विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

हरियाणा

रविवार, 29 मार्च 2020

दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 40 हुई, भूख से परेशान लोगों के लिए हेल्पलाइन नंबर जारी

कोरोना का कहर पूरे देश समेत दिल्ली-एनसीआर में बढ़ता ही जा रहा है। संक्रमितों के आंकड़े में लॉकडाउन के बाद भी तेजी से वृद्धि देखी जा रही है। सिर्फ दिल्ली-एनसीआर में ही कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या बढ़कर 74 हो गई है। ऐसे में सभी को विशेष एहतियात बरतने की जरूरत है और लॉकडाउन का सख्ती से पालन करने की जरूरत है। लॉकडाउन के दौरान लोगों को रोजमर्रा की चीजों के लिए परेशान न होना पड़े सरकार इसके भी पुख्ता इंतजाम कर रही है। यहां पढ़ें दिल्ली-एनसीआर के दिनभर के अपडेट्स...

दिल्ली में कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 40 हुई 

दिल्ली में अब कोरोना संक्रमितों की कुल संख्या 40 हो गई हैं। इसमे एक की मौत और पांच ठीक होकर डिस्टार्च किए गए मरीज भी शामिल हैं।

दिल्ली में भूख से परेशान लोगों के लिए हंगर हेल्पलाइन जारी
दिल्ली के लोगों को उन लोगों को अब भूख से परेशान होने की जरूरत नहीं है, लॉकडाउन की वजह से जिनका काम बंद हो गया है और पैसों की किल्लत है। दक्षिणी जिला के डीएम बृजमोहन मिश्रा ने बताया है कि सरकार ने हंगर हेल्पलाइन जारी की है। यहां फोन कर भूखे लोग खाना मंगा सकते हैं। यह नंबर- 9818523225 है। उन्होंने बताया कि हम लोगों के लिए संतुलित आहार बनाने की कोशिश कर रहे हैं। हमारे पास डाइटीशियन है जो खाने के मेन्यू और गुणवत्ता पर नजर रखते हैं। वहीं सामुदायिक डॉक्टर खाने के तैयार होते वक्त साफ-सफाई पर भी निगरानी रखते हैं।

गुरुग्राम से सटे पटौदी की झुग्गियों में भूख से तड़प रहे लोग
पटौदी के पास लगभग 70  के आसपास झुगियां हैं, इसके अलावा पटौदी में अन्य झुग्गियों में रहने वाले लोग भी भूख से तड़प रहे हैं। इन लोगों की कोई नहीं सुन रहा।



नोएडा में तीन नए संक्रमित अस्पताल में भर्ती
नोएडा में तीन नए पॉजिटिव केस सामने आने से यहां संक्रमितों की कुल संख्या बढ़कर 17 हो गई है। इन सबका इलाज जिम्स अस्पताल में चल रहा है।
1. 33 वर्षीय महिला, पॉजिटिव मरीज से संपर्क में आने से संक्रमित हुई। जिसके संपर्क में आई उसका यात्रा इतिहास है।
2. 54 वर्षीय महिला, पॉजिटिव मरीज से संपर्क में आने से संक्रमित हुई। जिसके संपर्क में आई उसका यात्रा इतिहास है।
3. 36 वर्षीय पुरुष, इसका कोई यात्रा इतिहास नहीं है।

गाजियाबाद में सामने आए दो नए मामले
गाजियाबाद में दो नए मरीजों के साथ कोरोना पॉजिटिजी  मरीजों की संख्या पांच हो गई है। दो मरीज जिला एमएमजी अस्पताल में भर्ती हैं। एक मरीज दुबई से लौटकर आया था, जबकि एक मरीज नोएडा में कोरोना पाजिटिव के संपर्क में आया था। एक पॉजिटिव कार्डिएक सर्जन का इलाज दिल्ली के सफदरजंग में चल रहा है। उन्होंने टेलीफोन पर बातचीत में बताया कि अस्पताल में स्वास्थ्य में सुधार हो चुका है, सिर्फ गाइड लाइन के अनुसार समय पूरा करना है। उन्होंने बताया कि फ्रांस से वापस आने के बाद आइसोलेशन में रहने का फायदा हुआ कि ढाई साल की बेटी व पत्नी की रिपोर्ट निगेटिव आई है।  दो मरीज पिता-पुत्र इलाज के बाद स्वस्थ्य हो चुके हैं। बृहस्पतिवार को छह नए संदिग्ध भर्ती किए जा चुके हैं। सीएमओ डॉ. एनके गुप्ता ने बताया कि अब तक 102 सैंपल भेजे जा चुके हैं। इसमें से 87 निगेटिव आए हैं। होम क्वारंटीन में अभी भी 852 लोग हैं।





