क्या वाकई पं. नेहरू अपने मंत्रिमंडल में सरदार पटेल को नहीं शामिल करना चाहते थे?

Amalendu Upadhyayअमलेंदु उपाध्याय Updated Sat, 15 Feb 2020 08:38 AM IST
विज्ञापन
हाल ही में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक किताब का हवाला देते हुए माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा था कि पं. नेहरू अपने मंत्रिमंडल में सरदार पटेल को नहीं शामिल करना चाहते थे।
हाल ही में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक किताब का हवाला देते हुए माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा था कि पं. नेहरू अपने मंत्रिमंडल में सरदार पटेल को नहीं शामिल करना चाहते थे। - फोटो : अमर उजाला

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
हाल ही में विदेश मंत्री एस जयशंकर ने एक किताब का हवाला देते हुए माइक्रोब्लॉगिंग साइट ट्विटर पर लिखा था कि पं. नेहरू अपने मंत्रिमंडल में सरदार पटेल को नहीं शामिल करना चाहते थे। उनके इस ट्वीट पर इतिहासकार रामचंद्र गुहा से उनकी नोंक झोंक भी हुई। खास बात यह है कि देश के विदेश सचिव रहे एस. जयशंकर जैसे जेएनयू प्रोडक्ट गलतबयानी पर आश्चर्य व्यक्त किया जा सकता है। 
विज्ञापन

रामचंद्र गुहा ने लिखा कि यह एक मिथक है, जिसे प्रोफेसर श्रीनाथ राघवन झूठा साबित कर चुके हैं।
गुहा ने एस जयशंकर को यह भी कहा कि ‘फेक न्यूज और आधुनिक भारत के दो निर्माताओं के बीच दुश्मनी की गलत बातें फैलाना विदेश मंत्री का काम नहीं है, ये चीजें भाजपा आईटी सेल के लिए छोड़ देना चाहिए।’
पहले भी जब  प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इस तरह की बातें कही थीं उस समय भी इतिहासकारों और लेखकों ने सप्रमाण मोदीजी को गलत साबित किया था। लेकिन अब जयशंकर मोदी जी को सही साबित करने के लिए मैदान में उतर पड़े हैं।
 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us