विज्ञापन
विज्ञापन
वैवाहिक अड़चनें कैसे होंगी दूर ? आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें
Kundali

वैवाहिक अड़चनें कैसे होंगी दूर ? आज ही बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

देहरादून: खुद को एसडीएम बताकर लोगों को ठगने वाला गिरफ्तार, ग्रेजुएट है आरोपी, दे चुका पीसीएस की परीक्षा 

खुद को एसडीएम बताकर लोगों को ठगने के आरोपी को पुलिस ने सोमवार को गिरफ्तार कर लिया। लोगों को फंसाकर उसके पास लाने वाला आरोपी का ड्राइवर अभी पुलिस के हत्थे नहीं चढ़ सका है। गिरफ्तार फर्जी एसडीएम से दो लाख रुपये नकद व अन्य चीजें बरामद हुई हैं। पुलिस के अनुसार यह मामला बड़ा हो सकता है।

इसमें कई लोग पीड़ित होने की आशंका है। पुलिस के हत्थे चढ़ा अश्विनी कुमार श्रीवास्तव इलाहाबाद विवि से ग्रेजुएट है। बकौल अश्वनी उसने वर्ष 1991 में यूपी पीसीएस की परीक्षा भी दी थी। इसमें उसने मेन्स भी पास कर लिया था। हालांकि, वह यह जानकारी गलत दे रहा है या सही इस बात की पुष्टि नहीं हो सकी है। 

एसएसपी डॉ. योगेंद्र सिंह रावत ने बताया कि दो दिन पूर्व सौरभ बहुगुणा निवासी कोटड़ा संतौर ने अश्वनी कुमार श्रीवास्तव के खिलाफ तहरीर दी थी। आरोप था कि अश्वनी ने खुद को एसडीएम बताकर जमीन दिलाने के नाम पर उससे 15 लाख रुपये ठग लिए हैं। इस मामले में एसपी सिटी श्वेता चौबे की निगरानी में प्रेमनगर पुलिस और एसओजी ने पड़ताल की तो आरोपी सोमवार को सुद्धोवाला से पकड़ा गया। 
... और पढ़ें

हरिद्वार: जेल में बंद कुख्यात भूरा ने कैदी की पत्नी से फोन कर मांगी फिरौती, एसटीएफ ने किया पूरे नेटवर्क का भंडाफोड़

एसटीएफ ने हरिद्वार जेल से चल रहे कुख्यातों के नेटवर्क का भंडाफोड़ किया है। यहां हत्या और लूट के मामलों में बंद कुख्यात इंतजार उर्फ भूरा व उसके साथी मोबाइल से फिरौती मांग रहे थे। एसटीएफ ने जेल से दो मोबाइल फोन और दो सिम व चार्जर भी बरामद किए हैं। एक कैदी की पत्नी से फिरौती के रूप में मांगी गई सोने की चेन लेने गए भूरा के दो साथियों को भी एसटीएफ ने गिरफ्तार किया है। इस मामले में आईजी जेल ने दो वार्डनों को भी निलंबित किया है।

मामले में रोशानाबाद (हरिद्वार जिला जेल) जेल में बंद एक कैदी वैभव बंसल के परिजनों ने डीजीपी से शिकायत की थी। वैभव बंसल गत 24 दिसंबर 2020 से जेल में बंद है। उसकी पत्नी को व्हाट्एसप से कॉल कर सोने की चेन फिरौती में मांगी जा रही थी। डीजीपी के निर्देश पर एसटीएफ ने इस मामले की जांच शुरू की तो पता चला कि यह फिरौती रोशनाबाद जेल में बंद इंतजार पहलवान (भूरा) व उसके साथी नावेद आलम ने मांगी है। 

एसएसपी एसटीएफ अजय सिंह ने बताया कि ट्रैप के मुताबिक चेन लेकर निर्धारित स्थान पर बंसल की पत्नी को पहुंचने को कहा गया। इसके बाद जैसे ही एक युवक चेन लेने पहुंचा तो उसे गिरफ्तार कर लिया गया। पूछताछ में उसने अपना नाम साहिल अली बताया। साहिल अली नावेद के भाई परवेज के कहने पर ही वहां पहुंचा था। जैसे ही परवेज आलम उसके पास निर्धारित स्थान पर पहुंचा तो उसे भी गिरफ्तार कर लिया गया। इसके बाद एसटीएफ की टीम ने हरिद्वार जिला जेल में रेड डाली तो वहां से दो मोबाइल, दो सिम और एक चार्जर बरामद हुआ। इन मोबाइलों के माध्यम से इंतजार पहलवान उर्फ भूरा व नावेद व्हाट्सएप चलाते थे। 
... और पढ़ें

