बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?
Myjyotish

शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

गर्व : चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण बनीं ग्लोबल एंबेसडर, अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर मिला सम्मान

अंतरराष्ट्रीय महिला दिवस पर चंडीगढ़ की शूटर गौरी श्योराण को इंटरनेशनल वुमन क्लब ने 2021 का ग्लोबल एंबेसडर नियुक्त किया है। एक ऑनलाइन कार्यक्रम में चेक...

18 अप्रैल 2021

विज्ञापन
Digital Edition

पंजाब: तेज आंधी से गिरी पोल्ट्री फार्म की छत, एक बच्चे की जान गई, तीन माह का मासूम गंभीर  

पंजाब में शुक्रवार रात को आंधी तूफान से काफी नुकसान हुआ। गुरदासपुर में कलानौर के गांव रहीमाबाद में धान की रोपाई करने के लिए शुक्रवार को ही गांव पहुंचे परिवार पर तेज आंधी कहर बनकर टूट पड़ी। तेज आंधी के कारण जिस पोल्ट्री फार्म में परिवार रुका था उसकी छत गिर गई। हादसे में एक बच्चे की मौत हो गई। परिवार के चार लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। घायलों को तुरंत कलानौर के अस्पताल में भर्ती करवाया गया है, जिसमें एक तीन माह के बच्चे की हालत काफी नाजुक बताई जा रही है।

घायल जोबन पुत्र कर्मा वासी भिंडी सैदां अजनाला ने बताया कि शुक्रवार को वह अपने दो भाइयों, पत्नी, बच्चे और माता पिता के साथ गांव रहीमाबाद में धान की रोपाई करने के लिए आए थे। इस दौरान वह गांव के एक पोल्ट्री फार्म में रुक गए। देर रात आई तेज आंधी से पोल्ट्री फार्म की छत उन पर गिर गई। उस समय पूरा परिवार सोया हुआ था। इसमें पांचवीं कक्षा में पढ़ने वाले उसके छोटे भाई पवन (14) की मौके पर ही मौत हो गई।


वह और उसका तीन माह का बेटा परमीत और पत्नी ज्योति सहित चार सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए। उन्हें आसपास के लोगों ने कलानौर के सरकारी अस्पताल में भर्ती करवाया। उसके बेटे परमीत की हालत नाजुक होने के चलते अमृतसर रेफर कर दिया गया है। उसने बताया कि वह अपने परिवार का पेट पालने के लिए रहीमाबाद गांव में धान की रोपाई करने के लिए आया था। लेकिन उसे क्या पता था यह आंधी उन पर कहर बनकर टूटेगी।

गांव के सरपंच मंजीत सिंह ने बताया कि घटना रात करीब साढ़े 11 बजे की है। घटना हरजीत सिंह के पोल्ट्री फार्म पर घटी। सूचना मिलने के बाद तत्काल घायलों को अस्पताल पहुंचाया गया। वह भी प्रशासन तथा सरकार से मांग करते हैं कि घायलों की आर्थिक सहायता की जाए।

बटाला में आंधी से उड़ीं टीन की छत
बटाला में शुक्रवार देर रात आए आंधी-तूफान से आम जनजीवन पूरी तरह अस्तव्यस्त हो गया। तूफान से लोगों के घरों से लोहे की टीन की छत पतंगों की तरह उड़तीं दिखाई दीं। सबसे अधिक नुकसान विभिन्न जगहों पर बिजली के तार पर पेड़ गिरने से हुआ है, जिस कारण कई इलाकों की बिजली सप्लाई बाधित रही। बिजली विभाग के कर्मचारी शनिवार सुबह होते ही बिजली की सप्लाई ठीक करने में जुट गए। 

बटाला में पड़ते बिजली दफ्तरों के अधीन आते फीडरों को भारी नुकसान पहुंचा है। कई जगहों पर सड़कों पर पेड़ गिरने से यातायात भी काफी प्रभावित हुआ। दूसरी तरफ बटाला के गांव मसाणियां में आईडिया कंपनी का 200 फुट ऊंचा टावर तूफान के कारण गिर गया। टावर का अगला हिस्सा गांव में स्थित एक चर्च के ऊपर गिरा, जिस कारण चर्च का भी नुकसान हुआ है। लोगों ने बताया कि चर्च के पास्टर हर शुक्रवार रात को चर्च में ही सोते थे, लेकिन उनकी किस्मत अच्छी थी कि वह गत रात को चर्च में सोए ही नहीं। टावर रिहाइशी एरिया की ओर नहीं गिरा, जिससे बचाव हो गया।
... और पढ़ें
आंधी से गिरी पोल्ट्री फार्म की छत्त। आंधी से गिरी पोल्ट्री फार्म की छत्त।

पठानकोट: रावी दरिया में डूबे दो दोस्त, शवों की हालत देख चौंक गए परिजन, लगाया ये आरोप  

पठानकोट में भारत-पाक सीमा से सटे कस्बा नरोट जैमल सिंह के गांव कीड़ी के पास रावी दरिया में दो युवकों के शव मिले हैं। दोनों युवक बुधवार दोपहर से लापता थे। परिवार ने गुमशुदगी की रिपोर्ट पुलिस थाना नरोट जैमल सिंह में दर्ज करवाई थी। दोनों के शरीर पर घाव के निशान मिले हैं। परिजनों ने हत्या का आरोप लगाया है। वहीं पुलिस की ओर से उचित कार्रवाई न होने से नाराज परिवारों समेत पूरे गांव के लोगों ने दीनानगर-नरोट रोड पर धरना लगा दिया। 

मृतकों की पहचान गांव गुगरां निवासी संजीव कुमार व अजय कुमार गुगरां के रूप में हुई है। दोनों की उम्र 24 व 25 वर्ष बताई जा रही है। साढ़े 3 घंटे चले धरने के बाद पुलिस ने गांव के ही दो युवकों को राउंडअप किया और अज्ञात के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज किया है। जबकि, परिवार का कहना है कि दोनों युवकों ने ही कत्ल की वारदात को अंजाम दिया है। लिहाजा, पुलिस दोनों को मामले में नामजद करे। फिलहाल एसीपी आदित्य के आश्वासन पर परिवार ने धरना उठा लिया। 

मोबाइल लोकेशन से शवों तक पहुंच पाई पुलिस
मृतक संजीव के पिता ऋषि पाल ने बुधवार को पुलिस को गुमशुदगी की रिपोर्ट दी थी। परिवार और पुलिस दोनों युवकों की खोज में लगे थे। इसी दौरान उनके मोबाइल की लोकेशन निकलवाई गई, जो गांव गुगरां और कीड़ी के बीच रावी दरिया के आसपास दर्ज की गई थी। इसी आधार पर पुलिस ने उनकी तलाश शुरू की तो दोनों दोस्तों के शव आपस में 100 मीटर की दूरी पर बरामद हो गए। मृतक संजीव की एड़ी और हाथ पर गहरे घाव थे। जबकि, अजय के शव की पीठ पर घाव दिखाई दे रहे थे। शनिवार दोपहर पुलिस ने पोस्टमार्टम कर शव परिवारों को सौंपे तो उन्होंने रायॅल्टी नाके के पास सड़क पर शव रखकर धरना लगा दिया। 
... और पढ़ें

दिल्ली तक पहुंचा मामला: जालंधर में दिव्यांग पर टूटा वर्दी का कहर, एएसआई ने पीटा, वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल

पंजाब के जांलधर में एक पुलिसवाले ने पैरों से लाचार दिव्यांग को बुरी तरह से पीट डाला। पहले दिव्यांग के मुंह पर थप्पड़ मारे फिर पैरों से मारा। दिव्यांग अपने बचाव में न तो खड़ा हो सकता था और न ही वहां से आगे-पीछे हट सकता था। सहायक सब इंस्पेक्टर की यह करतूत वहां लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई। इसके बाद पीड़ित ने इसकी शिकायत कर दी। अब सीसीटीवी फुटेज भी वायरल हो गई।

मामले में तूल पकड़ता देख कमिश्नर गुरप्रीत सिंह भुल्लर ने सहायक सब इंस्पेक्टर रघुवीर सिंह को सस्पेंड कर दिया। डीसीपी इन्वेस्टिगेशन गुरमीत सिंह ने कहा कि दिव्यांग व्यक्ति ने चोरी के एक मामले में पुलिस को सहयोग नहीं दिया लेकिन एएसआई रघुबीर सिंह ने गैर पेशेवराना रवैया दिखाया। उसे सीनियर अफसरों को बताना चाहिए था। इसलिए उसे सस्पेंड करने के बाद विभागीय जांच शुरू कर दी गई है।

कबीर विहार के रहने वाले महिंदर कुमार ने कहा कि 17 अप्रैल को सुबह करीब 11 बजे एएसआई रघुवीर सिंह एक कांस्टेबल और एक अन्य व्यक्ति को लेकर उसकी कबाड़ की दुकान पर आया। आते ही पुलिस वाले ने गाली गलौज शुरू कर दी। जब महिंदर ने कहा कि उसका भाई सलिंदर दुकान पर नहीं है और जब आएगा तो उसे बता देगा।

महिंदर कुमार ने कहा कि रघुवीर सिंह ने उसको बुरी तरह से पीटना शुरू कर दिया। वह 90 प्रतिशत दिव्यांग है और चल फिर भी नहीं सकता। मामला राष्ट्रीय अनुसूचित जाति आयोग के ध्यान में भी आ गया है। आयोग ने जालंधर पुलिस से 15 दिन में जवाब दायर करने को कहा है।
... और पढ़ें

किसानों के लिए अच्छी खबर: एक सॉफ्टवेयर की मदद से पता लगा सकेंगे अपने चावल की गुणवत्ता, खुद तय करेंगे दाम   

किसानों के लिए एक अच्छी खबर है। अब वह खुद अपनी फसल का मूल्य निर्धारित कर सकेंगे। उन्हें पता होगा कि उनकी फसल का दाना-दाना कितना मजबूत है। इसके लिए केंद्रीय वैज्ञानिक उपकरण संगठन (सीएसआईओ) ने एक सॉफ्टवेयर तैयार किया है। इसके जरिए चावल के हर दाने की गुणवत्ता का पता लगाया गया है। इस पर प्रयोग सफल रहा। यह सॉफ्टवेयर जल्द बाजार में आएगा। इसके लिए आठ कंपनियों से करार हो गया है।

सीएसआईओ की तकनीकी अधिकारी डॉ. ममता शर्मा ने इस पर दो साल तक शोध किया और राइस ग्रेन एनालिसिस सॉफ्टवेयर तैयार किया। इस सॉफ्टवेयर के जरिए पता लगाया गया कि चावल का हर दाना कितना मजबूत है। इस पर सफलता मिली है। सॉफ्टवेयर कंप्यूटर से संचालित है।


वैज्ञानिकों के मुताबिक राइस की एक बेहतर फोटो स्कैन होगी और उसके बाद सॉफ्टवेयर फोटो के जरिए हर दाने का विश्लेषण करेगा। चावल कितना ठोस है, कितने चावल टूटे हुए हैं और कितने खोखले हैं। इन सभी का पता लग जाएगा। जैसे ही चावल की गुणवत्ता का पता लग जाएगा तो उसका मूल्य निर्धारण कर लिया जाएगा। बेहतर चावल होने पर अच्छे पैसे मिलेंगे और कुछ गुणवत्ता खराब होने पर अलग रेट मिलेंगे। राइस मिल संचालकों के लिए यह अधिक कारगर होगा।

जल्द बाजार में आएगा सॉफ्टवेयर 
सीएसआईओ की तकनीकी अधिकारी ममता शर्मा का कहना है कि जल्द ही सॉफ्टवेयर बाजार में आएगा। किसानों के लिए भी यह लाभदायक होगा। अगला शोध अन्य फसलों की गुणवत्ता पता लगाने के लिए होगा। उस पर काम शुरू करेंगे। मालूम हो कि देश में चावल का कारोबार बड़े पैमाने पर होता है। विदेशों को भी चावल भिजवाया जाता है। ऐसे में बाहर चावल बेहतर जाए और उसका मूल्य किसानों या राइस मिल संचालकों को मिले, उसके लिए सॉफ्टवेयर अधिक कारगर होगा। सीएसआईओ को लगातार सफलता मिल रही है। इससे पहले खाद्य तेलों में मिलावट का पता लगाने के लिए उपकरण बनाया और कोरोना बचाव के लिए विशेष मास्क तैयार किए गए। कई अन्य अध्ययन भी चल रहे हैं जो जल्द सामने आएंगे।
... और पढ़ें

मोगा: शारीरिक संबंध बनाने को मजबूर करता था पीटीआई टीचर, 11वीं की छात्रा ने फंदा लगा जान दी

चावल की गुणवत्ता बताएगा साॅफ्टवेयर।
पंजाब के मोगा जिले में पीटीआई टीचर की हरकतों से परेशान 11वीं की छात्रा ने फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। मौके से मिले सुसाइड नोट में छात्रा ने पीटीआई टीचर और प्रिंसिपल की बेटी को अपनी मौत का जिम्मेदार ठहराया है। पुलिस ने शव कब्जे में लेकर पीटीआई टीचर व प्रिंसिपल की बेटी के खिलाफ आत्महत्या के लिए मजबूर करने की धारा 306 के तहत केस दर्जकर कार्रवाई शुरू कर दी है। 

मामले की जांच कर रहे थाना मेहना के प्रभारी सब इंस्पेक्टर गुलजिंदर पाल सिंह सेखों ने बताया कि 17 वर्षीय छात्रा क्षेत्र के एक स्कूल में 11वीं कक्षा में पढ़ती थी। उसका पूरा परिवार कनाडा में रहता है लेकिन वह नाना-नानी के पास रहती थी। बुधवार शाम छात्रा ने अपने घर की पार्किंग में लगे पंखे से फंदा लगाकर खुदकुशी कर ली। 

पुलिस ने जांच शुरू की तो शव के पास एक सुसाइड नोट मिला, जिसमें छात्रा ने अपने स्कूल के प्रिंसिपल की बेटी और पीटीआई टीचर  को खुदकुशी के लिए जिम्मेदार ठहराया है। सुसाइड नोट में छात्रा ने लिखा कि बीते दो माह से उसका टीचर और प्रिंसिपल की बेटी उसे ब्लैकमेल कर रही थी, जिससे आहत होकर वह मौत को गले लगा रही है। 

वहीं अपने अंतिम दिन को यादगार बनाने के लिए छात्रा ने अपने नाना-नानी सहित कुछ और लोगों का आभार व्यक्त किया। जांच अधिकारी सेखो ने बताया कि जांच में सामने आया है कि टीचर छात्रा को शारीरिक संबंध बनाने के लिए मजबूर कर रहा था और प्रिंसिपल की बेटी भी छात्रा पर टीचर के साथ संबंध बनाने का दबाव बना रही थी।
... और पढ़ें

सरकारी इलाज का दावा ध्वस्त: कोरोना के मरीजों के लिए बाहर से मंगाई जा रही दवा-इंजेक्शन 

एक तरफ सरकार कोरोना वायरस से जूझ रहे मरीजों को नि:शुल्क चिकित्सा उपलब्ध कराने का दावा कर रही है, वहीं दूसरी तरफ चंडीगढ़ के जीएमसीएच-32 में भर्ती मरीजों के परिजनों से इलाज के लिए दवा इंजेक्शन व अन्य सामग्री की खुलेआम खरीद करवाई जा रही है। इससे अस्पताल में भर्ती कोरोना के मरीजों के परिजन काफी परेशान हैं क्योंकि उन्हें छोटी-छोटी सामग्रियों को खरीद कर लाने के लिए दिनभर में कई बार कोविड-19 वार्ड व आईसीयू के बाहर बुलाया जा रहा है। चौंकाने वाली बात यह है कि इससे अस्पताल प्रशासन पूरी तरह अनभिज्ञ है। 

शुगर की दवा से लेकर प्लास्टिक की डिब्बी तक मंगवाई जा रही 
जीएमसीएच- 32 में स्थिति इतनी दयनीय हो गई है कि कोविड-19 वार्ड में भर्ती मरीजों के परिजनों से इंजेक्शन व दवाइयों के साथ यूरिन सैंपल देने के लिए प्लास्टिक की डिब्बी तक खरीद कर मंगवाई जा रही है। परिजनों ने बताया कि उनसे इंसुलिन इंजेक्शन, नींद व बेचैनी की दवा, गैस की दवा, ब्लड प्रेशर की दवा व खून को पतला करने का इंजेक्शन मंगाया जा रहा है। 

परिजनों को कॉल कर बुलाया जाता है वार्ड के बाहर
अस्पताल के कोविड-19 वार्ड व कोविड-19 आईसीयू में भर्ती मरीजों के परिजनों को वार्ड में प्रवेश करने की अनुमति नहीं है। ऐसे में अस्पताल के आसपास रह रहे परिजनों को डॉक्टर व पैरामेडिकल स्टाफ कॉल कर वार्ड के बाहर बुलाते हैं। उनके हाथ में पर्ची थमा कर उस पर लिखी गई सामग्री शीघ्र खरीद कर लाने का निर्देश दे रहे हैं। परिजन अपने मरीज की जान बचाने के लिए बिना कोई सवाल किए उनके आदेश का पालन कर रहे हैं।

कोविड के मरीजों का करना है नि:शुल्क इलाज
कोरोना महामारी से जूझ रहे मरीजों के इलाज के व्यवस्था सरकारी अस्पतालों में नि:शुल्क की गई है। इसके अलावा उनके जांच व भर्ती के दौरान खानपान का भी खर्च अस्पताल प्रशासन को वहन करने का निर्देश दिया गया है जबकि जीएमसीएच- 32 में आदेश की अनदेखी करते हुए डॉक्टर व अन्य पैरामेडिकल स्टाफ मनमानी कर रहे हैं। इससे मरीजों के परिजनों को काफी परेशानी झेलनी पड़ रही है।
... और पढ़ें

कोटकपूरा गोलीकांड: आरोपियों के नारको और ब्रेन मैपिंग टेस्ट करवाएगी नई एसआईटी, कोर्ट से मांगी इजाजत

फरीदकोट के बरगाड़ी बेअदबी मामले से जुड़े कोटकपूरा गोलीकांड की जांच कर रही पंजाब पुलिस की नवगठित एसआईटी की तरफ से घटना के तथाकथित आरोपी पुलिस अधिकारियों से पूछताछ करने का दौर जारी है।

एसआईटी ने एक दिन पहले शुक्रवार को फरीदकोट की अदालत में आवेदन दाखिल करके केस की पड़ताल के लिए राज्य के पूर्व डीजीपी सुमेध सिंह सैनी, निलंबित आईजी परमराज सिंह उमरानंगल व पूर्व एसएसपी मोगा चरनजीत सिंह शर्मा का नारको, लाई डिटेक्टर और ब्रेन मेपिंग टेस्ट करवाने की इजाजत मांगी है। 


इस आवेदन पर अदालत ने संबंधित पुलिस अधिकारियों को नोटिस जारी करके जबाव तलब किया है। जानकारी के अनुसार केस की पड़ताल के दौरान एडीजीपी विजीलेंस एल के यादव की अगुवाई वाली एसआईटी ने पांच दिन पहले सोमवार को पूर्व डीजीपी सैनी समेत तीनों पुलिस अधिकारियों से चंडीगढ़ में पूछताछ की थी। एसआईटी का आरोप है कि यह पुलिस अधिकारी जांच में सहयोग नहीं कर रहे हैं और सच छिपा रहे हैं। इसके चलते इनका नार्को टेस्ट करवाए जाने की जरूरत है। इस आधार पर एसआईटी ने अदालत में आवेदन देकर इन पुलिस अधिकारियों का टेस्ट करवाने की इजाजत मांगी है। 

कानून के मुताबिक यदि संबंधित व्यक्ति टेस्ट संबंधी अपनी सहमति नहीं देता तो उसका टेस्ट नहीं करवाया जा सकता और इसी कारण अदालत ने आवेदन पर पुलिस अधिकारियां का पक्ष जानने के लिए उन्हें नोटिस जारी किया है। इन तीनों पुलिस अधिकारियों को पहले वाली एसआईटी ने बतौर आरोपी नामजद करते हुए उनके खिलाफ अदालत में चार्जशीट भी दाखिल की थी लेकिन बाद में उच्च न्यायालय ने एसआईटी की जांच रिपोर्ट ही रद्द कर दी थी। उच्च न्यायालय के आदेश पर सरकार ने केस की पड़ताल के लिए नई एसआईटी का गठन किया है। 
... और पढ़ें

पंजाब विधानसभा चुनाव: शिअद-बसपा ने किया गठबंधन का एलान, राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा ने तैयार की रूपरेखा

पंजाब की राजनीति के पुराने खिलाड़ी शिरोमणि अकाली दल को बहुजन समाज पार्टी के रूप में एक नया साथी मिल गया है। भाजपा से गठबंधन तोड़ चुकी शिअद और बहुजन समाज पार्टी के गठबंधन पर चंडीगढ़ पहुंचे बसपा राष्ट्रीय महासचिव और राज्यसभा सांसद सतीश चंद्र मिश्रा अंतिम मुहर लगा चुके हैं। शनिवार को शिअद मुख्यालय में इस बाबत कोर कमेटी की बैठक का आयोजन किया गया। इममें भी सतीश चंद्र मिश्रा मौजूद रहे। इसके बाद अकाली दल प्रधान सुखबीर बादल ने प्रेस कांफ्रेंस में शिअद-बसपा गठबंधन की घोषणा की और इसे पंजाब की राजनीति का नया दिन बताया। उन्होंने कहा कि पंजाब की सियासत में यह गठबंधन बड़ा मोड़ साबित होगा। 2022 के बाद भी जितने चुनाव होंगे शिअद, बसपा के साथ लड़ेगी।  इसके बाद बसपा के राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा शिअद के सरंक्षक और पंजाब के पूर्व मुख्यमंत्री प्रकाश सिंह बादल से मिले। मिश्रा ने फोन पर बसपा सुप्रीमो मायावती से बादल की बात कराई। दोनों ने बसपा और शिअद के गठबंधन पर एक दूसरे को बधाई दी।

दोनों दलों के बीच सीटों के बंटवारे को लेकर पेंच फंसा हुआ था। शिअद, बसपा को 117 में से 18 सीटों पर चुनाव लड़ने की बात कर रहा था, जबकि बसपा 37 से 40 सीटों पर चुनाव लड़ने की मांग कर रही थी। कई दौर की बैठकों के बाद अब दोनों दलों में सीटों को लेकर सहमति बन गई है। 117 विधानसभा सीटों में बसपा 20 सीटों पर चुनाव लड़ेगी। दोआबा की 8, माझा की 5 और मालवा की सभी सीटें बसपा के खाते में आई हैं। होशियारपुर, टांडा, दसूहा, चमकौर साहिब, बस्सी पठाना, महिलकलां, नवांशहर, लुधियाना नार्थ और सुजानपुर भी बसपा के खाते में आई।

शुक्रवार को शिअद नेताओं के साथ बैठक के बाद सतीश मिश्रा ने बसपा के राज्य प्रभारी और प्रदेश अध्यक्ष जसबीर सिंह गढ़ी से विधानसभा चुनाव को लेकर चर्चा की। कुछ अहम बिंदुओं को लेकर राज्यसभा सांसद ने दोनों नेताओं को निर्देश दिए कि वह इन पर काम करें और राज्य की 117 विधानसभा सीटों के साथ ही दलित बाहुल्य क्षेत्र की सर्वे रिपोर्ट तैयार करें। 
... और पढ़ें

पंजाब में संक्रमण: कोरोना से 59 की मौत, 1230 नए पॉजिटिव मिले, ब्लैक फंगस ने ली एक की जान

पंजाब में कोरोना से शुक्रवार को 59 संक्रमितों ने दम तोड़ दिया। संक्रमण के 1230 नए मामले सामने आए हैं। अस्पतालों में भर्ती 197 संक्रमितों की हालत गंभीर बनी हुई है। अब तक सूबे में 15435 लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शुक्रवार तक राज्य में 9941391 लोगों के सैंपल लिए गए। इनमें 585986 की रिपोर्ट पॉजिटिव आ चुकी है।
 
शुक्रवार को अमृतसर में 6, बठिंडा में 3, फरीदकोट में 3, फतेहगढ़ साहिब में 2, फाजिल्का में 5, फिरोजपुर में 4, गुरदासपुर में 3, होशियारपुर में 3, जालंधर में 5, कपूरथला में 1, लुधियाना में 4, मानसा में 1, मोहाली में 5, मुक्तसर में 3, पटियाला में 3, रोपड़ में 3, संगरूर में 4 और तरनतारन में 1 मरीज की मौत हो गई। 

ब्लैक फंगस से एक की मौत, नौ नए मामले
पंजाब में ब्लैक फंगस से शुक्रवार को एक संक्रमित की मौत हो गई, जबकि 9 नए मामले सामने आए हैं। राज्य में अब तक ब्लैक फंगस से पीड़ित मरीजों की संख्या 414 पहुंच गई है। 364 मामले पंजाब से संबंधित हैं, अन्य 50 मामले दूसरे राज्यों के बताए जा रहे हैं। अब तक ब्लैक फंगस से राज्य में 50 लोगों की मौत हो चुकी है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us