विज्ञापन
विज्ञापन
देवठान पर वृन्दावन में कराएं तुलसी विवाह, बदल जाएगी आपकी किस्मत ! जल्दी कीजिये कुछ ही स्लॉट शेष
Puja

देवठान पर वृन्दावन में कराएं तुलसी विवाह, बदल जाएगी आपकी किस्मत ! जल्दी कीजिये कुछ ही स्लॉट शेष

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

यूपी: गंडक नदी में पलटी नाव, एक की मौत, छह लोग बचाए गए

घटनास्थल पर मौजूद लोग। घटनास्थल पर मौजूद लोग।

यूपी: गोरखपुर में क्लीनिक कर्मचारी का गोली से उड़ाया भेजा, मोबाइल और कागजात से हुई शिनाख्त

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां गीडा थाना क्षेत्र के गाहासाड़ रेलवे पुल के पास मंगलवार रात करीब दस बजे घात लगाकर बैठे बदमाशों ने क्लीनिक के कर्मचारी ओंकार उपाध्याय (40) का भेजा गोली से उड़ा दिया। मौके पर हेलमेट गिरा था और सिर मांस के लोथड़े में बदल गया था।

हत्या की खबर पाते ही घरवाले और पुलिस मौके पर पहुंचे। फोरेंसिक टीम भी बुलाई गई, लेकिन हत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी। ओंकार के भाई ने किसी से दुश्मनी से इनकार किया है। मोबाइल और कागजात से ओंकार की शिनाख्त की गई।
 
जानकारी के मुताबिक, संतकबीरनगर के सरकारी अस्पताल में तैनात डॉ. मोहन झा गीडा सेक्टर-23 में रहते हैं। वह अपने आवास में ही क्लीनिक चलाते हैं। लंबे समय से क्लीनिक का काम चिलुआतल के मोहम्मदपुर निवासी रामनवल उपाध्याय के पुत्र ओंकार उपाध्याय देखा करते थे।
... और पढ़ें

कोरोना संकट से पहले मरीजों ने अल्ट्रासाउंड के लिए जमा किए थे शुल्क, अब टालमटोल कर वापस नहीं कर रहे रुपये

एम्स (अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान) गोरखपुर में कोरोना संकट से पहले 100 से अधिक मरीजों ने अल्ट्रासाउंड के लिए 323 रुपये फीस जमा की थी। बाद में कोरोना संकट के चलते एम्स बंद हो गया, और इन लोगों का अल्ट्रासाउंड नहीं हो पाया। मरीजों का कहना है कि अब जमा रुपये वापस नहीं किया जा रहा है।
 
कुशीनगर के हाटा निवासी 60 वर्षीय बाबू लाल विश्वकर्मा ने 18 मार्च को एम्स में अल्ट्रासाउंड कराने के लिए पैसा जमा किया था। उन्होंने बताया कि जब एम्स खुला तो रुपये वापस लेने गया तो प्रार्थना पत्र लिखने को कहा गया। उसे लिखकर दिया गया तो एक सप्ताह बाद फिर से बुलाया गया। पुन: आने पर वेबसाइट बदलने की बात कहते हुए डायरेक्टर से मिलने की बात कही गई। दो बार आने पर उससे ज्यादा खर्च हो गए। अब रुपये की आस छोड़ दी है।
 
इसी तरह देवरिया के बेलवा पांडेय निवासी पांच वर्षीय बच्ची के अल्ट्रासाउंड के लिए पिता प्रकाश नारायण ने दो मार्च को शुल्क जमा की थी, लेकिन अल्ट्रासाउंड नहीं हुआ। प्रकाश नारायण ने बताया कि अब रुपये की वापसी के लिए उन्हें एक से दूसरे टेबल पर भेजा जा रहा है।  
 
एम्स उप चिकित्सा अधीक्षक डॉ. गौरव गुप्ता ने बताया कि मामले की जानकारी नहीं थी। जिनके रुपये जमा हैं, यदि वे अल्ट्रासाउंड कराना चाहते हैं तो  किया जाएगा। नहीं तो उनके रुपये वापस कर दिए जाएंगे।
... और पढ़ें

