इस दर्दनाक कहानी को पढ़कर भर आएंगी आपकी आंखें, जानिए एक घिनौनी साजिश ने कितनों को कर दिया तबाह

शिवम सिंह/राहुल कुमार सिंह/दिनेश श्रीवास्तव गोरखपुर। Updated Sat, 24 Oct 2020 04:38 PM IST
विज्ञापन
साजिशों का कटा जाल, पर अब भी हैं कई मलाल।
साजिशों का कटा जाल, पर अब भी हैं कई मलाल। - फोटो : अमर उजाला।

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर
कहीं भी, कभी भी।

*Yearly subscription for just ₹299 Limited Period Offer. HURRY UP!

ख़बर सुनें
बेआबरू हुए, अपनों की नजरों में गिरे, कंगाल हुए और पेशानी पर वह पहचान चस्पा हो गई, जिससे उनका दूर-दूर तक कोई वास्ता ही नहीं था। जीते जी मार देने वाली यह कहानी उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर के हर उस शख्स की है, जो किसी की घिनौनी साजिश का शिकार हो गया। एक साजिश ने उसे कातिल बना दिया। दुष्कर्मी बना दिया। और न जाने कैसी-कैसी घिनौनी पहचान उस पर जमाने और पुलिस की कलम ने चस्पा कर दी।
विज्ञापन

 
कुछ पर ऊपर वाले की मेहर हुई और पुलिस की कलम की इबारत बदल गई। नतीजा, अब वे पुलिस के कागजों में कातिल नहीं हैं, न ही दुष्कर्मी। ये उनके लिए अंतहीन काली रात के दौरान सुबह होने जैसा है। मगर, इस रात की सुबह नहीं होती तो...? पूरी जिंदगी जेल में गुजरती, परिवार तिल-तिल मरता। अब जब वह स्याह रात गुजर गई तो उनके दिल में बस एक मलाल है, जिसने उनकी और उनके अपनों की जिंदगी को दोजख बना दिया, क्या उनसे कोई सवाल करेगा? क्या उनकी करनी का कोई फल उन्हें कभी मिलेगा? उन पुलिस वालों का क्या होगा, जो किसी साजिशिए का हथियार बन गए?
पीड़ितों के मन में सवालों का तूफान है। सबक सिखाने को सख्त कानून है, फिर भी जिम्मेदार पुलिस की कलम ऐसे घिनौने साजिशियों को सजा दिलाने के नाम पर नपुंसक क्यों हो जाती है? क्यों न्याय के बीज नहीं बो पाती? पुलिस अधिकारियों को उनकी जिम्मेदारी कौन बताएगा? उन पुलिसवालों को क्या कोई इनाम मिलेगा, जिन्होंने किसी फरिश्ते की तरह साजिश के शिकार उन जैसों की बिगड़ी तकदीर संवार दी? दिल को शीशे की मानिन्द किर्च-किर्च कर देने वाले ये तमाम अहसास और सवाल, अमर उजाला को उन्हीं वक्त के मारों से मिले, जिनका वजूद साजिश के जाल में फंसकर तिनके की तरह बिखर गया। आइए दिल को छू लेने वाले ऐसे ही कुछ अहसास आपसे साझा करते हैं। हम दुआ करते हैं और आप भी करें कि ऐसे दिन किसी को न दिखाए। तो चलिए आज एक अनछुए-अनदेखे सफर पर-
विज्ञापन
आगे पढ़ें

केस- 1

विज्ञापन
विज्ञापन
सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट अमर उजाला पर पढ़ें हर राज्य और शहर से जुड़ी क्राइम समाचार की
ब्रेकिंग अपडेट।
 
रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें अमर उजाला हिंदी न्यूज़ APP अपने मोबाइल पर।
Amar Ujala Android Hindi News APP Amar Ujala iOS Hindi News APP
विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X