बेहतर अनुभव के लिए एप चुनें।
INSTALL APP
विज्ञापन
विज्ञापन
शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?
Myjyotish

शनिवार का दिन, जानें इन तीन राशियों के लिए क्यों होगा शुभ ?

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

एचटी लाइन में आई खराबी: गोरखपुर शहर के 35 हजार लोगों के घर में पांच घंटे गुल रही बिजली, लोग हुए हाल बेहाल

गोरखपुर में बरहुआं ट्रांसमिशन से शहर आने वाली एचटी लाइन में खराबी आने से रुस्तमपुर, रानीबाग, लाल डिग्गी और नार्मल बिजली घर से जुड़े करीब 35 हजार उपभोक्ताओं को पांच घंटे तक बिना बिजली के गुजारना पड़ा। दोपहर में बिजली गायब होने से लोगों को कई परेशानियों को झेलना पड़ा।

वहीं, बिजली कर्मियों को फाल्ट ठीक करने में खासी मशक्कत करनी पड़ी। इस लाइन में आए दिन फाल्ट होने से लोगों को बिजली कटौती का सामना करना पड़ रहा है। इस वजह से कई इलाकों में लो वोल्टेज की भी समस्या बनी रहती है।
 
बिजली कर्मचारियों ने बताया कि दोपहर करीब एक बजे रुस्तमपुर उपकेंद्र की बिजली आपूर्ति ठप हो गई। कर्मचारियों की सूचना के बाद एसडीओ प्रद्युम्न सिंह और अवर अभियंता विवेक शर्मा ने टीम के साथ गड़बड़ी खोजनी शुरू की। पता चला कि बरहुआं से रुस्तमपुर व लालडिग्गी होते हुए नार्मल उपकेंद्र तक जाने वाली हाईटेंशन लाइन में तकनीकी खामी आ गई है। टीम ने लाइन का सर्वे कर बारी-बारी से सभी फाल्ट को सही किया। इसके बाद शाम छह बजे बिजली आपूर्ति बहाल हो सकी।

 
... और पढ़ें
गोरखपुर में पांच घंटे बिजली की आपूर्ति नहीं हुई। गोरखपुर में पांच घंटे बिजली की आपूर्ति नहीं हुई।

खुशखबर: क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग में डीडीयू टॉप-100 में शामिल, यूपी में बना नंबर वन

उच्च शिक्षण संस्थानों के शिक्षा और शोध जगत में मूल्यांकन करने वाली अमेरिका की ख्यातिलब्ध एजेंसी क्यूएस वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग (क्वाक्रैली सिमंड्स) ने वर्ष 2020-21 की वर्ल्ड यूनिवर्सिटी रैंकिंग लिस्ट जारी की है। इस एजेंसी ने भारत, चीन, जापान, साउथ कोरिया, मैक्सिको और यूरोप के विश्वविद्यालयों की भी रैंकिंग की है। इस रैंकिंग में दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय को भारत के टॉप-100 विश्वविद्यालयों में स्थान मिला है।

उत्तर प्रदेश के राज्य विश्वविद्यालयों की फेहरिस्त में गोरखपुर यूनिवर्सिटी का पहला स्थान रहा है। जबकि देशस्तर पर क्यूएस ने विश्वविद्यालय को 96वीं रैंक दी है। क्यूएस रैंकिंग में आईआईटी कानपुर को छठा, बीएचयू को 19वां और अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी को 31वां स्थान दिया गया है।

शनिवार को संकायाध्यक्षों और विभागाध्यक्षों के साथ आयोजित बैठक में कुलपति प्रो. राजेश सिंह ने इस उपलब्धि की जानकारी दी। उन्होंने इसका श्रेय विश्वविद्यालय परिवार से जुड़े शिक्षकों, अधिकारियों और कर्मचारियों को दिया। कहा कि इस बात की बेहद खुशी है कि दीनदयाल उपाध्याय गोरखपुर विश्वविद्यालय उत्तर प्रदेश और बिहार का एकलौता ऐसा राज्य विश्वविद्यालय हैं, जिसने टॉप 100 में जगह बनाई है।