पराली कम जलने और तेज पछुवा हवा चलने से पर्यावरण ले रहा राहत की सांस, यहां देखें एयर क्वालिटी इंडेक्स

AIIMS Gorakhpur
उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में लगातार पछुवा हवा चलने और पराली कम जलाने से पर्यावरण भी राहत की सांस ले रहा है। प्रदूषण नहीं बढ़ने से हवा की गुणवत्ता सुधरी है। दिवाली के दिन एयर क्वालिटी इंडेक्स (एक्यूआई) खराब होकर 190 तक पहुंच गया था। दिवाली के बाद से वायु गुणवत्ता सूचकांक 130 से 150 के बीच बना हुआ है। हालांकि, हवा की यह गुणवत्ता भी अच्छी नहीं मानी जाती है, लेकिन पिछले कुछ दिनों में आया सुधार थोड़ी राहत देने वाला जरूर है।

बता दें कि दिल्ली समेत एनसीआर में एयर क्वालिटी इंडेक्स पिछले महीने भर से 300 से 400 के बीच बना हुआ है। वहीं, गोरखपुर में यह आंकड़ा 130 तक पहुंच गया है। विशेषज्ञों के अनुसार हवा की गुणवत्ता में सुधार पराली पर रोक की वजह से भी हुआ है। वहीं, पछुवा हवा की तेज रफ्तार भी इसे बेहतर बनाने में सहायक रही है।

11 किलोमीटर से ज्यादा रफ्तार से चल रही पछुवा हवा
मौसम विशेषज्ञ कैलाश पांडेय के अनुसार पिछले कुछ दिनों से पछुवा हवा चल रही है। इसकी रफ्तार 11 किलोमीटर से ज्यादा बनी हुई है। इस वजह से हवा की गुणवत्ता थोड़ी बेहतर बनी हुई है। दूसरी वजह यह भी है कि इस बार पराली जलाने की मात्रा में भी काफी कमी आई है। हालांकि, अब पुरवा हवा चलने लगी है। ऐसे में एक्यूआई के फिर से खराब होने की आशंका है। पुरवा हवा चलने से हवा में नमी बढ़ जाती है और प्रदूषण ऊपर की ओर नहीं जा पाता है।
... और पढ़ें

कोरोना की दूसरी लहर को दखते हुए जिला प्रशासन अलर्ट, त्योहार के लिए आए लोगों की होगी कोरोना जांच

कोरोना की दूसरी लहर को देखते हुए गोरखपुर जिला प्रशासन ने संक्रमितों की तलाश तेज कर दी है। जिला प्रशासन ने पूर्वोत्तर रेलवे और एयरपोर्ट अथॉरिटी से दिवाली से छठ के दौरान दिल्ली से गोरखपुर आए लोगों की सूची मांगी है। इन सभी की कोरोना जांच कराई जाएगी।

दिल्ली में कोरोना के लगातार बढ़ते मामलों को देखते हुए जिला प्रशासन भी सजग हो गया है। वहां से आने वाले हर व्यक्ति की जांच की तैयारी शुरू कर दी गई है। दिवाली एवं छठ पर्व (10 से 19 नवंबर के बीच) पर 10 दिनों के भीतर आने वालों की सूची रेलवे और एयरपोर्ट अथारिटी से मांगी गई है।

अनुमान है कि ऐसे करीब सवा दो लाख लोग होंगे। सूची के अनुसार उनसे संपर्क कर उनके घर मेडिकल टीमें भेजी जाएंगी और उनकी तथा परिवार के सदस्यों की कोरोना जांच कराई जाएगी। जो लोग वापस जा चुके होंगे, उनके स्वजनों की जांच होगी।

