फिल्म में अन्ना का नाम आने पर सेंसर बोर्ड को आपत्ति

Janardan Pandeyजनार्दन पांडेय Updated Wed, 01 Jun 2016 04:16 PM IST
विज्ञापन
Anna Hazare creates problem for Censor Board!

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹249 + Free Coupon worth ₹200

ख़बर सुनें
जन लोकपाल आंदोलन को लेकर चर्चा में आए समाजसेवी अन्ना हजारे एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार चर्चा का कोई राजनैतिक कारण नहीं, बल्कि नसीरुद्दीन शाह की आने वाली फिल्म 'चार्ली के चक्कर में' है, जिस पर सेंसर बोर्ड ने आपत्ति जाहिर की है।
विज्ञापन

सेंसर बोर्ड ने फिल्म निर्माताओं से फिल्म में अन्ना हजारे से जुड़े संदर्भ को हटाने के लिए कहा है। लेकिन फिल्म निर्माता यह मानने के लिए तैयार नहीं है। सेंसर बोर्ड के मुताबिक अन्ना हजारे का फिल्म में इस तरह प्रयोग नहीं किया जा सकता। जबकि फिल्म निर्माता करन अरोरा का कहना है कि उनकी फिल्म ड्रग्स के कारोबार और एडल्ट मामलों पर आधारित है। इसके लिए हमने पहले बोर्ड से 'ए' सर्टिफिकेट की मांग की है। फिर इसमें कैसी आपत्ति?
निर्माता करन अरोरा ने कहा कि वह इस मसले को लेकर फिर से केंद्रीय फिल्म सेंसर बोर्ड के पास जाएंगे और अपना पक्ष रखकर अन्ना हजारे संदर्भ को फिल्म से न हटवाने के बारे में बात करेंगे। लेकिन खास बात यह हे कि फिल्म रिलीज को अब केवल एक सप्ताह बाकी हैं। ऐसे में नये सिरे से सेंसर प्रक्रिया पूरी करने में फिल्म समय पर रिलीज न हो पाने के भी आसार हैं। अगली स्लाइड में जानिए, क्या है वो अन्ना हजारे का मामला।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

क्यों अन्ना हजारे का नाम फिल्म से हटवाना चाहता है बोर्ड

विज्ञापन
विज्ञापन
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
  • Downloads

Follow Us