अमूमन ऐसी रैंकिंग ऐसे केंद्रीय विश्वविद्यालयों, आईआईटी और राष्ट्रीय शैक्षणिक संस्थानों को मिलती है जिन्हें केंद्र सरकार की ओर से बड़ी मात्रा में बजट उपलब्ध कराया जाता है। जबकि राज्य विश्वविद्यालयों के रिसर्च और एकेडमिक गतिविधियों को कोई विशेष फंड नहीं मिलता है। गोरखपुर विश्वविद्यालय अपनी जरूरतों का 85 फीसदी हिस्सा अपने बजट से पूरा करता है।

महज 15 फीसदी बजट ही राज्य सरकार से मिलता है जो शिक्षकों और कर्मचारियों के वेतन भुगतान में खर्च होता है। विवि ने यह उपलब्धि अपने 200 एकड़ में फैले कैंपस, 17000 विद्यार्थियों, 500 शिक्षकों और 600 कर्मचारियों के सहयोग से रिसर्च, एकेडमिक्स और गुणवत्तापूर्ण कोर्स के बलबूते हासिल की है।

 
... और पढ़ें

यूपी: पढ़िए पूर्व एमएलसी रामू द्विवेदी की गिरफ्तारी की पूरी कहानी, देवरिया के हैं माफिया

प्रदेश के माफिया में चिह्नित बसपा के पूर्व एमएलसी देवरिया शहर के भुजौली कालोनी निवासी संजीव उर्फ रामू द्विवेदी को सदर कोतवाली पुलिस ने शुक्रवार की रात करीब डेढ़ बजे लखनऊ स्थित आवास से गिरफ्तार कर लिया। जबकि तीन अन्य को पुलिस ने विभिन्न स्थानों से गिरफ्तार किया है। पुलिस ने जिला अस्पताल में मेडिकल कराने के बाद सभी को दोपहर में न्यायालय में पेश किया। रिमांड मजिस्ट्रेट व सिविल जज सीनियर डिवीजन एफटीसी कोर्ट नूसरत जहां फारूखी ने सभी को न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया।

पुलिस पूर्व एमएलसी के नेटवर्क को खंगालने ने में जुट गई है। गिरफ्तार लोगों के अलावा भी करीब तीन लोगों को पुलिस हिरासत में लिया है। जो सीधे तौर आरोपी नहीं हैं, लेकिन उनके परिवार के सदस्यों के तार रामू से जुड़े हुए हैं। पुलिस कार्रवाई से उनके कई करीबी भूमिगत हो गए है।

पुलिस सूत्रों के अनुसार, रात में करीब डेढ़ बजे सीओ सिटी श्रीयश त्रिपाठी, खामपार एसओ घनश्याम सिंह और कोतवाली के एसएसआई विपिन मलिक पूर्व एमएलसी के लखनऊ स्थित धेनुमति अपार्टमेंट आवास पहुंचे। वहां से पुलिस उनको हिरासत में लेकर देवरिया के लिए रवाना हो गई। सुबह करीब सात बजे पुलिस उनको रामपुर कारखाना थाने लाई। वहां घंटों रखने के बाद शहर के कसया रोड स्थित एक गोशाला में बैठा दिया।

 
... और पढ़ें

ज्ञान की बात: गोरखपुर ही नहीं पाकिस्तान में भी है 'गोरखनाथ मंदिर', जानिए 64 साल क्यों बंद था ये मंदिर

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर शहर में स्थित विश्व प्रसिद्ध गोरखनाथ मंदिर के बारे में तो आप सभी अच्छी तरह से जानते होंगे। यह भी हो सकता है कि इनका दर्शन करने का सौभाग्य भी आपको मिला हो, लेकिन क्या आपने कभी पाकिस्तान के गोरखनाथ मंदिर के दर्शन किए हैं? 

