विज्ञापन

जिला अस्पताल की तरफ से जारी किए गए हेल्पलाइन नंबर पर प्रतिदिन आ रहीं 50 कॉल

Rohtak Bureauरोहतक ब्यूरो Updated Sun, 29 Mar 2020 11:30 PM IST
विज्ञापन
ट्राइएज के बाहर खांसी-जुकाम की जांच के लिए लाइन में लगे लोग।
ट्राइएज के बाहर खांसी-जुकाम की जांच के लिए लाइन में लगे लोग। - फोटो : Hisar
ख़बर सुनें
कोरोना को लेकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा जिला अस्पताल की ओर से जारी किए गए मेडिकल हेल्पलाइन नंबर 70278-30252 पर प्रतिदिन 50 कॉल आ रही हैं। इनमें ज्यादातर कॉल खांसी-जुकाम, बुखार व बाहर से घूमकर आए लोगों की आ रही हैं।
विज्ञापन

इस दौरान सभी यहीं पूछ रहे हैं कि क्या खांसी-जुकाम, बुखार होना ही कोरोना के लक्षण हैं और कोरोना की जांच कहां करवाएं और इसके लिए क्या एहतियात बरतें। बता दें कि कोरोना को लेकर किसी भी तरह के संशय को दूर करने के लिए स्वास्थ्य विभाग ने हेल्पलाइन नंबर जारी किया है, जिस पर 24 घंटे लोगों को जानकारी उपलब्ध कराई जा रही है।
मरीजों की हिस्ट्री पूछकर दे रहे सलाह
जिला नोडल ऑफिसर डॉ. सुभाष खटरेजा ने बताया कि विदेश या बाहर से आए लोगों के प्रति यहां के लोगों में काफी भय बना हुआ है। इससे काफी लोग कॉल कर यह भी पूछ रहे हैं कि यदि कोई व्यक्ति बाहर से आता है तो उसकी जांच कब, कैसे और कहां व कितनी बार करवानी चाहिए। वहीं जिला अस्पताल प्रशासन इन सभी मरीजों को हिस्ट्री के अनुसार उन्हें सलाह दे रहा है।
गुजरात और मुंबई से 80 लोग पहुंचे हिसार
अन्य राज्यों में रोजगार के सिलसिले में गए लोगों का वापस घरों का लौटना रविवार को भी जारी रहा। रविवार को गुजरात व मुुंबई से 80 लोग हिसार पहुंचे और घर जाने से पहले इन्होंने नागरिक अस्पताल में जाकर अपने स्वास्थ्य की जांच कराई। इनमें से कुछ लोग हिसार तो कुछ आसपास के जिलों के थे। जांच कराने के बाद ये सभी लोग अपने घरों की तरफ रवाना हो गए।
छह माह के बच्चे का भेजा सैंपल
इधर, जिला अस्पताल की ओर से जिले के एक गांव निवासी छह माह के बच्चे का कोरोना संदिग्ध सैंपल भेजा गया है। बच्चा कहीं बाहर नहीं गया था। मगर बच्चे को खांसी-जुकाम, बुखार की शिकायत हुई तो अभिभावक उसे जांच के लिए जिला अस्पताल में लेकर पहुंचे। यहां बच्चे का एक्सरे करवाया, जिसके बाद आशंका के आधार पर डॉक्टरों द्वारा बच्चे को आइसोलेशन वार्ड में दाखिल कर लिया गया। उसके बाद बच्चे का सैंपल जांच के लिए भेजा गया। वहीं, जिला अस्पताल की ओर से शनिवार को भेजे गए एक सैंपल की रिपोर्ट निगेटिव आई है। इसके बाद डॉक्टरों ने उक्त युवक को छुट्टी देकर घर भेज दिया।
ट्राइएज में पहुंचे 156 लोग
वहीं, जिला अस्पताल में ट्राइएज में रविवार दोपहर तक खांसी-जुकाम, बुखार से संबंधित 156 लोग जांच करवाने के लिए पहुंचे। नर्स स्टाफ ने सभी मरीजों की हिस्ट्री व जांच के बाद उन्हें ओपीडी स्लिप देकर पास में बने फ्लू क्लीनिक में भेज दिया। वहां पर तैनात डॉक्टर द्वार सभी मरीजों में कोरोना संदिग्ध कोई लक्षण नहीं मिलने पर उन्हें दवा देकर घर भेज दिया गया।
जिला अस्पताल की स्टाफ नर्स का काटा चालान
उधर, कोरोना को लेकर सरकार की गाइडलाइन के बाद भी पुलिस प्रशासन अपनी मनमानी कर रहा है। शहर के नागरिक अस्पताल में कार्यरत स्टाफ नर्स कार से अनीता गांव गोरखपुर से अस्पताल आ रही थी। उस दौरान पुलिस द्वारा सिरसा चुंगी पर उसका चालान कर दिया गया। पुलिस प्रशासन की इस कार्रवाई पर अस्पताल के नर्सिंग स्टाफ ने नाराजगी जाहिर की है।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us