कोरोना वायरस: शुरुआती मुश्किलों के बाद संभलने लगा है ऑस्ट्रेलिया

Rekha Rajvanshiरेखा राजवंशी Updated Wed, 01 Apr 2020 11:57 AM IST
विज्ञापन
सेवा में लगी गुरु नानक किचनेट संस्था फ्री खाना उपलब्ध कराते हुए।
सेवा में लगी गुरु नानक किचनेट संस्था फ्री खाना उपलब्ध कराते हुए। - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें

31 मार्च 2020  चीन में  पैदा हुए और तेज़ी से फैल रहे कोरोना वायरस ने दुनिया भर में आतंक का माहौल पैदा कर दिया है।  कोरोना वायरस का आकर एक क्राउन की तरह है इस कारण से इसका नाम कोरोना वायरस दिया गया। विशेषज्ञों का कहना है कि पूरी दुनिया में कोरोना वायरस की कई प्रजातियां हैं। कुछ अन्य देशों की भांति ही ऑस्ट्रेलिया भी कोरोना वायरस की चपेट में बहुत जल्दी आ गया था।

विज्ञापन

ऑस्ट्रेलिया में कोरोना वायरस पेंडेमिक होने की पुष्टि की जनवरी 2020 में की गई थी। अब तक, 31 मार्च 2020 तक ऑस्ट्रेलिया के सभी राज्यों में मिलाकर 4,359 मामले सामने आ चुके हैं, जिसमे से न्यू साउथ वेल्स में सबसे अधिक यानी मामले 1918 हैं। और अब यहांं कोरोना वायरस के मामलों में लगातार वृद्धि हो रही है। 
पूरे ऑस्ट्रेलिया में 230,000 से अधिक परीक्षण किए गए हैं। 31 मार्च 2020 तक के आंकड़ों के अनुसार ऑस्ट्रेलिया में अब तक 4,359 लोग कोरोना ग्रस्त हो चुके हैं । 19 लोगों की मृत्यु हो चुकी है, ए सी टी में 1, न्यू साउथ वेल्स में  8, विक्टोरिया में 4, क्वींसलैंड में 2, तस्मानिया में 2, वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया में 2  लोगों की मृत्यु की पुष्टि हुई है।  
23 जनवरी को, सुरक्षा अधिकारियों ने सप्ताह में तीन बार सिडनी से वुहान से आने वाली उड़ानों के आने पर स्क्रीनिंग शुरू की। यात्रियों को एक सूचना पत्र दिया गया और खुद को यह बताने के लिए कहा कि क्या उन्हें बुखार है या संदेह है कि उन्हें यह बीमारी हो सकती है।

कैसेे हुई  संक्रमण की शुरुआत
25 जनवरी को, कोविड संक्रमण का पहला मामला सामने आया, जो 19 जनवरी को विक्टोरिया आए एक चीनी नागरिक का था। उसे मेलबोर्न में भर्ती किया गया। उसी दिन, तीन अन्य रोगियों ने सिडनी में वुहान से लौटने के बाद कोविड पॉजिटिव पाया गया।  और तब से अब तक 19 लोगों की कोरोना वायरस संक्रमण से मृत्यु हो चुकी है। 

पिछले दिनों मेरे स्कूल में जब मेरी दो साथी अध्यापिकाएं कोविड पॉजिटिव पाईं गईं और हम सबको चौदह दिन के लिए सेल्फ आइसोलेट करके अपना निरीक्षण करने का आदेश दिया गया तो लगा कि स्थिति बहुत गंभीर है। पहले जिस अध्यापिका को यह संक्रमण हुआ वह चर्च गई थी और वहीँ से उसे यह वायरस संक्रमित हो गया। शुरू में वह समझी सिर्फ फ़्लू है पर बाद में उसे पता लगा कि चर्च जाने वाले अन्य लोगों को कोरोना वायरस ने चपेट में ले लिया है तो उसने अपनी जांच करवाई और बहत्तर घंटे बाद जान टेस्ट का परिणाम आया तो पता लगा कि वो कोविड 19 से संक्रमित है। तब तक एक अन्य अध्यापिका भी इससे प्रभावित हो गई थी।

स्वास्थ्य मंत्रालय ने पूरे विद्यालय को साफ़ करवाया और सारे स्टाफ को घर में रहने का आदेश दिया।  अब ऑस्ट्रेलियाई प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने देश की जनता से अगले छह महीने तक लॉकडाउन के लिए तैयार रहने के लिए कहा है। उन्होंने संकेत दे दिए हैं कि ऑस्ट्रेलिया में छह महीने तक लॉकडाउन लागू किया जा सकता है। पिछले महीने प्रधानमंत्री मॉरिसन और प्रीमियर ने लोगों को बाहर ना निकलने की सलाह दी गई थी पर लोग इसे गंभीरता पूर्वक ले नहीं रहे थे। वे जिम, रेस्टोरेंट, पब्स और क्लब में नजर आ रहे थे।
 

विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us