जी हां, पाकिस्तान के पेशावर शहर के गोरखत्री क्षेत्र में गुरु गोरखनाथ का मंदिर है। इस मंदिर का निर्माण 1851 में किया गया था, लेकिन जिस वर्ष देश को आजादी मिली थी, उसी वर्ष 1947 में बंटवारे के बाद से ही मंदिर को बंद कर दिया गया था। हालांकि इस मंदिर के व्यवस्थापक की पुत्री फूलवती के द्वारा पेशावर हाईकोर्ट में अपील के बाद इसे 2011 में श्रद्धालुओं के लिए खोल दिया गया। तकरीबन छह दशक बाद इस मंदिर में दीपावली के मौके पर खुलने से वहां के हिंदुओं ने मंदिर में पूजा अर्चना कर जश्न मनाया था। 
... और पढ़ें

यूपी: दिव्यांग बीडीसी सदस्य का नाटकीय अंदाज में अपहरण, 24 घंटे के अंदर छोड़कर फरार हुए बदमाश

बाएं गोरखपुर गोरखनाथ मंदिर, दाएं पाकिस्तान का गोरखनाथ मंदिर।
गोरखपुर के हरपुर बुदहट इलाके के कुरसा गांव निवासी क्षेत्र पंचायत सदस्य व दिव्यांग जयनाथ शर्मा का शुक्रवार की देर शाम रहस्यमय हाल में अपहरण कर लिया गया। पुलिस पिता की तहरीर पर चार नामजद और अज्ञात पर केस दर्ज कर जांच में जुटी थी कि शनिवार सुबह बदमाश खुद ही थाने के पास छोड़कर फरार हो गए।

पीड़ित के मुताबिक, बदमाश छोड़े है, मगर थाने के पास छोड़े जाने को लेकर कई तरह के सवाल उठने लगे है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

जानकारी के मुताबिक, वार्ड संख्या 35 से क्षेत्र पंचायत सदस्य जयनाथ शर्मा उर्फ बबलू निर्वाचित हुए हैं। घर पर आए हुए रिश्तेदारों के लिए सब्जी लेने को शुक्रवार को कटहरा बाजार जा रहे थे। इस दौरान वापस आते समय रद्युनाथपुर निवासी राजेश उर्फ पप्पू, कुरसा निवासी महंथ उर्फ पर्वत राज मिश्रा, महेंद्र यादव, नर्वदा यादव अपने 20 से 25 अज्ञात साथियों के साथ चार पहिया वाहन से आए और  बात करने के बहाने रोके अभी जयनाथ कुछ समझ पाते तब तक  उनको जबरन गाड़ी में बैठा लिया और फरार हो गए।

स्वजनों ने काफी खोजबीन की लेकिन उनका कुछ पता नहीं चला जिसके बाद पिता राम रावल ने थाने में नामजद व अज्ञात लोगों के खिलाफ तहरीर दी। पिता की तहरीर पर पुलिस ने राजेश शुक्ला, पर्वत मिश्रा समेत चार नामजद और अज्ञात पर केस दर्ज कर मामले की छानबीन शुरू कर दी थी।

इसी बीच शनिवार की दोपहर में जयनाथ खुद थाने के पास मिल गए। जयनाथ ने बताया कि बदमाश उन्हें छोड़कर चले गए है, वहीं पुलिस का कहना है कि दबाव के चलते बदमाश छोड़कर भागे है। खैर वजह क्या है इसकी जांच होनी बाकी है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है।
... और पढ़ें

सीएम योगी का संघर्ष: पांच बार सांसद बनने के बाद मुख्यमंत्री बने हैं 'आदित्यनाथ', पढ़िए इनकी कहानी