रुड़की: मासूम का अपहरण कर रहे बदमाशों से भिड़ी 10 साल की बच्ची, साहस देख भाग निकले बाइक सवार

उत्तराखंड के रुड़की में दो साल के मासूम के अपहरण की कोशिश कर रहे बाइक सवार बदमाश के सामने दस साल की बच्ची चट्टान बनकर खड़ी हो गई। अपनी बहादुरी से उसने बदमाश के हौसले पस्त कर दिए।

बदमाश की लाख कोशिश के बाद भी बच्ची ने मासूम का हाथ नहीं छोड़ा और दूर तक घिसटती चली गई। उसने शोर मचाया तो पकड़े जाने के डर से बदमाश मासूूम को छोड़कर फरार हो गया। परिजनों और कॉलोनी के लोगों ने सूचना पुलिस को दी। पुलिस आसपास लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगाल रही है।

सिविल लाइंस कोतवाली क्षेत्र के अशोक नगर स्थित मंदिर में देवेंद्र पोखरियाल पुजारी हैं। उन्होंने मंदिर के पास ही मकान बनाया है। पहले वे पास में ही किराये पर रहते थे। बृहस्पतिवार शाम उनकी चार साल की बेटी शिवांगी और दो साल का बेटा शिवांश पूर्व के मकान मालिक के घर गए थे।

कुछ देर बाद मकान मालिक की दस साल की बेटी अग्रिमा दोनों बच्चों को घर छोड़ने आ रही थी। अग्रिमा ने दोनों बच्चों का हाथ पकड़ रखा था। जैसे ही तीनों सुनसान गली में पहुंचे तो पीछे से एक बाइक सवार युवक आया।
... और पढ़ें

Udham Singh Nagar News: पुलिस ने किया खुलासा, लूट के लिए हुई थी अलका जौहरी की हत्या, तांत्रिक गिरफ्तार

उत्तराखंड के ऊधमसिंह नगर में अलका जौहरी की हत्या नकदी और जेवरात हड़पने के लिए की गई थी। कुंडा थाना पुलिस ने मामले का खुलासा कर आरोपी तांत्रिक जोगेंद्र सिंह को गिरफ्तार कर लिया। उसकी निशानदेही पर 18 तोले सोने के जेवर, 28 हजार रुपये और वारदात में प्रयुक्त स्कूटी बरामद की है। 

हत्या का खुलासा करते हुए एएसपी राजेश भट्ट ने बताया कि वैशाली कॉलोनी निवासी अलका जौहरी का शव 17 जनवरी को मिस्सरवाला की पुलिया के पास मिला था। उसके भाई अनुज ने शव की शिनाख्त कर मुरादाबाद थाना मझौला के ग्राम मझौली निवासी जोगेंद्र सिंह के खिलाफ शक के आधार पर केस दर्ज कराया था। 15 जनवरी को अलका मुरादाबाद जाने की बात कहकर घर से निकली थी। उसके पास 50 हजार रुपये, लॉकर की चाभियां, बीमे से संबंधित कागज, एटीमएम कार्ड थे।

उसके निकलने के बाद से घर के लॉकर में रखे 50 तोले सोने के जेवर और हीरे के 21 छोटे नग भी गायब थे। सीसीटीवी फुटेज में सामने आया कि एमपी चौक और जसपुर रोड पर अलका और जोगेंद्र स्कूटी पर एक साथ थे। 16 जनवरी की रात जोगेंद्र स्कूटी से अकेले मल्होत्रा फार्म स्थित अपने मौसेरे भाई के घर की ओर आता दिखा।

पुलिस ने जोगेंद्र को गिरफ्तार कर सोने के जेवर और नकदी बरामद कर ली। खुलासा करने वाली टीम को एएसपी राजेश भट्ट ने 11 हजार रुपये के इनाम की घोषणा की है। टीम में कुंडा थाना प्रभारी विनोद फर्त्याल, मंडी चौकी प्रभारी विजेंद्र सिंह, एसआई सुप्रिया नेगी, एसआई महेश चंद्र, विनय मित्तल, अवधेश, कुलदीप, राजेंद्र, जमशेद, कैलाश शामिल थे।
... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर सांकेतिक तस्वीर

