विज्ञापन

कोरोना वायरस से जंग: रोती थालियों और खामोश तालियों को है मदद का इंतजार

Yogita Yadavयोगिता यादव Updated Sat, 28 Mar 2020 10:59 AM IST
विज्ञापन
भारत भर में तकरीबन पांच़ लाख लोग ट्रांसजेंडर समुदाय के हैं.
भारत भर में तकरीबन पांच़ लाख लोग ट्रांसजेंडर समुदाय के हैं. - फोटो : फाइल फोटो
ख़बर सुनें
देश भर में ट्रांसजेंडर समुदाय के पांच लाख से ज्यादा लोग रहते हैं। ये संगठित नहीं है, राशन कार्ड जैसे जरूरी दस्तावेज भी इनके पास नहीं हैं, बधाई के सहारे दिन गुजारने वाले ये लोग इस समय भयानक संकट में हैं। हो सके तो इन तक मदद पहुंचाइए।
विज्ञापन

ट्रेन या बस में चढ़ते ही आप इनकी तालियों से इन्हें पहचान लेते हैं। कभी सिग्नल पर इनकी आवाज सुनते ही आप अपनी कार के शीशे चढ़ाकर कन्नी काट जाना चाहते हैं। और कभी किसी घर में बच्चे का जन्म हुआ हो, शादी हुई हो तो वे बधाई गाते, नाचते चले आते हैं। आप भी अपनी खुशी, इच्छा और सामर्थ्य  से उन्हें बधाई दे देते हैं। पर इस समय कोरोना के समय में जब सारी दुनिया दहशत में है, बधाई कहां और कैसे गाई जा सकती है।
दरअसल, आपके परिवार को सुख-समृद्धि का आशीष देने वाले ट्रांसजेंडर समुदाय के लोग इस समय भयानक आर्थिक संकट में हैं। इनकी थाली में भोजन नहीं है और तालियां खामोश हो गई हैं। कुछ की हालत तो ऐसी है कि दो दिन से खाने को भोजन नहीं है। अगर हो सके तो अपने आसपास मौजूद ट्रांसजेंडर समुदाय के लोगों की मदद करें।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us