विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
कुंडली से जानिए अपनी समस्त विपदाओं का हल , आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली
Kundali

कुंडली से जानिए अपनी समस्त विपदाओं का हल , आज ही बनवाएं फ्री जन्म कुंडली

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

'राम जन्मभूमि' के नायक थे ये महंत, अपने दम पर देशभर में चलाया था अबतक का सबसे बड़ा आंदोलन

महंत अवैद्यनाथ की फाइल फोटो। महंत अवैद्यनाथ की फाइल फोटो।

पति की अर्थी उठने से पहले पत्नी ने भी तोड़ा दम, एक साथ दो लोगों की मौत पर रो पड़ा पूरा गांव

उत्तर प्रदेश के संतकबीरनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां कोतवाली क्षेत्र के भैंसहिया गांव निवासी बीमार सेवानिवृत्त प्रधानाध्यापक की सोमवार शाम को मौत हो गई। अभी परिजन उनकी अर्थी उठाने की तैयारी में थे कि सदमे में पत्नी ने भी दम तोड़ दिया। एक साथ दंपती की अर्थी उठी तो गांव के लोग रो पड़े। गांव के सीवान में एक ही कब्र में दोनों के शव को दफनाया गया।

 भैंसहिया गांव निवासी 70 वर्षीय सीताराम दस साल पूर्व परिषदीय स्कूल से प्रधानाध्यापक पद से सेवानिवृत्त हुए थे। उनकी पत्नी मालती की उम्र 65 थी। उनके तीन बेटे अशोक कुमार, दिलीप कुमार व कृष्ण कुमार और बेटी शिमला है। सभी बेटे और बेटी की शादी हो चुकी है।

इसे भी पढ़ें-
खपरैल का मकान गिरने से बेघर हुए पूर्व विधायक, ईमानदारी ऐसी कि एक मकान तक नहीं बनवा पाए

बड़े बेटे दिलीप कुमार ने बताया कि उनके पिता सीताराम को कैंसर की बीमारी थी। पीजीआई लखनऊ से उपचार चल रहा था। सोमवार को पिता की तबीयत अधिक बिगड़ गई। अभी उन्हें अस्पताल ले जाने की तैयारी कर रहे थे कि मौत हो गई। परिवार के लोग अंतिम संस्कार की तैयारी कर ही रहे थे।
... और पढ़ें

कानपुर के बाद आई देवरिया के 'विकास' की याद, यहां टॉप टेन बदमाशों में है शुमार

कानपुर के चौबेपुर थानाक्षेत्र के बिकरू गांव निवासी विकास दुबे के बाद देवरिया पुलिस को यहां के विकास यादव की याद आई है। इस बार उसे टॉप टेन बदमाशों की सूची में शामिल किया गया है। इसके साथ ही बनकटा के रूस्तम बहियारी गांव निवासी बदमाश तारबाबू यादव कभी इस लिस्ट में है।  

सदर कोतवाली के सकरापार गांव का रहने वाला विकास यादव मार्च 2018 में तब चर्चा में आया जब उसने बजाजी रोड रौनीयारी मोहल्ला के शमशाद अहमद को बंधक बना अपने गांव के पास ले गया और जमकर पीटा। उसने ही सोशल मीडिया पर वीडियो वायरल किया तो जिला प्रशासन हरकत में आया।

इसे भी पढ़ें-
पुलिस के लिए विकास दुबे से बड़ी चुनौती बना गोरखपुर का ये बदमाश, दारोगा सहित परिवार के चार लोगों की कर चुका है हत्या

इस मामले में छह नामजद और चार अज्ञात पर केस दर्ज हुआ। विकास को छोड़कर सभी आरोपियों को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। रूप बदलकर विकास कोर्ट में हाजिर हो गया था। जेल से छूटने के बाद भीखमपुर रोड में भी कुछ लोगों के घर पर चढ़ जमकर पिटाई किया। इस मामले में पुलिस ने जांच में उसका नाम निकाल दिया।
 
... और पढ़ें

गोरखपुर के 24 बदमाश लंबे समय से हैं लापता, विकास दुबे एनकाउंटर के बाद पुलिस को आई इनकी याद

प्रतीकात्मक तस्वीर
गोरखपुर जिले के 24 बदमाश सालों से फरार हैं। हैरत की बात है कि पुलिस इनसे बेखबर थी। कानपुर कांड के बाद जब पुलिस ने बदमाशों की सूची अपडेट करनी शुरू की, तो इनके बारे में पता चला। अब पुलिस ने इन बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है। एडीजी ने कई बदमाशों पर इनाम की राशि भी बढ़ा दी है।

जानकारी के मुताबिक, वांछित बदमाशों को पकड़ने में जोन में गोरखपुर पुलिस नौवें नंबर पर है। सिर्फ 40 फीसदी ही टारगेट पूरा हो पाया है। पुलिस बदमाशों की तलाश में जाती है और नहीं मिलने पर लापता होने की रिपोर्ट तैयार कर फाइल को बंद कर देती है।

इसे भी पढ़ें-
खपरैल का मकान गिरने से बेघर हुए पूर्व विधायक, ईमानदारी ऐसी कि एक मकान तक नहीं बनवा पाए

