विज्ञापन

Farmers Protest Live Updates: किसानों का आंदोलन : दिल्ली-करनाल हाईवे पर संघर्ष जारी, सिंघु बॉर्डर पर भारी पुलिस बल तैनात

Pooja Tripathi अमर उजाला नेटवर्क, नई दिल्ली Published by: पूजा त्रिपाठी
Updated Thu, 26 Nov 2020 07:10 PM IST
punjab farmers protest delhi chalo kisan march live updates news in hindi farm bills 2020 farmers at haryana border moving towards delhi border security tightened metro service drone
करनाल में किसानों पर किया गया वाटर कैनन से बौछार - फोटो : एएनआई

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

खास बातें

केंद्र सरकार द्वारा बनाए गए तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ पंजाब, हरियाणा व राजस्थान के किसान 26 से 28 नवंबर तक के लिए 'दिल्ली कूच' पर निकले हैं। गुरुवार को इनके दिल्ली प्रवेश को रोकने के लिए दिल्ली-हरियाणा सीमा पर पुलिस व सुरक्षा बलों की तैनाती व बैरिकेड आदि लगाकर सख्त इंतजाम किए गए हैं। आज सुबह पंजाब के किसान पटियाला अंबाला हाईवे पर किए गए बैरिकेड को तोड़ते हुए और वाटर कैनन व आंसू गैस के गोले झेलते हुए आगे बढ़े। जब ये किसान हरियाणा के सादोपुर पहुंचे तो इन्हें एक बार फिर वाटर कैनन की बौछारें झेलनी पड़ीं। इस वक्त दिल्ली की सभी सीमाओं पर लंबे जाम लगे हुए हैं और दिल्ली में प्रवेश के लिए आम आदमी को भी जद्दोजहद करनी पड़ रही है। दूसरी तरफ गुरुग्राम में योगेंद्र यादव ने किसान मोर्चा को दिल्ली कूच के लिए बुलाया था, लेकिन वहां पहुंचे सभी लोगों को हिरासत में ले लिया गया। हरियाणा में धारा 144 लागू कर दी गई है। वरिष्ठ अधिकारी हालात पर नजर रखे हुए हैं। ड्रोन से भी नजर रखी जा रही है। दिल्ली कूच में एक लाख किसानों के जुटने का दावा किया जा रहा है। किसानों ने चेतावनी दी है कि यदि उन्हें रोका गया तो वे दिल्ली जाने वाले सारे रास्ते जाम कर देंगे। इधर किसानों के दिल्ली कूच को देखते हुए डीएमआरसी ने एनसीआर से दिल्ली जाने वाली सभी मेट्रो सेवाएं अगले आदेश तक स्थगित कर दी हैं। पढ़ें दिनभर का अपडेट...
विज्ञापन

लाइव अपडेट

विज्ञापन
07:10 PM, 26-Nov-2020

दिल्ली जाने से रोकने पर किसानों संग धरने पर बैठीं मेधा पाटकर

किसानों के आंदोलन में शामिल होने के लिए दिल्ली जाने से रोके जाने पर सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर गुरुवार को आगरा-धौलपुर बॉर्डर पर धरना देकर बैठ गईं। उनके साथ लगभग 500 किसान भी हैं। उन्होंने कहा कि पुलिस ज्यादती कर रही है, किसानों की आवाज दबेगी नहीं। उधर, धरना प्रदर्शन से आगरा-ग्वालियर रोड पर ट्रैफिक जाम हो गया। वाहनों की पांच किमी. लंबी कतार लग गई। लोगों की परेशानी देख दोपहर दो बजे किसानों ने एक लेन खोल दी।

नर्मदा बचाओ अभियान की प्रमुख एवं अखिल भारतीय किसान संगठन समन्वय समिति की संचालक मेधा पाटकर ने कहा कि उनकी  मांग है कि कर्नाटक में गिरफ्तार किए गए 80 किसानों की रिहाई की जाए, कृषि बिल की वापसी हो, कोरोना के नाम पर घर भेजे गए मजदूरों को वापसी का पैसा दिया जाए। 
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X