बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर
Myjyotish

श्मशान में चिता पर बना है देवी माँ का ये प्राचीन मंदिर

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गर्व : चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण बनीं ग्लोबल एंबेसडर, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मिला सम्मान

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण को इंटरनेशनल वुमन क्लब ने 2021 का ग्लोबल एंबेसडर नियुक्त किया है। एक ऑनलाइन कार्यक्रम में चेक...

18 अप्रैल 2021

विज्ञापन
Digital Edition

टोक्यो ओलंपिक: भारतीय हॉकी टीम में हरियाणा की इन नौ बेटियों को मिली जगह, अनुभव के साथ युवा चेहरों को मौका

टोक्यो ओलंपिक के लिए घोषित भारतीय महिला हॉकी टीम में हरियाणा की 9 बेटियों ने अपने बेहतर खेल और अनुभव के आधार पर जगह बनाई है। इनमें चार अनुभवी व पहले भी ओलंपिक खेल चुकीं और पांच युवा खिलाड़ियों को मौका मिला है। रियो ओलंपिक के लिए भी हरियाणा की छह बेटियों को भारतीय टीम में जगह मिली थी।

खेलों में एक बार फिर प्रदेश के खिलाड़ियों का दबदबा साफ दिख रहा है। टोक्यो ओलंपिक के लिए चुनी गई महिला हॉकी टीम में  सोनीपत जिले से मोनिका मलिक, नेहा गोयल, निशा और कुरुक्षेत्र से रानी रामपाल, नवजोत कौर, नवनीत कौर व हिसार से शर्मिला, उदिता और सिरसा से सविता पूनिया का चयन हुआ है। 

रियो ओलंपिक में रहीं छह खिलाड़ी
रियो ओलंपिक में भारतीय महिला हॉकी टीम को 36 साल बाद खेलने का मौका मिला था और उस टीम में हरियाणा की छह खिलाड़ी जगह बनाने में कामयाब रही थीं। इनमें रानी रामपाल, सविता पूनिया, मोनिका मलिक, नवजोत कौर, दीपिका ठाकुर, पूनम मलिक शामिल थीं। इस बार चार खिलाड़ी रानी, सविता, मोनिका और नवजोत अपने अनुभव और बेहतर खेल के के आधार पर टीम में जगह बनाने में कामयाब रहीं। पांच युवा खिलाड़ियों ने अपने खेल से सेलेक्टरों को प्रभावित किया और टीम में जगह बनाई।

रानी रामपाल  
  • स्कोरिंग पावर मजबूत, लंबा अनुभव, जरूरत के समय बेहतर प्रदर्शन
सविता पूनिया 
  • दुनिया की नंबर-1 गोलकीपर का खिताब मिल चुका, शूटआउट रोकने में बेहतर
मोनिका मलिक
  • मिड फील्डर के तौर पर लंबा अनुभव, अटैकिंग खेल में माहिर
नेहा गोयल 
  • अटैकिंग व डिफेंस दोनों में बेहतर, स्ट्राइकर को बेहतर सहयोग
नवजोत कौर 
  • बेहतर सामंजस्य, लंबे समय तक गेंद होल्ड करने में माहिर
नवनीत कौर 
  • फॉरवर्ड हैं, स्कोरिंग पावर अच्छी, डी के भीतर बेहतर प्रदर्शन
निशा 
  • डिफेंडर हैं, जितना अच्छा डिफेंस उतना ही अग्रेसिव खेल भी
शर्मिला
  • फॉरवर्ड हैं, स्पीड के साथ गेंद को आगे ले जाती हैं
उदिता 
  • डिफेंडर के तौर पर अग्रेसिव खेल काफी अच्छा
... और पढ़ें
भारतीय हॉकी टीम में हरियाणा की नौ बेटियों को मिली जगह। भारतीय हॉकी टीम में हरियाणा की नौ बेटियों को मिली जगह।

सर्वे में खुलासा: 87 फीसदी ब्लैक फंगस के मरीज शुगर से पीड़ित, स्टेरॉयड की वजह से हुईं ज्यादा मौतें

कोरोना संक्रमण के बीच पंजाब में ब्लैक फंगस भी लगातार पैर पसार रहा है। हाल ही में हुए सर्वे में यह खुलासा हुआ है कि राज्य में शुगर के मरीज ज्यादा संख्या में ब्लैक फंगस के शिकार हो रहे हैं। इनका प्रतिशत राज्य में 87 प्रतिशत मिला है, जबकि 80 प्रतिशत कोरोना संक्रमित इस रोग की चपेट में आए हैं। ब्लैक फंगस से 86 प्रतिशत उन संक्रमित लोगों की मौत हुई है, जो स्टेरॉयड लेते थे।

