच्चों को मायके आने-जाने नहीं दिया जाता था। उसके साथ मारपीट भी की जाती थी। 


यह भी पढ़ें-
पाकिस्तानी की गुहार, 'मोदी साहब! मेरा कबूतर वापस कर दीजिए, मैं बहुत चाहता हूं', पढ़ें- मामला

बुधवार को गंभीर हालत में लखविंदर कौर को पटियाला के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया। जहां गुरुवार को उसकी मौत हो गई। पुलिस के मुताबिक विवाहिता के परिजनों का आरोप है कि पति, जेठ व सास ने उसे जबरन जहर खिलाकर मार डाला है। ऊपर से वह आठ महीने की गर्भवती भी थी। ससुराल वाले उसके बच्चे को भी गिराना चाहते थे। पुलिस ने तीनों आरोपियों के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया है।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर। सांकेतिक तस्वीर।

गढ़शंकर में महिला सरपंच ने जहर निगलकर जान दी, बटाला में विवाहिता फंदे पर झूली

गढ़शंकर के गांव मैरा की महिला सरपंच ने जहर निगलकर आत्महत्या कर ली। महिला सरपंच के पिता के बयान पर ससुर, जेठ व जेठानी के खिलाफ परेशान कर आत्महत्या करने को मजबूर करने का मामला दर्ज किया है। महिला सरपंच का ससुर सेवानिवृत्त अध्यापक और जेठ मौजूदा नंबरदार है।

सुनीता देवी पत्नी कुलदीप कुमार गांव मैरा की  सरपंच थी। उसने 25 मई को जहर निगल लिया। इसके बाद परिवार वालों ने उसे गढ़शंकर के निजी अस्पताल में भर्ती करवाया था। लेकिन गुरुवार को शाम उसकी मौत हो गई। जिसके बाद महिला सरपंच सुनीता देवी के पिता हरमेश सिंह निवासी नैनवों ने पुलिस को शिकायत दी कि सुनीता देवी का करीब 16 वर्ष पहले गांव मैरा के कुलदीप कुमार से विवाह हुआ था। 


यह भी पढ़ें-
पाकिस्तानी की गुहार, 'मोदी साहब! मेरा कबूतर वापस कर दीजिए, मैं बहुत चाहता हूं', पढ़ें- मामला

कुछ समय पहले दर्शन राम ने अपने पुत्र संदीप कुमार, कुलदीप कुमार व प्रगट सिंह के नाम अपनी जमीन की वसीयत कर दी और सभी को जमीन बांट दी। इसके बाद अपने हिस्से की जमीन पर सभी खेती करने लगे। लेकिन दिसंबर 2019 में दर्शन राम ने वसीयत को बदल दिया और अपने दो पुत्रों संदीप कुमार व प्रगट सिंह के नाम पर सारी वसीयत कर दी। 

जमीन को लेकर महिला सरपंच सुनीता देवी को ससुर दर्शन राम, जेठ संदीप कुमार, जेठानी रणजीत कौर हमेशा तंग परेशान करते थे और 25 मई को भी तीनों ने सुनीता देवी को इतना परेशान किया कि सुनीता देवी ने जहर निगल लिया। गढ़शंकर पुलिस ने ससुर दर्शन राम, जेठ संदीप कुमार व जेठानी के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया।
... और पढ़ें

अमृतसर का तस्कर गिरफ्तार, दो बार में 11 किलो हेरोइन पकड़ी, राशन के थैले में छिपा रखा था

पाकिस्तान के तस्करों से व्हाट्सएप कॉल पर संपर्क कर हेरोइन की खेप मंगवाने वाले एक आरोपी को एसटीएफ  ने गिरफ्तार करने में सफलता हासिल की है। कुछ दिन पहले एसटीएफ ने बीएसएफ के साथ मिलकर सूचना के आधार पर जीरो लाइन से छह किलो हेरोइन बरामद की थी। आरोपी वहां से फरार हो गया था। 

पुलिस ने इस मामले में अमृतसर के गांव कोटली औलख निवासी प्रताप सिंह (37) के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया था। बीती रात को पुलिस ने फिरोजपुर रोड पर नाकाबंदी कर रखी थी। इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि आरोपी हेरोइन की खेप देने लुधियाना आ रहा है। पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर उसके कब्जे से पांच किलो चालीस ग्राम हेरोइन बरामद की। 


यह भी पढ़ें-
पाकिस्तानी की गुहार, 'मोदी साहब! मेरा कबूतर वापस कर दीजिए, मैं बहुत चाहता हूं', पढ़ें- मामला