दिल्ली-एनसीआर में कुल मरीजों को संख्या
दिल्ली- 39 संक्रमित                      1 की मौत
नोएडा ग्रेटर नोएडा- 17  संक्रमित
गुरुग्राम-10 संक्रमित
फरीदाबाद- 2 संक्रमित
पलवल- 1 संक्रमित
गाजियाबाद- 5 संक्रमित
... और पढ़ें

लॉकडाउनः बरात नहीं ले जा सका तो ट्यूब के सहारे यमुना पार करके पहुंचा दूल्हा, नाव से हुई विदाई

कोरोना से लाकडाउन के बाद जब बारात ले जाने की हसरतों पर पानी फिर गया तो दूल्हा ट्यूब के सहारे यमुनानदी पार कर दुल्हन लाने के लिए पहुंच गया। विधि विधान से विवाह के बाद दुल्हन को नाव में लेकर वापस लौटा। क्षेत्र में हुई यह शादी चरचा का विषय बनी हुई है।

यमुना नदी के किनारे बसे गांव पत्थगढ़ में एक शादी में तीन सौ लोगों को ले जाने की योजना थी, मगर लॉकडाउन का पालन करते हुए 300 की जगह दूल्हे समेत तीन आदमी ही पहुंचे। शादी के बाद दूल्हे-दूल्हन को ट्यूब से यमुना नदी पार कर आना पड़ा। दरअसल युवक मोहम्मद इमरान की शादी थी।

उनकी बारात यमुना नदी के पार यूपी के गांव में जानी थी, लेकिन लाकडाउन के चलते बारात नहीं जा सकी। इसके बाद दूल्हा मोहम्मद इमरान अपने दो चाचा इस्लाम और दाउद को साथ लेकर घर से ट्यूब लेकर यमुना किनारे पहुंचा। फिर ट्यूब पर अपने दोनों चाचा को बैठाकर यमुना पार कर दूल्हन लेने ससुराल पहुंच गया।

दोपहर बाद यमुना किनारे लगी नाव में दूल्हन को अपने साथ बैठा कर गांव ले आया। पूरे गांव के लोगों ने दूल्हे मोहम्मद इमरान और उसके परिवार का लॉकडाउन का पालन करते हुए शादी की रस्में अदाकर दुल्हन लाने कर खुशी जताई। दूल्हे मोहम्मद इमरान का कहना है कि देश में कोरोना वायरस से बचाव को लेकर लॉकडाउन किया हुआ है।

ऐसे में दो चाचा को साथ लेकर यमुना नदी के अंदर से ट्यूब पर तैर कर गये और नाव में दुल्हन लेकर आए हैं।
... और पढ़ें

पानीपतः चौथा पॉजिटिव केस आया सामने, दुबई से लौटी 53 वर्षीय बिजनेस वुमेन कोरोना से संक्रमित

मेदांता अस्पताल की स्टाफ नर्स में कोरोना पॉजिटिव मिलने के बाद वीरवार को मॉडल टाउन की एक महिला भी कोरोना पॉजिटिव पायी गयी है। महिला 21 मार्च को दुबई से पानीपत आई थी। उसको सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में रखा गया है। विभाग ने उसके दो बच्चों और पति को घर में क्वारंटीन कर दिया है।

पानीपत में अब तक कोरोना वायरस के चार पॉजिटिव केस मिल चुके हैं। इनमें से तीन को सिविल अस्पताल के आइसोलेशन वार्ड में और नौल्था की महिला को रोहतक पीजीआई में रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग अब तक 26 सैंपल भेज चुका है। मॉडल टाउन की रहने वाली 53 वर्षीय बिजनेस वुमेन 10 मार्च को दुबई गई थी। वहां से वो 21 मार्च को पानीपत लौटी थी। दिल्ली इंदिरा गांधी हवाई अड्डे पर उसकी स्क्रीनिंग भी की गई थी। विभाग ने उसी दिन उसकी स्टैंपिंग कर घर में ही क्वारंटीन कर दिया था। 21 मार्च को उसको बुखार और गले में खरास की शिकायत थी। 22 मार्च को उसको जुकाम और खांसी बढ़ गई।

