विज्ञापन
विज्ञापन
समस्त बाधाओं का निवारण करने हेतु अचूक उपाय है यह विशेष कृष्ण पूजन,अभी बुक करें !
Puja

समस्त बाधाओं का निवारण करने हेतु अचूक उपाय है यह विशेष कृष्ण पूजन,अभी बुक करें !

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Local

baroda byelectio

27 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

बेमिसाल बेटियां: डर के आगे जीत है... यही फलसफा अपनाकर हितिका ठाकुर बनीं 'अपराजिता'

कोरोना के मरीजों की देखभाल करते हुए खुद के चेहरे पर जख्म हो गए। बावजूद इसके उन्होंने हिम्मत नहीं हारी।

20 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

पिता के पास आया फोन, कहा- घर जाकर देखो, पहुंचे तो बेड पर मिली बेटे की लाश

हरियाणा के पानीपत की धूप सिंह नगर कॉलोनी में मंगलवार की सुबह 30 वर्षीय युवक की संदिग्ध परिस्थितियों में मौत हो गई। उसके गले और पेट पर चोट के निशान मिले। माता-पिता ने बहू पर ही बेटे की हत्या करने का आरोप लगाया है। पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। सुबह करीब 8:30 बजे धूप सिंह नगर कॉलोनी निवासी ब्रह्मपाल के पास बेटे अनिल की साली का फोन आया। उसने कहा कि घर जाकर अपने बेटे को देखो। 

माता-पिता घर पहुंचे, जहां अनिल का शव उसके कमरे में बेड पर पड़ा था। उसके गले और पेट पर चोट के निशान थे, उसे पीटा गया था। पिता ब्रह्मपाल ने बताया कि अनिल संजय चौक पर पर्दों की सिलाई का काम करता था। सोमवार की रात नौ बजे वह घर आया था और खाना खाने के बाद सभी सोने चले गए थे। 

मंगलवार सुबह सात बजे वह और अनिल की मां ईशवती खेत घास लेने गए थे। जहां पर अनिल की साली का फोन आया। बहू ने फोन करके कुछ नहीं बताया, जबकि उन दोनों के पास फोन हैं। अनिल के पड़ोस में ही उसके चार भाई भी रहते थे, बहू ने उन्हें भी कॉल नहीं किया।

 माता-पिता और चारों भाई घर पहुंचे और बहू से अनिल की मौत के बारे में पूछा तो उसके कुछ भी बताने से मना कर दिया और रोने लगी। अपना फोन भी छिपा दिया। भाइयों ने पुलिस को बुलाया और शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया। फिलहाल पुलिस को लिखित शिकायत नहीं मिली है। शिकायत मिलने पर आगे की कार्रवाई की जाएगी।
शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेजा गया। जिसकी रिपोर्ट आने बाद ही कुछ कहा जा सकेगा। फिलहाल शिकायत नहीं मिली है। शिकायत के आधार पर रिपोर्ट दर्ज की जाएगी। - सतीश वत्स, डीएसपी मुख्यालय।
... और पढ़ें
मृतका का फाइल फोटो। मृतका का फाइल फोटो।

दोस्त की लड़ाई में बचाने पहुंचा युवक, आरोपियों ने बेल्ट से पीटा, दिल में चाकू मारकर हत्या की

हरियाणा के पानीपत के हरि सिंह चौक पर रविवार रात डेढ़ बजे एक युवक के साथ कुछ युवक पुरानी रंजिश के तहत मारपीट कर रहे थे। इसी बीच युवक का दोस्त बीच बचाव करने के लिए आया तो आरोपियों ने युवक को छोड़ दिया और दोस्त को पकड़कर पहले बेल्ट से पीटा और फिर चाकू से गोदकर हत्या कर दी।

युवक के दिल, पेेट, कमर समेत चार जगह पर चाकुओं से वार किए गए। मृतक का भाई वारदात से 50 मीटर दूर था लेकिन जब तक वह दौड़कर पहुंचा तब तक देर हो चुकी थी। पुलिस ने शव का पोस्टमार्टम कराकर शव परिजनों को सौंप दिया। पुलिस ने एक आरोपी को हिरासत में लिया है।

वधावाराम कॉलोनी निवासी विकास उर्फ विक्की पुत्र राजकपूर ने बताया कि वह और उसका छोटा भाई अंकित (21) दोनों बाइक पर सवार होकर रात एक बजे हनुमान सभा देखने के लिए हरि सिंह चौक पर गए थे। जहां उनका चचेरे भाई संदीप भी मौजूद था। हनुमान सभा में करीब डेढ़ बजे उन्हें बबलू मिला, जिसके साथ जयनारायण उर्फ गोली निवासी हरि सिंह कॉलोनी, विशाल निवासी विजय नगर व अन्य युवक हाथापाई कर रहे थे। छोटा भाई अंकित उन्हें छुड़वाने के लिए गया।
... और पढ़ें

पानीपत में महिला के चेहरे पर फेंका तेजाब, जलन से तड़पती हुई नाले में जा गिरी, हालत गंभीर

हरियाणा के पानीपत से आई एक खौफनाक खबर ने सबका दिल दहला दिया। यहां की देशराज कॉलोनी में 35 वर्षीय विवाहिता पर बाइक सवार दो युवक एसिड फेंककर फरार हो गए। महिला एसिड की जलन और गंध से बेहोश हो गई। उसकी हालत गंभीर है। फैक्टरी के लोग एसिड अटैक की खबर लगते ही मौके पर पहुंचे।

उसे पहले एक निजी अस्पताल ले जाया गया, जहां से सिविल अस्पताल लाया गया। वहां उसकी हालत बिगड़ने लगी, इसके बाद उसे रोहतक पीजीआई रेफर कर दिया गया। किला थाना पुलिस ने फैक्टरी के आसपास पूछताछ की। महिला कुछ भी बताने की स्थिति में नहीं है। इस अटैक के बाद देशराज कॉलोनी में सनसनी फैल गई है।

राजीव कॉलोनी निवासी 35 वर्षीय विवाहिता देशराज कॉलोनी स्थित एक कंबल फैक्टरी में काम करती है। वह शाम करीब साढ़े छह बजे फैक्टरी से काम खत्म करके घर के लिए निकली थी। वह फैक्टरी से महज 20 मीटर आगे ही पहुंची थी कि वहां पहले से ही बाइक सवार दो युवक खड़े थे। महिला जैसे ही बाइक सवार युवकों के पास से गुजरी, दोनों ने उसके चेहरे पर एसिड डाल दिया और फरार हो गए।
... और पढ़ें

परिवार का एक ही सदस्य बनवा सकेगा सबका पहचान पत्र, अगर नहीं हैं ये दस्तावेज तो होगी मुसीबत

हरियाणा सरकार ने नया परिवार पहचान पत्र बनवाने की प्रक्रिया में अहम परिवर्तन किया है। अब परिवार का केवल एक ही सदस्य कॉमन सर्विस सेंटर पर जाकर पूरे परिवार का पहचान पत्र बनवा सकेगा। परिवार को ले जाने की कोई जरूरत नहीं है। सरकार के ताजा निर्देश अनुसार परिवार के सभी सदस्यों का आधार कार्ड लाना अनिवार्य है।

18 वर्ष से ऊपर आयु वाले सदस्यों का मतदाता कार्ड साथ लेकर आना होगा। परिवार में जिन सदस्यों के पास जन्म प्रमाण पत्र हैं, उनका जन्म प्रमाण पत्र साथ लेकर जरूर जाएं। यदि जन्म प्रमाण पत्र नहीं है तो कोई भी प्रमाण पत्र है तो उसे ले जा सकते हैं। 21 वर्ष से ऊपर के सदस्य के बैंक खाते की कॉपी भी दस्तावेज के साथ देनी होगी। 

बीपीएल कार्ड धारकों को राशन कार्ड की प्रति जमा करानी पड़ेगी। जिन सदस्यों का पैन कार्ड बना हुआ है, उनका पैन कार्ड फोटो स्टेट कराकर देना होगा। दिव्यांगता का प्रमाण पत्र जिनका बना हुआ है, उसकी प्रति जमा करवाना भी जरूरी है। जिस फोन पर परिवार पहचान पत्र बनवाने का संदेश आया हुआ है, वह फोन साथ लेकर जाना होगा। 

कॉमन सर्विस सेंटर जाने वाले सदस्य को परिवार की अनुमति के साथ वार्षिक आय का पता होना चाहिए, साथ में कृषि की जमीन की जानकारी होना जरूरी है। पहचान पत्र बनवाते समय उसी मोबाइल नंबर को अपडेट कराएं जो आपका स्थायी नंबर हो, वरना उसी तरह की परेशानी होगी जैसे आधार कार्ड में होती हैं।