पुलिस ने आरोपी के खिलाफ दूसरा मामला दर्जकर उसे गिरफ्तार कर लिया। आरोपी के कब्जे से पुलिस ने कुल 11 किलो चालीस ग्राम हेरोइन और बाइक बरामद कर लिया है। पुलिस आरोपी से पूछताछ करने में जुटी है। एसटीएफ में तैनात सब इंस्पेक्टर जसपाल सिंह ने बताया कि पुलिस पार्टी को कुछ दिन पहले सूचना मिली थी कि आरोपी प्रताप सिंह हेरोइन तस्करी करता है। 
... और पढ़ें

पंजाब में नशा तस्करी: भारत-पाकिस्तान सीमा से आठ किलो 30 ग्राम हेरोइन और अफीम बरामद

पुलिस ने भारत-पाकिस्तान सीमा पर एक किसान के खेत में छुपाकर रखी 8 किलो 30 ग्राम हेरोइन और कुछ मात्रा में अफीम बरामद की है।  एसएसपी ध्रुव दहिया ने बताया कि पुलिस को गुप्त सूचना मिली थी कि भारत-पाकिस्तान सीमावर्ती गांव रतोके के किसान गुरलाल सिंह ने अपने कुछ साथियों की सहायता से अपने खेत में पाकिस्तानी तस्करों द्वारा भेजी गई हेरोइन दबा रखी है। 

पुलिस ने तुरंत कार्रवाई करते हुए किसान गुरलाल सिंह के खेत से 8 किलो 30 ग्राम हेरोइन और 30 ग्राम अफीम बरामद की। एसएसपी ने बताया कि पुलिस ने गुरलाल सिंह को गिरफ्तार कर लिया है।


यह भी पढ़ें-
पाकिस्तानी की गुहार, 'मोदी साहब! मेरा कबूतर वापस कर दीजिए, मैं बहुत चाहता हूं', पढ़ें- मामला

गुरलाल सिंह पहले से भी गैस कटर से एक एटीएम मशीन काटने के मामले में पुलिस का वांछित था। उन्होंने बताया कि पुलिस गुरलाल सिंह का रिमांड प्राप्त कर इस मामले के अन्य आरोपियों को भी शीघ्र पकड़ेगी।
... और पढ़ें

भूना: शराब ठेकेदार के कारिंदे व ड्राइवर पर जानलेवा हमला करने पर भांभू पंजाबी गैंग के सरगना पर मामला दर्ज

हेरोइन और अफीम बरामद
शराब ठेकेदारों के कर्मचारियों पर जानलेवा हमला करने वाले भांभू पंजाबी गैंग के खिलाफ अलग-अलग दो एफआईआर दर्ज की गई हैं। पुलिस ने हिसार व अग्रोहा में दाखिल अलग-अलग घटनाओं में दो घायलों के बयान लेकर मंगलवार देर रात ये कार्रवाई की। पुलिस बयान में 35 वर्षीय अतुल राज निवासी इंदाछोई ने बताया कि 25 मई की शाम को वह पवन कुमार ठेकेदार के अलग-अलग चार ठेकों से कैश कलेक्शन लेकर पिकअप चालक रमेश कुमार बैजलपुर के साथ आ रहा था। लेकिन हिसार रोड पर पुराने बस स्टैंड के पास पीछे से एक बोलेरो गाड़ी में सवार चार युवको ने उन्हें घेर लिया। 

हमलावरों में विक्रम भांभू नाढोडी व मंदीप उर्फ पंजाबी चौबारा को वह पहले से जानता था। लेकिन अवैध पिस्तौल तानकर खड़े युवकों को पहचान नहीं पाया। हमलावरों ने उसे जान से मारने के लिए ताबड़तोड़ लाठी-डंडे व लोहे की राड मारकर घायल कर दिया तथा उन्होंने गाड़ी के शीशे भी तोड़ डाले। उपरोक्त हमलावर 24 हजार रुपये लूट कर ले गए। 


यह भी पढ़ें-
अच्छी पहल: अब कॉलेजों में शिक्षक नियुक्त होंगे पासपोर्ट अधिकारी, छात्रों का नि:शुल्क बनेगा पासपोर्ट


