भाजपा में जाने की चर्चाओं को लेकर आखिर क्यों चुप हैं ज्योतिरादित्य सिंधिया?

Ajay Khemariyaअजय खेमरिया Updated Wed, 21 Aug 2019 07:33 PM IST
क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?  
क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?   - फोटो : PTI
ख़बर सुनें
मप्र की सियासत में इस समय ज्योतिरादित्य सिंधिया चर्चा का केंद्रीय विषय बने हुए हैं क्योंकि उन्हें लेकर पिछले एक सप्ताह से सोशल मीडिया पर खबरें वायरल हो रही हैं कि वे बीजेपी में जा रहे हैं और उनकी मुलाकात बीजेपी अध्यक्ष और गृहमंत्री अमित शाह से हो चुकी है।

खास बात यह है कि ज्योतिरादित्य सिंधिया की तरफ से इस खबर का कोई खंडन नहीं किया जा रहा है जबकि सिंधिया सोशल मीडिया पर लगातार एक्टिव रहते हैं और उनकी पत्नी प्रियदर्शिनी राजे और येल यूनिवर्सिटी से पास पुत्र महाआर्यमन भी लगातार सोशल मीडिया पर लोगों से संवाद करते रहते हैं।
इधर सिंधिया भी फेसबुक पेज से अक्सर लाइव  आते रहते हैं। लेक़िन लगातार चल रही इन खबरों का प्रतिकार किसी फोरम से नहीं हो रहा है। यही नहीं उनके किसी समर्थक मंत्री द्वारा भी इन खबरों का खंडन नहीं किया जा रहा। इस बीच राजधानी भोपाल में भी इस आशय की खबरें छप रहीं हैं।
क्या वाकई भाजपा में शामिल हो सकते हैं सिंधिया?  
क्या वाकई ज्योतिरादित्य सिंधिया बीजेपी में जा सकते हैं? मप्र के मौजूदा राजनीतिक हालात बताते हैं कि 15 साल बाद सत्ता में आई कांग्रेस गुटबाजी औऱ कबीलाई कल्चर से बाहर नहीं आ पाई है और सिंधिया इस समय  खुद के सत्ता साकेत में हाशिए पर हैं। उनकी गुना से हुई पराजय ने व्यक्तिगत रूप से उन्हें कमजोर कर दिया है। 

कमलनाथ अभी मप्र कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं। सिंधिया समर्थक चाहते थे कि यह पद सिंधिया को मिले ताकि मप्र में सिंधिया का हस्तक्षेप बना रहे, लेकिन कमलनाथ इसके लिए राजी नहीं हैं क्योंकि वे सत्ता का कोई दूसरा केंद्र विकसित नहीं होने देना चाहते हैं।

इधर, लोकसभा में पार्टी की हार के बाद कमलनाथ ने इस पद से इस्तीफा दे दिया लेकिन अब वे इस पद पर आदिवासी कार्ड खेलकर सिंधिया को रोकने में लगे हैं और अपने खास समर्थक गृहमंत्री बाला बच्चन या ओमकार मरकाम को पीसीसी चीफ बनाना चाहते हैं। इस मिशन में उन्हें दिग्विजयसिंह का साथ है जो परम्परागत् रूप से सिंधिया राजघराने के विरोधी हैं। समझा जा सकता है कि मप्र की सत्ता से बाहर किए गए सिंधिया को संगठन में भी यहां आसानी से कोई जगह नहीं मिलने वाली है।
आगे पढ़ें

Spotlight

Election
  • Downloads

Follow Us