इन पांच वजहों से नहीं चढ़ सकी लव रंजन की कॉमेडी की हांडी, फिल्म जय मम्मी दी को मिले इतने स्टार

Pratiksha Ranawat पंकज शुक्ल, मुंबई Published by: प्रतीक्षा राणावत
Updated Fri, 17 Jan 2020 02:04 PM IST
विज्ञापन
Jai Mummy Di
Jai Mummy Di - फोटो : Social Media

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
Movie Review: जय मम्मी दी
विज्ञापन

कलाकार: पूनम ढिल्लों, सुप्रिया पाठक, सोनाली सहगल, सनी सिंह, दानिश हुसैन, आलोक नाथ आदि।
निर्देशक: नवजोत गुलाटी
निर्माता: भूषण कुमार, लव रंजन, अंकुर गर्ग आदि।


निर्माता निर्देशक लव रंजन का सिनेमा मुंबइया फिल्मों की एक ही अलग लीक बनाता रहा है। प्यार का पंचनामा एक और दो के अलावा सोनू के टीटू की स्वीटी जैसी फिल्मों की कामयाबी से उन्होंने तमाम फिल्म पंडितों को चौंकाया भी। लव रंजन ने इस बार थोड़ा और लीक से छिटकने की कोशिश की है फिल्म जय मम्मी दी में। लेकिन, फिल्म के नाम से लेकर फिल्म की कहानी और किरदारों को गढ़ने तक में वह इस बार चूके हैं। रंजन की पिछली फिल्म दे दे प्यार दे जैसी हिट फिल्म की कामयाबी दोहराना इस फिल्म के बूते की बात नहीं दिखती। हां, ये फिल्म इसके युवा कलाकारों के लिए कुछ तालियां जरूर बटोर लाती है।

दिल्ली की एक कॉलोनी में रहने वाली पिंकी भल्ला और लाली खन्ना की दुश्मनी भारत पाकिस्तान जैसी है। साथ रहा भी न जाए और दूर जाया भी न जाए। कहानी का दूसरा सिरा दोनों के बच्चे हैं, सांझ भल्ला और पुनीत खन्ना। साथ पढ़ते-पढ़ते दोनों प्यार में पड़ जाते हैं और दिक्कत अब ये है कि घर में बता भी नहीं कर सकते। दोनों अपनी अपनी मम्मियों का अतीत खोजने की कोशिश करते हैं, इसमें तमाम हिचकोले हैं और कुछ जबर्दस्ती की कॉमेडी के टांय टांय फिस होते गोले हैं। कहानी के पहले सिरे से निकलती समलैंगिक रिश्तों की सी कहानी असरदार हो सकती थी, अगर फिल्म की पटकथा चुस्त होती और किस्सा थोड़ा पहले से और कायदे से गढ़ा जाता।


जय मम्मी दी में मसाले सारे हैं। बस रेसिपी गड़बड़ है। ये ऐसी डिश है जिसके एक घंटा 43 मिनट तक कुकर में चढ़े रहने के बाद भी सीटी नहीं बजती। इसकी वजह है इसका प्रेशर ठीक से न बनना। दो सहेलियों की दुश्मनी पर गढ़ी गई कहानी के दोनों सिरे इतने ढीले हैं कि कहीं बीच में आकर फंदा ही नहीं बना पाते। और दोनों की दुश्मनी की जो वजह आखिर में आकर खुलती है, वह न तो दर्शकों को चौंका पाती है और न ही फिल्म में अब तक बेकार हो चुके समय की भरपाई ही करती है। निर्देशक नवजोत गुलाटी इसके पहले तापसी पन्नू की फिल्म रनिंग शादी लिख चुके हैं। लव रंजन ने उन्हें निर्देशन का मौका भी दे दिया, लेकिन वह पहली ही गेंद पर लड़खड़ाते नजर आ रहे हैं।
विज्ञापन
आगे पढ़ें

विज्ञापन

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।

खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें मनोरंजन समाचार से जुड़ी ब्रेकिंग अपडेट। मनोरंजन जगत की अन्य खबरें जैसे बॉलीवुड न्यूज़, लाइव टीवी न्यूज़, लेटेस्ट हॉलीवुड न्यूज़ और मूवी रिव्यु आदि से संबंधित ब्रेकिंग न्यूज़।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X