हमलावरों ने जाते-जाते धमकी दी कि ठेकेदार रमेश पूनिया के इशारे पर उन्होंने कार्रवाई को अंजाम दिया है। भविष्य में उसके साथ कोई टकराएगा तो उसका भी यही हश्र होगा। एसआई कश्मीर सिंह ने बताया कि घायल के बयान पर हमलावर पंजाबी गैंग के सरगना मंदीप उर्फ पंजाबी, भांभू गैंग के मुखिया विक्रम भांभू व दो अज्ञात युवकों तथा शराब ठेकेदार रमेश कुमार पुनिया के विरुद्ध भारतीय दंड संहिता की धारा 323, 341, 325, 307, 394, 506, 427 व 120 बी तथा अवैध शस्त्र अधिनियम के तहत मुकदमा दर्ज किया है।
... और पढ़ें

बेटे ने नहीं उठाया फोन, पिता को हुई अनहोनी की आशंका, इस हाल में कमरे में मिला शव

मोहल्ला नानक नगर इलाके में रहने वाले दलजीत सिंह (22) ने मंगलवार रात अपने किराए के घर में संदिग्ध हालात में फंदा लगाकर जान दे दी। घटना का पता बुधवार सुबह उस समय चला जब दलजीत ने परिजनों का फोन नहीं उठाया। उन्होंने इसकी जानकारी दलजीत के मालिक राहुल को दी। राहुल जब घर गया तो दरवाजा अंदर से बंद था। उसने दूसरी चाबी से ताला खोला तो अंदर दलजीत का शव पड़ा था। टूटी रस्सी पंखे से लटक रही थी। 

मूलरूप से फिल्लौर के गांव रसुलपुर का रहने वाला दलजीत सिंह इलेक्ट्रानिक सामान रिपेयर करने का काम करता था। वह राहुल एयरकंडीशन नाम की दुकान पर काम करता था। उसे रोजाना फिल्लौर से आना होता था। दलजीत के मालिक राहुल ने उसे नानक नगर में एक घर किराए पर ले दिया था। जब दलजीत लेट हो जाता था तो वहां सो जाता था। 


इसे भी पढ़ें-
लॉकडाउन में नौकरी गई, वीडियो बना सुनाई दास्तां फिर नहर में कूदकर दे दी जान

दलजीत चार दिन पहले ही घर से लौटा था। मंगलवार की शाम उसने राहुल से दो सौ रुपये लिए और नानक नगर स्थित घर जाने की बात कही। देर शाम को दलजीत के पिता गुरचरण ने फोन किया तो उसने नहीं उठाया। एक दो बार फोन करने पर गुरचरण को लगा कि दलजीत कहीं व्यस्त होगा वह सुबह बात कर लेंगे। 

सुबह कई बार फोन मिलाने पर दलजीत ने फोन नहीं उठाया तो उन्होंने राहुल को फोन कर जानकारी दी। राहुल नानक नगर स्थित घर पहुंचा और उसने भी दलजीत को फोन किए लेकिन उसने फोन नहीं उठाया। घर की एक चाबी राहुल के पास थी तो उसने दूसरी चाबी से ताला खोला तो अंदर बेड पर दलजीत का शव पड़ा था। थाना दरेसी के एसएचओ इंस्पेक्टर विजय कुमार ने बताया कि मृतक के पास से कोई सुसाइड नोट तो नहीं मिला है। प्रेम संबंधों की अभी जांच की जा रही है। परिजनों को सूचना दे दी गई है। उनके बयान दर्ज होने के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी। 
... और पढ़ें

पटियाला: ट्रक की टक्कर से ड्रेन में गिरी कार, दो युवकों की मौत, तीन दोस्त गंभीर घायल

पातड़ां के गांव दुगाल के नजदीक दिल्ली-संगरूर राष्ट्रीय मार्ग पर बुधवार तड़के एक भीषण सड़क हादसे में दो युवकों की मौके पर ही मौत हो गई, जबकि तीन दोस्त गंभीर घायल हैं। जिनमें एक डॉक्टर भी शामिल है। घायलों को पटियाला के एक निजी अस्पताल में दाखिल कराया गया है।
 
खबर लिखे जाने तक पातड़ां थाना पुलिस ने अज्ञात ट्रक चालक के खिलाफ विभिन्न धाराओं में केस दर्जकर लिया है। जो वारदात के बाद से फरार है। जांच अधिकारी थाना पातड़ां से एएसआई सुखजिंदर सिंह ने बताया कि यादप्रीत सिंह (22) निवासी लाड बंजारा कलां थाना दिड़बा संगरूर का मंगलवार को जन्मदिन था।


यह भी पढ़ें-
लॉकडाउन में नौकरी गई, वीडियो बना सुनाई दास्तां फिर नहर में कूदकर दे दी जान

अपने दोस्त कुलविंदर सिंह निवासी चठा ननहेड़ा (संगरूर), डॉ. गुरबीर सिंह निवासी घन्नौरी कलां (धुरी), हर्षदीप निवासी घमंड गढ़ (फतेहगढ़ साहिब) और हरमनदीप निवासी जंडखेला खेड़ी के साथ जन्मदिन पार्टी मनाई। जिसके बाद चारों दोस्त दिड़बा के पास गांव सिहाल से यादप्रीत सिंह को वापस उसके गांव लाड बंजारा कलां कार से छोड़ने जा रहे थे।
 
बुधवार तड़के जब पांचों दोस्त अपनी कार में पातड़ां के नजदीक गांव दुगाल के पास राष्ट्रीय राजमार्ग पर बने फ्लाईओवर पर पहुंचे तो पीछे से ट्रक ने कार को जोरदार टक्कर मार दी। जिसके बाद कार चालक ने संतुलन खो दिया और कार सड़क के बीच डिवाइडर से टकरा गई और दरवाजे खुलने से दो दोस्त नीचे सड़क पर गिर गए और दोनों की मौके पर ही मौत हो गई।
 
इसके बाद कार सीधे झंबो ड्रेन में गिर गई। इसी बीच कुछ राहगीरों ने कार को ड्रेन में गिरते देख लिया। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और कार को निकाला। कार से घायल नौजवानों को निकाल कर अस्पताल में दाखिल कराया गया। पुलिस ने हादसे में घायल डॉ. गुरबीर सिंह, जो मोहाली के फोर्टिस अस्पताल में कार्यरत है, उनके बयान पर ट्रक चालक के खिलाफ केस दर्जकर तलाश शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

पति ने प्रेमी से मिलने को किया मना तो पत्नी ने लगा दिया ठिकाने, रची खौफनाक साजिश

थाना कैंट पुलिस ने पति को नहर में धक्का देकर हत्या करने के आरोप में पत्नी और उसके प्रेमी समेत तीन लोगों के खिलाफ मामला दर्ज किया है। बंटी निवासी खटीक मंडी फिरोजपुर छावनी ने पुलिस को दिए बयान में कहा कि उसके ताया का बेटा रमेश कुमार उर्फ मुस्तफा (36) अपने परिवार समेत उनके घर के सामने रहता था। 

रमेश की पत्नी किरणदीप और जपान सिंह निवासी रुकना बेगू के बीच संबंध थे। इस बात की भनक रमेश को थी। रमेश पत्नी को जपान से मिलने से रोकता था। इसी बात पर रमेश और किरणदीप के बीच झगड़ा होता था। 21 मई की रात लगभग नौ बजे जपान अपनी बाइक पर बैठाकर रमेश को किसी जरूरी कामकाज संबंध में कहीं ले गया, उसके बाद से रमेश घर नहीं लौटा। इस संबंध में पुलिस को सूचित किया। परिजनों को किरणदीप पर शक था। 


इसे भी पढ़ें-
लॉकडाउन में नौकरी गई, वीडियो बना सुनाई दास्तां फिर नहर में कूदकर दे दी जान

पुलिस ने किरणदीप से सख्ती से पूछताछ की तो उसने बताया कि रमेश उससे झगड़ा करता था। इसीलिए उसके प्रेमी जपान और जपान के दोस्त आकाश निवासी श्मशान घाट नजदीक फिरोजपुर कैंट ने दिल्ली पब्लिक स्कूल के पास से गुजरती पक्की नहर में रमेश को धक्का देकर मार दिया है। पुलिस ने बंटी के बयान पर आरोपी पत्नी किरणदीप, जपान सिंह व आकाश के खिलाफ मामला दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी है।

पुलिस ने किरणदीप को पकड़ा लिया है, जबकि जपान सिंह व आकाश की तलाश जा रही है। वारदात की तफ्तीश कर रहे इंस्पेक्टर कृपाल सिंह के मुताबिक तीनों आरोपियों के खिलाफ मामला दर्जकर लिया है। जपान सिंह व आकाश की तलाश की जा रही है। लेकिन अभी तक रमेश कुमार की लाश बरामद नहीं हुई है। नहर में रमेश की लाश को खोजा जा रहा है। जल्द ही बाकी आरोपियों को काबू कर लिया जाएगा।
... और पढ़ें

पंजाब: लुधियाना में दुकानदार ने फंदा लगाया, मुक्तसर में आढ़ती ने गोली मार की आत्महत्या

