विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
शनि साढ़े साती के कुप्रभाव से बचने के लिए कराएं शनि पूजा
Puja

शनि साढ़े साती के कुप्रभाव से बचने के लिए कराएं शनि पूजा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

थप्पड़ कांड: पहले भी विवादों में रह चुकी हैं सोनाली फौगाट, सोशल मीडया यूजर्स ने बताया पब्लिसिटी स्टंट

एक मार्केट कमेटी के अधिकारी को पीटने के बाद हरियाणा भाजपा नेता और टिकटॉक स्टार सोनाली फौगाट चर्चा में हैं। हालांकि इससे पहले भी सोनाली सुर्खियों में रह चुकी हैं। 

सोनाली फौगाट ने चुनाव के दौरान बालसमंद में लोगों को संबोधित करने के दौरान भारत माता की जय के नारे नहीं लगाने पर उन्हें पाकिस्तानी बता दिया था। इसके बाद बालसमंद में उनका खूब विरोध हुआ था। इसके बाद सोनाली फौगाट ने 28 अक्तूबर 2019 को फतेहाबाद के भूंथन कलां गांव में शाम के वक्त अपनी बहन और जीजा पर मारपीट करने और धमकी देने का आरोप लगाया था। इसकी शिकायत पुलिस को भी दी गई थी।गांव बालसमंद में कॉलेज की जमीन पर सोनाली फौगाट के परिवार के लोगों द्वारा कब्जे करने के आरोप लगाए गए थे। इस मामले को लेकर ग्रामीणों ने फौगाट की भाजपा के बड़े नेताओं को भी शिकायत दी थी। 


यह भी पढ़ें- 
 दो घंटे से ज्यादा पबजी नहीं खेल सकेंगे बच्चे, लेनी होगी माता-पिता की मंजूरी

अक्तूबर 2019 में आदमपुर से लड़ा था विस चुनाव
भाजपा महिला मोर्चा की प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य सोनाली फौगाट ने भाजपा के टिकट पर आदमपुर से अक्तूबर 2019 में विधानसभा चुनाव लड़ा था। उन्हें कांग्रेस के प्रत्याशी कुलदीप बिश्नोई ने 29 हजार से अधिक वोटों से पराजित किया था। हालांकि फौगाट नलवा हलके से दावेदारी जता रही थीं। 

सोशल मीडिया पर यूजर्स ने बताया पब्लिसिटी स्टंट
वहीं सोशल मीडिया यूजर्स ने भाजपा नेत्री की गलती बताते हुए इसे पब्लिसिटी स्टंट बताया। यूजर्स ने कहा कि इस तरह किसी अधिकारी के साथ मारपीट करना किसी भी तरीके से सही नहीं ठहराया जा सकता है। अगर अधिकारी ने गलत बोला है तो उसकी शिकायत पुलिस को करनी चाहिए थी, न कि थप्पड़ या सैंडल से फैसला किया जाए। कई यूजर्स ने तो भाजपा हाईकमान से उन्हें भाजपा से बाहर करने की भी मांग कर डाली।
मैं आज सुबह से ही शहर से बाहर गया हुआ हूं। दोनों पक्षों की शिकायत थाने में गई होगी, जांच में सामने आ जाएगा कि किसकी गलती है। दोनों पक्षों को संयम रखना चाहिए था। बाकी वापस आने के बाद मामले की सच्चाई पता लगाई जाएगी। - सुरेंद्र पूनिया, जिलाध्यक्ष, भाजपा, हिसार
... और पढ़ें
सोनाली फोगाट सोनाली फोगाट

हरियाणा: 19 जिलों में 316 नए कोरोना संक्रमित मिले, कुल मरीज साढ़े तीन हजार के पार

हरियाणा के 19 जिलों में 24 घंटे में 316 कोरोना संक्रमण के नए मरीज सामने आए हैं। जिसके बाद कुल पॉजिटिव मरीजों की संख्या 3597 हो गई है। जिसमें से 1209 मरीज ठीक हुए हैं। 2364 मरीज अभी भी संक्रमित हैं। 30358 मरीज मेडिकल सर्विलांस के दायरे में हैं, जबकि 4828 मरीजों की सैंपल रिपोर्ट आना अभी बाकी है। संक्रमण का रिकवरी रेट घटकर तीन 3.61 प्रतिशत पहुंच गया है और पॉजिटिव रेट बढ़कर 2.71 प्रतिशत हो गया है।

गुरुग्राम में 153, फरीदाबाद में 59, झज्जर और जींद में 2-2, नूंह और फतेहाबाद में 3-3, पानीपत, पंचकूला और कैथल में 1-1, अंबाला में 6, पलवल में 14, करनाल में 7, रोहतक, नारनौल में 4-4, हिसार में 9, रेवाड़ी में 11, चरखी दादरी में 22 और कुरुक्षेत्र में 12 नए मरीज सामने आए हैं। 24 घंटे में कुल 86 मरीज भी ठीक होकर अपने घर गए हैं। 3 जिलों भिवानी, यमुनानगर और सोनीपत को छोड़कर पिछले 24 घंटे में हरियाणा के 19 जिलों में संक्रमण के मरीज मिले हैं।


यह भी पढ़ें- 
 दो घंटे से ज्यादा पबजी नहीं खेल सकेंगे बच्चे, लेनी होगी माता-पिता की मंजूरी

अब तक गुरुग्राम में 1563, फरीदाबाद में 581, सोनीपत में 261, झज्जर में 107, नूंह में 85, अंबाला में 76, पलवल में 100, पानीपत में 67, पंचकूला में 28, जींद में 35, करनाल में 81, यमुनानगर में 9, सिरसा में 50, फतेहाबाद में 30, भिवानी में 57, रोहतक में 114, नारनौल में 77, हिसार में 78, रेवाड़ी में 45, चरखी दादरी में 35,  कैथल में 34 व कुरुक्षेत्र में 49 मरीज सामने आ चुके हैं। 14 इटालियन और 21 अमेरिका से आए लोग भी संक्रमित पाए गए थे। 

ठीक होने वालों में गुरुग्राम में 332, फरीदाबाद में 171, सोनीपत में 158, झज्जर में 92, नूंह में 66, अंबाला में 43, पलवल में 44, पानीपत में 46, पंचकूला में 26, जींद में 24, करनाल में 36, यमुनानगर में 9, सिरसा में 13, फतेहाबाद में 9, भिवानी में 6, रोहतक में 11, नारनौल में 33, हिसार में 22, रेवाड़ी में 4, चरखीदादरी में 1, कैथल में 7, कुरुक्षेत्र में 23 मरीज रिकवर हो चुके हैं। सभी 14 इटालियन भी ठीक हो चुके हैं। जबकि अमेरिका से आए 21 में से 2 मरीज भी स्वस्थ हो गए हैं।
... और पढ़ें

सोनाली फौगाट ने मार्केट कमेटी सचिव को थप्पड़ और सैंडल से पीटा, बोलीं- दोबारा भी मार सकती हूं

कथित अपशब्द कहने पर भाजपा नेता सोनाली फौगाट ने हिसार मार्केट कमेटी के सचिव को पुलिस की मौजूदगी में थप्पड़ और सैंडल से पिटाई कर दी। सोनाली टिकटॉक स्टार हैं और आदमपुर से भाजपा के टिकट पर चुनाव लड़कर हार चुकी हैं। घटना शुक्रवार को गांव बालसमंद की अनाज मंडी में घटी। 

मार्केट सचिव सुल्तान सिंह का आरोप है कि चुनावी रंजिश के कारण पहले भाजपा नेता के समर्थकों ने पिटाई की, उसके बाद सोनाली ने। आरोप है कि इस दौरान बालसमंद चौकी के पुलिसकर्मी मौके पर खड़े होकर तमाशा देखते रहे। घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होते ही हड़कंप मच गया। उधर, सीएम मनोहर लाल ने मामले की जानकारी सीआईडी से मांगी है। वहीं, देर रात पुलिस ने दोनों पक्षों पर विभिन्न धाराओं में केस दर्ज किया है। 


यह भी पढ़ें- 
 दो घंटे से ज्यादा पबजी नहीं खेल सकेंगे बच्चे, लेनी होगी माता-पिता की मंजूरी

जानकारी के अनुसार, सुबह 10 बजे भाजपा नेता सोनाली फौगाट हिसार मार्केट कमेटी कार्यालय पहुंचीं। कुछ देर बाद सचिव कार्यालय पहुंचे। सचिव की फसल खरीद को लेकर आधे घंटे तक सोनाली से बातचीत चलती रही। सोनाली ने मार्केट कमेटी सचिव को साथ चलकर बालसमंद अनाज मंडी का दौरा करने की बात कही। इसके बाद सचिव बालसमंद पहुंचे। 
... और पढ़ें

मेरा पानी-मेरी विरासत: सरकार की योजना में किसान आए साथ, बचाना ही पड़ेगा जमीन का पानी

हरियाणा में किसानों ने यह ठान लिया है कि वे भी भूजल को बचाने में अपना पूर्ण सहयोग देंगे। इसी का नतीजा यह है कि सरकार की मेरा पानी-मेरी विरासत योजना को लगातार प्रदेश के किसानों का समर्थन मिल रहा है। हालांकि सरकार ने इस योजना का मुख्य फोकस प्रदेश के आठ ब्लॉक पर रखा था। जहां भूजल 40 मीटर से ज्यादा नीचे जा चुका है।

