विज्ञापन
विज्ञापन
कब और कैसे अवतरित हुई थी माँ दुर्गा ? जानें पौराणिक कथा
Kundali

कब और कैसे अवतरित हुई थी माँ दुर्गा ? जानें पौराणिक कथा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

आज गोरखपुर आएंगे सीएम योगी आदित्यनाथ, करेंगे महानिशा और शस्त्र पूजन

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री व गोरक्षपीठाधीश्वर योगी आदित्यनाथ आज की दोपहर करीब दो बजे गोरखपुर आएंगे। वह रात को गोरखनाथ मंदिर के शक्ति मंदिर में अष्टमी तिथि पर महानिशा पूजन, शस्त्र पूजन और हवन-यज्ञ करेंगे।
 
नाथ संप्रदाय की परंपरा के मुताबिक अष्टमी तिथि की रात में ही गोरखनाथ मंदिर में हवन की परंपरा है। मुख्यमंत्री विजयादशमी तक गोरखनाथ मंदिर में ही प्रवास करेंगे।

मंदिर के सचिव द्वारिका तिवारी ने बताया कि आज की शाम 6 बजे से गौरी-गणेश की पूजा से शुरूआत होगी। इसके बाद गोरक्षपीठाधीश्वर वरुण पूजन, पीठ पूजन, यंत्र पूजन, स्थापित मां दुर्गा की विधिवत पूजा, भगवान राम-लक्ष्मण-सीता का षोडषोपचार पूजन, भगवान कृष्ण एवं गोमाता का पूजन, नवग्रह पूजन, विल्व अधिष्ठात्री देवता का पूजन, शस्त्र पूजन, द्वादश ज्योर्तिंलिंग-अर्धनारीश्वर, शिव-शक्ति पूजन, बटुक भैरव, काल भैरव, त्रिशूल पर्वत पूजन करेंगे।
... और पढ़ें
सीएम योगी आदित्यानाथ। (फाइल फोटो) सीएम योगी आदित्यानाथ। (फाइल फोटो)

पूर्व केंद्रीय मंत्री शिव प्रताप शुक्ला के खिलाफ कुर्की का नोटिस, 45 साल पुराने मामले पर आया आदेश

पूर्व केंद्रीय वित्त राज्यमंत्री और राज्यसभा सदस्य शिव प्रताप शुक्ला के खिलाफ अपर सत्र न्यायाधीश, फास्ट ट्रैक कोर्ट, राहुल दूबे ने कई वर्ष पुराने मामले में गैर जमानती वारंट व कुर्की का नोटिस जारी किया है।

खजनी के रूद्रपुर निवासी एवं राज्यसभा सदस्य शिव प्रताप शुक्ला के खिलाफ जारी आदेश मारपीट व डकैती के एक मामले में वर्ष 1986 से न्यायालय में उपस्थित नहीं होने के कारण है। कोर्ट का आदेश 20 अक्तूबर का है। इस मामले में भाजपा नेता या फिर उनके अधिवक्ता को 30 अक्तूबर तक अपना जवाब दाखिल करना है।

मारपीट व डकैती का यह मामला गोरखपुर के थाना कोतवाली में वर्ष 1975 में दर्ज किया गया था। मामले का कानूनन समयबद्ध सीमा के अंदर निस्तारण होना होता है लेकिन आरोपित के न्यायालय में समक्ष उपस्थित नहीं होने से मामले का निस्तारण नहीं हो पा रहा है। इस संबंध में संबंधित थाना प्रभारी ने बताया कि कोर्ट द्वारा जारी किया गया वारंट और नोटिस फिलहाल पुलिस को नहीं मिला है।

बताया जाता है कि उक्त मामला करीब 45 वर्ष पूर्व उस समय का है, जब शिव प्रताप शुक्ला छात्र राजनीति में सक्रिय थे। उस दौरान उन्होंने जमानत कराई थी। इस सिलसिले में भाजपा सांसद शिव प्रताप का कहना है कि अभी जानकारी नहीं है। छात्र राजनीति के समय का मामला है। कभी नोटिस नहीं मिला था।
... और पढ़ें

गोरखपुर में कोरोना से दो की मौत, 97 नए संक्रमित मिले

गोरखपुर जिले में बृहस्पतिवार को 24 घंटे में 97 नए संक्रमित मरीज पाए गए। जबकि दो कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हो गई है। इसके साथ ही मृतकों की कुल संख्या 303 हो गई है। गोरखपुर में कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 18392 है।

बृहस्पतिवार को कोरोना संक्रमण के नमूनों की जांच में 1125 लोगों के नेगेटिव होने की पुष्टि हुई है। वहीं, डिस्चार्ज व होम आइसोलेशन से अबतक ठीक हुए कुल मरीजों की संख्या 16786 है। जिले के कुल सक्रिय केसों की संख्या घटकर 1303 पर पहुंच गई है। कोरोना से जंग हारने वालों में बीआरडी मेडिकल कॉलेज में भर्ती 70 व 75 वर्षीय वृद्ध हैं।

वहीं, संक्रमितों में चार मासूम भी शमिल हैं। एक वर्षीय बच्चा परसिया, आठ-आठ वर्षीय बच्चे झुंगिया व चरगांवा और सात वर्षीय एक बच्चा देवरिया का रहने वाला है। सीएमओ कार्यालय के एक डॉक्टर, डायट कार्यालय के दो व सीआरपीएफ ट्रेनिंग सेंटर के दो कर्मचारी पॉजिटिव पाए गए हैं।
... और पढ़ें

योगी सहित पांच जनप्रतिनिधियों पर केस दर्ज कराने वाले परवेज को नहीं मिली जमानत

सीएम योगी आदित्यनाथ और सांसद रवि किशन।

राजघाट के तुर्कमानपुर निवासी परवेज परवाज की जमानत याचिका को जिला एवं सत्र न्यायाधीश प्रमोद कुमार श्रीवास्तव ने खारिज कर दी है। उस पर आरोप है कि कूटरचित डीवीडी तैयार कर तत्कालीन सांसद व यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत पांच जनप्रतिनिधियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराकर उनकी छवि धूमिल करने की कोशिश की थी।

जानकारी के मुताबिक, अभियोजन पक्ष की ओर से जिला शासकीय अधिवक्ता यशपाल सिंह का कहना था कि अभियुक्त परवेज परवाज अपने आप को एकाउंट इंडिया डॉट कॉम का प्रधान संपादक बताकर मीडिया की धौंस देकर अधिकारियों को ब्लैकमेल करता है। 

16 नवंबर 2007 को आरोपी परवेज परवाज ने तत्कालीन सांसद महंत योगी आदित्यनाथ, नगर विधायक डॉक्टर राधा मोहन दास अग्रवाल, पूर्व महापौर श्रीमती अंजू चौधरी, पूर्व कैबिनेट मंत्री शिव प्रताप शुक्ल एवं वादी मुकदमा पूर्व विभागाध्यक्ष बाल रोग विभाग बी.आर.डी मेडिकल कालेज डॉक्टर वाई.डी. सिंह की छवि धूमिल करने की नीयत से न्यायालय में एक प्रार्थना पत्र दिया, जिसपर मुकदमा दर्ज हुआ। 

अभियुक्त परवेज परवाज ने विवेचक को एक डीवीडी उपलब्ध कराई, जिसे सेंट्रल सी.एफ.एस.एल सी.बी.आईं नई दिल्ली जांच के लिए भेजा गया तो जांच में पाया गया कि उक्त डी.वी.डी टेपर्ड एवं एडिट की गई है। इसमें से डॉक्टर वाईडी सिंह की मौत हो चुकी है।

... और पढ़ें

नवरात्रि में आसमान छू रहे प्याज के भाव, जानिए क्या है वजह

होटल व्यवसायियों के लिए राहत की खबर, अब 12 आसान किस्तों में जमा करा सकेंगे बिजली बिल

बिजली निगम ने होटल और सिनेमाघरों को राहत दी है। इसके तहत लॉकडाउन के दौरान बंद पड़े सभी बंद होटलों के बिजली बिल का भुगतान 12 आसान किस्तों में हो सकेगा। मुख्य अभियंता ने सभी खंडों से उनके क्षेत्रों के होटलों का विवरण मांगा है।

22 मार्च से लॉकडाउन की घोषणा के साथ ही होटलों को पूरी तरह बंद कर दिया गया था। होटल तो बंद हुए, लेकिन फिक्स चार्ज और बिजली शुल्क पर बिल बनता रहा। होटल तथा सिनेमाघरों के व्यवसायियों ने मुख्यमंत्री से बिजली बिल जमा करने में सहूलियत देने का अनुरोध किया था।  

लॉकडाउन अवधि का बकाया बिल अगले साल से 12 किस्तों में जमा करने की अनुमति मांगी थी। मुख्य अभियंता देवेंद्र सिंह ने बताया कि यह सुविधा सिर्फ शहर के होटल व्यापारियों के लिए है। शहर में कुल 90 होटल हैं। इस दायरे में रेस्टोरेंट नहीं हैं। सिनेमाघरों की डिटेल भी मंगवाई गई है।






 
... और पढ़ें

छह साल पहले मासूम से किया था दुष्कर्म, अब कोर्ट ने सुनाया आजीवन कारावास की सजा

छह वर्षीय बच्ची से 30 अक्तूबर 2014 को दुष्कर्म मामले में पॉक्सो कोर्ट ने गुरुवार को आरोपी को आजीवन कारावास की सजा सुनाई है। कोर्ट ने आरोपी पर पचास हजार रुपये आर्थिक दंड भी लगाया। दोषी बगही भारी निवासी कमलेश है।

विशेष लोक अभियोजन पॉक्सो, अधिवक्ता, विजेंद्र सिंह ने बताया कि कोर्ट ने मामले में शाम करीब चार बजे फैसला सुनाया गया। मामले में सभी सात गवाही होने और कानूनी प्रक्रिया पूरी होने पर साक्ष्यों के आधार पर एडीजे विशेष, नवल किशोर सिंह की कोर्ट ने दोषी को बुधवार को दोषी करार देकर गुरुवार को उसे सजा सुनाई।

मामले की शिकायतकर्ता बच्ची की मां ने पुलिस को बताया था कि उनकी बेटी 20 अक्तूबर 2014 की शाम करीब छह बजे धार्मिक कार्यक्रम में गई थी। वहां से नहीं लौटने पर मां ने खोजबीन शुरू कर दी। इस दौरान उनकी आठ वर्षीय बेटी ने बताया कि कमलेश उसकी बहन को बिस्कुट खिलाने ले गया है।

इसके बाद महिला कमलेश के घर पहुंची लेकिन वहां भी वह नहीं मिला। उसी दौरान गांव में ही रहना वाला एक दंपती अपने घर की तरफ जा रहा था। इसी बीच रास्ते में बच्ची के रोने की आवाज सुनाई दी।

दोनों टॉर्च लेकर दौड़े तो कमलेश को बच्ची से दुष्कर्म करते देखा। लोगों को आता देख कमलेश बच्ची को छोड़कर मौके से फरार हो गया। उस दौरान मौके पर उसका पैंट और मोबाइल भी गिरा पड़ा मिला।

मां की शिकायत पर थाना पीपीगंज पुलिस ने कमलेश के खिलाफ दुष्कर्म व पॉक्सो एक्ट की धाराओं में केस दर्ज किया था।

 
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X