विज्ञापन

आतंकियों से मोर्चा लेने में माहिर हैं यह अफसर, चुनौतियों के बीच बीती है नौकरी

डिजिटल न्यूज डेस्क, गोरखपुर Updated Sat, 18 Jan 2020 07:17 AM IST
विज्ञापन
जिले के एसएसपी डॉ. सुनील कुमार गुप्ता
जिले के एसएसपी डॉ. सुनील कुमार गुप्ता - फोटो : अमर उजाला
ख़बर सुनें
वैसे तो सभी अफसरों को हर बदमाश, आतंकी से निपटने की ट्रेनिंग दी जाती है लेकिन एक अफसर ऐसे में भी है जो इसमें माहिर है। इनकी ज्यादातर नौकरी ऐसी चुनौतियों के बीच ही बीती है। यह कोई और नहीं अपने जिले के एसएसपी डॉ. सुनील कुमार गुप्ता हैं। 2007 बैच के आईपीएस डॉ. सुनील कुमार मूलरूप से लखनऊ शहर के मूल निवासी हैं। संगीत से पीएचडी करने के बाद आल इंडिया पुलिस सर्विस में आए और जम्मू कैडर के आईपीएस हैं।
विज्ञापन
पिता स्व. केके गुप्ता के सपनों को पूरा करते हुए इस सेवा में आने के बाद कई चुनौतियां भी झेल चुके हैं। वह बताते हैं, अक्सर ही जम्मू में तनाव की स्थिति हो जाती थी, कई बार तो बदमाशों के बीच घिरने के बाद निकलने के लिए खुद ही मोर्चा भी संभालना पड़ा था। 30 नवंबर 2018 से गोरखपुर में बतौर एसएसपी तैनात हैं।
विज्ञापन
विज्ञापन

Recommended

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न
Invertis university

मैसकट रिलोडेड- देश की विविधता में एकता का जश्न

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020
Astrology Services

विवाह संबंधी दोषों को दूर करने के लिए शिवरात्रि पर मल्लिकार्जुन ज्योतिर्लिंग में कराएं रुद्राभिषेक : 21-फरवरी-2020

विज्ञापन
अमर उजाला की खबरों को फेसबुक पर पाने के लिए लाइक करें
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

कोरोनावायरस: चीन के वुहान से लौटे 406 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव, जल्द जा सकेंगे अपने घर

वुहान से भारत लाए गए 406 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। इन सभी लोगों को आईटीबीपी के सुविधा केंद्र में रखा गया था। अब ये सभी जल्द अपने घर जा सकेंगे।

16 फरवरी 2020

Most Read

Gorakhpur

डॉ. कफील के खिलाफ रासुका के तहत मामला दर्ज, अब नहीं होगी जेल से रिहाई

बीआरडी मेडिकल कॉलेज में ऑक्सीजन की कमी से बच्चों की मौत के आरोपित डॉ. कफील की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं।

14 फरवरी 2020

विज्ञापन
आज का मुद्दा
View more polls

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us