बीते कुछ दिनों से उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को लेकर तमाम अटकलें लगाई जा रही थीं। इन सबके बीच सीएम योगी ने पीएम मोदी, केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह और पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा से दिल्ली में मिलकर मजबूत होकर वापस आए हैं। आज हम आपको सीएम योगी के बारे में खास बातें बताने जा रहे हैं, जो उनके संघर्ष की कहानी को बयां करता है। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का जन्म 5 जून 1972 को पंचूर गांव, पौढी गढवाल, उत्तराखंड में एक राजपूत परिवार में हुआ था। इनके पिता का नाम आनंद सिंह बिष्ट और माता का नाम सावित्री देवी है। सीएम योगी ने 1989 में ऋषिकेश के भरत मंदिर इंटर कॉलेज से 12वीं पास की और 1992 में हेमवती नंदन बहुगुणा गढवाल विश्वविद्यालय से गणित में बी.एसी की। इसी कॉलेज से उन्होंने एम.एससी भी की। योगी आदित्यनाथ 1992 में गोरखपुर आए और महंत अवैद्यनाथ से दीक्षा ली। इसके बाद वह 1994 में संन्यासी बन गए। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी कहानी...
 
... और पढ़ें

तस्वीरें: 2600 साल पुराना है गोरखपुर का इतिहास, जानिए कितनी बार बदल चुका है इसका नाम

उत्तर प्रदेश राज्य का सबसे खास शहर गोरखपुर है। इसका इतिहास बहुत पुराना है। वर्तमान में गोरखपुर शहर का नाम आठ पड़ाव पार करने के बाद गोरखपुर तक पहुंचा है। पिछले 2600 सालों में आठ बार इसका नाम बदल चुका है। इस नाम तक पहुंचने में कई रोचक कहानियां गढ़ी गई हैं।

प्राचीन भारत के इतिहासकारों के अनुसार गोरखपुर का नाम कभी रामग्राम भी हुआ करता था जो कालांतर में दुनिया को योग से परिचित कराने वाले गुरु गोरक्षनाथ के नाम से होते हुए गोरखपुर पर आकर ठहर गया। दुनिया को योग से परिचित कराने वाले गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर गोरखपुर का मौजूदा नाम 217 साल पुराना है। इसके पहले नौवीं शताब्दी में भी इसे गुरु गोरक्षनाथ के नाम पर ‘गोरक्षपुर’ के नाम से जाना जाता था। बाद की सदियों में शासकों की हुकूमत के साथ इस क्षेत्र का नाम भी बार-बार नाम बदलता रहा। आगे की स्लाइड्स में पढ़ें पूरी कहानी...

 
... और पढ़ें

देवरिया: पुलिस के निशाने पर है माफिया रामू का गैंग, जिसे लेकर लोग भरते थे दम, आज हो रहे भूमिगत

देवरिया पुलिस पूर्व एमएलसी रामू का नेटवर्क खंगाल रही है। एडीजी अखिल कुमार ने एक सप्ताह के भीतर माफिया के नेटवर्क के खिलाफ कार्रवाई कर रिपोर्ट मांगी है। पुलिस की कार्रवाई से माफिया से जुड़े लोगों में हड़कंप मच गया है। इस गैंग से जुड़े आपराधिक पृष्ठभूमि के लोग भूमिगत हो रहे हैं।
 
जो लोग पूर्व एमएलसी के साथी होने पर कल तक अपना गर्व महसूस करते थे, वहीं अब छिपकर रहना चाहते हैं। उनको पता हो गया है कि गैंग लीडर के साथ सदस्यों के खिलाफ भी पुलिस ने कार्रवाई तेज कर दी है। अब तक इस गिरोह के करीब सात लोगों के खिलाफ पुलिस शिकंजा कस चुकी है।

पुलिस इस गिरोह का नेटवर्क खंगाल रही है। पुलिस के भय से पूर्व एमएलसी के कई करीबी भूमिगत हो चुके हैं। पूर्व एमएलसी की गिरफ्तारी के बाद पुलिस के निशाने पर अन्य करीबी हैं। पुलिस ने इस गिरोह से जुड़े लोगों की सूची तैयार की है।

इसमें एक पूर्व ग्राम प्रधान, पूर्व सभासद, ठेकेदार, प्रापर्टी डीलर का काम करने वाले लोग हैं। उनकी संपत्तियों का भी ब्योरा जुटाया जा रहा है। कुछ भूमि ऐसी है, जिनका विवाद चल रहा था लेकिन पहुंच के दम पर सस्ते दाम में बैनामा हो गया है। फिलहाल इस मामले पुलिस के आला अफसर नजर गड़ाए हुए हैं।

हर तीन माह बाद बदलते थे कंपनी का नाम
रामू द्विवेदी के नाम पर राजधानी में धमक कायम कर देवरिया के कुछ युवक करोड़पति बन गए हैं। पुलिस की नजर ऐसे युवकों पर हैं। सूत्रों की मानें तो इन लोगों ने प्रापर्टी के मामले में करोड़ों की धोखाधड़ी की है। हर छह माह बाद कंपनी का नाम बदलकर लोगों को चूना लगाने में जुटे हैं। ऐसे लोगों पर पुलिस की नजर है। इसका ब्योरा जुटाया जा रहा है।

 
... और पढ़ें

कुशीनगर: अनियंत्रित होकर पानी से भरे गड्ढे में गिरा ट्रैक्टर, पूर्व सभासद की मौत

कुशीनगर जिले के बरवापट्टी थाना क्षेत्र के रामपुर बरहन गांव के नारायणपुर बिंदटोली के निकट खड़े ट्रक से साइड लेते समय एक ट्रैक्टर की स्टीयरिंग फेल हो गई और वह अनियंत्रित होकर पुलिया से टकराने के बाद पानी से भरे गड्ढे में गिर गया।

उसके नीचे दब जाने से ट्रैक्टर चालक की मौके पर ही मौत हो गई। मृतक सेवरही के जानकीनगर मोहल्ले के पूर्व सभासद भी थे। घटना की सूचना पर पहुंचे परिजन शव को घर लेकर चले गए थे, लेकिन दुर्घटना की जानकारी होने पर पुलिस ने शव को मंगाकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया।

बताया जा रहा है कि सेवरही कस्बा के वार्ड नंबर-दो जानकीनगर निवासी व पूर्व सभासद राधा यादव (65) शनिवार को ट्रैक्टर से अपने पैतृक गांव भुआलपट्टी से सेवरही आ रहे थे। दिन के लगभग साढ़े ग्यारह बजे वह नारायनपुर बिंदटोली के पास पहुंचे ट्रक से साइड लेते समय ट्रैक्टर अनियंत्रित हो गया और पुलिस से टकराकर पानी से भरे गड्ढे में पलट गया।

वह पानी में ट्रैक्टर के नीचे ही दब गए। उस समय ड्रेन सफाई में जुटे मजदूरों और गांववालों ने ट्रैक्टर पलटते देखा तो दौड़कर मौके पर पहुंचे और काफी मशक्कत के बाद उन्हें बाहर निकाला। तब तक उनकी मौत हो चुकी थी।

इसकी सूचना मिलते ही राधा यादव के भाई नगीना यादव व उनका पुत्र श्रीराम यादव घटनास्थल पर पहुंचे और शव को लेकर भुआलपट्टी चले गए। इस घटना की सूचना मिलते ही बरवापट्टी थाने के एसओ सुरेशचंद्र राव व एसआई रामनयन यादव पुलिसकर्मियों के साथ मौके पर पहुंचे और घटनास्थल का निरीक्षण किया।

इसके बाद मृतक के परिजनों से संपर्क कर शव को मंगाया और अपने उसे पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। इस दुर्घटना से राधा यादव के घर में कोहराम  मच गया। एसओ ने बताया कि शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है। रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी।

 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us