धोनी के संन्यास की अटकलों के बीच दब गईं कॉन्ट्रैक्ट की ये अहम बातें

Vimal Kumarविमल कुमार Updated Fri, 17 Jan 2020 10:36 AM IST
विज्ञापन
कॉन्ट्रैक्ट की अहम बातें
कॉन्ट्रैक्ट की अहम बातें - फोटो : सोशल मीडिया

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
गुरुवार दोपहर को जैसे ही बीसीसीआई ने नए सीजन के लिए सेंट्रल कॉन्ट्रैक्ट का एलान किया, पूरी मीडिया की नजरों में बस हर तरफ एमएस धोनी की ही खबर छाई रहीं। ऐसा गलत भी नहीं था क्योंकि धोनी का नदारद होना, एक बेहद अहम खिलाड़ी का नदारद होना था और चूंकि इसका मतलब ये भी था कि क्या अब माही के संन्यास का वक्त भी आ गया है।
विज्ञापन

बहरहाल, कॉन्ट्रैक्ट में कुछ और अहम बदलाव हुए और कुछ नहीं भी हुए जो शायद उतनी सुर्खियां नहीं बटोर पाए। हार्दिक पांड्या का पिछले सीजन की तरह इस बार भी ग्रेड बी में रहना हैरान करने वाला फैसला रहा। पिछले दो साल में अगर भारतीय क्रिकेट में किसी एक युवा खिलाड़ी की हस्ती सबसे तेजी से बदली है तो वो पांड्या ही हैं। 
विराट कोहली और रवि शास्त्री ने लगातार इस बार पर जोर दिया है कि पांड्या एक ऑलराउंडर होने के तौर पर इस मौजूदा भारतीय टीम के लिए कितनी बड़ी ताकत हैं। ये सही बात है कि फिटनेस की समस्या के चलते पांड्या ने पिछले 14 महीनों में एक भी टेस्ट नहीं खेला है।
और शायद ये बात उनके खिलाफ गई हो, लेकिन वन-डे क्रिकेट और टी-20 में तो वो खेले और बेहतर खेले। जाहिर सी बात है कि पांड्या जिस तरीके से टीम इंडिया को संतुलन देते हैं उनका आकलन सिर्फ आंकड़ों के बूते नहीं हो सकता है। 
विज्ञापन
आगे पढ़ें

पांड्या को न्यूजीलैंड दौरे पर ले जाने के लिए टीम इंडिया बेकरार

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X