परिवार पहचान पत्र इसलिए जरूरी
  • स्कूल, कॉलेज में दाखिला के लिए इसे मांगा जाएगा
  • बैंक में खाता खुलवाने में भी इसकी जरूरत पड़ेगी
  • कोई भी प्रमाण पत्र बनवाने के लिए भी पहचान पत्र जरूरी होगा
  • किसी भी सरकारी कामकाज के लिए इसका होना आवश्यक है
... और पढ़ें

छह माह पहले छेड़खानी, अब एसिड से हमला, 38 मिनट का इंतजार...तबाह हुई महिला की जिंदगी

परिवार पहचान पत्र।

पंजाब: पूर्व डीजीपी सुमेध सैनी SIT के सामने पेश, IAS के बेटे के अपहरण और हत्या केस में घिरे

पंजाब के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी बलवंत सिंह मुल्तानी केस में सोमवार को विशेष जांच दल (एसआईटी) के सामने पेश हुए। सुबह 11:10 मिनट पर वे मटौर थाने पर पहुंचे। थाने के बाहर मटौर के एसएचओ ने उन्हें रिसीव किया। इसके बाद उन्हें अंदर ले जाया गया। जहां जांच दल पूर्व डीजीपी से पूछताछ करने में जुटा है। इस दौरान थाने के बाहर बड़ी संख्या में सुरक्षा बलों और मीडियाकर्मी तैनात रहे।

हालांकि इससे पहले भी एक बार उन्हें जांच में शामिल होने के लिए बुलाया गया था। लेकिन वह पहुंचे नहीं थे। उनकी ओर से दलील दी गई थी कि वह फिट नहीं हैं। डॉक्टर ने उन्हें आराम करने की सलाह दी है। बता दें कि यह मामला साल 1991 का है। जब सुमेध सिंह सैनी चंडीगढ़ में एसएसपी के पद पर तैनात थे। इस दौरान उन पर एक आतंकी हमला हो गया था। इसमें उनके तीन सुरक्षा कर्मियों की मौत हो गई थी। जबकि उनका बचाव हो गया था। 

आरोप है कि इस हमले के बाद उन्होंने सिटको में जेई के पद तैनात आईएएस के बेटे बलवंत सिंह मुल्तानी को उनके मोहाली फेज-7 स्थित घर से उठाया था। उसके बाद उसका कुछ पता नहीं चला। बलवंत सिंह मुल्तानी के परिजनों ने इस मामले में सुप्रीम कोर्ट तक जंग लड़ी थी। लेकिन उन्हें कामयाबी नहीं मिली। इसी बीच सैनी के साथी रहे एक पुलिस ने एक मैगजीन को इंटरव्यू दिया था। उसी के आधार पर परिजनों ने पुलिस को शिकायत दी, जिसके बाद पूर्व डीजीपी पर केस दर्ज हुआ था।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ में सफाई कर्मचारियों की हड़ताल जारी, नगर निगम कार्यालय के बाहर प्रदर्शन

चंडीगढ़ में शुक्रवार से सफाई कर्मचारी प्रदर्शन कर रहे हैं। सोमवार को बड़ी संख्या में कर्मचारियों नगर निगम दफ्तर के बाहर अपनी मांगों के लेकर विरोध प्रदर्शन शुरू कर दिया है। यह कर्मचारी नगर निगम की स्मार्ट घड़ी व्यवस्था का विरोध कर रहे हैं। उधर शहर में लोगों के घरों में कचरे का ढेर लगा हुआ है। 

स्मार्ट घड़ी का हो रहा है विरोध
यूनियन के अध्यक्ष कृष्ण कुमार चड्ढा ने कहा कि स्मार्ट घड़ियों से बंधुआ मजदूर जैसा अनुभव होता है। कर्मचारियों पर नजर रखने के लिए यह घड़ी उन्हें पहनाई जा रही है। घर-घर से कचरा उठाने वाली एसोसिएशन के समर्थन से शहर के रेजिडेंशियल एरिया से कचरा भी नहीं उठ रहा है।

इससे पहले एक दिन के लिए काम छोड़ हड़ताल और रोष प्रदर्शन 15 अक्तूबर को नगर निगम कार्यालय के सामने किया गया था लेकिन नगर निगम के अधिकारियों और कमिश्नर ने यूनियन के साथ कोई बैठक नहीं की। ऐसे में 17 अक्तूबर को यूनियन की एक बैठक हुई, जिसमें निर्णय लिया गया कि 23 अक्तूबर से अनिश्चितकालीन हड़ताल की जाएगी।



यूनियन के अध्यक्ष का कहना है कि इस हड़ताल में ठेके पर काम कर रहे सफाई कर्मचारी भी उनके साथ हैं। अध्यक्ष का कहना है कि डेलीवेज कर्मचारियों को पक्का करने के अलावा उन्हें समान वेतन देने की मांग भी की जा रही है। उनका कहना है कि ठेकेदार के अधीन काम करने वाले कर्मचारियों को नगर निगम के अधीन किया जाए। निगम में सफाई कर्मचारियों का शोषण किया जा रहा है।

2 लाख 10 हजार घर से कचरा लेते हैं कर्मचारी
निगम के अनुसार घर-घर से कचरा लेने वाली एसोसिएशन 2 लाख 10 हजार घरों से कचरा उठाती है। हालांकि, एसोसिएशन के अध्यक्ष ओम प्रकाश सैनी के अनुसार ढाई लाख से ज्यादा घरों से एसोसिएशन कचरा उठाती है। गांव में जहां गाड़ी नहीं जा पाती है, वहां से भी एसोसिएशन ही कचरा उठाती है।
... और पढ़ें

अच्छी खबर: दो नवंबर से शुरू होगी पीजीआई चंडीगढ़ की ओपीडी, एक विभाग में देखे जाएंगे 50 मरीज

पीजीआई चंडीगढ़ में ओपीडी (वाह्य रोग विभाग) दो नवंबर से शुरू होगी। पीजीआई प्रशासन ने बैठक कर यह निर्णय लिया है। एक ओपीडी में 50 मरीज ही देखे जाएंगे। उन मरीजों को टेलीकंसल्टेशन में दिए गए नंबरों सें अपॉइंटमेंट मिलेगा। पीजीआई के प्रवक्ता डॉ. अशोक कुमार ने बताया कि कोरोना से बचाव के मानकों का पालन करते हुए यह निर्णय लिया गया है कि एक विभाग में एक दिन में 50 मरीज देखे जाएंगे।

धीरे-धीरे मरीजों की संख्या बढ़ाई जाएगी। डॉ. अशोक ने बताया कि ओपीडी संचालन के मानकों का पालन करते हुए अलग-अलग विभागाध्यक्ष को जिम्मेदारी सौंपी गई है। जिससे ओपीडी में किसी तरह की अव्यवस्था ना होने पाए। गौरतलब है कि कोविड-19 के कारण मार्च से पीजीआई की ओपीडी बंद चल रही है। जिसके कारण चंडीगढ़ समेत देश के अलग-अलग राज्यों से आने वाले लाखों मरीजों का इलाज बाधित है।

चंडीगढ़ में कोरोना के पॉजिटिव केस की कम होते संख्या को देखते हुए प्रशासन ने अस्पतालों की ओपीडी शुरू करने का आदेश दिया है। जिसके अंतर्गत जीएमएसएच- 16 की ओपीडी एक हफ्ते पहले शुरू की जा चुकी है। वहां भी एक ओपीडी में 50 मरीज देखने की सुविधा दी जा रही है।
... और पढ़ें

चंडीगढ़ के बदहाल पार्क की कहानी, रख-रखाव टाला...शौचालय पर भी जड़ा ताला

चंडीगढ़ के सेक्टर-40 के डीपीएस स्कूल के पीछे स्थित पार्क का हाल बदहाल है। पार्क में जगह-जगह कूड़े के ढेर लगे होते हैं। साथ ही पार्क में कई बेंच भी टूटे पड़े हैं। कुछ दिन पहले ही हट में बने बेंच पर ही किसी ने कूड़ा भी जला दिया।

स्थानीय लोगों का कहना है कि नगर निगम को इस पर जितना ध्यान देना चाहिए, वह उतना नहीं दे रहा है। इस पार्क में बने शौचालय पर ताला लगा रहता है। इस कारण पार्क में आने वाले लोग कई बार परेशान होते हैं। लोगों का कहना है कि वे हर प्रकार का कर (टैक्स) देते हैं लेकिन सुविधाओं के नाम पर कुछ भी नहीं है। 

नगर निगम पार्कों का ठीक से करे देखभाल
पार्कों की अच्छी तरह देखभाल नगर निगम ही कर सकता है। कई आरडबल्यूए इसलिए पार्कों को ठीक प्रकार से रखरखाव नहीं कर सकते क्योंकि नगर निगम जो राशि देता है, उससे तो एक माली का वेतन भी नहीं निकलता। -जनक राज शर्मा, निवासी, सेक्टर- 40
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X