जानकारी के मुताबिक, पहले से काम कर रही रैपिड रिस्पांस टीम (आरआरटी) एवं घर-घर दस्तक देने वाली सर्विलांस टीम को दोबारा सक्रिय कर दिया गया है। ट्रेन एवं हवाई जहाज से आने वाले लोगों का विवरण तो मिल गया है, लेकिन बस एवं अन्य साधनों से पहुंचने वाले लोगों का विवरण मिलना मुश्किल है। इसे देखते हुए पंचायतों के सहयोग से बाहर से आए लोगों की पहचान कर उनकी जांच कराई जा रही है। सर्विलांस टीम घर-घर जाकर भी उनकी पहचान करेगी।
... और पढ़ें

गोरखपुर: उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी व भाजपा नेता में मारपीट, एफआईआर

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के गोला थाना क्षेत्र के बेबरी चौराहे पर स्थित एक मेडिकल स्टोर पर मंगलवार को उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी व भाजपा नेता में मारपीट हो गई। आरोप है कि भाजपा नेता ने मारपीट करने के साथ ही जातिसूचक गालियां भी दीं। दोनों पक्षों ने थाने में तहरीर दी है। खबर लिखे जाने तक पुलिस ने चिकित्सक की तहरीर पर भाजपा नेता अनिल भट्ट, उनके भाई व एक सहयोगी के खिलाफ मुकदमा पंजीकृत किया है।

जानकारी के मुताबिक, कस्बा स्थित पशु चिकित्सालय में डॉ. समदर्शी सरोज उप मुख्य पशु चिकित्साधिकारी के पद पर तैनात हैं। वह बेवरी चौराहे पर किराए की मकान में रहते हैं। उनका आरोप है कि मंगलवार की दोपहर वह बेवरी चौराहे पर स्थित एक मेडिकल स्टोर पर खड़े थे। उसी दौरान वहां मौजूद इंद्रमणि भट्ट से उनकी बाइक पर लदे पशु चिकित्सा उपकरण को लेकर कहासुनी होने लगी। इसी दौरान उनके बड़े भाई व भाजपा नेता अनिल भट्ट व नवनीत राय भी पहुंच गए और तीनों ने मिलकर उनकी पिटाई कर दी।

दूसरी ओर भाजपा किसान मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष अनिल भट्ट का कहना है कि उनका भाई पशु मित्र है। वह मेडिकल स्टोर पर डिस्टिल्ड वाटर लेने गया था। वहां मौजूद उप मुख्य चिकित्साधिकारी उनके भाई से कमीशन की मांग करने लगे। जिसको लेकर उन लोगों में कहासुनी होने लगी। विवाद होता देख बीचबचाव करने गया तो चिकित्सक ने हमें भी गाली और धमकी दी।

इस संबंध में कोतवाल संतोष कुमार सिंह का कहना है कि दोनों पक्षों में बहुत छोटी सी बात को लेकर विवाद हुआ है। दोनों पक्षों ने तहरीर दी है। एक पक्ष की तहरीर पर मारपीट, गालीगलौज व जानमाल की धमकी देने के साथ ही एससी-एसटी एक्ट की धारा में मुकदमा पंजीकृत किया गया है।
... और पढ़ें

गोरखपुर: नाबालिग के हाथ में थी गाड़ी की स्टेयरिंग, कुचलकर कोटेदार की मौत

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले के हरपुर बुदहट इलाके के सुगौना भट्ठे के पास ट्रैक्टर-ट्रॉली से कुचलकर कोटेदार राजेंद्र सिंह (72) की मौत हो गई। पता चला है कि ट्रैक्टर-ट्रॉली एक नाबालिग चला रहा था। इसे लेकर क्षेत्र के लोगों में काफी आक्रोश है।

सूचना पर पहुंची पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रॉली को कब्जे में लेकर चालक और उसके साथ मौजूद एक अन्य व्यक्ति को हिरासत में ले लिया। लोगों ने इलाके में बेतरतीब तरीके से चल रहे वाहनों पर अंकुश लगाने की मांग की है। जिस पर सीओ खजनी योगेंद्र कृष्ण ने आश्वासन दिया है।

जानकारी के मुताबिक, सिधौली निवासी राजेंद्र सिंह गांव के कोटेदार थे। ई-पॉस मशीन खराब हो गई थी, जिससे राशन वितरण करने में दिक्कत आ रही थी। मंगलवार को सुबह 9 बजे के करीब साइकिल से वह इसी मशीन को बनवाने के लिए गए थे। वह सुगौना स्थित भट्ठे के पास पहुंचे थे कि मोड़ पर एक किशोर तेज रफ्तार से ट्रैक्टर चलाते हुआ आ रहा था। उसने साइकिल में ठोकर मार दी, जिससे राजेंद्र गिर कर ट्रैक्टर के पहिये के नीचे दब गए। उनकी मौके पर ही मौत हो गई।

आसपास के लोग घटना देखकर दौड़े और ट्रैक्टर चालक को पकड़ लिया। घटना की सूचना उनके घरवालों और पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। पुलिस ने ट्रैक्टर-ट्रॉली को कब्जे में ले लिया। किशोर चालक और उसके साथ मौजूद एक अन्य व्यक्ति को पुलिस ने हिरासत में ले लिया। थानाध्यक्ष सुरेश चंद्र राव ने बताया कि तहरीर मिलने पर मुकदमा दर्ज किया जाएगा।
... और पढ़ें

काम की खबरें: पूर्वोत्तर रेलवे में 5196 पदों पर होगी भर्ती, गोरखपुर को मिलेंगे 600 और शिक्षक

रेलवे में ग्रुप 'सी' व ग्रुप 'डी' में तीन वर्गों में भर्ती के लिए 15 दिसंबर से होने वाली कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा के लिए तैयारी शुरू कर दी गई हैं। पूर्वोत्तर रेलवे में कुल 5196 पदों पर भर्ती के लिए परीक्षाएं जून 2021 तक चलेंगी। परीक्षा केंद्रों पर कोरोना प्रोटोकॉल का पालन अनिवार्य है। कम संख्या में ही परीक्षार्थियों को बुलाया जाएगा। रेलवे बोर्ड के चेयरमैन विनोद कुमार यादव ने सभी जोनल रेलवे के महाप्रबंधकों को सहयोग करने व संसाधनों को उपलब्ध कराने के लिए पत्र लिखा है।

रेलवे भर्ती बोर्ड ने पूर्वोत्तर रेलवे में ग्रुप 'सी' के 1279 और ग्रुप 'डी' में 3917 के पद पर भर्ती करने की स्वीकृति प्रदान की है। जिसमें गार्ड, क्लर्क, ट्रैकमैन, प्वाइंटमैन आदि के पद शामिल हैं। पूर्वोत्तर रेलवे में ऑनलाइन परीक्षा के लिए केंद्र निर्धारण गोरखपुर रेलवे भर्ती बोर्ड करेगा। कोविड-19 के नियमों को पालन करते हुए ऑनलाइन परीक्षा केंद्र बनाए जाएंगे।
 
देश भर में 2.4 करोड़ अभ्यर्थी देंगे परीक्षा
परीक्षा की पूरी जिम्मेदारी रेलवे बोर्ड पर होगी। ग्रुप ‘सी’ और ‘डी’ के (लेबल वन, नान टेक्निकल और लिपिकीय संवर्ग) 1.4 लाख पदों पर तैनाती के लिए भारतीय रेलवे के पूर्वोत्तर रेलवे सहित सभी जोन में कंप्यूटर बेस्ड परीक्षा आयोजित कराई जाएगी। इस परीक्षा में 2.4 करोड़ अभ्यर्थी प्रतिभाग करेंगे।

दिसंबर पहले सप्ताह से डाउनलोड होंगे प्रवेशपत्र
देश भर से आए आवेदन फॉर्म की छंटनी पूरी कर ली गई है। दिसंबर के प्रथम सप्ताह से प्रवेश पत्र डाउनलोड होने लगेंगे। परीक्षा केंद्रों का निर्धारण जोनल स्तर पर ही की जाएगी। जहां रेलवे प्रशासन की मौजूदगी में अभ्यर्थी ऑनलाइन परीक्षा देंगे।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X