पंजाब में ब्लैक फंगस के मामले लगातार सामने आ रहे हैं। हालांकि इससे मरने वालों की संख्या अन्य राज्यों से काफी कम है। लोगों की सुरक्षा के दृष्टिगत पंजाब के स्वास्थ्य विभाग द्वारा हाल ही में ब्लैक फंगस को लेकर सर्वे कराया गया। इसमें खुलासा हुआ है कि 45 से 60 साल की उम्र के 38 प्रतिशत लोग ब्लैक फंगस के शिकार हुए हैं।

25 प्रतिशत केस 18 से 45 की उम्र और 36 प्रतिशत केस 60 साल से ज्यादा की उम्र वाले व्यक्तियों के हैं। मरने वाले 43 मरीजों में से 88 फीसदी कोविड से पीड़ित थे। 86 फीसदी मरीजों ने पहले स्टेरॉयड का इस्तेमाल किया था। 80 फीसदी मरीज शुगर के मरीज थे।

इन लक्षणों पर लें चिकित्सकीय सलाह
अगर किसी व्यक्ति की नाक बंद हो जाती है या नाक से काले रंग का डिस्चार्ज या मुंह के अंदर का रंग बदलता हुआ महसूस होता है तो उन्हें तत्काल चिकित्सक से मिलकर सलाह लेनी चाहिए। साथ ही जिन मरीजों की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है या फिर वे हाल ही में संक्रमित हुए हैं उन्हें स्टेरॉयड का इस्तेमाल करने से परहेज करना चाहिए। 

पंजाब में इस रोग के लिए जरूरी इंजेक्शनों की आपूर्ति कम हो रही है। पंजाब सरकार की तरफ से केंद्र से फिर जरूरी इंजेक्शन की मांग की गई है। अभी राज्य में वैकल्पिक दवाओं पोसाकोनाजोल और इटराकोनजोल का इस्तेमाल किया जा रहा है।
... और पढ़ें

किसानों की बल्ले-बल्ले: बाजरे की जगह दलहन व तिलहन की खेती पर 4000 रुपये प्रति एकड़ देगी हरियाणा सरकार

हरियाणा सरकार बाजरा की जगह दलहन-तिलहन की खेती करने वाले किसानों को 4000 रुपये प्रति एकड़ प्रोत्साहन राशि देगी। बाजरे का उत्पादन कम करने व जल संरक्षण के मद्देनजर यह निर्णय लिया गया है। सरकार ने हरियाणा ड्रोन निगम भी गठित किया है। मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने गुरुवार को हरियाणा निवास, चंडीगढ़ में प्रेस वार्ता में यह जानकारी दी।

उन्होंने कहा कि जो किसान बाजरे की ही खेती करेंगे, अब भावांतर भरपाई योजना के तहत उनका बाजरा खरीदा जाएगा। इससे बाहर के किसानों के यहां बाजरा बेचने पर रोक लगेगी। बाजरा बुआई की ड्रोन मैपिंग होगी। मेरी फसल-मेरा ब्योरा पर पूरा रिकॉर्ड दर्ज किया जाएगा। 

बाजरा खरीद में सरकार को 700-800 करोड़ का नुकसान हुआ है, क्योंकि खपत कम है और उत्पादन ज्यादा हो रहा है। हरियाणा ड्रोन निगम के तहत दो चरण में 200 ड्रोन खरीदे जाएंगे। इनसे एरियल सर्वे में मदद मिलेगी। अभी विभिन्न विभागों के पास 50 ड्रोन हैं। 200 वर्ग मीटर पर एक ड्रोन होगा, जिससे दस दिन में सारे प्रदेश का सर्वे पूरा कर लेंगे। 
... और पढ़ें

जालंधर: कोरोना मरीज को अस्पताल में भर्ती करा गायब हुए अपने, शव लेने भी नहीं पहुंचे, दो हफ्ते बाद हुआ अंतिम संस्कार

कोरोना की दहशत में रिश्ते नाते तार-तार होने लगे हैं। जालंधर की एक घटना ने इंसानियत को फिर शर्मसार कर दिया है। कोरोना के मरीज को अस्पताल में भर्ती करा रिश्तेदार गायब हो गए और मौत के बाद कोई शव लेने भी नहीं आया। आखिरकार, प्रशासन ने करीब दो सप्ताह तक इंतजार करने के बाद गुरुवार को 50 वर्षीय कोरोना पीड़ित का अंतिम संस्कार कर दिया गया। प्रशासन का सहयोग  'आखिरी उम्मीद' संस्था ने किया।