Uttarakhand Scholarship Scam: देवभूमि विद्यापीठ छात्रवृत्ति घोटाले में दो बैंक कर्मी गिरफ्तार

उत्तराखंड के चंपावत में बनबसा के देवभूमि विद्यापीठ में हुए 39.52 लाख रुपये के छात्रवृत्ति घोटाले में एसआईटी (विशेष जांच दल) ने बुधवार की रात एक बैंक प्रबंधक सहित दो बैंक कर्मियों गिरफ्तार कर लिया। इन दोनों अधिकारियों पर एटीएम के सत्यापन में गड़बड़ी कर घोटाले के लिए जमीन तैयार करने का आरोप है। एसपी लोकेश्वर सिंह ने बताया कि दोनों को कोर्ट में पेश करने के बाद लोहाघाट जेल भेजा गया है। घोटाले के आरोप में 15 दिसंबर 2019 को सहायक समाज कल्याण अधिकारी सहित सात लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज हुआ था।  

एसआईटी प्रभारी और चंपावत के कोतवाल धीरेंद्र कुमार ने बताया कि बैंक ऑफ बड़ौदा की बनबसा शाखा में सेवारत रहे दोनों बैंक कर्मियों से बुधवार को पूछताछ की गई। पूछताछ के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा की बिष्टी सितारगंज शाखा प्रबंधक विशाल सिंह निवासी आदर्शनगर जिला लखीमपुर खीरी, यूपी और विकास भवन रुद्रपुर शाखा के बैंक कर्मी मोहन सिंह निवासी राजीव नगर, खटीमा, को धांधली में लिप्तता के आरोप में गिरफ्तार कर लिया गया। 

सहायक समाज कल्याण अधिकारी सहित सात पर दर्ज हुआ था मुकदमा 
देवभूमि विद्यापीठ नाम की संस्था पर 2015-16 में 221 एससी और 140 एसटी छात्र-छात्राओं की छात्रवृत्ति के नाम पर 39.52 लाख रुपये के फर्जीवाड़े का आरोप है। पुलिस जांच में इस बात की तस्दीक हुई थी कि समाज कल्याण विभाग से मिली ये रकम छात्र-छात्राओं तक नहीं पहुंची। बनबसा थाने में 15 दिसंबर 2019 को विद्यापीठ के चार संचालक चैरब जैन, अनिल गोयल, विवेक शर्मा और गौरव जैन (निवासी हरिद्वार), खटीमा क्षेत्र के मुकेश कुमार, प्रदीप कुमार और चंपावत के सहायक समाज कल्याण अधिकारी गोपाल सिंह राणा के खिलाफ आईपीसी की धारा 409, 420, 466, 467, 468, 471 और 120 बी के तहत मुकदमा दर्ज किया गया था। इनमें चैरब जैन, अनिल गोयल और विवेक शर्मा को कोर्ट से अग्रिम जमानत मिली हुई है। एक आरोपी संचालक गौरव जैन पहले से किसी अन्य मामले में हरिद्वार जेल में है, जबकि एडीओ सहित तीन लोग जेल में हैं। 

छात्र-छात्राओं के नाम पर जारी एटीएम का बैंक में कोई रिकॉर्ड नहीं 
बनबसा के देवभूमि विद्यापीठ घोटाले में बैंक ने एटीएम से संबंधित सामान्य नियमों की भी अनदेखी की है। बैंक ऑफ बड़ौदा की बनबसा शाखा में चार साल पहले तैनात आरोपी दोनों कर्मियों की भूमिका संदेह के घेरे में रही है। एसपी लोकेश्वर सिंह ने बताया कि छात्र-छात्राओं के नाम पर बनाए गए एटीएम कार्ड न तो विद्यार्थियों को दिए गए और नहीं उनका कोई ब्योरा बैंक शाखा में रखा गया। 

बैंक से किसी उपभोक्ता को एटीएम जारी करने में दो अधिकारी-कर्मचारियों की भूमिका रहती है। लेकिन इस मामले में कार्ड बनाने वाला और कार्ड को जारी करने वाला अधिकारी एक ही था। बैंक की ओर से 361 छात्र-छात्राओं के एटीएम बनाए गए, लेकिन उसने ये एटीएम छात्र-छात्राओं को देने के बजाय विद्यापीठ के संचालकों को दे दिए गए।  इसी एटीएम से बैंक संचालकों ने धन आहरित कर घोटाले को अंजाम दिया।
... और पढ़ें

Uttarakhand News:  तीर्थनगरी हरिद्वार में पत्थरों से कुचलकर साधु की हत्या से हड़कंप, पुलिस जांच में जुटी

रुड़की: तंत्र-मंत्र से बर्बाद होने के शक में युवकों ने तांत्रिक को मारी थी गोली, चार युवक गिरफ्तार

रुड़की में तंत्र-मंत्र से बर्बाद करने के शक में ही दो युवकों ने नमाज पढ़कर लौट रहे एक वृद्ध को गोली मारी थी, जिसकी सोमवार की रात ऋषिकेश एम्स में इलाज के दौरान मौत हो गई। युवकों ने पुलिस को बताया कि उन्होंने जिसे गोली मारी, वह तांत्रिक था और उन्हें पक्का यकीन हो गया था कि तांत्रिक ने उन्हें बर्बाद करने के लिए  तंत्र-मंत्र  किया हुआ है और उसकी मौत के बाद ही उनके ऊपर से  तंत्र-मंत्र का साया दूर हो सकता है।

इसके चलते तांत्रिक को गोली मारी गई। पुलिस ने घटना का खुलासा करते हुए चार आरोपी युवकों को गिरफ्तार किया है। उनके पास से घटना में प्रयुक्त दो बाइकें, एक तमंचा, दो जिंदा कारतूस और एक खोखा बरामद किया है। पुलिस ने चारों आरोपियों को कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया है।

मंगलवार को गंगनहर कोतवाली में एसएसपी सेंथिल अबुदई कृष्णराज एस ने रामपुर गांव निवासी इरफान (70) को शनिवार की रात गोली मारने की घटना का खुलासा किया। एसएसपी ने बताया कि घटना के खुलासे के लिए तीन टीम बनाई गई थी। पुलिस ने परिजनों से जानकारी ली तो पता चला कि इरफान तांत्रिक काम करता था। पुलिस ने आसपास लगे सीसीटीवी कैमरे खंगाले तो दो संदिग्ध बाइकें सामने आई।

पुलिस ने बाइक के आधार पर जांच की तो राहुल निवासी हरचंदपुर माजरा, हरिद्वार और विशाल सिंह निवासी इकबालपुर, हरिद्वार के नाम सामने आए। पुलिस ने सोमवार की शाम दोनों को बंदाखेड़ी फैक्टरी क्षेत्र से हिरासत में लेकर गहनता से पूछताछ की। इस पर दोनों ने बताया कि घटना में उनके साथ गौरव निवासी ग्राम जड़ौदा जट्ट, थाना देवबंद और आकाश कुमार निवासी ग्राम सुन्हेटी आल्हापुर, झबरेड़ा शामिल थे। ये गौरव और आकाश राहुल की मौसी के लड़के हैं।

बताया कि इरफान से उनकी दो साल पहले मुलाकात हुई थी। दोनों ने इरफान को पैसे देकर लड़कियों को वश में करने के टोटके कराए, लेकिन उससे कोई फायदा नहीं हुआ। इस बीच उन्हें शक हुआ कि इरफान ने किसी ओर के कहने से उन दोनों के ऊपर  तंत्र-मंत्र  कर दिया है। विशाल को शक हुआ कि जिस लड़की को हासिल करने के लिए उसने  तंत्र-मंत्र  कराया था, उसका उल्टा असर होने लगा है।

इसके चलते वह लड़की उससे नफरत करने लगी। इस बीच राहुल के पिता की 25 दिसंबर को मौत हो गई, उसे भी  तंत्र-मंत्र  के चलते पिता की मौत होने का शक हुआ। इसके बाद दोनों एकत्र होकर इरफान के पास पहुंचे और उनके ऊपर हो रहे  तंत्र-मंत्र  को हटाने की बात कही। इरफान ने उनके साथ गाली गलौज कर दी। यहां तक कि विशाल को लात मारकर भगा दिया। इस बीच दोनों ने योजना बनाई कि इरफान की मौत के बाद ही उनके ऊपर से  तंत्र-मंत्र  का असर हट सकता है, इसलिए उसकी हत्या करना जरूरी है।

इस काम के लिए राहुल ने मौसी के लड़कों को भी अपने साथ शामिल कर लिया। एसएसपी ने बताया कि चारों के पास से घटना में प्रयुक्त सामान बरामद किया गया है। सोमवार की रात इरफान की उपचार के दौरान ऋषिकेश एम्स में मौत हो गई। इसके बाद केस को हत्या में तरमीम कर लिया गया है। इस दौरान एसपी देहात एसके सिंह, गंगनहर कोतवाली प्रभारी मनोज मैनवाल मौजूद रहे।
... और पढ़ें

कोटद्वार: टाइल्स कारोबारी के घर डकैती में शामिल सातवें बदमाश को पुलिस ने रिमांड पर लिया, बरामद किया सामान

उत्तराखंड में कोटद्वार के सिताबपुर में 25 दिसंबर को टाइल्स कारोबारी के घर हुई डकैती में शामिल सातवें बदमाश अंकित की निशानदेही पर पुलिस ने लूटा गया सामान और डकैती में प्रयोग किए हथियार बरामद कर लिए हैं। बदमाश अंकित के खिलाफ आईपीसी और आर्म्स एक्ट की विभिन्न धाराओं में मुकदमा दर्ज किया गया है। 

25 दिसंबर को हथियारबंद बदमाशों ने हरिद्वार के टाइल्स कारोबारी प्रमोद कुमार के सिताबपुर कोटद्वार स्थित आवास पर डकैती डाली थी। टाइल्स कारोबारी की तहरीर पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की थी। घटना के नौ दिन बाद पुलिस ने पांच बदमाशों को मुजफ्फरनगर (यूपी) से गिरफ्तार किया था जबकि डकैती के मास्टरमाइंड प्रवीण प्रजापति को 11 जनवरी को शामली (यूपी) से गिरफ्तार किया था। 

कोतवाल नरेंद्र बिष्ट ने बताया कि डकैती में शामिल सातवां बदमाश अंकित पुंडीर निवासी बिरालसी, थाना चरथावल, जिला मुजफ्फरनगर (यूपी) जो किसी अभियोग में जिला कारागार मुजफ्फरनगर में बंद है। उसे अपर मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट कोटद्वार से रिमांड पर लिया गया है। उसकी निशानदेही पर मंगलवार को चिलरखाल से आगे जंगल में डकैती में उपयोग एक तमंचा, 315 बोर, एक जिंदा कारतूस बरामद किया गया है।

डकैती की घटना को अंजाम देने के बाद कोटद्वार से भागते समय अंकित ने हथियारों को जंगल में फेंक दिया था। उसकी निशानदेेही पर उसके मुजफ्फरनगर स्थित घर से लूटे गए जेवरात और नकदी भी बरामद की गई है।  लूट का शत प्रतिशत सामान बरामद कर लिया गया है। पुलिस टीम में कोतवाल नरेंद्र सिंह बिष्ट, कांस्टेबल चेतन सिंह, कुलदीप, सुनित कुमार और गजेंद्र शामिल थे। 

पैसों के लालच में डकैती में हुआ शामिल
पूछताछ के दौरान आरोपी अंकित पुंडीर ने बताया कि प्रवीण प्रजापति ने लॉकडाउन से पहले राजकुमार से उसकी मुलाकात कराई थी। पैसों के लालच में उसने राजकुमार और अन्य साथियों के साथ मिलकर प्रवीण प्रजापति के रिश्तेदार प्रमोद कुमार के घर पर डकैती डालने की योजना बनाई थी।
... और पढ़ें

रेलवे अधिकारी रिश्वत मामला: देहरादून तक ऐसे पहुंची थी रिश्वत की रकम, बेड और जूतों के डिब्बों में भी छुपाए थे नोट 

दिल्ली के एक रेलवे अधिकारी के दून स्थित घर पर रिश्वत की रकम हवाला के जरिए पहुंची थी। सीबीआई ने अधिकारी के घर रिश्वत लेकर पहुंचे कंपनी के कर्मचारी और रकम लेने आए उसके साले को गिरफ्तार कर लिया। सोमवार सुबह चार बजे तक चली कार्रवाई में सीबीआई ने आशीर्वाद एन्क्लेव स्थित घर से कुल 1.59 करोड़ रुपये बरामद किए।

पूर्वोत्तर रेलवे के मुख्य प्रशासनिक अधिकारी महेंद्र सिंह चौहान मालीगांव असम में तैनात हैं। आरोप है कि उन्होंने एबीसीआई इंफ्रास्ट्रक्चर नाम की कंपनी के डायरेक्टर पवन वैद से काम दिलाने के नाम पर एक करोड़ रुपये की रिश्वत मांगी थी। जांच के बाद सोमवार को दिल्ली में महेंद्र सिंह चौहान समेत कुल छह लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया गया। इसके बाद महेंद्र सिंह चौहान को दिल्ली से गिरफ्तार कर लिया गया।

जानकारी के मुताबिक, पवन वैद ने चौहान से कहा था कि वह एक करोड़ रुपये गुवाहाटी से हवाला के जरिए दिल्ली पहुंचा रहे हैं। दिल्ली में उनका कर्मचारी भूपेंद्र रावत इस रकम को लेगा और चौहान के बताए स्थान पर पहुंचाएगा। भूपेंद्र रावत पहले भी रिश्वत के 60 लाख रुपये चौहान के देहरादून स्थित ठिकाने तक पहुंचा चुका था।

अब इस एक करोड़ की रकम को लेने की जिम्मेदारी चौहान ने अपने साले इंद्र सिंह निवासी कोरूआ चकराता को सौंपी थी। यह रकम आशीर्वाद एन्कलेव स्थित मकान में ले जानी थी। अभी रिश्वत का लेन-देन चल ही रहा था कि सीबीआई की टीम मकान पर पहुंच गई और दोनों को वहां से गिरफ्तार कर लिया।
... और पढ़ें

रुड़की: प्रेम संबंधों में बाधा बन रहे प्रेमिका के दो बच्चों को प्रेमी ने नहर में फेंका, एक की मौत, दूसरा लापता

उत्तराखंड के रुड़की में प्रेम संबंधों में बाधा बनने के कारण नफरत की आग में जल रहे युवक ने प्रेमिका के दो मासूम बच्चों को गंगनहर में फेंक दिया। एक बच्चे की डूबने से मौत हो गई जबकि दूसरा लापता है। शनिवार देर रात पुलिस और एसडीआरएफ की टीम ने बच्चे का शव गंगनहर से निकाल लिया जबकि दूसरे की तलाश की जा रही है। वहीं, प्रेमिका की तहरीर पर पुलिस ने युवक के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया गया।

रविवार को मंगलौर कोतवाली में प्रेसवार्ता कर एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि शनिवार को पुलिस को सूचना मिली थी कि सुमन पत्नी अमित निवासी उल्हेड़ा के दो बेटे लक्की उर्फ काला (7) और लविश उर्फ गंजी (6) लापता हैं। तत्काल सीओ अभय प्रताप सिंह और एएसपी हिमांशु वर्मा के नेतृत्व में पुलिस टीम का गठन किया गया।

पुलिस ने पहले बच्चों की इधर-उधर तलाश की, लेकिन कोई सुराग नहीं लगा। तभी सूचना मिली कि दोनों बच्चों को सुमन के प्रेमी लाखन के साथ जाते देखा गया है। पुलिस ने उसे हिरासत में लेकर पूछताछ की। पहले तो उसने पुलिस को बरगलाने का प्रयास किया, लेकिन सख्ती से पूछताछ करने पर टूट गया।

एसपी देहात के मुताबिक, लाखन ने बताया कि वह सुमन से प्यार करता है, लेकिन दोनों बच्चे इसमें बाधा बन रहे थे। लिहाजा वह उनसे नफरत करने लगा और दोनों को ठिकाने लगाने की योजना बनाई। शनिवार दोपहर सुमन की गैर मौजूदगी में वह बच्चों को गंगनहर की ओर घुमाने का बहाना बनाकर ले गया। यहां दोनों को मोहम्मदपुर झाल के पास गंगनहर में धक्का दे दिया और कमरे पर आकर सो गया।

एसपी देहात एसके सिंह ने बताया कि पुलिस रात में ही मौके पर पहुंची और बचाव अभियान शुरू किया। देर रात करीब 11 बजे पुलिस ने लक्की उर्फ काला का शव गंगनहर से बरामद कर लिया। साथ ही पोस्टमार्टम के लिए रुड़की भेज दिया। सुमन की तहरीर पर पुलिस ने लाखन निवासी साखन खुर्द, थाना देवबंद के खिलाफ हत्या का मुकदमा दर्ज कर लिया है। साथ ही आरोपी को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया है। 
... और पढ़ें

Uttarakhand News : पत्नी ने ससुराल जाने से मना किया तो दामाद ने पिता संग मिलकर ले ली ससुर की जान

गोरापड़ाव के पास हेड़ागज्जर गांव में एक विवाहिता ने प्रताड़ना से तंग आकर ससुराल जाने से मना किया तो पति ने अपने पिता की मदद से दिव्यांग ससुर को पीटकर मार डाला। बीच-बचाव के लिए आए साले और सास को भी पीट दिया। पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर दामाद और उसके पिता को गिरफ्तार कर लिया है। 

मूलरूप से पीलीभीत के अमरिया निवासी रोशनलाल दो दशक से हेड़ागज्जर निवासी मोहन कांडपाल के खेत में झोपड़ी बनाकर परिवार के साथ रहते थे। बटाईदारी का काम करने वाले रोशन लाल ने अपनी बड़ी बेटी आरती की शादी हेड़ागज्जर में ही रहने वाले गोपाल सक्सेना के साथ 25 नवंबर 2020 को की थी।

आरोप है कि शादी के बाद से ही ससुरालियों ने आरती को दहेज के लिए प्रताड़ित करना शुरू किया तो आरती 13 जनवरी को मायके चली आई। 
... और पढ़ें

उत्तराखंड: चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर अंकुश लगाएगी एसटीएफ, एक महीने में दर्ज हुए 31 मुकदमे

उत्तराखंड में बढ़ते चाइल्ड पोर्नोग्राफी के मामलों पर एसटीएफ अंकुश लगाएगी। इसके लिए एसटीएफ को अलग से टास्क दिया गया है। इसके तहत एसटीएफ ने एक टीम गठित कर सेंट्रल पोर्टल से आने वाले मामलों की जांच में लगाया गया है। बीते एक माह में पूरे प्रदेश में 31 मुकदमे दर्ज हुए हैं। 

गृह मंत्रालय का साइबर क्राइम रिपोर्टिंग पोर्टल (सीसीआरपी) चाइल्ड पोर्नोग्राफी पर नजर रखता है। बीते दिनों सीसीआरपी ने उत्तराखंड से संबंधित 315 मामले पुलिस को भेजे थे। ये सभी वीडियो, फोटोग्राफ आदि थे जो उत्तराखंड में देखे और शेयर किए जा रहे थे। इनमें कंटेंट भी उत्तराखंड का ही बताया गया था। मसलन, बच्चे या अन्य कोई सामग्री।

एसटीएफ के अनुसार इस रिपोर्ट के बाद एक टीम गठित कर जांच में लगाई गई है। बीते एक माह से भी कम समय में एसटीएफ की टीम ने 50 से अधिक मामलों में जांच पूरी की है। इनमें से 31 मामलों में मुकदमा दर्ज कराया गया था। अन्य मामले जो उत्तराखंड से संबंधित नहीं थे उनकी रिपोर्ट भी भेज दी गई है। 

देखना और शेयर करना भी अपराध 
यदि भूले से भी आप किसी ऐसी वेबसाइट या कंटेंट पर क्लिक करते हैं जिसमें बच्चों का शोषण आदि दिखाया जा रहा है तो सावधान हो जाएं। चाइल्ड पोर्नोग्राफी शेरयर करना ही नहीं बल्कि अपने मोबाइल या लैपटॉप पर देखना भी अपराध की श्रेणी में आता है। 

क्या होती है चाइल्ड पोर्नोग्राफी
पोर्नोग्राफी के दायरे में ऐसे फोटो, वीडियो, लेख, ऑडियो व अन्य सामग्री आती है जिसकी प्रकृति यौन हो। यह नग्नता पर आधारित हो। ऐसी सामग्री को सोशल मीडिया पर वायरल करने या किसी को भेजने पर पोर्नोग्राफी निरोधक कानून लागू होता है। चाइल्ड पोर्नोग्राफी को देखना भी गैर कानूनी माना जाता है। 

सीसीआरपी से उत्तराखंड को जो 315 मामले सौंपे गए थे, उनमें से 31 में मुकदमे दर्ज किए जा चुके हैं। एसटीएफ और साइबर क्राइम पुलिस स्टेशन इन सभी मामलों में जांच कर रहा है। जल्द ही कुछ और मुकदमे भी दर्ज किए जा सकते हैं।
-अजय सिंह, एसएसपी, एसटीएफ
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X