विज्ञापन
विज्ञापन
जन्मतिथि से बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें नौकरी में प्रमोशन के शुभ योग
Kundali

जन्मतिथि से बनवाएं फ्री जन्मकुंडली और जानें नौकरी में प्रमोशन के शुभ योग

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

NEET 2020 Result: सामान्य परिवारों के बच्चों ने मचाया धमाल, हालातों से लड़कर अब बनेंगे डॉक्टर

हालात कैसे भी हों, मन में डॉक्टर बनने की ख्वाहिश हुई। इस सपने को पूरा करने के लिए जी जान से जुट गए। शुक्रवार को नीट के नतीजे आए तो यह होनहार भी अगली ज...

17 अक्टूबर 2020

विज्ञापन
Digital Edition

राज्यसभा चुनाव 2020: भाजपा के पैनल में विजय बहुगुणा और महेंद्र पांडेय की दावेदारी मजबूत 

प्रदेश भाजपा की सिफारिश पर अमल हुआ तो पूर्व मुख्यमंत्री विजय बहुगुणा और राष्ट्रीय कार्यालय सचिव महेंद्र पांडेय में से कोई एक राज्य सभा में पहुंच सकता है। राज्यसभा में जाने के लिए भाजपा का प्रत्याशी होना ही काफी है। यही वजह है कि टिकट के लिए दावेदारों की लंबी कतार है और पार्टी को भी परंपरा से हटकर तीन के स्थान पर पांच नाम भेजने पड़े हैं।

कांग्रेस के कब्जे वाली इस सीट पर राजब्बर काबिज हैं। उनका कार्यकाल 25 नवंबर को खत्म हो रहा है। निर्वाचन आयोग ने उनके कार्यकाल से पहले नया सांसद चुनने की प्रक्रिया शुरू कर दी है। भाजपा के पैनल में बहुगुणा और पांडेय के अलावा पूर्व प्रदेश महामंत्री नरेश बंसल का नाम तीसरे स्थान पर है, जबकि प्रदेश उपाध्यक्ष अनिल गोयल और पूर्व सांसद बलराज पासी के नाम की भी सिफारिश की गई है।

प्रदेश अध्यक्ष बंशीधर भगत के मुताबिक, पार्टी ने केंद्रीय नेतृत्व को नाम भेज दिए हैं। लेकिन यह जरूरी नहीं कि प्रदेश संगठन से भेजे गए नामों से ही प्रत्याशी तय हो। संसदीय बोर्ड पैनल से बाहर कोई अन्य नाम भी दे सकता है।

केंद्र का फैसला ही अंतिम होता है। बता दें कि पार्टी के प्रदेश प्रभारी रहे श्याम जाजू भी टिकट के प्रबल आकांक्षी माने जा रहे हैं। हालांकि प्रदेश संगठन की ओर से उनका नाम राज्य से पैनल में नही भेजा गया। इस पर भगत ने कहा कि उनका मसला केंद्र के स्तर का है। प्रदेश संगठन ने राज्य के स्तर पर नाम भेजे हैं। उनके अनुसार, पार्टी ने जो पांच नाम भेजे हैं वे संगठन और राजनीति के अनुभवी और वरिष्ठ नेता हैं।   
... और पढ़ें
विजय बहुगुणा विजय बहुगुणा

Coronavirus in Uttarakhand : शनिवार को मिले 359 नए संक्रमित, 05 मरीजों की हुई मौत

प्रदेश में कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 60 हजार पार हो गया है। बीते 24 घंटे में पांच मरीजों की मौत हुई और 359 नए संक्रमित मिले हैं। 451 मरीजों को ठीक होने के बाद घर भेजा गया है। कुल संक्रमितों की संख्या 60155 हो गई है। 

देहरादून: कोरोना बीमारी के बीच स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों को ढूढ़े नहीं मिल रहे डेंगू मच्छर

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार शनिवार को 12303 सैंपलों की जांच रिपोर्ट निगेटिव आई है। देहरादून जिले में सबसे अधिक 90 कोरोना मरीज मिले हैं। हरिद्वार में 63, नैनीताल में 48, चमोली में 31, पौड़ी में 24, उत्तरकाशी में 20, ऊधमसिंह नगर में 18, अल्मोड़ा में 18, रुद्रप्रयाग में 13, पिथौरागढ़ में 13, बागेश्वर में 12, टिहरी में सात और चंपावत जिले में दो कोरोनो संक्रमित मामले मिले हैं। 

प्रदेश में पांच मरीजों की मौत हुई है। इसमें एम्स ऋषिकेश में एक, हिमालयन हास्पिटल में एक, महंत इंद्रेश हास्पिटल में एक, एचएनबी बेस हास्पिटल में एक, विनय विशाल हेल्थ केयर हास्पिटल हरिद्वार में एक मरीज ने दमतोड़ा है। मरने वाले मरीजों की संख्या 984 हो गई है। वहीं, 451 मरीजों को डिस्चार्ज किया गया। इन्हें मिला कर अब तक 54169 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। 
... और पढ़ें

Vijayadashami 2020: देहरादून को आठ जोन में बांटकर फोर्स तैनात, 21 सेक्टर और 50 उप सेक्टर में बांटा गया शहर 

दशहरा पर पुलिस ने चौकसी का इंतजाम पूरा कर लिया है। इसके लिए शहर को आठ जोन में बांटकर सुरक्षा व्यवस्था को फोर्स तैनात की गई है। सुरक्षा के मद्देनजर चार कंपनी पीएसी को भी लगाया गया है। साथ ही जोन और सेक्टर वार अग्निशमन की गाड़ियां भी तैनात कर दी गई हैं।

हर साल दशहरा पर शहर में भीड़भाड़ बढ़ जाती है। इस बार तमाम आयोजन तो नहीं हो सकेंगे, लेकिन बाजारों में भीड़ उमड़ने की संभावना जताई जा रही है। ऐसे में पुलिस ने किसी भी स्थिति और यातायात को सुचारू करने के लिए पूरी व्यवस्था की है। डीआईजी अरुण मोहन जोशी ने बताया कि शहर को आठ जोन, 21 सेक्टर और 50 उप सेक्टरों में बांटा गया है।

जोन की जिम्मेदारी सीओ, सेक्टर की थानाप्रभारी और उप सेक्टर की जिम्मेदारी चौकी प्रभारी को दी गई है। इस दौरान इनके साथ चार कंपनी पीएसी भी तैनात की गई है। जिन क्षेत्रों में पहले कभी कानून व्यवस्था बिगड़ी है या फिर इस बार कोई इनपुट है तो उसके आधार पर सुरक्षा का खाका खींचा गया है। ताकि, किसी भी स्थिति से समय रहते निपटा जा सके।
... और पढ़ें

नवरात्र पर कुलदेवी की पूजा के बाद एनएसए अजीत डोभाल ने गांव वालों के सामने जाहिर की ये इच्छा

नवरात्र के पावन पर्व पर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एनएसए अजीत कुमार ने पत्नी संग अपनी कुलदेवी बालकुमारी देवी की पूजा अर्चना की।

पत्नी संग उत्तराखंड पहुंचे एनएसए अजीत डोभाल, तस्वीरों में देखें उनके दौरे की प्रमुख झलकियां

शनिवार को एनएसए अजीत डोभाल उत्तराखंड के पौड़ी जिले में स्थित अपने पैतृक गांव घीड़ी पहुंचे। यहां उन्होंने नवरात्र के मौके पर अपनी कुलदेवी की पूजा की।

पूजा के बाद वह गांव वालों से मिले और उनका हालचाल जाना। वह यहां अपनी पत्नी के साथ पहुंचे थे और उनका ये निजी दौरा था।

वह करीब ढाई घंटे तक गांव में रुके और ग्रामीणों से बातचीत की। एनएसए बनने के बाद अजीत डोभाल का अपने पैतृक गांव में यह तीसरा दौरा रहा। 

पूजा के बाद एनएसए डोभाल ने ग्रामीणों से बात करते वक्त गांव में अपना घर बनाने की इच्छा भी जताई। उन्होंने चाय की चुस्कियों के साथ ग्रामीणों से बात की। इस दौरान ग्रामीणों ने भी उन्हें अपनी समस्या बताई।

यहां ढाई घंटे रुकने के बाद अजीत डोभाल पत्नी सहित ऋषिकेश लौट गए। यहां उन्होंने परमार्थ निकेतन में गंगा आरती में प्रतिभाग किया। एनएसए रविवार को ऋषिकेश से रवाना होंगे। ... और पढ़ें

Unlock 5.0 : वीकेंड से पहले ही नैनीताल में सैलानियों की चहल पहल, नैनी झील में नौका विहार का लिया आनंद

वीकेंड के मौके पर शनिवार को सुबह से शाम तक नैनीताल समेत आसपास के क्षेत्रों में सैलानियों से रौनक बनी रही। पिछले वीकेंड के मुकाबले सैलानियों की संख्या बढ़ने से कारोबारी खुश नजर आए।

नैनीताल में शनिवार सुबह से ही सैलानी पहुंचने लगे थे। इससे मालरोड, पंतपार्क, बैंड स्टैंड, भोटिया मार्केट, मल्लीताल बाजार में खासी चहल पहल रही। पर्यटकों ने गुनगुनी धूप के बीच नैनीझील में नौका विहार का आनंद लिया। देर शाम तक नगर में पर्यटक गतिविधियां जारी थी। 

दोपहर बाद पैक नजर आए पार्किंग स्थल

पर्यटकों के पहुंचने से सड़कों पर यातायात का दबाव अधिक रहा, हालांकि जाम की जैसी स्थिति नहीं बनी। दोपहर बाद छोटे-बड़े पार्किंग स्थल वाहनों से पैक नजर आए। नगर के चिड़ियाघर में 320 पर्यटक वन्यजीवों को देखने के लिए पहुंचे। वाटर फॉल में सर्वाधिक 322, हिमालयन बॉटनिकल गार्डन में 56 और केव गार्डन में 275 पर्यटकों ने मौजू-मस्ती की।
... और पढ़ें

शारदीय नवरात्र 2020 : अष्टमी व नवमी आज, मंदिरों और घरों में किया गया कन्या पूजन

शारदीय नवरात्र की अष्टमी व नवमी आज मनाई गई। इस दौरान सुबह से ही घरों और मंदिरों में कन्या पूजन किया गया। अष्टमी सुबह 6 बजकर 57 मिनट तक रही। नवरात्र में कन्या पूजन श्रेष्ठ माना जाता है। वहीं, शुक्रवार को कुछ श्रद्धालुओं ने अष्टमी का व्रत रखा और कन्याएं जिमाई गईं।  

श्री पृथ्वीनाथ महादेव मंदिर में शनिवार को अष्टमी मनाई जा रही है। 25 की सुबह नवमी कन्या पूजन होगा, साथ ही नवरात्र का समापन होगा। इस दौरान दिगंबर भागवत पुरी, दिलीप सैनी, सुनील अग्रवाल, रामस्वरूप यादव, रिंकू शर्मा, राजकुमार गुप्ता, संजय कुमार गर्ग व अन्य उपस्थित रहे। 

ज्योतिषाचार्य विजेंद्र प्रसाद ममगाईं ने कहा कि अष्टमी की कन्या पूजन सुबह सात बजे तक किया जा सकता है। इसके बाद नवमी तिथि शुरू हो गई है। कन्या पूजन में 09 कन्याओं को भोज व दक्षिणा देना पुण्यकारी होता है। इन कन्याओं को दुर्गा के नौ अवतार के रूप में माना जाता है।
... और पढ़ें

इस बार कड़ाके की सर्दी लाएगा ला नीना, वैज्ञानिक लगा रहे अनुमान, तीन-चार दिन में मौसम लेगा करवट

इस बार मौसम पर ला नीना का प्रभाव रहेगा और कड़ाके की ठंड होगी। हालांकि अभी तापमान सामान्य से अधिक है। मौसम वैज्ञानिकों का अनुमान है कि सप्ताह भर बाद मौसम में बदलाव होना शुरू हो जाएगा।

शुष्क मौसम के कारण पिछले चार पांच साल के बाद इस बार अक्तूबर में दिन का तापमान नार्मल से एक से तीन डिग्री ज्यादा चल रहा है। रात का तापमान एक दो दिन से कम हुआ है। मौसम वैज्ञानिकों का मानना है कि तीन-चार साल में ऐसा होता है।

मौसम विज्ञान केंद्र देहरादून के वैज्ञानिक रोहित थपलियाल ने बताया कि एक सप्ताह बाद न्यूनतम तापमान दो डिग्री नीचे जा सकता है। पर्वतीय जनपदों में तीन-चार दिन में हल्की बारिश और ऊंचाई वाली जगहों पर बर्फबारी भी हो सकती है। 
 
... और पढ़ें

अमर उजाला एक्सक्लूसिव: उत्तराखंड में अब सिंगल यूज प्लास्टिक पर शिकंजे की तैयारी

कोरोना काल के ठहराव के बाद अब उत्तराखंड सरकार सिंगल यूज प्लास्टिक के उपयोग पर सख्त कदम उठाने की तैयारी में है। पर्यावरण संरक्षण एवं प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड ने इसकी नियमावली करीब-करीब तय कर ली है। यह प्रस्ताव जल्द ही कैबिनेट में आएगा।

बोर्ड से मिली जानकारी के मुताबिक सिंगल यूज प्लास्टिक की रोकथाम के लिए विस्तृत दिशा निर्देेश तैयार किए गए हैं। मौजूद व्यवस्था में खासे झोल हैं। अपील की व्यवस्था नहीं है और यह भी स्पष्ट नहीं है कि किस प्लास्टिक को किस तरह से प्रतिबंधित किया जाएगा।

इसी तरह जुर्माने की व्यवस्था पर भी तस्वीर साफ नहीं है। बोर्ड ने इन सब मामलों को देखते हुए व्यापक स्तर पर तैयारी की है। बोर्ड के सूत्रों के मुताबिक मामला कैबिनेट में आएगा और उसमें जुर्माने की दर से लेकर अधिकारियों की जिम्मेदारी, अधिकार आदि तय किया जा सकता है। बोर्ड के सचिव एसपी सुबुद्धि ने नियमावली तैयार किए जाने की पुष्टि की है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X