काम धंधा चौपट होने से परेशान महा सिंह नगर निवासी श्याम लाल (52) ने सोमवार देर रात घर में फंदा लगा लिया। जब उसकी पत्नी और बेटे ने देखा तो उन्होंने श्याम लाल को नीचे उतारा और पास के निजी अस्पताल ले गए। वहां उसकी मौत हो गई। सूचना पर थाना डाबा की पुलिस मौके पर पहुंची।

एएसआई जुझार सिंह ने बताया कि श्याम लाल के घर के बाहर ही किराना की दुकान है। श्याम लाल का दो महीने से काम धंधा नहीं चल रहा था। इस कारण वह काफी परेशान था। सोमवार रात को सारा परिवार खाना खाकर सोने लगा तो श्याम लाल ने करीब 12 बजे कमरे में फंदा लगा लिया। उसकी पत्नी की नींद खुली तो श्याम लाल फंदे से लटका था।

चीख सुनकर बेटा भी आ गया। दोनों ने शव को नीचे उतारा और आसपास के लोगों की मदद से अस्पताल ले गए। वहां उसकी मौत हो गई। एएसआई जुझार सिंह ने बताया कि अब तक की जांच में यहीं पता चल सका है कि श्याम लाल का काम धंधा बंद था और वह परेशान था। इस कारण उसने आत्महत्या की है। 

यह भी पढ़ें-
पिता ने थमाई थी हॉकी, जुनून ने बनाया दुनिया का सितारा, पढ़ें- दिग्गज खिलाड़ी बलबीर सिंह की अनसुनी बातें

मुक्तसर: आढ़ती ने लाइसेंसी रिवाल्वर से गोली मार की आत्महत्या 
रुपयों के लेनदेन को लेकर मंडी बरीवाला के आढ़ती ने लाइसेंसी रिवाल्वर से गोली मारकर आत्महत्या कर ली। मंडी बरीवाला के निरंजन कुमार (50) पुत्र ओम प्रकाश सुबह 11 बजे मंडी स्थित अपनी आढ़त की दुकान पर आया और अपनी लाइसेंसी रिवाल्वर से सिर में गोली मारकर आत्महत्या कर ली। 

एसपी (एच) गुरमेल सिंह, डीएसपी तलविदर सिंह, थाना प्रभारी मंडी बरीवाला प्रेमनाथ मौके पर पहुंच गए और रिवाल्वर और शव को अपने कब्जे में लिया। एसएचओ प्रेम नाथ ने बताया कि मृतक के पास से सुसाइड नोट मिला है। जिसमें उसने रुपयों के लेनदेन के बारे में लिखा है। उन्होंने बताया कि सुसाइड नोट में किसी का भी नाम नहीं लिखा है। परिजनों से बातचीत की जा रही है। परिजन जो बयान देंगे उसके अनुसार कार्रवाई की जाएगी। 
... और पढ़ें

बड़ी वारदात: घर में घुसे तीन युवक, पिस्तौल दिखा परिवार को बंधक बनाया, 20 लाख लूटकर हुए फरार

अमृतसर में सुल्तानपुर रोड पर दिनदहाड़े तीन लुटेरों ने घर में घुसकर पिस्तौल के दम पर 20 लाख रुपये लूट लिए। आरोपी 15 मिनट में वारदात को अंजाम देकर फरार हो गए। सूचना मिलते ही मौके पर पहुंची थाना सुल्तानविंड पुलिस ने जांच शुरू कर दी। जानकारी के मुताबिक सुल्तानपुर रोड पर सोने का काम करने वाले व्यापारी के घर तीन युवक आए। 

सुनार के बेटे बबलू व टोनी के बारे में पूछताछ करते हुए वह घर में दाखिल हो गए। घर में घुसते ही उन्होंने पिस्तौल दिखाकर सुनार, उसकी पत्नी, बेटे और बेटी को बंधक बना लिया और चाबी लेकर तिजोरी से 20 लाख रुपये लूट लिए। वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। परिजनों ने किसी तरह पुलिस को सूचना दी।


यह भी पढ़ें-
पिता ने थमाई थी हॉकी, जुनून ने बनाया दुनिया का सितारा, पढ़ें- दिग्गज खिलाड़ी बलबीर सिंह की अनसुनी बातें

मौके पर पहुंचे पुलिस अधिकारियों ने बताया कि पीड़ित परिवार सोने का काम करता है और इनका काफी बड़ा व्यापार है। हो सकता है किसी ने बदले की भावना से वारदात को अंजाम दिया हो। सीसीटीवी फुटेज के आधार पर जांच की जा रही है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन