विज्ञापन
विज्ञापन
अपनी जन्मकुंडली से पाएं अपने जीवन की सारी मुश्किलों का हल
Astrology

अपनी जन्मकुंडली से पाएं अपने जीवन की सारी मुश्किलों का हल

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

दिल्लीः तलाशी के दौरान रोकने पर बदमाशों ने सिपाही को मारी गोली, हालत नाजुक

भलस्वा डेयरी इलाके में बृहस्पतिवार शाम तलाशी अभियान के दौरान बाइक सवार बदमाशों ने दिल्ली पुलिस के एक सिपाही को गोली मार दी। गोली सिपाही के पेट में लगी है। घायल सिपाही को मैक्स अस्पताल में भर्ती कराया गया है। जहां उसकी हालत नाजुक बनी हुई है। घटना के बाद आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचकर छानबीन करने में जुटे हैं। 

घायल सिपाही की पहचान संदीप के रूप में हुई है। वह भलस्वा डेयरी थाने में तैनात है। बृहस्पतिवार को संदीप अन्य पुलिसकर्मियों के साथ डी ब्लॉक , जेजे कालोनी में पुलिस बूथ के पास पिकेट लगाकर वाहनों की जांच कर रहा था। करीब छह बजे शाम एक बाइक पर सवार तीन युवक वहां पहुंचे। जिसे संदीप ने रूकने का इशारा किया और बाइक चला रहे युवक को बाइक के कागजात दिखाने के लिए कहा। 

इसी दौरान उसमें से एक युवक ने सिपाही पर गोली चला दी। गोली संदीप के पेट में लगी और वह वहीं गिर गया। यह देखकर अन्य पुलिसकर्मियों ने बदमाशों का पीछा किया। बदमाश वहां से फरार हो गए। घायल संदीप को पास के बाबू जगजीवन राम अस्पताल में भर्ती कराया गया। जहां से उसे मैक्स अस्पताल में रेफर कर दिया गया। घटना की जानकारी मिलने के बाद जिले के आला पुलिस अधिकारी मौके पर पहुंचे और छानबीन की। 

इस बीच जिले के तमाम पुलिसकर्मियों को युवकों का हुलिया बताकर उन्हें पकडने के लिए हिदायत दी गई। पुलिस ने अज्ञात बदमाशों के खिलाफ सरकारी काम में बाधा पहुंचाने और हत्या का प्रयास का मामला दर्ज कर लिया है। पुलिस बदमाशों के भागने की दिशा में लगे सीसीटीवी कैमरों की फुटेज खंगालकर बदमाशों की पहचान करने में जुटी है। 
... और पढ़ें
demo pic demo pic

हाईकोर्ट में केंद्र सरकार ने रखा पक्ष, कहा- समलैंगिकों के साथ रहने को 'परिवार' नहीं मान सकते

समलैंगिक विवाह को मंजूरी देने को लेकर आज केंद्र सरकार ने अपना रुख दिल्ली हाईकोर्ट में साफ कर दिया है। इस मामले में दायर कई याचिकाओं पर जवाब देते हुए सरकार ने समलैंगिक विवाह का विरोध किया है। सरकार का कहना है कि समलैंगिकों का साथ रहना परिवार नहीं माना जा सकता।

केंद्र सरकार ने दिल्ली हाईकोर्ट में अपना पक्ष रखते हुए कहा कि संवैधानिक अदालत मौजूदा अधिकारों का आकलन कर सकती है लेकिन अपने न्यायिक निर्णय का प्रयोग करते हुए नए अधिकार नहीं बना सकती। याचिकाकर्ता द्वारा समलैंगिक विवाह को कानूनी मान्यता देने के लिए जो मांग की गई है वह पूरी तरह से गलत और अप्राप्य है।

सरकार ने कोर्ट को यह भी बताया कि यह सवाल कि समलैंगिक रिश्तों के लिए अनुमति देनी है या नहीं यह पूरी तरह से विधायिका के अधिकार क्षेत्र में है और यह कभी भी न्यायपालिका के अधिकार क्षेत्र का हिस्सा नहीं हो सकता।





सरकार ने गुरुवार को कहा कि एक ही लिंग के जोड़े का साथ जोड़े की तरह रहना और यौन संबंध बनाने की तुलना भारतीय परिवार से नहीं हो सकती।
 
 

 
... और पढ़ें

दिल्ली में पारा 33 डिग्री के पार, तपिश बढ़ी, दूसरे दिन भी 14 वर्षों में सबसे गर्म रही राजधानी

राजधानी में गर्मी रोज नया रिकॉर्ड कायम कर रही है। गुरुवार को लगातार दूसरे दिन दिल्ली पिछले 14 वर्षों में सबसे गर्म रही। अधिकतम तापमान 33 डिग्री सेल्सियस पार कर गया। वहीं, न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। शुक्रवार को भी तेज धूप की तपिश के साथ गर्मी और बढ़ेगी और तापमान 34 तक पहुंच सकता है।

प्रादेशिक मौसम विभाग के अनुसार, गुरुवार को राजधानी का अधिकतम तापमान सामान्य से आठ अधिक 33.2 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान सामान्य से एक अधिक 13.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। 

दिल्ली के स्पोर्ट्स कांप्लेक्स इलाके में सबसे अधिक 34.5 डिग्री सेल्सियस व न्यूनतम तापमान 18.1 डिग्री सेल्सियस रहा। इसके अलावा लोदी रोड में अधिकतम तापमान 32.6 व न्यूनतम तापमान 13 डिग्री सेल्सियस रहा। पिछले 24 घंटों में हवा में नमी का अधिकतम स्तर 100 व न्यूनतम 45 फीसदी रहा।  

इससे पहले 10 फरवरी को 30 डिग्री सेल्सियस के साथ सीजन का सबसे गर्म दिन रहा था। वहीं, अब तक का ऑल टाइम रिकॉर्ड 26 फरवरी 2006 को 34.1 डिग्री सेल्सियस रहा है। 

बहुत खराब श्रेणी में बरकरार एनसीआर की हवा
दिल्ली-एनसीआर को प्रदूषित हवा से राहत मिलने के आसार नहीं दिख रहे हैं। गुरुवार को भी दिल्ली की हवा खराब श्रेणी के उच्चतम स्तर में बनी रही। वहीं, एनसीआर में शामिल गाजियाबाद व ग्रेटर नोएडा की हवा बहुत खराब श्रेणी में दर्ज की गई। अगले 24 घंटों में हवा की स्थिति यही रहेगी।

केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड (सीपीसीबी) के अनुसार, गुरुवार को राजधानी का औसत वायु गुणवत्ता सूचकांक 298 रहा। वहीं, दूसरे दिन फरीदाबाद की हवा बहुत खराब श्रेणी से खराब श्रेणी में पहुंच गई। इसके अलावा गाजियाबाद व ग्रेटर नोएडा की हवा ने दूसरे दिन भी बहुत खराब श्रेणी का दामन थामे रखा। 

सफर के अनुसार, दिल्ली के विभिन्न इलाकों में अलग-अलग प्रदूषण के कारणों से पीएम 2.5 का स्तर भी अलग बना हुआ है। हालांकि, अगले 24 घंटों में हवा की स्थिति में खास बदलाव नहीं आने वाला है। इसके बाद चढ़ते पारे के साथ हवा की गुणवत्ता में सुधार होने की संभावना है। 

दिल्ली-एनसीआर के आंकड़े
दिल्ली-298
नोएडा-292
ग्रेटर नोएडा-303
फरीदाबाद-286
गाजियाबाद-346
गुरुग्राम-251
... और पढ़ें

दिल्ली: नशेड़ी पिता ने मां को उतारा मौत के घाट, रात भर शव के साथ सोता रहा चार साल का मासूम 

शराब के नशे में दिल्ली के एक शख्स ने अपनी पत्नी की गला घोंटकर हत्या कर दी। वारदात के बाद आरोपी शव के पास ही लेट गया। सुबह जब आंख खुली तो पाया कि पत्नी में कोई हलचल नहीं थी। इसके बाद आरोपी फरार हो गया। मृतका की शिनाख्त हशिका (30) के रूप में हुई। वारदात के समय महिला का चार साल का बेटा भी पास में ही सोया था।

हत्या के चंद घंटे बाद ही बुराड़ी थाना पुलिस और उत्तरी जिले की साइबर सेल ने आरोपी राजकुमार (32) को नांगलोई से उसकी बहन के घर से गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ के दौरान राजकुमार ने बताया कि उसे शराब पीने की लत है। 

यह बात उसकी पत्नी हशिका को पसंद नहीं थी। इसी बात पर दोनों का झगड़ा होता था। मंगलवार देर रात कहासुनी के दौरान आरोपी राजकुमार ने हशिका की गला घोंटकर हत्या कर दी। 

उत्तरी जिला पुलिस उपायुक्त अंटो अल्फोंस ने बताया कि बुधवार सुबह संत नगर बुराड़ी से एक महिला की हत्या की सूचना मिली। खबर मिलने के बाद मौके पर पहुंची पुलिस टीम को एक महिला तुलसी देवी मिली। तुलसी ने बताया कि दामाद ने उसकी बेटी हशिका की हत्या कर फरार हो गया। 

पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर छानबीन शुरू की। तुलसी ने बताया कि राजकुमार शराब के लिए पत्नी से रोजाना रुपये मांगता था। रुपये न देने पर झगड़ा करता था। आरोप है कि मंगलवार राम करीब 11:00 बजे हशिका, उसका चार साल का बेटा घर में मौजूद थे। तभी राजकुमार वहां पहुंचा। 

हशिका व राजकुमार का झगड़ा हुआ तो उसने गुस्से में पत्नी का गला घोंट दिया। हशिका बिस्तर पर गिर गई। राजकुमार भी उसके बराबर में लेटकर सो गया। सुबह 4.30 बजे उसकी आंख खुली तो पत्नी में हलचल न देखकर उसके होश उड़ गए। वह अपना सामान उठाकर फरार हो गया।
... और पढ़ें

तब्लीगी जमात केस: निजामुद्दीन स्थित मरकज मस्जिद खोलने पर दिल्ली सरकार ने जताई सहमति

पत्नी की हत्या करने का आरोपी राजकुमार
निजामुद्दीन स्थित तब्लीगी मरकज मस्जिद खोलने पर हाईकोर्ट में दिल्ली सरकार ने सहमति जताई है। सरकार ने कहा है कि धार्मिक गतिविधि के लिए मस्जिद खोलने पर कोई आपत्ति नहीं है। 

केंद्र की ओर से पेश सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता ने कहा कि मामले में केंद्र सरकार को भी पक्षकार बनाया जाना चाहिए। अदालत ने उन्हें केंद्र सरकार का पक्ष रखने का निर्देश देते हुए सुनवाई 5 मार्च तय कर दी।

न्यायमूर्ति मुक्ता गुप्ता के समक्ष दिल्ली वक्फ बोर्ड की याचिका पर पक्ष रखते हुए दिल्ली सरकार के स्थाई अधिवक्ता राहुल मेहरा ने कहा कि सामाजिक दूरी के नियमों की अनदेखी कर मरकज मस्जिद में आयोजित धार्मिक कार्यक्रम में शामिल होने के मामले में आरोपी बनाए गए अधिकांश लोगों को बरी कर दिया गया है या आरोपमुक्त कर दिया है।

उन्होंने कहा कि अन्य लोगों के खिलाफ मुकदमे की सुनवाई पूरी होने में वक्त लगेगा। उन्होंने कहा कि ऐसे में यदि मस्जिद को धार्मिक गतिविधियों के लिए खोला जाता है तो सरकार को कोई आपत्ति नहीं है। 

दिल्ली वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष अमानतुल्ला खान द्वारा यह याचिका दायर की गई है। याची की ओर से पेश वरिष्ठ अधिवक्ता रमेश गुप्ता ने कहा कि दिल्ली वक्फ बोर्ड के पास निजामुद्दीन मरकज को संचालित करने की वैधानिक शक्ति है और इसे लंबे समय तक बंद रखना न्याय के विरुद्ध है। उन्होंने कहा तालाबंदी करते समय भी कानून और नियमों की अनदेखी की गई। 

उन्होंने अदालत से जांच अधिकारी की रिपोर्ट को चुनौती देते हुए उस पर पुन: विचार का आग्रह किया। उन्होंने इस परिसर में मौजूद मदरसा और छात्रावास को खोलने का निर्देश देने का भी आग्रह किया।

इसके अलावा याचिकाकर्ता की ओर तर्क रखा गया कि पुलिस वहां से तस्वीरें, स्केच तैयार करवा सकती है, ताकि इससे संबंधित मामले में साक्ष्य के तौर पर इस्तेमाल कर सके। कोरोना संक्रमण पर नियंत्रण के लिए जारी दिशा-निर्देशों की कथित अनदेखी कर धार्मिक कार्यक्रम आयोजन के बाद 31 मार्च 2020 को मरकज मस्जिद को बंद कर दिया गया था। 
... और पढ़ें

दिल्ली: निजी स्कूल कराना चाहते हैं 8वीं तक की ऑनलाइन परीक्षा, सरकारी स्कूल करेंगे प्रोमोट

कोविड-19 महामारी के कारण निजी स्कूल कक्षा आठवीं तक के छात्रों को ऑनलाइन परीक्षा व असाइनमेंट के मूल्यांकन के आधार पर ही प्रमोट करेंगे। दरअसल निजी स्कूल बच्चों की ऑनलाइन परीक्षा कराने के पक्ष में हैं। काफी स्कूलों ने इसके लिए ना केवल दिशा-निर्देश जारी कर दिए हैं, बल्कि परीक्षा तिथियां भी फाइनल कर दी हैं। 

उल्लेखनीय है कि शिक्षा निदेशालय ने बुधवार को ही सरकारी स्कूलों में आठवीं कक्षा तक के छात्रों को प्रमोट करने के लिए कहा है। बच्चों की परीक्षाएं नहीं होंगी उनका मूल्यांकन असाइनमेंट और प्रोजेक्ट के आधार पर होगा। 

निदेशालय ने निजी स्कूलों पर मूल्यांकन के तौर-तरीके व शेड्यूल तय करने के लिए कहा है। मौसम विहार स्थित डीएवी स्कूल की प्रिंसिपल वंदना कपूर कहती हैं कि दूसरी से पांचवीं कक्षा तक के बच्चों की ऑनलाइन परीक्षा ली जाएगी। 

यह विषयवार 30 अंकों की होगी। पहले जो पीरियोडिक टेस्ट लिए गए हैं उनके अंकों को भी जोड़ा जाएगा। छठी से आठवीं तक के बच्चों की भी ऑनलाइन परीक्षा होगी जिसमें 80 अंक की लिखित व 20 अंक की मौखिक परीक्षा होगी। बच्चों के पिछले मूल्यांकन के अंकों को भी जोड़ा जाएगा। 

शालीमार बाग स्थित मॉडर्न स्कूल भी ऑनलाइन परीक्षा आयोजित करेगा। इसके साथ साथ वह असाइनमेंट, ऑनलाइन क्विज, प्रोजेक्ट वर्क के आधार पर भी छात्रों का मूल्यांकन करेगा। दरअसल स्कूल प्रोजेक्ट वर्क, असाइनमेंट को ज्यादा रखेगा। वहीं माउंट आबू स्कूल पहले से ही आठवीं कक्षा के छात्रों के लिए ऑनलाइन परीक्षा आयोजित कर रहा है। 

पूरे वर्ष जो असाइनमेंट, ऑनलाइन क्विज हुए उनकी भी वेटेज दी जाएगी। कोरोना वायरस के प्रसार पर अंकुश लगाने के लिए देशव्यापी तालाबंदी से पहले पिछले साल मार्च में स्कूलों को बंद कर दिया गया था। दिल्ली सरकार ने 18 जनवरी से कक्षा 9 से 12 तक की कक्षाओं को फिर से खोलने की अनुमति दी थी।
... और पढ़ें

सरकारी दफ्तरों में सभी ई-वाहन वाला दिल्ली पहला राज्य होगा

किसान आंदोलन के चलते दिल्ली-एनसीआर के ये रास्ते आज भी हैं बंद, परेशानी से बचने के लिए पढ़ें ये खबर

कृषि कानून के विरोध में दिल्ली के सिंघु, टीकरी और गाजीपुर बॉर्डर पर बीते तीन माह से चल रहे किसान आंदोलन की वजह से बंद चल रहे ये बॉर्डर गुरुवार को भी पूरी तरह बंद रहेंगे। दिल्ली पुलिस ने इन इलाकों के पास के रास्ते डायवर्ट किए गए हैं, जिसकी वजह से पीक आवर में कई रास्तों पर भारी जाम लग सकता है। ऐसे में किसी भी परेशानी से बचने के लिए ये खबर पढ़कर ही घर से निकलें।

दिल्ली पुलिस के अधिकारियों के मुताबिक गाजीपुर बॉर्डर बंद होने से दिल्ली और गाजियाबाद के लोग भारी ट्रैफिक जाम का सामना करते हैं। यहां दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे की सभी छह लेन, एनएच-9 और एनएच-24 बंद है। इसलिए लोगों को वैकल्पिक मार्ग जैसे आनंद विहार, सूर्या नगर, भोपरा, लोनी, कोंडली, चिल्ला, न्यू अशोक नगर, डीएनडी और कालिंदी कुंज मार्ग इस्तेमाल करने की सलाह दी गई है।

हालांकि अधिकारियों का कहना है कि एनएच-24 पर गाजीपुर बॉर्डर होकर गाजियाबाद से दिल्ली जाने वाला रास्ता खुला रखा गया है। अतः जो लोग आनंद विहार, सूर्या नगर और अप्सरा बॉर्डर के रास्ते दिल्ली में प्रवेश कर रहे हैं उन्हें गाजीपुर बॉर्डर पर दायां टर्न लेकर एनएच-24 से सराय काले खां और रिंड रोड होते हुए साउथ और सेंट्रल दिल्ली की ओर जा सकते हैं।

इसके साथ ही लोग गाजियाबाद से दिल्ली जाने के लिए ईडीएम फ्लाईओवर के नीचे से होकर पटपड़गंज औद्योगिक इलाके से होकर विकास मार्ग से जा सकते हैं। दिल्ली मेरठ एक्स्प्रेसवे पर किसी वाहन को जाने की इजाजत नहीं है, वहीं एनएच-9 पर सुबह और शाम पीक आवर के दौरान गाड़ियों को प्रवेश की इजाजत है।

गाजीपुर बॉर्डर से हटकर अगर सिंघु और टीकरी बॉर्डर की बात करें तो यहां सिंघु, टीकरी, सबोली और पियाऊ मनियारी बॉर्डर पूरी तरह बंद हैं। वहीं झरोडा और औचंदी बॉर्डर सुबह और शाम पीक आवर के दौरान खुले रहते हैं। लामपुर, साफियाबाद, सिंघु स्कूल टोल टैक्स बॉर्डर भी खुले हैं। एनएच-44, जीटी करनाल रोड, आउटर रिंग रोड पर ट्रैफिक ज्यादा होने से लोगों को इन रूट पर न जाने की सलाह दी गई है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X