परिजनों की सूचना पर स्वास्थ्य विभाग ने 25 मार्च को उसे सिविल अस्पताल में दाखिल कर उसके सैंपल जांच के लिए खानपुर मेडिकल लैब में भेज दिए थे। वीरवार शाम को उसकी रिपोर्ट आई, जिसमें वो पॉजिटिव पाई गई है। विभाग ने उसके पूरे परिवार को घर में क्वारंटीन कर दिया है। महिला के सैंपल दोबारा जांच के लिए पुणे लैब में भेज दिया गया है।

मॉडल टाउन से तीन मामले आए, इसलिए बढ़ी चिंता
शहर में अब तक कोरोना वायरस के चार मामले सामने आ चुके हैं। इनमें से तीन मामले मॉडल टाउन क्षेत्र के हैं, वहीं नौल्था गांव से एक केस सामने आया था वो भी मॉडल टाउन के युवक के संपर्क में आने से हुआ था। इसलिए विभाग मॉडल टाउन क्षेत्र को सैनिटाइज करने की प्लानिंग कर रहा है। साथ ही लोगों को घरों में क्वारंटीन किया जा रहा है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः आइसोलेशन वार्ड में तब्दील हुई 24 कोच की ट्रेन, रेलमंत्री ने ट्वीट की तस्वीरें देखिए

आइसोलेशन वार्ड आइसोलेशन वार्ड

पानीपतः पत्नी और दो बच्चों को लाइसेंसी पिस्तौल से गोली मारकर राशन डिपो होल्डर ने की खुदकुशी

पानीपत मॉडल टाउन के राज नगर में राशन डिपो चालक ने शुक्रवार रात अपनी पत्नी व दो बच्चों की गोली मारकर हत्या कर दी। उसके बाद खुद अपनी कनपटी पर गोली मारकर खुदखुशी कर ली। सूचना मिलते ही मॉडल टाउन पुलिस मौके पर पहुंची और शवों को सामान्य अस्पताल में रखवाया।

मिली जानकारी के अनुसार, अनिल उर्फ काला उम्र 36 साल डिपो होल्डर पुत्र नफे सिंह निवासी राजनगर, थाना मॉडल टाउन पानीपत ने अज्ञात कारणों से अपनी पत्नी पूनम व दो बच्चों लड़की प्राची (8) व लड़का अंशु (5) को गोली मार दी। खुद को भी गोली मारकर आत्महत्या कर ली।

शनिवार को स्थानीय लोगों ने पुलिस कंट्रोल रूम में घटना की सूचना दी। मॉडल टाउन पुलिस व एफएसएल टीम मौके पर पहुंची। पुलिस ने लाइसेंसी पिस्तौल को अपने कब्जे में लेकर शवों को सामान्य अस्पताल पहुंचाया और पोस्टमार्टम के लिए शव गृह में रखवाया। पुलिस द्वारा आगामी कार्रवाई की जा रही है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः हरियाणा में लॉकडाउन में फंसे कश्मीर-बिहार के लोगों के लिए मसीहा बने दुष्यंत, दीपेंद्र

कोरोना से जंग में बंद के बीच हरियाणा में फंसे कश्मीर, बिहार के लोगों के लिए उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला व नव निर्वाचित राज्य सभा सांसद दीपेंद्र हुड्डा मसीहा बने हुए हैं। मदद मांगने पर तुरंत सहायता मुहैया करा रहे है। ट्विटर पर एक्टिव रहने वाले उपमुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला से जम्मू, कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने अपने राज्य के छात्रों व बिहार के पूर्व उप मुख्यमंत्री तेजस्वी यादव ने मजदूरों के लिए ट्वीट कर मदद मांगी थी।

चौटाला ने ट्विटर के माध्यम से आई मदद की गुहार पर पहले हिसार में फंसे जम्मू कश्मीर के छात्रों को तुरंत सहायता प्रदान करवाई तो वहीं इसके बाद फरीदाबाद में फंसे बिहार के मजदूरों की मदद के लिए वे आगे आए। उन्हें तुरंत जिला प्रशासन के जरिए मदद मुहैया करवाई।

शुक्रवार को बिहार में विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने ट्वीट कर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला व दीपेंद्र हुड्डा को बताया कि बिहार के 20-25 मजदूर खाने के अभाव में फरीदाबाद जिले के गांव तिलप्त व पल्ला में फंसे हुए हैं। उन्होंने यह जानकारी देते हुए तुरंत सहायता प्रदान करने का आग्रह किया। जिस पर उप-मुख्यमंत्री दुष्यंत चौटाला ने जिला प्रशासन से बात करके उन्हें तुरंत मदद मुहैया करवाई और इसकी जानकारी ट्विटर पर साझा की।

दीपेंद्र की टीम के सदस्य भी वहां पहुंचे व मजदूरों की मदद की। जिस पर तेजस्वी ने दुष्यंत व दीपेंद्र का आभार जताया।इससे पहले डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला को हिसार में फंसे कश्मीरी छात्रों की जानकारी जम्मू कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर दी थी। उन्होंने दुष्यंत चौटाला से आग्रह किया कि वे हस्तक्षेप करें और उन्हें सहायता प्रदान करें।

इसके बाद दुष्यंत चौटाला ने उनसे बच्चों की जानकारी मांगी। महबूबा मुफ्ती ने एक और ट्वीट करते हुए हिसार में फंसे कश्मीरी छात्रों के मोबाइल नंबर समेत उनकी जानकारी दी। जिस पर डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला ने जिला प्रशासन से बात कर उनको तुरंत मदद पहुंचाई। पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने तुरंत मदद के लिए दुष्यंत चौटाला का धन्यवाद किया है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः हरियाणा में लॉकडाउन, बच्चों के घरों तक महीने का राशन पहुंचाएंगे आंगनबाड़ी वर्कर

हरियाणा में आंगनबाड़ियों के बच्चों लॉकडाउन के दौरान खाने की निर्बाध सप्लाई होगी। इसके लिए सभी आंगनबाड़ी संचालकों को निर्देश दे दिए गए हैं कि वह तीन दिन में बच्चों के घर जाकर एक महीने का राशन उपलब्ध करवाएं।

हरियाणा की मुख्य सचिव केशनी आनंद अरोड़ा ने कहा कि राज्य में अगले तीन दिनों के भीतर प्रदेश की सभी आंगनबाड़ियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे एक महीने के राशन की आपूर्ति घर द्वार पर पहुंचाना सुनिश्चित करें। उन्होंने बताया कि वित्त विभाग द्वारा सभी नगर निकायों के लिए 500 करोड़ रुपये जारी किए जा रहे हैं।

सभी उपायुक्तों को निर्देश दिए गए हैं कि वे इस राशि का उपयोग वर्तमान में उत्पन्न हुई संकट स्थिति से निपटने के लिए नगर निकायों में केवल आवश्यक सेवाओं के रख-रखाव के लिए ही उपयोग करना सुनिश्चित करें।

शुक्रवार को संकट समन्वय समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए उन्होंने कहा कि आंगनबाड़ियों के लाभार्थियों को सूखा राशन के सुचारु वितरण करने के लिए, संबंधित जिले के बाल विकास परियोजना अधिकारी (सीडीपीओ) को उनके अधिकार में आने वाली आंगनबाड़ी वर्करों को क्षेत्र और तिथि के अनुसार पास जारी करने के लिए अधिकृत किया गया है।

मुख्य सचिव ने सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वे विकलांग, निराश्रित और अनाथ बच्चों की सूची तैयार करें, ताकि विभाग के अधिकारी और कर्मचारी व्यक्तिगत रूप से उनकी देखभाल के बारे में पूछताछ करें और यह सुनिश्चित करें कि उन्हें आवश्यक सुविधाएं मिल रही हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः लॉकडाउन में फरमान- गेहूं सरसों खरीद में इस्तेमाल होंगे राधा स्वामी डेरा के शैड

सांकेतिक तस्वीर
हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने अधिकारियों को 15 अप्रैल से सरसों व 20 अप्रैल से गेहूं की खरीद के उचित प्रबंध करने के निर्देश दिए हैं। उपज बेचने के दौरान मंडियों में किसी प्रकार की कठिनाई किसानों को नहीं होनी चाहिए। मुख्यमंत्री शुक्रवार को खरीद प्रबंधों की समीक्षा बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे। उन्होंने कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री जय प्रकाश दलाल व अपने प्रधान सचिव राजेश खुल्लर से डिजिटिलाइज वीडियो कॉलिंग कर खरीद प्रबंधों पर चर्चा कर सुझाव भी लिए।

सरसो व गेहूं की खरीद आरंभ होने का अंतराल मात्र पांच दिन का है, इसलिए दोनों फसलों की आवक एक साथ अधिक आने की संभावनाओं पर चर्चा की गई। सरकार ने राधा स्वामी डेरा सत्संग भवनों के शेडों का इस्तेमाल खरीद के लिए करने का निर्णय लिया है। सरसों की खरीद हैफेड व हरियाणा वेयर हाउसिंग गेहूं की खरीद भारतीय खाद्य निगम के माध्यम से की जाती है।

इस वर्ष सरसों का न्यूनतम समर्थन मूल्य 4425 रुपये प्रति क्विंटल और गेहूं का 1925 रुपये प्रति क्विंटल निर्धारित किया गया है। इस बार मंडियों में फसलों की वास्तविक बोली का आकलन मुख्यालय चंडीगढ़ से हो, इसके लिए भिवानी जिले की सिवानी मंडी को पॉयलट प्रोजेक्ट के आधार पर ऑनलाइन ऑक्शन के लिए चुना गया है।

इन फसलों की खरीद किसानों द्वारा ‘‘मेरी फसल-मेरा ब्योरा पोर्टल’’पर पंजीकृत जानकारी के अनुरूप कूपन जारी करके की जाएगी। चार-पांच गांवों के किसानों को उनकी सुविधा के लिए क्रम अनुसार मंडियों में फसल लाने के लिए कहा जाएगा। बैठक में इस बात की भी जानकारी दी गई कि हैफेड अपने सरसों के निर्धारित कोटे के अलावा नैफेड के लिए भी सरसों की खरीद करेगा।

कोरोना वायरस के कारण लॉकडाउन के चलते केंद्र सरकार ने सभी राज्यों से मंडियों में खरीद प्रबंधन के लिए सुझाव मांगे थे। इस बात की जानकारी दी गई कि हरियाणा के अलावा पंजाब, उत्तर प्रदेश, राजस्थान इत्यादि राज्यों ने भी केंद्र सरकार को पत्र लिख कर सुझाव दिए हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः हरियाणा में सरकारी कर्मचारी भी करेंगे प्रभावितों की मदद, इनेलो भी करेगी सहयोग

हरियाणा के सरकारी विभागों के कर्मचारी कोरोना प्रभावितों को राहत पहुंचाने के लिए संघर्ष सेनानी बन गए हैं। सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के वालंटियर राहत बचाव कार्यों मे सहयोग करेंगे।

सर्व कर्मचारी संघ हरियाणा के प्रदेशाध्यक्ष सुभाष लांबा, महासचिव सतीश सेठी व वरिष्ठ उपाध्यक्ष नरेश कुमार शास्त्री ने बताया कि अभी तक करीब 150 वालंटियर ने पोर्टल पर अपना नाम और किए जाने वाले कार्यों का रजिस्ट्रेशन करवा दिया है। इसका सिलसिला अभी जारी है।

संघ के कार्यकर्ता व वालंटियर 21 दिनों के लाकडाउन में आमजन की हर प्रकार की मदद के लिए तैयार हैं। वालंटियर नागरिकों को मेडिकल सहायता प्रदान करेंगे, घर-घर जाकर खाद्य सामग्री वितरण करने के साथ नागरिकों में कोरोना वायरल संक्रमण के बचाव के लिए जागरूकता फैलाएंगे।

सुभाष लांबा ने बताया कि प्रदेश में तमाम विभागों के कर्मचारियों ने संकट की इस घड़ी में एक महीने का वेतन भी मुख्यमंत्री राहत कोष में देने का निर्णय लिया है। अगर सरकार को और आर्थिक मदद की आवश्यकता हुई तो अगले महीने फिर आर्थिक मदद देने के लिए कर्मचारी तैयार हैं।

संक्रमण को रोकने के लिए स्वास्थ्य विभाग का मेडिकल व पैरा मेडिकल स्टाफ सीमित संसाधनों के बावजूद निडरता के साथ बहुत ही सराहनीय कार्य कर रहा है। इसके अलावा सफाई व सीवर कर्मचारी, बिजली कर्मचारी, अग्निशमन, जन स्वास्थ्य आदि आवश्यक सेवाओं के कर्मचारी आवश्यक सेवाओं को सुचारु रूप से चलाने के लिए दिन रात कार्य कर रहे हैं।
... और पढ़ें

कर्फ्यू: कंधे पर सामान-मासूम बच्चे, जेब में सिर्फ 200 रुपये, चंडीगढ़ में घरों के लिए निकले मजदूर

कोरोना वायरस संक्रमण के चलते चंडीगढ़ में कर्फ्यू लगा है, जिसके कारण सबसे ज्यादा दिक्कत दिहाड़ीदार मजदूरों को परेशानी उठानी पड़ रही है। दिल्ली, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़ आदि राज्यों से बड़ी संख्या में मजदूर पलायन कर रहे हैं। इसी तरह चंडीगढ़ से भी लोग पलायन करने लगे हैं। पिछले बुधवार से ही भारत में 21 दिनों का लॉकडाउन चल रहा है, जिस वजह से एक तिहाई आबादी घरों में रहने के लिए मजबूर है।

लेकिन सबसे ज्यादा दिक्कत दिहाड़ीदार मजदूरों को हो रही है, इसलिए वे पैदल ही अपना सामान और बच्चों को लेकर घरों और गांवों की ओर निकल पड़े हैं। शनिवार सुबह सड़क पर दिखे मजदूरों से बात की गई तो उन्होंने बताया कि हम मध्य प्रदेश के टीकमगढ़ के लिए जा रहे हैं। हमारी जेब में सिर्फ दो सौ रुपये हैं। अगर हम अपने घर नहीं जाएंगे तो हम यहां क्या खाएंगे? जो पैसे जेब में हैं, उन्हें भी रास्ते में बच्चों के खाने पर खर्च करुंगा।
 
... और पढ़ें

कोरोना वायरसः हरियाणा में लॉकडाउन, परेशान न हों लोग, नहीं टूटेगी राशन-सब्जी की सप्लाई चेन

लॉकडाउन के दौरान हरियाणा में लोगों को खाद्य पदार्थों की उपलब्धता को लेकर कतई बेचैन होने की जरूरत नहीं है। रसद सामग्री की सप्लाई चैन न टूटे, इसे लेकर हरियाणा सरकार पूरी तरह से गंभीर है।

मिड-डे मील पाने वाले छात्रों से लेकर आखिरी पंक्ति में खड़े अंत्योदय व्यक्ति तक इस संकट की घड़ी में रसद कैसे पहुंचे, इसे लेकर सरकार लगातार हर संभव कोशिशों में जुटी हुई है। प्रदेश की स्टेट लेवल सप्लाई चेन मॉनीटरिंग कमेटी में सरकार के आला अफसरों ने रसद सप्लाई चेन को और मजबूत बनाने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए हैं।

इन निर्णयों से हरियाणा के सभी जिलों के उपायुक्तों, खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रकों (डीएफएससी), पुलिस अफसरों और कॉनफेड के अधिकारियों समेत अन्य अफसरों को अवगत करवा दिया गया है। सभी अफसरों को स्पष्ट कर दिया गया है कि हरियाणा के किसी भी शहरी व ग्रामीण क्षेत्र में लोगों को खाद्य पदार्थों की कमी नहीं होने दी जाए।

अफसरों को निर्देश है कि अपने जिलों की रोजाना रिपोर्ट हेडक्वार्टर मेल से भेजी जाए। कमेटी के चेयरमैन पीके दास के अनुसार प्रदेश में खाद्य सामग्री की किसी प्रकार से कोई कमी नहीं है। लोगों तक रसद सामग्री आसानी से पहुंचती रहे। इसे लेकर हरियाणा सरकार बेहद प्रयासरत है।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस को लेकर राष्ट्रपति ने की वीडियो कॉन्फ्रेंस, हरियाणा की तैयारियों का लिया जायजा

देश के राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने हरियाणा में कोरोना वायरस से लड़ने की प्रदेश सरकार की रणनीति और तैयारियों का जायजा लिया। राष्ट्रपति शुक्रवार को विभिन्न राज्यों के राज्यपालों व यूटी के प्रशासकों से वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से मुखातिब थे। हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने भी राष्ट्रपति को हरियाणा की तैयारियों से अवगत करवाया।

इस दौरान राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने सभी राज्य सरकारों से कहा है कि कोरोना की बीमारी से निपटने के लिए सरकारी एवं गैर-सरकारी संस्थाओं, सामाजिक व धार्मिक संगठनों का भरपूर सहयोग लें।

इस अवसर पर उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने भी कोरोना बीमारी की स्थिति की समीक्षा करते हुए राज्यपालों से चर्चा की और आवश्यक दिशा-निर्देश दिये। उन्होंने हरियाणा में कोरोना बीमारी से निबटने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए गए प्रयासों की सराहना की और कहा कि यह खुशी की बात है कि हरियाणा में कोरोना बीमारी से पीड़ित किसी भी व्यक्ति की मृत्यु नहीं हुई है।

इस दौरान हरियाणा के राज्यपाल ने कहा कि हरियाणा इस आपदा से निबटने के लिए पूरी तरह तैयार है। प्रदेश में अब तक 3206 आइसोलेशन बेड तैयार किए गए हैं। 13000 लोगों को क्वारंटीन करने की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने राज्य सरकार द्वारा कोरोना बीमारी की स्थिति में गरीब व जरूरतमंद लोगों को वित्तीय सहायता प्रदान करने बारे भी अवगत करवाया ।

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद व उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू को हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए राज्य सरकार द्वारा किए गए कार्यों से अवगत करवाते हुए।
... और पढ़ें

किसानों तक रेल, सड़क मार्ग से पहुंचेगी खाद, कॉलेजों का तकनीकी स्टाफ तीन महीने के लिए अनुबंधित

हरियाणा में कोरोना से जारी जंग के बीच किसान सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में शामिल हैं। खरीफ फसलों की बुआई के लिए किसानों को खाद की किल्लत नहीं होने दी जाएगी। बंद के दौरान सरकार ने रेल, सड़क मार्ग के जरिये पूरे प्रदेश में किसानों को खाद पहुंचाने का निर्णय लिया है। कीटनाशक भी किसानों को मुहैया कराए जाएंगे।

खाद का पर्याप्त मात्रा में उत्पादन नेशनल फर्टिलाइजर लिमिटेड पानीपत करेगी। अतिरिक्त मुख्य सचिव कृषि संजीव कौशल ने इस संबंध में निर्देश जारी कर दिए हैं। उन्होंने खाद वितरण के लिए समुचित प्रबंध करने के लिए सभी डीसी को पत्र लिखा है। एनएफएल पानीपत को खाद उत्पादन करने के साथ ही वितरण के लिए जिला प्रशासन के साथ समन्वय भी स्थापित करना होगा। खाद की किल्लत न हो और किसान हाहाकार न मचाएं इसलिए सरकारी, सहकारी व अन्य बिक्री केंद्रों को सुबह 10 बजे से एक बजे तक खोला जाएगा। किसानों की मांग ज्यादा होने पर जरूरत अनुसार रोस्टर तैयार कर निजी दुकानें भी खाद बिक्री के लिए अधिकृत की जाएंगी।

केंद्र सरकार ने बीज व कीटनाशकों को तो लॉकडाउन में छूट दे दी थी, लेकिन खाद को उसमें शामिल नहीं किया था। हरियाणा सरकार ने इसे आवश्यक सेवाओं में शामिल करते हुए उत्पादन व आपूर्ति सुनिश्चित करने का निर्णय लिया है। चूंकि, हरियाणा में खाद की मांग लाखों टन में रहती है। मनोहर सरकार के पहले कार्यकाल के शुरुआती समय में खाद किल्लत के कारण थानों तक में बिक चुकी है। स्टॉक कम होने के कारण बिक्री केंद्रों पर मारपीट के कई मामले सामने आए थे। सरकार नहीं चाहती कि कोरोना महामारी के समय पुराना इतिहास दोहराया जाए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन