विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

सोशल मीडिया पर चला रहे थे फर्जी मैसेज, 36 लोगों पर हुआ केस दर्ज

सोशल मीडिया पर फर्जी मैसेज वायरल करना लोगों को भारी पड़ गया है।

5 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

फतेहाबाद

रविवार, 5 अप्रैल 2020

पॉल्ट्री फार्म संचालकों को नहीं मिल रहा फीड, 12 हजार चूजे जिंदा दबाए

कोरोना वायरस के चलते किए गए लॉकडाउन का असर पॉल्ट्री फार्मों पर भी देखने का मिल रहा है। पॉल्ट्री फार्म संचालकों को चूजों के लिए फीड नहीं मिल रहा है। इसके अलावा न ही इनकी सेल हो रही है। इसी परेशानी के चलते संचालकों ने अब जिंदा चूजों को जमीन में दबाना शुरू कर दिया है। सोमवार को बीघड़ रोड स्थित पॉल्ट्री फार्म पर 12 हजार चूजों को दबाया गया। पॉल्ट्री फार्म संचालक शंकर नारंग का कहना है कि करीब 30 लाख रुपये का नुकसान हो चुका है।
जिंदा चूजों को जमीन में दबाते समय पॉल्ट्री फार्म संचालक शंकर नारंग ने सोशल मीडिया पर एक वीडियो भी वायरल की। उसमें कहा कि सरकार समय रहते सुध ले नहीं तो कोरोना वायरस से क्या पता लोग मरे या न मरे, लेकिन उससे पहले आर्थिक तंगी से मर जाएंगे। शंकर नारंग ने कहा कि उसके गांव बीघड़, दौलतपुर, मानावाली में पॉल्ट्री फार्म हैं। यहां पर सफीदों व पानीपत से चूजों को लाकर तैयार किया जाता है, जिसे बरेलर कहते हैं।
इसके बाद इन्हें पंजाब और उत्तरप्रदेश मं सप्लाई किया जाता है, लेकिन अब कोई सेल प्वाइंट नहीं है। यहां तक कि इनके लिए डॉक्र और मेडिसिन की सुविधा नहीं मिल रही है और फीड भी नहीं मिल रहा है। ट्रांसपोर्ट सुविधा भी नहीं है। इसके चलते मजबूरन जेसीबी से जमीन खोदकर चूजों को जिंदा दबाना पड़ रहा है।
... और पढ़ें

आइसोलेशन के लिए टोहाना में 87 कमरों की व्यवस्था

कोरोना वायरस को लेकर प्रशासन की ओर से रात्रि ठहराव को लेकर 87 कमरों की व्यवस्था कर दी गई है। प्रशासन द्वारा तीन जगहों पर ये व्यवस्था की गई है। यह जानकारी नागरिक अस्पताल के एसएमओ डॉ. हरविंद्र सागु ने दी।
डॉ. सागु ने बताया कि नगर परिषद परिसर मे 2 कमरों के 8 बेड, रेलवे स्टेशन के नजदीक स्थित सरकारी स्कूल में 35 कमरे व दमकोरा रोड स्थित स्कूल में 50 कमरों की व्यवस्था की गई है। अलग राज्यों से आए लोगों के लिए नगर परिषद के एसआई अजैब सिंह के नेतृत्व में रेलवे रोड स्थित स्कूल में 30 बेड व नगर परिषद में 12 कमरों की व्यवस्था की गई है।
एसएमओ ने बताया कि विदेश से आए 34 लोगों की स्वास्थ्य विभाग द्वारा जांच की जा रही है, उन्होंने बताया कि अब दूसरे प्रदेश से आने वाले लोगों को भी जांच की जा रही है। उन्होंने बताया कि महाराष्ट्र में अधिक कोरोना मरीज होने के चलते वहां से आने वाले लोगों की लगातार जांच की जा रही है।
... और पढ़ें

होम क्वारंटीन परिवारों को संक्रमित समझ दूधिया नहीं दे रहे दूध, नहीं देने आ रहा कोई राशन, नौकर भी छोड़ गए काम पर आना

स्वास्थ्य विभाग की ओर से होम क्वारंटीन किए गए परिवारों के लिए मुश्किल खड़ी हो गई है। स्वास्थ्य विभाग की तरफ से इनके घरों के बाहर नोटिस लगाए गए हैं कि कोई भी इनसे न मिले और ये होम क्वारंटीन है। इसे नोटिस को देखने के बाद अब इन घरों में दूधिया दूध डालने के लिए नहीं आ रहा है और न ही कोई दुकानदार राशन दे रहा है। यहां तक कि कोई रेहड़ी वाला सब्जी और फल भी नहीं दे रहा है। अब ये लोग व्हाट्स एप ग्रुपों में संस्थाओं से सहायता मांग रहे हैं, क्योंकि प्रशासन की तरफ से इन परिवारों के लिए कोई व्यवस्था नहीं की गई है।
विदेश से और देश के अलग-अलग राज्यों और जिलों से आए लोगों को स्वास्थ्य विभाग ने स्क्रीनिंग के बाद होम क्वारंटीन किया है, ताकि अगर कोई दिक्कत हो तो वह अन्य लोगों में न फैलें। इसके चलते विभाग ने इनके घरों के आगे खतरा लिखा नोटिस लगाया है। यहां तक कि ये निर्देश दिए है कि कोई भी इन परिवारों से न मिलें और ये लोग घर से बाहर भी नहीं निकल सकते हैं। अगर घर से बाहर निकलते हैं तो एफआईआर दर्ज हो सकती है। भट्टूकलां में एक एफआईआर भी दर्ज करवाई जा चुकी है।
होम क्वारंटीन लोग बोले ऐसा तो जेल में भी नहीं होता
होम क्वारंटीन परिवारों के लोगों का कहना है कि जब से उनके घर के बाहर नोटिस लगाया गया है तब से दूध वाला नहीं आ रहा है। सब्जी वाले को कहते हैं तो वह नहीं देने के लिए आता है। आसपास के लोगों को राशन देकर जाने के लिए कहा जाता है तो वह राशन भी नहीं दे रहे हैं। यहां तक कि घर पर काम करने के लिए आने वाले नौकरानी भी नहीं आ रही है। शिव नगर निवासी होम क्वारंटीन एक युवक का कहना है कि जेल से भी बदतर हालात हो रहे हैं।
जिले में क्या है स्थिति
- विदेश से आए प्रवासी भारतीय होम क्वारंटीन 261
- अलग-अलग राज्यों से आए होम क्वारंटीन 495
- होम क्वारंटीन का समय पूरा हुआ 74
ऐसे कर सकते हैं मदद
डॉक्टरों के मुताबिक जो परिवार होम क्वारंटीन है वह अपने साथी को फोन करके सामान मंगवा सकते हैं। इसके बाद साथी वह सामान लाकर गेट पर छोड़ सकता है और फिर उसे कॉल करके बता सकता है। अगर कोई बात भी करनी है तो वह दूरी बनाकर बात कर सकता है। जो परिवार क्वारंटीन है वह अछूते नहीं है सिर्फ एहतियात के तौर पर इन्हें होम क्वारंटीन किया गया है।
कोरोना महामारी का रूप ले चुकी है, जो विदेश से या किसी अन्य स्थान से आएं है उनके घर पर कोविड-19 का पोस्टर लगा हुआ है लेकिन लोगों को यहां नहीं पता कि पोस्टर सिर्फ इसलिए है कि वे लोग अन्य लोगों से अलग रहें, ऐसा बिल्कुल नहीं है कि वे सब कोविड-19 के मरीज हैं। लोगों से मेरी अपील है कि आप उन लोगों की शिकायत करने की बजाए उनको जिस भी सामान की आवश्यकता है आप उन्हें सुरक्षा नियमों के साथ लाकर दे सकते हैं।
- डॉ. सुजाता बंसल, वरिष्ठ चिकित्सा अधिकारी, भट्टूकलां
जो लोग क्वारंटीन है उनके द्वारा व्हाट्स एप से सूचना आ रही है कि उनके घर दूधिया कोरोना के डर से दूध डालने नहीं आ रहा है और उनके राशन नहीं मिल रहा है। सूचना पर संस्था की तरफ से सामान पहुंचाया गया है। प्रशासन को इनके लिए व्यवस्था करनी चाहिए, क्योंकि प्रशासन के पास इनकी सूची है।
- गोपाल बंसल, सदस्य, खुशी एक उम्मीद फतेहाबाद।
... और पढ़ें

गेहूं की ऑनलाइन खरीद करेगी सरकार

सरकार द्वारा इस बार गेहूं की खरीद ऑनलाइन करने के आदेशों के बाद जहां जिलेभर की मंडियों के आढ़ती इस फैसले से सहमत नहीं, वहीं जिला में मात्र किसान 41,330 किसानों ने ही ‘मेरी फसल मेरा ब्यौरा’ पोर्टल पर अपनी फसलों का ब्यौरा दर्ज करवाया है। जिला में कुल 87 हजार किसान परिवारों में से अब तक मात्र 41,330 किसानों ने ही अपना पंजीकरण करवाया है। ऐसे में आधे किसान गेहूं बेचने में वंचित रह सकते हैं। गौरतलब है कि मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसान को अपनी फसल का ब्यौरा देना होता है कि उसके पास कितनी जमीन है तथा कितनी भूमि पर उसने क्या फसल बोई हुई है। इस बार सरकार ने उन्हीं किसानों की गेहूं खरीदने का निर्णय लिया है जिन्होंने मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर अपना पंजीकरण करवाया है।
फतेहाबाद अनाजमंडी व्यापार मंडल के सचिव रमेश तनेजा ने कहा कि सरकार के इस फैसले का व्यापार मंडल विरोध करता है। उन्होंने कहा कि सरकार ने पुराने तरीके से गेहूं की खरीद नहीं की तो वह सरकार का सहयोग नहीं करेंगे। तनेजा के अनुसार सीमावर्ती जिलों के किसानों की फसल पहले की तरह यहां बिकती रहे। कोई भी आढ़ती यहां पीएफएमएस के लिए अलग से बैंक खाता नहीं खोलेगा। सरकार को दामी और पल्लेदारी की बाकी पेमेंट समय पर अदा करनी चाहिए। सभी फसलें आढ़ती के माध्यम से खरीदी जाए। सरकार ने उनकी मांगे नहीं मानी तो वह सरकार का विरोध करेंगे और गेहूं खरीद में भागीदारी नहीं करेंगे।
किसान के पैसे जाएंगे ऑनलाइन आढ़ती के खाते में
मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर किसान को फसल का ब्यौरा देने के बाद बैंक डिटेल भरनी होती है। इस बार आढ़ती को पब्लिक फाइनेंस मैनेजमेंट सिस्टम(पीएफएमएस) के तहत बैंक में खाता खुलवाना होगा। सरकार गेहूं की पेमेंट उसी खाते में डालेगी जहां से आढ़ती किसान को ऑनलाइन पेमेंट डालेगा। इस खाते में ना तो चेक मान्य होगा और ना ही आढ़ती कैश निकलवा सकेगा।
पंजाब के किसान यहां आकर नहीं बेच पाएंगे अपनी फसल
गेहूं का न्यूनतम समर्थन मूल्य तो सरकार द्वारा निर्धारित है लेकिन जैसा की धान के सीजन में हर साल देखा जाता है कि पंजाब के किसान जिला की रतिया, टोहाना व फतेहाबाद अनाज मंडी में तय रेट से कम भाव पर धान बेच जाते हैं। पंजाब के किसानों के उक्त मंडियों में धान कम रेट पर बेचने से यहां के व्यापारी जिला के किसानों के धान का रेट भी कम लगाते हैं। मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण होने के बाद वही किसान मंडी में फसल लेकर आ सकेंगे जिनका पंजीकरण हो चुका होगा। ऐसे में पंजाब के किसान यहां आकर अपनी फसल नहीं बेच पाएंगे। जिससे जिला के किसानों को फायदा होगा।
जिला में सवा दो लाख हेक्टेयर भूमि कृषि योग्य
जिला में सवा दो लाख हेक्टेयर कृषि योग्य भूमि है। जिसमें से 1 लाख 89 हजार हेक्टेयर भूमि पर गेहूं की फसल है तथा करीब 6 हजार हेक्टेयर भूमि पर बागवानी है।
किस ब्लॉक के कितने किसानों का हो चुका पंजीकरण
मार्केट कमेटी किसान
रतिया 8489
जाखल 3125
टोहाना 6551
फतेहाबाद 8992
भट्टूकलां 7168
भूना 4305
कुलां 2700
कुल 41 हजार 330
किसानों को किया जा रहा है जागरूक : डीडीए
इस बार सरकार ने गेहूं की खरीद मेरी फसल मेरा ब्यौरा के तहत करने का निर्णय लिया है। इसके लिए लगातार किसानों को पोर्टल पर फसल का ब्यौरा दर्ज करवाने के लिए जागरूक किया गया। इसके बावजूद अंतिम तिथि तक 41 हजार 330 किसानों ने ही पंजीकरण करवाया। -डॉ. राजेश सिहाग, कृषि उप निदेशक
जिन किसानों का मेरी फसल मेरा ब्यौरा पोर्टल पर पंजीकरण हुआ है। सरकार उन्हीं किसानों की गेहूं की खरीद करेगी। अब तक करीब 41 हजार किसानों पोर्टल पर पंजीकरण करवाया है जो काफी कम है। इस बार तीन तरह के न्यूनतम समर्थन मूल्य लागू होंगे। 30 अप्रैल तक गेहूं बेचने वाले किसानों को 1925, 31 मई तक बेचने वाले किसानों को 1975 रुपये व 30 जून तक गेहूं बेचने वाले किसानों को 2050 रुपये गेहूं के दाम मिलेंगे। -संजीव सचदेवा, सचिव, मार्केट कमेटी फतेहाबाद।
... और पढ़ें

अफवाह पर सतर्क हुए ग्रामीण, लगाए ठीकरी पहरे

कोरोना को लेकर आए दिन ग्रामीण तबकों में अलग-अलग तरह की अफवाहें फैलने से ग्रामीणों में भय का माहौल है। शुक्रवार को भी विभिन्न तरह की अफवाहों के चलते भूना के एक दर्जन के करीब गांवों में ग्रामीणों ने गांव की सीमाएं सील कर ठीकरी पहरे शुरू कर दिए। शुक्रवार को सबसे अधिक अफवाह दिल्ली से एक समुदाय विशेष के लोगों की गांवों में आने की थी।
इन गांवों में गलियों में पहरा देते रहे ग्रामीण, बाहरी लोगों के आने पर प्रतिबंध
एक समुदाय के लोगों के गांव में घुसने की सूचना मिलने के बाद भूना के चमारखेड़ा, ढाणी गोपाल, ढाणी सांचला, ढाणी भोजराज, सनियाना, बैजलपुर, नहला, पिरथला, बोस्ती, बुवान, खासा पठाना, टिब्बी, लहरियां और डूल्ट आदि गांवों में चमार खेड़ा गांव से वायरल हुई ऑडियो ने हड़कंप मचा दिया। हालांकि पुलिस टीम भी गांव-गांव में जाकर लोगों को अफवाहों पर ध्यान न देने के लिए जागरूक किया। वहीं उपरोक्त गांव में ग्राम पंचायतों ने प्रत्येक गली की निगरानी के लिए युवाओं की जिम्मेदारी भी निर्धारित कर दी। उपरोक्त अफवाहों के बाद प्रत्येक गांव में बाहरी व्यक्ति पर आना प्रतिबंध लगा दिया है।
एक समुदाय के लोगों द्वारा गांव-गांव में आने की अफवाह फैलाई जा रही हैं। पुलिस जांच में ऐसा कोई मामला सामने नहीं आया। लोगों को लॉकडाउन का पालन करना चाहिए और सामाजिक दूरी बना कर रखना चाहिए। -देवेंद्र सिंह, थाना प्रभारी।
... और पढ़ें

Coronavirus in Haryana: भिवानी में दो और कैथल में एक जमाती संक्रमित, 47 हुई मरीजों की संख्या

हरियाणा में शनिवार की सुबह कैथल में एक और भिवानी जिले में कोरोना संक्रमण के दो मामले आए। इसके साथ ही प्रदेश में पॉजिटिव मरीजों की संख्या 47 हो गई। इनमें से दो की मौत हो चुकी है। एक अंबाला निवासी 67 वर्षीय बुजुर्ग की और दूसरी रोहतक निवासी 72 वर्षीय महिला की। अब तक गुरुग्राम में 15, फरीदाबाद में 6, पानीपत में 4, सिरसा में 3, पंचकूला में 2, भिवानी में 2, अंबाला में 3, हिसार में 1, पलवल में 4, नूंह में 3 और कैथल, सोनीपत, करनाल, रोहतक में एक-एक मामला सामने आ चुका है।

भिवानी में मिले दो पॉजिटिव केसों में एक गांव संड़वा से है तो दूसरा गांव मानहेरू से है। दोनों ही दिल्ली के मरकज में शामिल होकर लौटे थे। देर रात पीजीआई से दोनों की रिपोर्ट आई तो स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। रात में ही दोनों के परिजनों को स्वास्थ्य विभाग की टीम घरों से लेकर आई और उन्हें क्वारंटीन सेंटर लोहानी भेज दिया गया।

नोडल अफसर डॉ. राजेश ने बताया कि गांव मानहेरू निवासी 52 वर्षीय बुजुर्ग और संडवा वासी 28 वर्षीय युवक की रिपोर्ट पॉजिटिव आई है। भिवानी में 22 जमाती क्वारंटीन किए गए हैं। इनमें से छह के सैंपल जांच के लिए भेजे गए थे, जिनमें से दो की रिपोर्ट पॉजिटिव आई।
... और पढ़ें

तमिलनाडू से आए चार युवकों और 15 मजदूरों को क्वारंटीन

रतिया के दो गांवों में दूसरे राज्यों से आए 19 युवकों की सूचना मिलते ही स्वास्थ्य विभाग में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में स्वास्थ्य विभाग व पुलिस की टीमें दोनों गांवों में पहुंची और युवकों को रतिया के शेल्टर होम में क्वारंटीन कर दिया। प्रवासी युवकों के गांवों में मिलने की सूचना पर खंड विकास एवं पंचायत अधिकारी रमेश मिथरानी ने दोनों जगह का निरीक्षण किया। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दोनों मामलों में युवकों की स्वास्थ्य जांच की है और अभी तक इनमें कोई युवक संदिग्ध नहीं मिला है।
पहला मामला गांव शेरगढ़ ढाणी का है जहां पर तमिलनाडु से आए चार युवक मिले हैं। रतिया पुलिस को अज्ञात ने सूचना दी कि गांव शेरगढ़ ढाणी में चार युवक बाहर से आए हैं और गांव में एक धार्मिक स्थल में रह रहे हैं। इस पर रतिया शहर थाना से सहायक पुलिस निरीक्षक कर्मवीर सिंह टीम के साथ शेरगढ़ ढाणी में पहुंचे वहां पर एक धार्मिक स्थल के पास रतिया से बाहरी क्षेत्र के चार लोग मिले । बातचीत करने पर उन्होंने बताया कि वह तमिलनाडु के मदुरई शहर की यूनिवर्सिटी में बाइबल पर मास्टर डिग्री कर रहे थे। इनमें से एक बिहार, दो उत्तर प्रदेश व एक कैथल का निवासी है। चारों ने पुलिस को बताया कि 20 मार्च को वो चारों दोस्त अपने अपने शहर जा रहे थे। इस दौरान अचानक लॉकडाउन होने के चलते वो अपने एक अन्य दोस्त भूना निवासी कमल के साथ ट्रेन में जाखल आए थे और इसके बाद उनका दोस्त उन्हें शेरगढ़ ढाणी में लेकर आ गया। इसके बाद वो एक चर्च में पनाह लेकर पिछले दस दिनों से यहां पर रुके हुए हैं। इसके बाद चारों युवकों की नागरिक अस्पताल रतिया में जांच की गई और कोई लक्षण न मिलने पर बुढ़लाढ़ा रोड स्थित शेल्टर होम में क्वारंटीन कर दिया।
दूसरा मामला रतिया के गांव नंगल का है। यहां पर गांव के सरपंच प्रतिनिधि भूपेंद्र सिंह को किसी ने सूचना दी कि गांव में राजस्थान में फसल काटने गए 15 मजदूर देर रात वापिस आ गए। जिसके बाद सरपंच प्रतिनिधि ने इसकी सूचना रतिया पुलिस व स्वास्थ्य विभाग को दी। सूचना मिलने पर एसएमओ डॉ. भरत सिंह ने गांव एएनएम व आशा वर्कर्स को सभी की स्वास्थ्य जांच के निर्देश दिए। फिलहाल सभी मजदूर स्वस्थ मिले हैं जिसके बाद एसएमओ ने उन्हें होम क्वारंटीन करने के निर्देश दिए।
इस बारे में रतिया शहरी थाना प्रभारी विक्रम सिंह ने बताया कि उन्हें सूचना मिली थी की शेरगढ़ ढाणी में चार युवक बाहर से आकर दस दिनो से रह रहे हैं और गांव नंगल में भी कुछ मजदूर राजस्थान से आए हैं। जिस पर उन्होंने स्वास्थ्य विभाग के साथ मिलकर इन चार युवकों को रतिया होम शेल्टर में स्वास्थ्य विभाग की निगरानी में रखा है और मजदूरों को उनके घरों में होम क्वारंटीन किया है।
... और पढ़ें

जिले के 33 निजी अस्पतालों के 25 प्रतिशत बेड कोरोना मरीजों के लिए होंगे आरक्षित

तमिलनाडु से रतिया में आए चार लोगों को शेल्टर होम में ले जाते हुए कर्मचारी
जिला में कोविड-19 के संक्रमण को रोकने और इसके संदिग्ध व प्रभावित व्यक्तियों को क्वारंटीन करने के लिए आइसोलेशन वार्ड बनाना जरूरी है। जिलाधीश रविप्रकाश गुप्ता ने बताया कि आइसोलेशन वार्ड बनाने और उनमें कोविड-19 के संदिग्ध व प्रभावित व्यक्तियों को रखने के लिए निजी अस्पतालों के भवन उपयुक्त हैं। जिलाधीश ने शक्तियों का प्रयोग करते हुए निजी अस्पतालों की कम से कम 25 प्रतिशत बिस्तर क्षमता कोविड-19 के संदिग्ध व प्रभावित व्यक्तियों को रखने के लिए अधिग्रहित किया है।
जिलाधीश रविप्रकाश गुप्ता ने इन निजी अस्पतालों के मालिकों को उपरोक्त उद्देश्य के लिए इन भवनों को तैयार रखने के निर्देश दिए है और कहा कि वे इन भवनों को जरूरत पड़ने पर संबंधित उपमंडलाधीश एवं सिविल सर्जन को सौंपे। उन्होंने बताया कि कोविड-19 के संक्रमण को रोकने और इसके संदिग्ध व्यक्तियों को आइसोलेशन वार्ड में रखने के लिए मांग अनुसार निर्धारित 25 प्रतिशत की सीमा को बढ़ाया जा सकता है।
इन निजी अस्पतालों को किया चिह्नित : जिलाधीश रविप्रकाश गुप्ता ने फतेहाबाद के श्री बालाजी चिल्ड्रन अस्पताल, चौहान चिल्ड्रन अस्पताल, पटियाला चिल्ड्रन एंड मैटरनिटी होम, जयपुर चिल्ड्रन अस्पताल, संदूजा ईएनटी एंड मैटरनिटी अस्पताल, सिवाच सर्जिकल एंड मैटरनिटी अस्पताल, वधवा अस्पताल, समीर चिल्ड्रन अस्पताल, बंसल अस्पताल एंड हर्ट केयर सेंटर, बतरा चिल्ड्रन एंड मैटरनिटी अस्पताल, दहिया नर्सिंग होम, सिंगला अस्पताल, संजीवनी मल्टीस्पेशलिस्ट अस्पताल एंड ट्रामा सेंटर, सद्भावना अस्पताल, वरदान अस्पताल, पंजाबी सभा अस्पताल, रतिया के प्राइवेट मिगलानी अस्पताल, टोहाना में आरएमसी अस्पताल, दिल्ली मेडिकल सेंटर, अरोड़ा अस्पताल, शालिन नर्सिंग होम, लांबा चाइल्ड केयर, खन्ना ईएनटी, कक्कड़ नर्सिंग होम, एचएमएस मिशन अस्पताल, गोयल चाइल्ड केयर सेंटर, मानव सेवा संगम अस्पताल, भाटिया नर्सिंग होम, भाटिया नर्सिंग होम मेडिकल एनक्लेव, पारूल अस्पताल, अजय अस्पताल, संतयोग अस्पताल तथा जैन समाधि अस्पताल में 25 प्रतिशत भवन रिजर्व करने के आदेश दिए है।
... और पढ़ें

Coronavirus in Haryana: पहली मौत, एक दिन में 10 नए मामले आने से हड़कंप, कुल संख्या पहुंची 39

कोरोना वायरस के चलते हरियाणा में पहली मौत अंबाला जिले में हुई है। जानलेवा वायरस की चपेट में आकर करीब 67 साल के एक बुजुर्ग ने दम तोड़ दिया है। बुजुर्ग चंडीगढ़ पीजीआई में भर्ती था। हरियाणा में पहले मरीज की मौत के बाद अंबाला प्रशासन और सरकार दोनों सकते में हैं। अंबाला के टिंबर मार्केट स्थित सिकलीगर मोहल्ले के उस एरिया को पूरी तरह सील कर दिया गया है, जहां बुजुर्ग रहता था।

इसके अलावा हरियाणा में कोरोनाग्रस्त मरीजों की संख्या भी 29 से बढ़कर 39 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के महानिदेशक एसबी कंबोज ने पुष्टि करते हुए बताया कि अंबाला में 2, पलवल में 3 और रोहतक में 1 नया मामला सामने आया है। जबकि अंबाला में कोरोना वायरस से संक्रमित एक बुजुर्ग की मौत हो गई है। 

4 नए मामले गुरुग्राम में भी सामने आए हैं। प्रदेश में अब कोरोना वायरस के गुरुग्राम में 14, फरीदाबाद में 6, पानीपत में 4, सिरसा में 3, पंचकूला में 2, अंबाला में 3, पलवल में 4, हिसार, सोनीपत और रोहतक में 1-1 मामले सामने आ चुके हैं। इन कोरोनाग्रस्त मरीजों के संपर्क में आ चुके 353 लोग भी स्वास्थ्य महकमे के लिए बड़ी चिंता का विषय बने हुए हैं।

प्रदेश में इस वक्त स्वास्थ्य महकमे ने 15742 लोगों को मेडिकल सर्विलांस में रखा गया है। यह आंकड़ा भी 1 दिन में बहुत ज्यादा बड़ा है। 227 संदिग्ध मरीज अस्पतालों में भर्ती हैं और इलाज करा रहे हैं। कुल 1102 सैंपल में से 885 संदिग्धों के सैंपल नेगेटिव आए हैं। जबकि अभी 182 सैंपल की रिपोर्ट आना बाकी है। प्रदेश में अब तक 13 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं। जबकि 1039 लोगों ने अपना 28 दिन का मेडिकल सर्विलांस पूरा कर लिया है। सरकार का दावा है कि इस बीमारी से लड़ने के लिए सरकार पूरी गंभीरता के साथ जुटी हुई है।
 
... और पढ़ें

पांच दुकानदारों के काटे चालान

कोरोना वायरस को देखते हुए जिला में 25 मार्च से जारी लॉकडाउन में कुछ किराना और मेडिकल स्टोर के संचालकों द्वारा आवश्यक वस्तुओं के दाम निर्धारित दामों से ज्यादा वसूलने की शिकायत मिलने पर जिला खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने रतिया व भूना में करीब 20 दुकानों पर कार्रवाई की। विभाग की टीम ने रतिया में 5 दुकानों व भूना में 1 दुकान पर सामान के निर्धारित कीमत से ज्यादा वसूलने या वस्तुओं पर एमआरपी न होने के कारण उनके चालान काट दिए। इस टीम में एएफएसओ लेखराज और नापतोल निरीक्षक धर्मपाल शामिल थे। जिला खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक प्रमोद शर्मा ने कहा कि किसी भी निर्धारित दामों से ज्यादा दाम नहीं वसूलने दिए जाएंगे।
जानकारी अनुसार खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक प्रमोद शर्मा व खाद्य आपूर्ति अधिकारी विनीत जैन को सूचना मिली कि कुछ दुकानदार लॉकडाउन का फायदा उठाते हुए मनमाने दाम वसूल रहे हैं। डीएफएससी ने सहायक फूड एंड सप्लाई ऑफिसर लेखराम व नापतोल निरीक्षक धर्मपाल की टीम गठित कर जांच के आदेश दिए। टीम ने रतिया की 15 दुकानों पर कार्रवाई की। इनमें 5 दुकानों पर अनियमितताएं पाई गई। मुख्य रूप से भगत सिंह चौक पर स्थित ओमप्रकाश, कृष्णलाल, विनोद कुमार, अशोक कुमार की किराने की दुकान, बत्रा वैरायटी स्टोर, टोहाना रोड, ग्रोवर किराना स्टोर व सुभाष कंफैक्शनरी बुढ़लाडा रोड पर अनेक वस्तुओं पर एमआरपी नहीं लिखा था जिसे वह बेच रहे थे। इनमें से दो दुकानों को निर्धारित रेट से ज्यादा वसूलते हुए भी पाया गया। विभाग की टीम ने पांचों दुकानदारों को आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत चालान कर नोटिस थमा दिया। इसी तरह भूना के मुख्य बाजार में राम किराना स्टोर पर आटा की थैली पर एमआरपी नहीं मिला। इस पर विभाग की टीम ने आवश्यक वस्तु अधिनियम के तहत दुकानदार का चालान कर दिया। खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक प्रमोद शर्मा ने कहा कि जब तक लॉकडाउन है ऐसे ही कार्रवाई जारी रहेगी।
... और पढ़ें

स्कूटी पर मेडिसिन सप्लाई का स्टीकर लगाकर हो रही शराब की होम डिलिवरी

21 दिन के लॉकडाउन को 9 दिन हो चुके हैं प्रशासन दावा कर रहा है कि रेडक्रास के सदस्यों के माध्यम से किराना और जरूरत का सामान घरों पर डिलिवर किया जा रहा है लेकिन धरातल पर ऐसा कुछ नहीं है। राशन व अन्य जरूरत के सामान की होम डिलिवरी नहीं मिलेगी लेकिन शराब की होम डिलिवरी जरूरत मिल जाएगी। ऐसा ही कुछ शहर फतेहाबाद में हो रहा है यहां पर राशन की होम डिलिवरी नहीं मिल रही लेकिन 10 मिनट के अंदर शराब जरूर घर पर पहुंच रही है।
शहर में ऐसे शातिर दिमाग लोग पुलिस से बचने के लिए स्कूटी पर मेडिसिन सप्लाई का स्टीकर लगाकर शराब की सप्लाई कर रहे हैं। मामले की जब पड़ताल की गई तो ऐसा ही कुछ सामने आया। शहर की एमसी कॉलोनी में एक व्यक्ति घर पर शराब देने के लिए पहुंचा। व्यक्ति ने स्कूटी पर मेडिसिन सप्लाई का स्टीकर लगाया हुआ था और डिग्गी में बोतल रखी हुई थी। जब मामले को कैमरे में कैद किया तो व्यक्ति कोई भी जवाब देने की बजाए स्टीकर फाड़कर मौके से फरार हो गया।
राशन की होम डिलिवरी पर आनाकानी
प्रशासन ने होम डिलिवरी के लिए शहर फतेहाबाद व उसके आसपास के क्षेत्र के लिए 80 किराना संचालक, 17 दूध डेयरी संचालकों की सूची जारी की थी। इसके साथ रेडक्रास सदस्यों की भी सूची जारी की है। इन रेडक्रास सदस्यों के माध्यम से राशन व अन्य जरूरत का सामान किराना स्टोर संचालक घरों पर भिजवा सकते हैं। जब वीरवार को इनकी पड़ताल की गई तो सामने आया है कि होम डिलिवरी के नाम पर किसी किराना स्टोर संचालक ने स्टॉक की कमी तो किसी ने रेडक्रास सदस्य न होने का बहाना बनाया। जब रेडक्रास सदस्यों के नंबरों पर कॉल की गई तो पांच में से दो नंबर बंद और एक गलत मिला। एक ने फोन नहीं उठाया तो दूसरे ने कहा कि दुकानदार के पास लड़का नहीं है तो रेडक्रास सदस्य सामान पहुंचाएंगे।
-रिपोर्टर : सुनील किराना स्टोर से
संचालक : जी
रिपोर्टर : जगजीवनपुरा में सामान घर पर मंगवाना था
संचालक : लिस्ट वाट्सअप कर दीजिए, स्टॉक कम है, स्टॉक में हुआ तो भेज देंगे
रिपोर्टर : क्या रेडक्रास सदस्य देकर जाएगा।
संचालक : नहीं, रेडक्रास सदस्य का पता नहीं, स्टॉक में हुआ तो मैं अगले दिन दे जाऊंगा
-रिपोर्टर : यू लाइक किराना स्टोर से
संचालक : जी
रिपोर्टर : बीघड़ रोड पर किराना का सामान मंगवाना था
संचालक : वाट्सअप कर दीजिए और अगले दिन खुद आकर ले जाना
रिपोर्टर : क्या रेडक्रास सदस्य नहीं आपके पास
संचालक : हमें रेडक्रास सदस्य के बारे में नहीं पता, हमें नहीं मिला। अगर कोई रेडक्रास वाला है तो उसका पर्ची दे दीजिए, ले जाएगा।
लॉकडाउन है और इस स्थिति ़में जरूरत की चीजों के अलावा सब कुछ बंद है। ऐसी स्थिति में शराब की कैसे होम डिलिवरी हो रही है ये बड़ा सवाल है। ठेके 31 मार्च को बंद हो चुके हैं। अगर कहीं अवैध रूप से शराब बिक रही है तो पुलिस उस पर मामला दर्ज कर कार्रवाई कर सकती है। - वीके शास्त्री, उपायुक्त, जिला आबकारी एवं काराधान अधिकारी।
मेडिसन सप्लाई का नाम लेकर जो लोग ऐसा काम कर रहे हैं उनके खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। नाके पर चेकिंग की जाएगी। पिछले दो दिनों से अवैध शराब के मामले पकड़े गए हैं। पुलिस पूरी तरह से सख्त है। - राजेश कुमार, एसपी, फतेहाबाद।
... और पढ़ें

टोहाना की मस्जिद से मिले 11 तबलीगियों में से दो में कोरोना के लक्षण

सपड़ा मोहल्ले की एक मस्जिद से पुलिस ने दिल्ली से आए 11 तबलीगियों को तलाश निकाला। इनमें से दो लोगों में कोरोना के लक्षण मिले है। जिनके सैंपल लेकर जांच के लिए रोहतक पीजीआई भेज दिए गए है। हालांकि सतर्कता के तौर पर सभी 11 लोगों को क्वारंटाइन के लिए रामभवन में रखा गया। राहत की बात ये है कि इनका दिल्ली की निजामुद्दीन में हुई मरकज से कोई संबंध नहीं है। 11 में से 10 युवक गाजियाबाद के लोनी के तथा एक युवक दिल्ली का रहने वाला है।
बुधवार को डीएसपी उमेद सिंह के पास सूचना मिली कि सपड़ा मोहल्ले की मस्जिद में बाहर के कुछ लोग टिके हुए हैं। सूचना पर एसएचओ सुरेंद्र सिंह व स्वास्थ्य विभाग की टीम ने पहुंचकर वहां मौजूद सभी 11 लोगों को बाहर निकाला और रामभवन स्थित क्वारंटाइन सेंटर ले गई। यहां स्वास्थ्य विभाग की जांच में दो लोगों को जुकाम की शिकायत मिली। जिसके बाद उनकी जांच कर सैंपल जांच के लिए भेज दिया गया। पुलिस की पूछताछ में गाजियाबाद के लोनी निवासी 8 लोगों ने बताया कि वो लोग 27 फरवरी को टोहाना में धर्म प्रचार के लिए आए थे। जिसके बाद 3 लोग 13 मार्च को यहां आए। उन्होंने पुलिस को बताया कि गिल्लावाली ढ़ाणी, हिम्मतपुरा, ईदगाह कालोनी व सपड़ा मोहल्ला में गए हैं, जहां उन्होंने धर्म प्रचार किया है।
डीएसपी उमेद सिंह ने बताया कि रामभवन में क्वारंटाइन किए गए मुस्लिम लोगों से गहनता से पूछताछ की गई है। इन लोगों का दिल्ली के निजामुद्दीन से होने का कोई संपर्क नहीं है। उन्होंने बताया कि इनमें से 10 लोग गाजियाबाद के लोनी से है तथा एक दिल्ली का रहने वाला है। डीएसपी ने बताया कि यह लोग गिल्लावाली ढ़ाणी, हिम्मतुपरा, ईदगाह कलोनी व सपड़ा मोहल्ला में गए थे। उनके बताए स्थानों पर जाकर भी छानबीन की जा रही है। उन्होंने बताया कि इन लोगों के आईडी कार्ड लेकर रहने के स्थानों का मिलान किया जा रहा है। वहीं जिला स्वास्थ्य विभाग के आदेशानुसार स्वास्थ्य विभाग की टीम ने डॉ. रितू के नेतृत्व में दो लोगों के सैंपल लिए । विभाग ने दोनों के सैंपलों को जंाच के लिए रोहतक पीजीआई भेज दिया गया है। विभाग द्वारा इन सभी का मेडीकल चेकअप किया जाएगा।
... और पढ़ें

ट्रक चालक समेत दो युवकों में कोरोना के लक्षण, सैंपल जांच को भेजा

फतेहाबाद में दो कोरोना संदिग्ध मरीज और मिले हैं। दोनों को आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कर उनके सैंपल रोहतक पीजीआई भेज दिए गए। बुधवार देर रात तक या फिर वीरवार सुबह तक सैंपल रिपोर्ट आने की उम्मीद है।
मामले के मुताबिक भूना के एक गांव निवासी ट्रक चालक है। पिछले दिनों वह पंजाब के मोहाली से गांव लौटा है। घर पहुंचने के बाद उसे खांसी, जुकाम और बुखार की शिकायत हुई। पिछले तीन दिन से घर पर उपचार ले रहा था। बुधवार को तबीयत ठीक न होने पर अस्पताल पहुंचा । डॉक्टरों को उसे संदिग्ध मानते हुए सैंपल लेने के बाद आइसोलेशन वार्ड में भर्ती कर लिया। इसी प्रकार टोहाना के एक गांव निवासी युवक मुंबई से दो माह बाद लौटा है। उसे भी पिछले तीन से खांसी, जुकाम और बुखार की शिकायत है। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस संदिग्ध मानते हुए सैंपल लेकर लैब में भेजा है। स्वास्थ्य अधिकारियों का कहना है कि दोनों की सैंपल रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। अभी एहतियात के तहत दोनों को आइसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us