सभी जिलों के किसान योजना के अंतर्गत धान की खेती छोड़ वैकल्पिक खेती करने का संकल्प कर रहे हैं। 4 जून तक प्रदेश के 41273 किसानों ने खास योजना के लिए कृषि विभाग के पोर्टल पर रजिस्ट्रेशन करवा दी है। सभी जिलों में किसानों ने अपनी 45178.982 हेक्टेयर जमीन पर धान न लगाकर मक्का, बाजरा, कपास, दलहन व बागवानी फसलों को लगाने का फैसला लिया है।

यह आंकड़ा तेजी से बढ़ रहा है, जिससे यह भी साफ है कि प्रदेश में इन वैकल्पिक फसलों का रकबा भी अपेक्षाकृत बढ़ेगा। इसके अलावा जिन 8 ब्लॉकों पर खास फोकस है। वहां भी 6045 किसानों ने अभी तक 6130.688 हेक्टर जमीन पर धान की बजाय अन्य फसलें लगाने का निर्णय लिया है।

प्रदेश सरकार की ये महत्वाकांक्षी योजना है। जिसे लेकर मुख्यमंत्री भी पूरी तरह गंभीर है। किसानों का भी पूरा समर्थन मिल रहा है। अभी तक किसानों ने पोर्टल पर धान की बजाए 6859.743 हेक्टेयर मक्का, 7111.984 हेक्टेयर बाजरा, 26569.430 हेक्टेयर कपास, 751.401 हेक्टेयर दलहन और 3886.424 हेक्टेयर बागवानी फसलें लगाने की इच्छा जताई है। निसंदेह किसानों के यह प्रयास भूजल को बचाने में मददगार साबित होंगे।
- संजीव कौशल, अतिरिक्त मुख्य सचिव, कृषि एवं कृषक कल्याण विभाग
... और पढ़ें

हरियाणा सरकार के निर्देश- मौके पर जाएं डीसी और बाढ़ नियंत्रण कार्य 20 जून तक पूरा करें

सांकेतिक तस्वीर
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने सभी डीसी को बाढ़ नियंत्रण की छोटी-छोटी योजनाओं पर कार्य तेज करने के निर्देश दिए हैं। डीसी को संभावित बाढ़ स्थलों का व्यक्तिगत रूप से दौरा करना होगा। मानसून शुरू होने से पहले डीसी को लक्ष्य निर्धारित करते हुए उन्होंने शहरी एवं ग्रामीण ड्रेनों की सफाई करानी होगी।

बाढ़ नियंत्रण की योजनाओं और अन्य बाढ़ नियंत्रण उपायों पर 20 जून 2020 तक कार्य पूरा होना जरूरी है। मुख्यमंत्री ने ये निर्देश वीडियो कांफ्रेंसिंग से वीरवार को दिए। वे बाढ़ नियंत्रण की तैयारियों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि जिलों में 132.25 करोड़ रुपये की अनुमानित लागत से 143 अल्पावधि योजनाओं पर कार्य चल रहा है। ड्रेनों से गाद निकालने के कार्य को हर कीमत पर 20 जून से पहले पूरा कर लिया जाए। विशेष रूप से यमुनानगर और करनाल जिलों में नदियों के तटों को सुदृढ़ करें ताकि बाढ़ की आशंका को रोका जा सके।

बैठक में बताया गया कि 833 शहरी एवं ग्रामीण ड्रेनों में से 588 ड्रेनों की सफाई के लिए पहचान की गई है। मनरेगा के तहत ड्रेनों की सफाई का कार्य तेजी से किया जा रहा है। 18 ड्रेनों का प्रबंधन एनएचएआई और रेलवे कर रहा है। डीसी को निर्देश दिए गए कि वे इन ड्रेनों की सफाई के लिए एनएचएआई और रेलवे के साथ समन्वय स्थापित करें।

522 अस्थायी स्थलों की पहचान
सीएम ने बताया कि लगभग 522 ऐसे अस्थायी स्थलों की पहचान की गई है, जहां जल संचय की संभावना है। पंप से पानी निकासी के लिए अस्थायी बिजली कनेक्शन मांगे गए हैं। नदी या नहर के तटों में कटाव की संभावना को रोकने के मद्देनजर सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग ने संवेदनशील स्थलों की पहचान करने को कर्मचारियों का रोस्टर तैयार किया है। सिंचाई एवं जल संसाधन विभाग को विशेष रूप से कैथल, कुरुक्षेत्र एवं रतिया में रिचार्जिंग शाफ्ट के निर्माण के लिए व्यापक योजना तैयार करने के निर्देश दिए हैं।
... और पढ़ें

हरियाणा से जुड़ने लगे बीज घोटाले के तार, सीएम मनोहर लाल से मिले अकाली नेता, जांच की मांग की

