विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन

गोरखपुर

सोमवार, 30 मार्च 2020

Corona: सांसद रवि किशन ने एक माह का वेतन, 50 लाख रुपये की सहायता दी

कोरोना वायरस की चुनौतियों से निपटने के लिए शहर लोकसभा क्षेत्र से भाजपा सांसद रवि किशन ने पीएम राहत कोष में 50 लाख रुपये जमा कराए हैं। रवि किशन ने एक महीने का वेतन भी देने का एलान किया है। दूसरी ओर ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र से भाजपा विधायक विपिन सिंह ने 10 लाख रुपये की आर्थिक सहायता देने का ऐलान किया है।

कोरोना वायरस की चुनौतियों के बीच सांसद और विधायकों ने खजाना खोल दिया है। कुशीनगर के खड्डा विधानसभा क्षेत्र भाजपा विधायक जटाशंकर त्रिपाठी ने भी अपनी निधि से 10 लाख रुपये की सहायता दी है।

 इसी तरह सांसद रवि किशन ने भी पहल की। सांसद का कहना है कि कोरोना वायरस से निपटने में हर किसी को सहयोग करना होगा। अब जरूरत चिकित्सकीय सुविधा बढ़ाने की है। सांसद ने कोरोना आपदा राहत सामग्री वितरण की व्यवस्था भी की है। किसी भी तरह की जरूरत के लिए फोन नंबर 9415450950, 8528958620 और 0551-2272211 पर संपर्क किया जा सकता है।

फोन करें, किराना का सामान मंगवाएं
 शहरवासियों की सहायता के लिए अब किराना स्टोर संचालक खुद आगे आ रहे हैं। भगत चौराहा स्थित बृजेश प्रोविजन स्टोर के मालिक विश्वेसर गुप्ता ने कहा कि मोबाइल नंबर 9935877896 पर व्हाट्स एप या फिर फोन करके किराना का सामान मंगवाया जा सकता है। भगत चौराहा, कैलाशपुरी कॉलोनी, कजाकरपुर, सिद्धार्थ इंक्लेव, रेल बिहार, बुुुद्वबिहार पार्ट सी तक होम डिलीवरी भी की जाएगी।
... और पढ़ें

कोरोना: 94 बंदी आठ हफ्ते के पैरोल पर मंडलीय कारागार से किए गए रिहा

कोरोना के बढ़ते प्रकोप की वजह से मंडलीय कारागार में बंद 94 बंदियों को शनिवार की देर रात आठ हफ्ते के पैरोल पर रिहा कर दिया। सरकार से आदेश आने के बाद जेल प्रशासन ने देर शाम कोर्ट से अंतरिम जमानत लिया। जिसके बाद जेल प्रशासन ने जिला प्रशासन से गाड़ी मंगाकर देर रात दस बजे पुलिस सुरक्षा में इन्हें इनके घर के लिए रवाना किया।

प्रदेश की सभी जेलों में इस समय क्षमता से दोगुने बंदी और कैदी हैं। मंडलीय कारागार में भी क्षमता करीब 850 की है जबकि वर्तमान समय में करीब सत्रह सौ बंदी हैं। जिससे बंदियों में कोरोना फैलने का खतरा था। 

जिसे देखते हुए सुप्रीम कोर्ट ने देश के साथ ही प्रदेश के सभी जेलों से सात साल से कम सजा वाले कैंदियों, बंदियों और आदर्श बंदियों को पैरोल पर रिहा करने का निर्देश दिया था। जिसके बाद डीजी जेल ने सभी जेलों से ऐसे बंदियों और कैदियों की सूची मांगी थी।

गोरखपुर जेल प्रशासन ने कुछ दिनों पूर्व सात साल की सजा पा चुके 27 सजायाफ्ता कैदियों, सात साल से कम सजा के अपराध वाले आरोप में बंद 167 विचाराधीन बंदियों और हत्या के आरोप में आजीवन कारावास की सजा भुगत रहे तीन आदर्श कैदियों (जिनकी उम्र साठ वर्ष से ज्यादा हो चुकी है) सुदामा, वंशबहादुर और शेषनाथ की सूची भेजी थी। 

जिसके बाद शनिवार की दोपहर सीएम योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश के ग्यारह हजार बंदियों की घोषणा की थी। जिसमें गोरखपुर के 141 बंदियों को छोड़ने की अनुमति मिली। आदेश मिलने के बाद जेल प्रशासन ने कोर्ट से आठ सप्ताह के लिए इन बंदियों की अंतरिम जमानत मांगी। 

देर शाम सात साल से कम सजा वाले अपराध के आरोप में बंद 94 विचाराधीन बंदियों को अंतरिम जमानत मिल सकी। जिसके बाद जेल प्रशासन ने इन बंदियों को उनके घर पहुंचाने के लिए प्रशासन से गाड़ियां मांगी। 

प्रशासन से गाड़ियां मिलने के बाद देर रात दस बजे इन्हें जेल से रिहाकर घरों के लिए पुलिस सुरक्षा में रवाना किया गया। सोमवार को एक बार फिर कोर्ट के बैठने पर अन्य बंदियों व सजायाफ्ता कैदियों की रिहाई होने की संभावना है।
... और पढ़ें

लॉकडाउन के दौरान बीमार हैं तो न हों परेशान, बिना अस्पताल गए ही हो जाएगा इलाज

कोरोना वायरस से बचाव के लिए लॉकडाउन में अब प्राइेवट अस्पतालों के डॉक्टर भी मरीजों का सहयोग करेंगे। प्रशासन, आईएमए और क्विव एक्टशन टीम ने मोबाइल फोन पर सलाह देने की निर्णय लिया है। इसके लिए 12 बजे से लेकर दो बजे के बीच मरीज डॉक्टरों से संपर्क कर सलाह ले सकते हैं।

आईएमए के अध्यक्ष डॉ एसी कौशिक ने बताया कि कोरोना वायरस महामारी के बीच आईएमए हर कदम पर मरीजों के साथ खड़ा है। लॉकडाउन में ब्लड प्रेशर, शुगर, दमा, गठिया और कैंसर जैसे घातक बीमारी के मरीज डॉक्टरों के नंबर पर संपर्क कर इलाज के लिए सलाह ले सकते है।

चीफ कन्वेनर क्विक एक्शन टीम के चीफ डॉ शिवशंकर शाही ने बताया कि मरीजों को कोई दिक्कत न होने पाए। इसलिए यह फैसला लिया गया है। वही, मित्तल आई हास्पिटल ने भी मरीजों की सुविधा के लिए सुबह 10 बजे से लेकर 12 और शाम चार से छह बजे तजक वीडियो कॉल पर इलाज की सुविधा शुरू कर दी है। मरीज 812774430 पर वीडियो कॉल कर कोई भी जानकारी ले सकते है।
... और पढ़ें

LockDown: अब घर बैठने पर नहीं होगा बच्चों की पढ़ाई का नुकसान, बहुत काम की हैं ये 10 स्टडी ऐप

कोरोना वायरस की वजह से देश में लॉकडाउन की स्थिति बन गई है। ऐसे में बड़ों के साथ साथ बच्चे भी घर से बाहर नहीं निकल पा रहे हैं। समय बिताने के लिए अधिकतर बच्चे मोबाइल में वीडियो देखते रहते हैं, लेकिन आप अपने बच्चे के इस खाली समय का इस्तेमाल उसका ज्ञानवर्धन करने में कर सकते हैं।

यहां हम आपको कुछ एप के बारे में बताने जा रहे हैं जिनसे आप बच्चों को व्यस्त रख सकते हैं। यह बच्चों के लिए लर्निंग एप है इसमें बच्चे कई भाषाओं में सीख सकते हैं। इस एप में कोई छिपे हुए चार्ज नहीं हैं। वीडियो, एनिमेशन के माध्यम से हर टॉपिक के बारे में सटीक जानकारी दी जाती है।
                   
खान एकेडमी                          अंग्रेजी  - 
www.khanacademy.org             
नेशनल ज्योग्राफिक्स किड्स         साइंस  -  Kids.nationalgeographic.com   
सक्सेस सीडीज                        सभी विषय -  www.successcds.net
ऑडिबल, अमेजन                    अंग्रेजी और हिंदी (एक महीने का ट्रायल मुफ्त)- www.stories.audible.com
वेदांतु एप                               गणित, साइंस और अंग्रेजी - Vedantuapp
एग्जाम फियर                          गणित, अंग्रेजी, सामाजिक विज्ञान और साइंस-  www.examfear.com
बैजू                                      गणित, साइंस और कार्मस  (30 अप्रैल तक मुफ्त ट्रायल)
दीक्षा                                    सभी विषय - www.diksha.gov.in
एनसीईआरटी                         सभी विषय -   ncert.nic.in/ebooks.html
ई पाठशाला                            सभी विषय -   www.epathshala.nic.in

एबीसी पब्लिक स्कूल निदेशक हेमंत मिश्रा ने कहा कि स्कूल प्रबंधन की ओर से बच्चों को इन एप्लीकेशन्स के बारे में जानकारी दी जा रही है। बच्चों की हर समस्या का समाधान इसमें मौजूद है। खेल से फुरसत मिले तो घर बैठे बच्चे अपने सिलेबस की पढ़ाई कर सकते हैं। ... और पढ़ें
सांकेतिक तस्वीर। सांकेतिक तस्वीर।

कोरोना वायरस के शोर में गुम हो जाएगा 'पूर्वांचल बैंक', ये छह बैंक खो देंगे अपनी पहचान

कोरोना वायरस के शोर में एक अप्रैल से पूर्वांचल के सबसे बड़ा ग्रामीण बैंक की पहचान बदल जाएगी। तकरीबन 600 शाखाओं वाले पूर्वांचल बैंक का बड़ौदा यूपी ग्रामीण बैंक में विलय हो जाएगा। जुलाई 2019 में ही वित्त मंत्रालय ने इसकी मंजूरी दे दी थी। पूर्वांचल बैंक के अलावा काशी गोमती सम्युत ग्रामीण बैंक का भी विलय होगा। इस विलय के बाद बैंक ऑफ बड़ौदा के जीएम डीपी गुप्ता को पहला अध्यक्ष नामित किया गया है।

31 मार्च को क्लोजिंग के बाद मर्ज होगी तीनों बैंकों की बैलेंस शीट
बैंकों की क्लोजिंग 31 मार्च को होती है। ऐसे में तीनों बेंकों की बैलेंस शीट अलग अलग तैयार होगी। इसके बाद तीनों को मर्ज कर दिया जाएगा। इसके बाद अगले साल से बड़ौदा यूपी ग्रामीण बैंक का अपनी अलग बैलेंस शीट तैयार होगी।

16 डिजिट का हो जाएगा पूर्वांचल बैंक के अकाउंट नंबर
अभी पूर्वांचल बैंक का खाता संख्या 10 और 11 अंक का है, जबकि बैंक ऑफ बड़ौदा का 16 डिजिट का। ऐसे में विलय के बाद तीनों बैंकों के खाताधारकों के अकाउंट नंबर 16 अंकों का हो जाएगा। पूर्वांचल बैंक के क्षेत्रीय प्रबंधक एसएन सिंह ने बताया कि सामान्य तौर पर पूर्वांचल बैंक का जो भी अकाउंट नंबर उसके आगे शून्य-शून्य लगा दिया जाएगा। खाताधारकों पर इसका कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा।
... और पढ़ें

सीएम योगी ने दी सौगात, गोरखपुर के 86 हजार मनरेगा मजदूरों के खाते में कल आएंगे आठ करोड़

लॉकडाउन के दौरान तमाम तरह की दिक्कतों से जूझ रहे मनरेगा मजदूरों को सोमवार को बड़ी सौगात मिलेगी। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ में बटन दबाकर प्रदेश के सभी मनरेगा मजदूरों के खातों में उनकी लंबित मजदूरी भेजेंगे। गोरखपुर में 86 हजार मनरेगा मजदूरों के खातों में करीब आठ करोड़ रुपये पहुंचेंगे।

 यही नहीं सीएम सूबे के प्रत्येक जिले के एक-एक मनरेगा मजदूर से वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बात करेंगे। गोरखपुर से वनटांगिया गांव चिललिवां का मनरेगा मजदूर सीएम से रूबरू होगा। इसके लिए संबंधित मनरेगा मजदूर के मोबाइल पर ही स्काइप एप इंस्टाल किया जाएगा और वह मोबाइल पर ही सीएम को सुन व देख सकेगा।
 
सोमवार को सुबह 11 बजे से वनटांगिया ग्राम चिलबिलवा में आयोजित इस कार्यक्रम को लेकर जिला प्रशासन ने तैयारियां तेज कर दी हैं। सोशल डिस्टेंसिंग का विशेष ध्यान दिया जाएगा। जिले में करीब 1.78 लाख मजदूर मनरेगा से जुड़े हुए हैं।
... और पढ़ें

लॉकडाउन: दिल्ली से आए नेपाली नागरिकों को नेपाल में नहीं मिला प्रवेश, ये है बड़ी वजह

कोरोना वायरस को लेकर पूरे देश में लॉक डाउन के बाद दिल्ली सहित नोएडा, फरीदाबाद, गुड़गांव की सभी फैक्ट्रियां और होटल बंद होने से मजदूरों के लिए संकट लेकर आया है। काम बंद होने के बाद लोग घर को पलायन करने पर मजबूर हो गए हैं।

शनिवार की शाम सोनौली डिपो से गोरखपुर रवाना हुई डिपो की छह बसों में दिल्ली से गोरखपुर पहुंचे यात्रियों सोनौली लाया गया। जिसमें नेपाल के भी 22 यात्री शामिल हैं। जिन्हें नेपाल सरकार ने नेपाल प्रवेश की अनुमति नहीं दी। सभी सरहद के निकट सड़क पर वक्त काट रहे हैं।

एआरएम सीके भाष्कर ने बताया कि गोरखपुर से सोनौली के बीच के यात्री दिल्ली से गोरखपुर पहुंचे थे। जिन्हें प्रशासन की अनुमति के बाद गंतव्य तक पहुंचा दिया गया। नेपाल के नागरिकों को सीमा तक छोड़ दिया गया है।

नेपाल प्रशासन को कराया अवगत
दिल्ली से सोनौली पहुंचे नेपाल जाने के लिए 22 नेपाली नागरिकों के सीमा पर रोके जाने की सूचना के बाद सोनौली पहुंचे एसडीएम नौतनवां जसधीर सिह यादव ने नेपाल प्रशासन से बातचीत की। उन्होंने बताया कि नेपाली यात्री भारत में रुकने के लिए तैयार नहीं हो रहे हैं। जिसकी सूचना नेपाल के अधिकारियों को दी गई है। 14 दिन कवारेंटीन में रखने पर वार्ता चल रही है।
... और पढ़ें

सीएम योगी से प्रेरित है ये नन्हा बालक, कोरोना की जंग में देश को सौंप दी अपनी खास चीज

इंडो नेपाल बार्डर पर दिल्ली से आए नेपाली नागरिक।
कोरोना वायरस की जंग में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री आदित्यनाथ की अपील के बाद देश के कोने-कोने से लोग मदद के लिए हाथ बढ़ा रहे हैं। ऐसे में उत्तर प्रदेश के बस्ती जिले में एक नन्हा बालक जो सीएम योगी से प्रेरित है। उसने अपनी सबसे प्यारी चीज, अपनी गुल्लक जिलाधिकारी को सौंप दी है।

शहर के आवास विकास कालोनी निवासी छह वर्षीय देवेश्वर नाथ ने अपने रोज की जमा गुल्लक डीएम आशुतोष निरंजन को दे दिया। डीएम से उसने इस धन को गरीब व असहायों की सेवा में लगाने की बात कही।

हियुवा के जिला प्रभारी अज्जू हिंदुस्थानी के पुत्र देवेश्वर नाथ योगी आदित्य नाथ से बेहद प्रभावित हैं। शनिवार से ही वे घर में जिद करने लगे कि उन्हें भी दान देना है। घर वालों से समझाया तो उन्होंने अपनी गुल्लक दान करने की बात कह दी।

तमाम प्रयास के बाद जब वे नहीं मानें तो पिता अज्जू हिंदुस्थानी रविवार को डीएम आशुतोष निरंजन के पास बच्चे को लेकर पहुंच गए। योगी आदित्यनाथ से प्रेरित बच्चे ने उन्हीं की वेशभूषा भी धारण कर रखी थी।

उक्त की पुष्टि करते हुए जिला प्रभारी ने कहा कि देवेश्वरनाथ ने आम जन को यह संदेश दिया है कि वे अपनी बचत का कुछ हिस्सा इस आपदा में सरकार को भेंट करें, जिससे लोगों की सेवा हो सके।
... और पढ़ें

LockDown: भूखे प्यासे घर की ओर कदम बढ़ा रहे लोग, जो फंसे हैं वो लगा रहे मदद की गुहार

संतकबीरनगर: हादसे में बाइक सवार युवक की मौत, दूसरा गंभीर

राष्ट्रीय राजमार्ग स्थित मगहर दुर्गा मंदिर चौराहे पर रविवार को कार की चपेट में आने से बाइक सवार युवक की मौत हो गई। जबकि बाइक पर पीछे बैठा दूसरा युवक गंभीर रूप से घायल हो गया। 

सूचना पर पुलिस दोनों को जिला अस्पताल ले गई,जहां एक युवक को डॉक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। जबकि दूसरे का उपचार शुरू किया। पुलिस ने पीड़ित परिजनों को घटना की सूचना दी।

मगहर चौकी इंचार्ज आनंद कुमार सिंह ने बताया कि नोएडा से मुजफ्फरपुर बिहार जा रही कार की चपेट में बाइक सवार दो युवक आकर घायल गए। जबकि कार क्षतिग्रस्त हुई, लेकिन उसमें सवार लोग बाल-बाल बच गए। 

हादसे में घायल बाइक सवार 22 वर्षीय रामकुमार शर्मा उर्फ अमन शर्मा पुत्र घनश्याम शर्मा निवासी पश्चमी बंजरिया कोतवाली खलीलाबाद की इलाज के दौरान जिला अस्पताल में मौत हो गई। जबकि दूसरे घायल 21 वर्षीय मैनुद्दीन पुत्र नबूज अहमद निवासी नेदुला चौराहा का उपचार चल रहा है। 

घायल की हालत गंभीर बताई जा रही है। पीड़ित परिजनों को सूचना दे दी गई। शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। पीड़ित पक्ष की तरफ से तहरीर मिलने पर केस दर्ज कर आगे की कार्रवाई की 
... और पढ़ें

गोरखपुर में हैं तो यहां कराएं कोरोना की जांच, टोल फ्री नंबर से भी ले सकते हैं मदद

कोरोना वायरस की चपेट से बचने के लिए पूरे देश में लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में गोरखपुर में रहने वाले लोग कोरोना की जांच आसानी से करवा सकते हैं। बताया जा रहा है कि सामान्य बीमार होने पर भी खुद दवा न खाएं और न ही निजी अस्पतालों में जांच कराने की सोचें। जिला अस्पताल के फ्लू कॉर्नर ओपीडी में जांच कराएं।

डॉक्टरों की सलाह पर दवा का सेवन करें। अगर लगता है कि जाने की स्थिति में नहीं हैं स्वास्थ्य विभाग के टोल फ्री नंबर 18001805145 पर या फिर जिले के कंट्रोल रूम 0551-2205145 पर संपर्क दें। अब तक निजी अस्पतालों में जांच की कोई व्यवस्था नहीं है।

कोरोना के लक्षण महसूस हो तो जांच कराएं
अगर कोरोना के लक्षण महसूस हो रहे हैं तो तत्काल जिला अस्पताल के फ्लू कॉर्नर ओपीडी या फिर मेडिकल कॉलेज के फ्लू कॉर्नर ओपीडी में दिखाएं। जांच के लिए बीआरडी मेडिकल कॉलेज का आरएमआरसी सेंटर है। वहां पर भी जांच की व्यवस्था है।

अगर कोई जांच के लिए प्राइवेट लैब में कह रहा है तो बिल्कुल गलत है। बीआरडी मेडिकल कॉलेज में जांच की निशुल्क व्यवस्था है। कोरोना वायरस की जांच के लिए एक भी रुपये शुल्क नहीं है।
... और पढ़ें

सब्जी, दूध के पैकेट छुएं तो फौरन साबुन से धुले हाथ, एक चूक आपको ला सकती है कोरोना के नजदीक

कोरोना से बचाव के लिए सरकार ने देशभर में 21 दिन का लॉकडाउन तो कर दिया है लेकिन घर में रहकर छोटी सी चूक आपको वायरस के नजदीक ला सकती है। सीएमओ का कहना है कि सब्जी, दूध का पैकेट अगर आप छुएं तो तत्काल साबुन से हाथ धोएं।

इतना ही नहीं डोरबेल, कूड़ेदान, दरवाजे के हैंडल, नोट व सिक्कों को छूने की दशा में तत्काल हाथों को सैनेटाइज करें। ऐसा नहीं करने पर आपकी सेहत पर असर पड़ सकता है क्योंकि कोरोना वायरस से बचने के लिए साफ सफाई की अधिक जरूरत है।

विशेषज्ञों के मुताबिक घर में लाई गई कच्ची सब्जी और फल को यूं ही नंगे हाथों से न पकड़ें। हाथों में ग्लव्स लगाकर सब्जी लें और फौरन उन्हें धोएं। इसी तरह दूध के पैकेट लेने के लिए जाते वक्त झोला साथ ले जाएं। बगैर ग्लव्स के न पकड़ें। अगर पकड़ना मजबूरी हो तो घर आते ही फौरन हाथ साबुन से धुलें।

सीएमओ डॉ. श्रीकांत तिवारी ने कहा कि बच्चों व बुजुर्गों के लिए तो यह वायरस खतरनाक है ही लेकिन युवाओं को भी खतरा कम नहीं है। उन्होंने बताया कि जिनको डायबिटीज और ब्लड प्रेशर है वह दवाएं को खाते रहें। डॉ. आनंद स्वरूप के मुताबिक कोरोना वायरस से बचने के लिए सावधानी बरतना ही सबसे कारगर उपाय है।

स्वास्थ्य कर्मी भी रखें अपना ख्याल: सीएमओ
सीएमओ ने बताया कि कोरोना वायरस से सावधान रहने की जरूरत चिकित्सकों और अस्पताल कर्मचारियों को भी है। उन्होंने अपील की है कि पर्स, पेन, बैग, बेल्ट, चाबी, मोबाइल चार्जर, लैपटॉप, चेन आदि में से जो बहुत ही जरूरी हो, उसे ही लेकर आए।

फेस मास्क का सही तरह से इस्तेमाल करें और समय-समय पर बदलते रहें। सिर को भी सर्जन कैप से ढंककर रखें। डबल ग्लव्स पहनें और बदलते समय प्रोटोकाल का पालन करें। वार्ड में चाय-नाश्ता कदापि नहीं करें। उसके लिए पर्सनल प्रोटेक्टिव इक्यूपमेंट (पीपीई) निकालकर अन्य सुरक्षित स्थान पर चाय-नाश्ता करें।
... और पढ़ें

गोरखपुर : पुरानी बस्ती इलाके में टायर फटने से डीसीएम पलटी, 20 घायल. चार की हालत नाजुक 

अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us