जानकारी के मुताबिक जालंधर में कपूरथला रोड़ के रहने वाले निर्मल सिंह कोरोना संक्रमित हो गए थे। उन्हें कुछ रिश्तेदार अस्पताल में भर्ती कराकर गायब हो गए। अगले ही दिन कोरोना पीड़ित ने दम तोड़ दिया। घर-परिवार का पता न चले, इसलिए परिवार वालों ने कोरोना पीड़ित का पता भी अधूरा दिया। 

निर्मल सिंह की मौत के बाद तमाम रिश्तेदारों ने फोन भी स्विच ऑफ कर लिए। प्रशासन मृतक निर्मल सिंह के शव को शवगृह में रख रिश्तेदारों का इंतजार करता रहा लेकिन कोई नहीं आया। उनके बताए पते पर पुलिस भी भेजी गई लेकिन कुछ पता नहीं चला। जब मृतक के परिजनों के बारे में कोई जानकारी नहीं मिली तो सिविल अस्पताल के डॉक्टर कामराज की देखरेख में 'आखिरी उम्मीद' संस्था की सहायता से व्यक्ति का अंतिम संस्कार करवाया गया। 
... और पढ़ें

हरियाणा: मनोहर लाल ने किसान आंदोलन को लेकर अमित शाह को सौंपी रिपोर्ट, नड्डा से विज ने की मुलाकात

कोरोना से मौत (फाइल फोटो)
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने किसान आंदोलन के दौरान बढ़ रहे हिंसात्मक व अनैतिक मामलों विशेषकर महिलाओं के साथ हो रही घटनाओं की रिपोर्ट गुरुवार शाम केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को सौंपी। मुख्यमंत्री नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री से मिले। उन्होंने दिल्ली की सीमा पर हरियाणा में चल रहे किसान आंदोलन के संदर्भ में विस्तार से चर्चा की। शाह ने मनोहर लाल को उचित कार्रवाई का भरोसा दिया है।

केंद्रीय गृहमंत्री से मुलाकात के बाद मनोहर लाल ने कहा कि किसान आंदोलन शांतिपूर्ण रूप से चले तो कोई आपत्ति नहीं है। लेकिन, महिलाओं के साथ हो रही घटनाएं अत्यंत चिंताजनक हैं। इनका स्थानीय विरोध भी हो रहा है। सरकार कानून एवं व्यवस्था को किसी भी स्थिति में बिगड़ने नही देगी। उन्होंने केंद्रीय गृहमंत्री को घटनाओं के संदर्भ में अवगत करवाया है। 

पानीपत निवासी के अपहरण की भी दी जानकारी
सीएम ने कहा कि किसानों को यह समझना होगा कि कानूनों में उनके हित की ही बातें हैं। इसलिए आंदोलन खत्म कर घर लौटें। माहौल को न बिगाड़ा जाए। महिलाओं के साथ अनैतिक घटनाओं को कोई बर्दाश्त नहीं करेगा। मनोहर लाल ने कहा कि पानीपत निवासी का विदेश में अपहरण और उसके लिए फिरौती मांगने के मामले में शाह से चर्चा की और कहा कि इस संबंध में वह केंद्र सरकार के अन्य मंत्रालयों से भी चर्चा करेंगे। 

दिल्ली में नड्डा से विज ने की मुलाकात
उधर, हरियाणा के गृह मंत्री अनिल विज ने कहा कि हरियाणा की जनता जानती है भाजपा सरकार ने काम किया है, हमें कांग्रेस से पूछने की जरूरत नहीं है । विज ने कहा कि हमने जो भी काम किया है वह जनता को बताया है। सरकार को कांग्रेस के सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है।

गुरुवार को दिल्ली में अनिल विज ने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात के बाद मीडिया से बातचीत में ये बात कही। मुलाकात को लेकर विज ने कहा कि यह एक रूटीन मुलाकात थी। मिलना-जुलना लगा रहता है। हरियाणा में मंत्रिमंडल विस्तार के सवाल पर विज ने कहा कि हमारी इस पर कोई बात अब तक नहीं हुई है।

किसान आंदोलन पर पर कहा कि एक किसान को पेट्रोल डालकर जला दिया गया, हमने उसके लिए एफआईआर दर्ज की है, धारा 302 भी लगा रहे हैं। जो भी कार्रवाई होगी वह की जाएगी। जो भी मामला सामने आया है, उसमें कार्रवाई की गई है। 
... और पढ़ें

लुधियाना: कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु के पार्षद भाई के घर चोरी, लाखों रुपये की नकदी व कीमती सामान किया साफ

पंजाब सरकार में कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु के भाई और वार्ड नंबर 66 से कांग्रेस पार्षद नरिंदर कुमार शर्मा के घर चोरों ने हाथ साफ किया। बताया जा रहा है कि चोर घर के पीछे वाले रास्ते से दीवार फांद कर दाखिल हुए और नरिंदर शर्मा के कमरे से लाखों रुपये की नकदी और मोबाइल फोन व अन्य कीमती सामान ले उड़े। 

हैरानी की बात यह है कि चोर घर में दाखिल हुए और कमरे में घुस कर इतनी बड़ी वारदात को अंजाम दे फरार हो गए और किसी को कुछ पता भी नहीं चला। घटना का पता गुरुवार की सुबह उस समय चला जब नरिंदर शर्मा और उनकी पत्नी नींद से जागे और सामान बिखरा पड़ा देखा। उन्होंने तुरंत इसकी जानकारी पुलिस को दी। सूचना मिलने के बाद थाना डिवीजन आठ की पुलिस मौके पर पहुंच गई और जांच शुरू कर दी है। 

पॉश इलाके घुमारमंडी की एक कालोनी में पार्षद नरिंदर शर्मा का घर है। उनका एक बेटा विदेश में तो दूसरा बेटा एडवोकेट है। बुधवार की रात को परिवार खाना खाने के बाद सोने चला गया। नरिंदर शर्मा अपनी पत्नी के साथ कमरे में चले गए और बेटा अपने कमरे में चला गया। 

नरिंदर शर्मा ने घर के पीछे वाले हिस्से में छोटा सा पार्क बना रखा है जिसकी दीवार छोटी है। इसी का फायदा उठाकर दीवार फांद कर देर रात चोर घर में दाखिल हो गए। आरोपियों ने अंदर रखी लाखों रुपये की नकदी, मोबाइल और अन्य कीमती सामान समेटा और फरार हो गए। वारदात का पता गुरुवार की सुबह चला। थाना डिवीजन आठ के एसएचओ सब इंस्पेक्टर राजिंदरपाल सिंह ने बताया कि अभी मामले की जांच चल रही है। जांच से पहले वह कुछ नहीं कह सकते। 
... और पढ़ें

ग्रामीण को जिंदा जलाने का मामला: संयुक्त किसान मोर्चा ने बताया आत्महत्या, राकेश टिकैत बोले- जांच होनी चाहिए

टीकरी बॉर्डर पर ग्रामीण को जिंदा जलाने के मामले में किसान आंदोलन पर सवाल उठे तो संयुक्त किसान मोर्चा को सफाई देना पड़ा। संयुक्त किसान मोर्चा ने किसान के पारिवारिक कारणों से आत्महत्या करने की बात कही तो भाजपा-जजपा पर इसको हत्या बताकर आंदोलन को बदनाम करने का आरोप लगाया। वहीं भाकियू प्रवक्ता राकेश टिकैत ने यह भी कहा है कि कुछ लोग हत्या बता रहे हैं तो यह जांच का विषय है और उसकी जांच जरूर होनी चाहिए। 

संयुक्त किसान मोर्चा के सदस्य बलबीर सिंह राजेवाल, जोगिंदर सिंह उगराहा, जगजीत सिंह दल्लेवाल, गुरनाम सिंह चढूनी, योगेंद्र यादव, युद्धवीर सिंह ने कहा कि बुधवार की रात पेट्रोल पंप के पास एक व्यक्ति अकेला देखा गया था, जिसने अचानक अपने ऊपर पेट्रोल डालकर आग लगा ली तो किसान मोर्चा के वॉलंटियर ने यह देखकर उसकी जान बचाने के लिए आग बुझाई। 

किसान नेताओं के अनुसार उस व्यक्ति ने बताया था कि उसने पारिवारिक समस्या से तंग आकर मरने का फैसला किया था। उनके अनुसार पेट्रोल पंप के कर्मचारी ने मुकेश की पहचान करके परिवार को सूचना दी तो वहां आने के बाद वह उसे अस्पताल ले गए। किसान नेताओं ने कहा कि जहां किसानों ने एक अनजान व्यक्ति की जान बचाने की कोशिश की, वहां किसान आंदोलन को बदनाम करने की साजिश रची जा रही है। 

किसान नेताओं ने कहा इसकी निष्पक्ष जांच होनी चाहिए और किसान मोर्चा इसमें सहयोग करेगा। वहीं भाकियू के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत का कहना है कि टिकरी बॉर्डर पर एक व्यक्ति के आत्महत्या करने की जानकारी मिली है। हालांकि यह भी कुछ लोग कह रहे हैं कि उसे जलाया गया है। यह जांच का विषय है और इसकी पूरी जांच होनी चाहिए। यह जरूर है कि यह बहुत दुखद घटना है।
... और पढ़ें

बयान पर बवाल: बिट्टू के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन जारी, सांसद की गिरफ्तारी पर अड़ी शिअद और बसपा

पंजाब में शिरोमणि अकाली दल और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन पर टिप्पणी करने के मामले में लुधियाना के कांग्रेस सांसद रवनीत बिट्टू घिरते नजर आ रहे हैं। गुरुवार को शिरोमणि अकाली दल (शिअद) और बहुजन समाज पार्टी (बसपा) के नेताओं ने दलजीत चीमा की अगुवाई में लुधियाना पुलिस कमिश्नर से मुलाकात की।

उन्होंने कहा कि सांसद बिट्टू ने टिप्पणी कर लोगों की भावनाओं को आहत किया है। इसलिए उनके खिलाफ एससी-एसटी एक्ट के तहत मामला दर्ज कर तुरंत गिरफ्तार किया जाए। अगर पुलिस ने जल्द कार्रवाई नहीं की तो दोनों दल एक साथ बैठकर अगली रणनीति तैयार करेंगे और सांसद के खिलाफ विरोध प्रदर्शन को तेज किया जाएगा।

बता दें कि शिअद-बसपा गठबंधन के तहत श्री आनंदपुर साहिब और श्री चमकौर साहिब की सीट बसपा को दी गई है। इस पर सांसद ने टिप्पणी की थी कि इतने पवित्र शहर की टिकट बसपा को क्यों दी गई। वहीं बसपा सुप्रीमो मायावती पर तीन सौ करोड़ चुनावी फंड का दुरुपयोग करने का आरोप लगाया था।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में प्रदर्शन: अब फिल्म 'पृथ्वीराज' पर मचा बवाल, अक्षय कुमार व निर्देशक का पुतला फूंका

अभिनेता अक्षय कुमार की फिल्म 'पृथ्वीराज' को लेकर अब विवाद शुरू हो गया है। चंडीगढ़ में लोगों ने फिल्म के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया। चंडीगढ़ के सेक्टर- 45 में अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा की चंडीगढ़ इकाई ने गुरुवार को अभिनेता अक्षय कुमार और फिल्म निर्देशक चंद्र प्रकाश द्विवेदी का पुतला फूंका। 

महासभा ने आने वाली फिल्म 'पृथ्वीराज' में इतिहास से छेड़छाड़ कर हिंदू समाज की भावनाओं को आहत करने का आरोप लगाया। अखिल भारतीय क्षत्रिय महासभा के कार्यकारी अध्यक्ष शांतनु चौहान और राष्ट्रीय सचिव परीक्षित राणा ने कहा कि हिंदू समाज की भावनाओं से खिलवाड़ बर्दाश्त नहीं होगा। फिल्म का नाम कम से कम पृथ्वीराज चौहान होना चाहिए। इसके अलावा इतिहास से कोई छेड़छाड़ नहीं होनी चाहिए।

उन्होंने कहा कि फिल्म निर्देशक चंद्र प्रकाश द्विवेदी ने फिल्म पृथ्वीराज में इतिहास से छेड़छाड़ कर हिंदू समाज की भावनाओं को आहत किया है। हिंदू सम्राट पृथ्वीराज चौहान के नाम को तोड़-मरोड़ कर पेश करने पर चेतावनी दी। उन्होंने कहा कि वे किसी भी सूरत में फिल्म को रिलीज नहीं होने देंगे। तब तक विरोध करेंगे जब तक विवादित भागों को फिल्म से हटाया नहीं जाता। 

चौहान ने कहा कि फिल्म अभिनेता और फिल्म निर्देशक पर देशद्रोह का मुकदमा चलना चाहिए, ताकि भविष्य में दूसरा कोई निदेशक इस तरह की हिम्मत न कर सके। बता दें कि फिल्मों को लेकर मचने वाला यह बवाल कोई पहली बार नहीं हो रहा है। इससे पहले देश में 'पद्मावत' समेत कई फिल्मों को लेकर बवाल हो चुका है। प्रदर्शन में काकू राणा, करण पाल राणा, मनोज राणा, अशोक राणा, विक्त्रस्म राणा, विनायक बंगीय, लकी राणा सहित अन्य लोग उपस्थित रहे।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us