अब ऐसे बदमाशों पर एडीजी दावा शेरपा की नजर पड़ गई है और वे एक-एक बदमाश की फाइल को  खुलवा रहे हैं। यही नहीं, पुलिस को टारगेट देकर इनको पकड़ने का आदेश भी दिए हैं। फिलहाल पुलिस ने लंबे समय से लापता इन बदमाशों की तलाश शुरू कर दी है।

एडीजी जोन दावा शेरपा ने कहा कि कई बदमाशों पर इनाम राशि बढ़ाई गई है। बदमाशों के ना पकड़े जाने पर एसपी से जवाब तलब किया गया है।
 
... और पढ़ें

गोरखपुर में तो 'गरजने वाले बादल' भी बरस रहे, यहां पल-पल बदल रहा मौसम का मिजाज

गोरखपुर शहर में जलभराव से हैं परेशान, डायल करें ये टोल फ्री नंबर

गोरखपुर में लगातार हो रही बारिश से मोहल्लों में हो रहे जलभराव से राहत को लेकर नगर निगम ने टोल फ्री नंबर जारी किया है। नगर आयुक्त अंजनी कुमार सिंह ने बताया कि जलभराव एवं कोविड -19 को देखते हुए नगर निगम में स्थापित कंट्रोल रूम 24 घंटे क्रियाशील रहेगा।

लोग कभी भी लैंडलाइन नंबर 0551-2342621 एवं टोल फ्री नं‪0-1800-180-3456‬ पर शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

नगर आयुक्त ने अपील की है कि शहर के अंदर किसी भी क्षेत्र में जलभराव, गंदगी दिखाई देती है तो इसकी सूचना नगर निगम के कंट्रोल रूम में दी जा सकती है। समस्या का त्वरित समाधान किया जाएगा। कंट्रोल रूम में ड्यूटी के लिए कर्मचारियों की तैनाती कर दी गई है।
... और पढ़ें

जानिए किन मरीजों की होगी टीबी और एचआईवी जांच, 'दस्तक' में ढूंढे जाएंगे इस बीमारी के मरीज

गोरखपुर जिले में 16 जुलाई से शुरू होने वाले दस्तक अभियान में आशा कार्यकर्ता घर-घर जाकर कालाजार के सक्रिय मरीज ढूंढेंगी। कोविड-19 प्रोटोकॉल का पालन करते हुए कालाजार के एक्टिव केस डिटेक्शन (एसीडी) अभियान के जरिए जो भी मरीज ढूंढे जाएंगे, उनकी कालाजार की आरके-39 जांच के अलावा अनिवार्य तौर पर टीबी और एचआईवी जांच होगी।

सीएमओ डॉ श्रीकांत तिवारी ने बताया कि प्रशिक्षण प्राप्त कर चुके सभी प्रशिक्षु अपने-अपने सीएचसी-पीएचसी से जुड़ी आशा कार्यकर्ता को कालाजार के संबंध में जानकारी करेंगे और उन्हें कोविड काल में एसीडी को सफल बनाने के तरीके बताएंगे। राज्य स्तर पर वेक्टर बार्न कार्यक्रम के एडी डॉ. वीपी सिंह ने प्रशिक्षण के दौरान जो निर्देश दिए हैं उसका पालन भी करवाया जाएगा।

 
... और पढ़ें

सीमा पार मौजूद बेटियों को सता रही है इस बात की चिंता, बोली- कहीं छूट ना जाए मायका'

शादी के बाद नेपाल में जाकर बसी इस देश की बेटियों को नागपंचमी और रक्षाबंधन में मायके नहीं पहुंच पाने की चिंता सता रही है। कोरोना संकट में सीमा सील किए जाने से परेशान सीमा क्षेत्र में रहने वाली बेटियों और उनके माता पिता ने अनंत काल से आ रही परंपरा को बरकरार रखे जाने की अपील नेपाल और भारत सरकार से की है।
 
वरिष्ठ नागरिक सीताराम कहते हैं कि अयोध्या नरेश दशरथ के पुत्र राम की नेपाल के जनकपुर में शादी से भी पहले से नेपाल और भारत के बीच रोटी बेटी का संबंध चला आ रहा है। प्राचीन काल से मुगलों और फिर ब्रिटिश काल में भी इन दोनों देशों के बीच सांस्कृतिक संबंध बरकरार रहे। संबंध इतने प्रगाढ़ रहे कि दोनों देशों में सीमा पर रहने वालों में सैकड़ों साल से वैवाहिक संबंध होते आए हैं।

इसे भी पढ़ें-
भारतीय सामानों को अब नेपाल तक पहुंचाना होगा आसान, रेलवे ने दिया ये खास तोहफा

वरिष्ठ नागरिक त्रिजुगीनाथ अग्रहरि चिंता जताते हैं कि कोरोना लॉकडाउन और अब नक्शे का विवाद, नेपाल सरकार का रवैया भारत के प्रति बदला है जो कि क्षेत्र के सामाजिक-सांस्कृतिक संबंधों के लिए सोचनीय है। सीमा सील होने पर सीमा पार ब्याही गईं दोनों ओर की बेटियां इस बार मायके आकर भाई को राखी बांध पाएंगी या नहीं यह इस पर अनिश्चय की स्थिति है।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us