पंजाब में बड़े स्तर पर सामने आए बीज घोटाले के तार हरियाणा से जुड़ने लगे हैं। जिस फर्म ने बीज की आपूर्ति पंजाब में की है, उसके करनाल में एक घर के पते पर पंजीकृत होने की सूचना है। करनाल सीएम मनोहर लाल का विधानसभा क्षेत्र है, घोटाले की सारी परतें खुलकर सामने आएं, इसलिए पंजाब के अकाली नेताओं ने गुरुवार को हरियाणा के सीएम मनोहर लाल के पास दस्तक दी। 

पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर बादल के नेतृत्व में बिक्रम मजीठिया व दलजीत चीमा समेत एक प्रतिनिधिमंडल शाम लगभग चार बजे सीएम मनोहर लाल से उनके निवास पर मिला। इस मुलाकात को पंजाब में किसानों को नकली बीज वितरित करने के घोटाले से जोड़कर देखा जा रहा है। 


यह भी पढ़ें-
बीज घोटाले में एसआईटी को मिली बड़ी सफलता, मास्टरमाइंड लक्की ढिल्लों गिरफ्तार

अकाली दल इस मामले में पंजाब सरकार पर हमलावर है और उसकी मुश्किलें बढ़ाने में जुटा है। अन्य वहीं विपक्षी दलों ने भी पंजाब सरकार को घेरना शुरू कर दिया है। पंजाब में अकाली दल-भाजपा का गठबंधन है, इसलिए अकाली नेताओं ने बीज आपूर्ति करने वाली फर्म के करनाल में पंजीकृत होने पर उच्च स्तरीय जांच की मांग सीएम मनोहर लाल से की है। सीएम ने अकाली दल की मांग पर उचित कार्रवाई का आश्वासन दिया है। 

बीज घोटाले के एक आरोपी की लुधियाना में गिरफ्तारी के बाद शिरोमणि अकाली दल ने बड़ा दावा किया है। अकाली दल ने धान के नकली बीज की आपूर्ति होने से किसानों को चार हजार करोड़ का घाटा होने की संभावना जताई है। पार्टी के कद्दावर नेता और पूर्व मंत्री बिक्रम सिंह मजीठिया ने कथित तौर पर घोटाले से किसानों को हुए नुकसान की भरपाई की मांग रखी है। 

उन्होंने कहा है कि घोटाले को देखते हुए पंजाब सरकार को इसकी जांच सीबीआई या उच्च न्यायालय के वर्तमान न्यायाधीश से करानी चाहिए। बता दें कि पंजाब पुलिस ने रविवार को लुधियाना में एक दुकान के मालिक को नकली बीज बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया था।
... और पढ़ें

सार्वजनिक जगह पर थूकने और सामाजिक दूरी के उल्लघंन में 500-500 का जुर्माना, क्वारंटीन तोड़ा तो दो हजार

दुष्यंत चौटाला बोले- संक्रमण रोकने को हरियाणा, यूपी और दिल्ली को मिलकर बनानी होगी रणनीति

कोरोना के कारण दिल्ली-एनसीआर की सीमाएं सील करने पर सुप्रीम कोर्ट की टिप्पणी पर हरियाणा के उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने कहा है कि इस विषय पर हरियाणा गंभीर है। कहा कि दिल्ली से आवाजाही के कारण दिल्ली और एनसीआर में कोरोना के मामले बढ़ रहे हैं।

हम सबको मिलकर व्यवस्थाएं स्थापित करनी चाहिए, जिसको लेकर प्रदेश तैयार है। बॉर्डर को लेकर हरियाणा, यूपी और दिल्ली तीनों राज्य मिलकर आगे बढ़ें। 


यह भी पढ़ें-
हरियाणा में मिले 327 पॉजिटिव, करनाल में एक की मौत, अकेले गुरुग्राम में 200 से अधिक मामले

तीनों राज्य इस विषय पर एक-एक अधिकारी की नियुक्ति करें। चौटाला ने दिल्ली बॉर्डर सील करने का कारण बताते हुए कहा कि दिल्ली में आवाजाही के कारण निरंतर गुरुग्राम, झज्जर, सोनीपत और फरीदाबाद में मामले बढ़ रहे थे। इसके मद्देनजर प्रदेश सरकार ने तीन अधिकारियों के नेतृत्व में दिल्ली आने-जाने के लिए पास की सुविधा उपलब्ध करवाई है।

उन्होंने बताया कि कैसे आजादपुर मंडी के कारण कोराना संक्रमण का फैलाव तेजी से हुआ और इसी तरह झज्जर में दिल्ली से आवाजाही के कारण पुलिसकर्मी कोरोना पॉजिटिव पाया गया।  
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन