विज्ञापन

छात्रों ने रखी फैकल्टी व प्लेसमेंट सेल की मांग, तो इस बड़े कॉलेज ने दे डाली जीरो नंबर देने की धमकी

एजुकेशन डेस्क, अमर उजाला Updated Fri, 30 Aug 2019 12:33 PM IST
विज्ञापन
सांकेतिक तस्वीर
सांकेतिक तस्वीर
ख़बर सुनें
एक संस्थान ने अपने विद्यार्थियों को सिर्फ इसलिए जीरो नंबर देने की धमकी दे डाली क्योंकि उन्होंने अच्छी शिक्षा के लिए शिक्षकों और प्लेसमेंट सेल की मांग रखी। यह मामला इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ इनफॉर्मेशन टेक्नोलॉजी, भोपाल (IIIT Bhopal) का है।
विज्ञापन
पब्लिक प्राइवेट पार्टनरशिप (पीपीपी) मोड पर आईआईआईटी भोपाल की शुरुआत 2017 में हुई थी। इसके पहले बैच के स्टूडेंट्स अगले साल अपनी डिग्री पूरी करने जा रहे हैं। लेकिन अब तक इस संस्थान के पास अपना कैंपस भी नहीं है। यह मौलाना आजाद नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी, भोपाल (MANIT) से संचालित हो रहा है, जिसे NIT भोपाल के नाम से जानते हैं।

जानें पूरा मामला

आईआईआईटी भोपाल के पास अब तक न तो कोई डीन है, न स्थाई फैकल्टी और न ही प्लेसमेंट को-ऑर्डिनेटर। यहां के स्टूडेंट्स लगातार स्थाई फैकल्टी और प्लेसमेंट सेल की मांग कर रहे हैं। 

इन्हीं मांगों को लेकर 200 से ज्यादा स्टूडेंट्स पिछले एक सप्ताह से विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। वे कक्षाओं का बहिष्कार कर कॉरिडोर में बैठे हैं। इनका प्रदर्शन बंद कराने के लिए संस्थान ने उन्हें परीक्षा में फेल करने तक की धमकी दे डाली। लेकिन कोई खास असर नहीं दिखा। 

स्टूडेंट्स का कहना है कि 'हमें जो शिक्षक पढ़ा रहे हैं वे अस्थाई हैं। अक्सर ऐसा होता है कि कुछ महीने या साल भर तक पढ़ाने के बाद शिक्षक बदल जाते हैं। इसका सीधा असर हमारी पढ़ाई पर होता है। यहां हमारी परेशानियां सुनने वाला भी कोई नहीं है। हमने  मैनिट निदेशक और आईआईआईटी भोपाल की नोडल ऑफिसर से भी बात की। लेकिन वे भी हमारी मदद करने के लिए तैयार नहीं हैं।'

ये भी पढ़ें : क्यों IIT Bombay से बीटेक-एमटेक करने के बाद इस शख्स ने ज्वाइन कर ली रेलवे ग्रुप-डी की नौकरी

बता दें कि मैनिट के निदेशक नरेंद्र सिंह रघुवंशी ही फिलहाल आईआईआईटी भोपाल के मेंटर हैं। जबकि मैनिट की प्रोफेसर ज्योति सिंघई आईआईआईटी की नोडल पदाधिकारी हैं।

जब मीडिया द्वारा नोडल ऑफिसर ज्योति संघई से इस बारे में सवाल किया गया, तो उन्होंने कोई जवाब देने से इनकार कर दिया। हालांकि मैनिट के कुछ अधिकारियों का कहना है कि स्थाई कर्मचारियों की नियुक्ति केंद्र के अंतर्गत आती है। स्टूडेंट्स के विरोध प्रदर्शन के बारे में उनके पैरेंट्स को भी चिट्ठी भेज दी गई है जिसमें कहा गया है कि अगर इनकी ये गतिविधि यूं ही जारी रही तो इन्हें परीक्षआ में जीरो नंबर दे दिया जाएगा।

ये भी पढ़ें : एक साल में इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी करने वाले कितने युवाओं को मिली नौकरी, सामने आई सच्चाई

अब विरोध कर रहे स्टूडेंट्स का कहना है कि अगर उनकी मांगें नहीं मानी गईं तो वे कुछ प्रतिनिधियों को केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्रालय, नई दिल्ली भेजेंगे। स्टूडेंट्स ट्विटर पर भी #IIITBhopalcrisis के नाम से कैंपेन चला रहे हैं।

बता दें कि IIITs में ज्वाइंट एंट्रेंस एग्जामिनेशन (JEE) मेन और एडवांस्ड के जरिए अच्छी रैंक पाने वाले स्टूडेंट्स को दाखिला मिलता है।  

ये भी पढ़ें : 20 साल बाद IIT ने नॉन इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स के लिए खोले दरवाजे, मिल रहा MBA करने का मौका
विज्ञापन
विज्ञापन

सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें शिक्षा समाचार आदि से संबंधित ब्रेकिंग अपडेट।

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us