बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
इस सप्ताह इन चार राशियों की होगी मौज, धनलाभ के हैं प्रबल योग
Myjyotish

इस सप्ताह इन चार राशियों की होगी मौज, धनलाभ के हैं प्रबल योग

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

अनलॉक दिल्ली : राजधानी में आज से खुल जाएंगे पार्क और बार, कुछ पाबंदियां बरकरार

कोविड की तीसरी लहर की आशंका के बीच दिल्ली सरकार ने आज से कुछ और ढील देते हुए लॉकडाउन 28 जून तक बढ़ा दिया है। आज से बार खुल जाएंगे और लोग पार्क में सैर भी कर सकेंगे। अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पार्कों में कोरोना गाइडलाइन का पालन करते हुए योग करने की छूट होगी। हालांकि स्कूल-कॉलेजों को खोलने की अनुमति नहीं दी गई है।

दिल्ली आपदा प्रबंधन प्राधिकरण (डीडीएमए) की तरफ से रविवार को जारी नई गाइडलाइन के मुताबिक रेस्तरां 50 फीसदी बैठने की क्षमता के साथ रात 8 की जगह 10 बजे तक खुल सकेंगे। वहीं बार का समय दोपहर 12 से रात 10 बजे तक होगा। एक जोन में एक दिन में एक साप्ताहिक बाजार खोलने की मंजूरी जारी रखी गई है। साप्ताहिक बाजार सड़क किनारे नहीं, स्कूल कैंपस या मैदान में ही लगाने की अनुमति होगी। 

वहीं सिनेमाघर, मनोरंजन पार्क और जिम खोलने की अनुमति अनलॉक-4 में भी नहीं मिली। दिल्ली मेट्रो, डीटीसी बसें, कैब-टैक्सी, ऑटो व अन्य सार्वजनिक वाहन 50 फीसदी बैठने की क्षमता के साथ चलते रहेंगे। निजी व सरकारी कार्यालयों में 50 फीसदी की सीमा लागू रहेगी।  वहीं सामाजिक, राजनीतिक, धार्मिक आयोजन की अनुमति नहीं होगी। बाजारों में जिलाधिकारियों को रैंडम कोविड जांच का निर्देश दिया गया है।

सरकारी दफ्तर पिछले हफ्ते की तरह ही खुलेंगे। यानी ग्रुप ए के कर्मचारी 100 प्रतिशत उपस्थिति के साथ दफ्तर आ सकते हैं। अन्य कर्मचारियों को 50 प्रतिशत उपस्थिति के साथ आना होगा। पुलिस विभाग और अस्पताल जैसी जरूरी सेवाओं में लगे कर्मचारियों को 100 प्रतिशत उपस्थिति की अनुमति होगी। निजी दफ्तर में 50 प्रतिशत क्षमता के साथ कर्मचारी काम कर सकते हैं।

किसे मिली छूट
  • 50 फीसदी की क्षमता के साथ दोपहर 12 से रात 10 बजे तक खुलेंगे बार
  • रेस्तरां भी 50 फीसदी के साथ अब 10 बजे तक खुलेंगे
  • धार्मिक स्थल खुलेंगे, पर श्रद्धालुओं को जाने की इजाजत नहीं
  • ऑटो-कैब, बैट्री रिक्शा, फटफट सेवा में अधिकतम 2 यात्री ही बैठ सकेंगे
पाबंदी बरकरार
  • सभी स्कूल, कॉलेज, कोचिंग संस्थान। ऑनलाइन पढ़ाई जारी रहेगी
  • सामाजिक, राजनीतिक, खेल, सांस्कृतिक-धार्मिक आयोजन
  • स्विमिंग पूल बंद रहेंगे। राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय ईवेंट में शामिल होने वाले खिलाड़ी अभ्यास कर सकेंगे।
  • सिनेमा हॉल, थियेटर, बैंक्वेट हॉल, ऑडिटोरियम, स्पा सेंटर व जिम
... और पढ़ें
demo pic... demo pic...

मार्च के बाद इतने सुधरे हालात: दिल्ली के अस्पतालों में 95 फीसदी बेड खाली, 1300 से कम रह गई भर्ती मरीजों की संख्या

राजधानी में कोरोना का दायरा सिमट चुका है। अब अस्पतालों में भी 95 फीसदी बेड खाली हो गए हैं। 1300 से कम मरीज ही भर्ती हैं। मार्च के बाद पहली बार हालात इतने बेहतर हुए हैं। विशेषज्ञों का कहना है कि कोरोना का प्रसार अब नहीं हो रहा है। यही कारण है कि नए मामले घट रहे हैं। इससे अस्पतालों में भी मरीज नहीं बढ़ रहे हैं। अब जरूरी है कि लोग लापरवाही न बरते नहीं तो फिर से हालात खराब हो सकते हैं। 

दिल्ली में मार्च के आखिरी सप्ताह में कोरोना की लहर शुरू हो गई थी। 12 अप्रैल तक अस्पतालों में 6 हजार से ज्यादा मरीज भर्ती हो गए थे। 22 अप्रैल के बाद हालात खराब होने लगे थे और भर्ती मरीजों की संख्या 19 हजार को पार कर गई थी। आलम यह था कि सभी बड़े सरकारी और निजी अस्पतालों में बेड भर गए थे, लेकिन अब करीब तीन महीने बाद अस्पतालों में 1500 से कम मरीज भर्ती हैं और 22 हजार से ज्यादा बेड खाली हैं।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, राजधानी में इस समय कोविड मरीजों के लिए 23,638 बेड हैं। इनमें से 22,357 खाली हैं और 1281 पर मरीज भर्ती हैं। इस लिहाज से देखें तो 95 फीसदी बेड खाली हैं। वहीं, आईसीयू बेड की बात करें तो कुल 6630 आईसीयू बेड में से 723 पर मरीज भर्ती हैं और 5907 खाली हैं। यानी, 89 फीसदी आईसीयू बेड भी खाली हो गए हैं। वहीं, सरकारी अस्पतालों की बात करें तो उनमें भी करीब 90 फीसदी आईसीयू बेड खाली हैं, क्योकि अधिकतर गंभीर मरीजों का इलाज निजी अस्पतालों में चल रहा है।

हिंदूराव अस्पताल के डॉक्टर सिद्धार्थ तारा का कहना है कि अब अस्पताल में नए दाखिले न के बराबर हो रहे हैं। इससे पता चलता है कि वायरस का प्रसार थम गया है, लेकिन चिंता की बात यह है कि दिल्ली में हुए अनलॉक के बाद अब लोग लापरवाही बरतने लगे हैं। इससे आने वाले समय में हालात फिर से खराब हो सकते हैं। अब अगली लहर आने की भी पूरी आशंका है। ऐसे में जरूरी है कि लोग नियमों का पालन करते रहें। साथ ही भीड़भाड वाले इलाकों में जाने से बचें क्योकि, वायरस का प्रसार कम हुआ है। यह महामारी खत्म नहीं हुई है।
 
... और पढ़ें

दिल्ली में दम तोड़ता कोरोना: 124 दिन बाद आए कोरोना के सबसे कम मामले, सात संक्रमितों की हुई मौत

राजधानी में रविवार को कोरोना के 124 मामले आए और 07 की मौत हुई। 124 दिन बाद दैनिक मामलों का आंकड़ा सबसे कम है। इससे पहले 16 फरवरी को 94 संक्रमित मिले थे। उसके बाद से यह संख्या लगातार बढ़ रही थी।

स्वास्थ्य विभाग के मुताबिक, पिछले 24 घंटों में 398 मरीज स्वस्थ हुए। कुल संक्रमितों की संख्या 14,32,292 हो गई है। इनमें से 14,05,287 स्वस्थ हो चुके हैं। संक्रमण से अब तक कुल 24,914 मौतें हुई हैं। मृत्युदर 1.74 प्रतिशत है। फिलहाल कोरोना के 2091 सक्रिय मामले हैं। इनमें से अस्पतालों में 1281 रोगी भर्ती हैं। कोविड केयर केंद्रों में 77 और कोविड स्वास्थ्य केंद्रों में 09 रोगी हैं। होम आइसोलेशन में 600 मरीजों का इलाज चल रहा है।

विभाग के अनुसार, पिछले 24 घंटे में 72,670 जांच की गई। कुल जांच में आरटीपीसीआर प्रणाली से 52,970 और रैपिड एंटीजन से 19,880 टेस्ट हुए। अभी तक 2 करोड़ 7 लाख नमूनों की जांच हो चुकी हैं। कंटेनमेंट जोन की संख्या घटकर 4752 रह गई है।
... और पढ़ें

Delhi Earthquake: दिल्ली में महसूस किए गए भूकंप के झटके, 2.1 रही तीव्रता

देश की राजधानी दिल्ली में आज भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। दिल्ली के पंजाबी बाग में 12 बजकर दो मिनट पर भूकंप के झटके महसूस किए गए हैं। जैसे ही लोगों को आभास हुआ, तुरंत लोग घर और दुकान छोड़कर बाहर आ गए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 2.1 रही।   

नेशनल सेंटर फॉर सीस्मोलॉजी के अनुसार, रिक्टर स्केल पर 2.1 की तीव्रता वाला भूकंप आज दिल्ली के पंजाबी बाग इलाके में दोपहर 12:02 बजे आया है। अभी तक कहीं से कोई नुकसान की खबर नहीं है। 
  इससे पहले, अरुणाचल प्रदेश और मणिपुर में आज तड़के भूकंप के झटके महसूस किए गए। अरुणाचल प्रदेश में एक बजकर दो मिनट पर झटके महसूस किए गए। अरुणाचल के पैंगिन में ये झटके आए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3.1 रही।   
 
वहीं, मणिपुर में सुबह एक बजकर 22 मिनट पर भूकंप के झटके आए। मणिपुर के शिरुई गांव में झटके महसूस किए गए। रिक्टर पैमाने पर इसकी तीव्रता 3.6 मापी गई। 
 

... और पढ़ें

दाढ़ी काटने का मामला: उम्मेद ने पुलिस के सामने जाहिर किए खौफनाक इरादे, बोला-कट्टर धार्मिक नेता की छवि बनाना चाहता था

दिल्ली में आज भूकंप
गिरफ्तार होने के बाद पुलिस पूछताछ में उम्मेद पहलवान इदरीसी ने अपने इरादे जाहिर किए। उसने कुबूल किया कि फेसबुक पर भड़काऊ लंबे वीडियो लाइव करने के पीछे उसका मकसद सियासी फायदा लेना था। वह खुद को लोनी में कट्टर धार्मिक नेता के रूप में स्थापित करना चाहता था। उसकी तैयारी पालिका चेयरमैन का चुनाव लड़ने की थी। कट्टर छवि के जरिए वह वोटरों का ध्रुवीकरण करने की सोच रहा था। एसपी देहात डॉ. ईरज राजा ने उससे हुई पूछताछ के हवाले से बताया कि उसे इसकी जानकारी थी कि बुलंदशहर के अनूपशहर निवासी तांत्रिक अब्दुल समद की दाढ़ी लोनी निवासी प्रवेश गुर्जर ने इसलिए काटी क्योंकि दोनों के बीच विवाद हो गया था। समद ने प्रवेश को ताबीज बनाकर दिया था। इसके बाद प्रवेश की परेशानियां और बढ़ गई। बकौल एसपी, उम्मेद ने बताया कि उसे लगा कि अगर इस घटना को सांप्रदायिक रंग मिल गया तो उसके लिए चेयरमैन के चुनाव की राह आसान हो जाएगी। ... और पढ़ें

दाढ़ी काटने का मामला: बचने के लिए आरोपी उम्मेद ने अपनाया ये खास तरीका, ऐसे रहता था मददगारों के संपर्क में, पुलिस भी हैरान

बुजुर्ग तांत्रिक के साथ मारपीट और दाढ़ी काटने के मामले में आरोपी उम्मेद पहलवान इदरीसी को गाजियाबाद की लोनी पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है। बीते 16 जून को पुलिस ने उम्मेद पहलवान के खिलाफ माहौल बिगाड़ने की साजिश के तहत भड़काऊ वीडियो वायरल करने का केस दर्ज किया था। तभी से पुलिस उसी की तलाश में थी। पुलिस के मुताबिक उम्मेद ने पुलिस से बचने के लिए शातिर अपराधियों वाला तरीका अपनाया। इसके लिए उसने अपने मोबाइल का इस्तेमाल नहीं किया। किसी जानकार से मोबाइल उधार लेकर उसी के जरिये मददगारों के संपर्क में रहा। इसमें भी वह सिर्फ व्हॉट्सएप कॉल से बात करता था। इसके लिए उसने डोंगल भी ले रखा था। एसपी ग्रामीण का कहना है कि उम्मेद ने पुलिस से बचने के लिए हर वह तरीका अपनाया, जो शातिर अपराधी अपनाते हैं। उसे पता था कि मोबाइल के जरिये पुलिस उस तक पहुंच सकती है। इसके लिए उसने अपना मोबाइल बंद कर लिया था।  ... और पढ़ें

दिल्ली: कैफे में उड़ाई जा रही थी कोविड नियमों की धज्जियां, मालिक सहित पांच गिरफ्तार

दाढ़ी काटने के मामले में नया मोड़: घटना हुई थी प्रवेश के घर, पीड़ित ने बताई जंगल में, सामने आया चौंकाने वाला सच

बुजुर्ग तांत्रिक सूफी अब्दुल समद की पिटाई कर दाढ़ी काटने की घटना आरोपी प्रवेश ने बंथला गांव में अपने घर में की थी। लेकिन समद ने इसे बताया बेहटा हाजीपुर गांव के जंगल में। पुलिस का कहना है कि जांच में खुलासा हुआ है कि समद ने ऐसा उम्मेद के कहने पर किया था। बेहटा हाजीपुर इलाका लोनी बॉर्डर क्षेत्र में आता है। यह ज्यादा संवेदनशील है। जानबूझकर इसे घटनास्थल बताया गया। एसपी ग्रामीण डॉ. ईरज राजा का कहना है कि लोनी बॉर्डर इलाका लोनी क्षेत्र से ज्यादा संवेदनशील है। इसी के चलते उम्मेद ने साजिश के तहत सूफी समद की तहरीर में घटनास्थल लोनी बॉर्डर क्षेत्र का लिखवाया था। भविष्य में उसकी चुनाव लड़ने की योजना थी, लिहाजा भड़काऊ वीडियो में धर्म विशेष के लोगों द्वारा दाढ़ी काटने का आरोप लगा वह अपने समाज के लोगों का समर्थन लेना चाहता था। बुलंदशहर के अनूपशहर निवासी बुजुर्ग तांत्रिक सूफी अब्दुल समद के साथ घटना गत 5 जून को हुई थी। उनके मुताबिक अज्ञात ऑटो सवार उन्हें बेहटा हाजीपुर के जंगल में सुनसान इलाके में ले गए और घटना को अंजाम दिया। ... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन