विज्ञापन

गाड़ी रुकवाने पर भड़के एचपीएससी के पूर्व चेयरमैन बोले -डीसी क्या हैं मेरे सामने

Rohtak Bureauरोहतक ब्यूरो Updated Mon, 06 Apr 2020 10:30 PM IST
विज्ञापन
गांव मलापुर में रास्ता रोकने के दौरान मौजूद पूर्व चेयरमैन गुरमेश बिश्नोई।
गांव मलापुर में रास्ता रोकने के दौरान मौजूद पूर्व चेयरमैन गुरमेश बिश्नोई। - फोटो : Hisar
ख़बर सुनें
पूर्व मुख्यमंत्री स्व. भजनलाल की सरकार में हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन के चेयरमैन रहे गांव असरावां निवासी गुरमेश बिश्नोई गांव मलापुर में युवाओं द्वारा गाड़ी रुकवाने पर भड़क गए। गुस्से में पूर्व चेयरमैन ने यहां तक कह दिया कि डीसी क्या है मेरे सामने। रास्ता रोकने की हिम्मत कैसे हुई। काफी देर तक इनकी युवाओं के साथ बहस चलती रही। नौबत हाथ उठाने तक की आ गई। पूर्व चेयरमैन एक युवक पर हाथ उठाने के लिए आने लगे, मगर लोगों ने उन्हें रोक दिया। काफी देर बाद अन्य ग्रामीणों ने बीचबचाव कर उन्हें वहां से रवाना किया। यह सारा माजरा कुछ देर बाद सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। वीडियो रविवार का है। गौरतलब है कि विधानसभा चुनाव के दौरान गुरमेश बिश्नोई ने भाजपा ज्वाइन की ली थी।
विज्ञापन

बोले- बेवकूफी में रोक रखा रास्ता
दरअसल, गांव मलापुर में युवाओं ने लॉकडाउन के चलते रास्ते रोके हुए हैं। जो भी गांव में आता है, उससे पूछताछ की जाती है। इसी बीच पूर्व चेयरमैन गुरमेश बिश्नोई अपने भतीजे भूपेंद्र व एक अन्य के साथ गाड़ी में मलापुर होते हुए अपने गांव असरावां जा रहे थे। गाड़ी को उनके भतीजे भूपेंद्र बैनीवाल चला रहे थे। जब युवाओं ने उनकी गाड़ी रुकवाई तो वह भड़क गए। उन्होंने कहा कि मैं चेयरमैन हरियाणा पब्लिक सर्विस कमीशन गुरमेश बिश्नोई हूं। बिल्कुल बेवकूफी में रास्ता बंद कर रखा है। तुम हो कौन है, मुझे रोकने वाले। तुम हमारा रास्ता नहीं रुकवा सकते। तुम्हारे पास किसी आदमी को जाने से रोकने का कोई अधिकार नहीं है। जब युवाओं ने कहा कि सरपंच ने कहा है तो पूर्व चेयरमैन बोले, सरपंच कौन होता है।
एक महीने में चौकीदार नहीं रहने दूंगा
इसी बीच एक युवक से पूर्व चेयरमैन ने पूछा तू कौन है, इस पर युवक ने जवाब दिया कि वह चौकीदार है। इस पर पूर्व चेयरमैन ने कहा कि तू एक महीने के अंदर चौकीदार नहीं रहेगा। तभी ज्यादा बोल रहे एक युवक पर हाथ उठाने के लिए भी पूर्व चेयरमैन ने कोशिश की। मगर उन्हें आसपास खड़े ग्रामीण रोक लेते हैं। युवाओं ने कहा कि पूछताछ तो करेंगे, कौन गांव में आ रहा है, कौन जा रहा है। इस पर पूर्व चेयरमैन ने कहा कि 15 मिनट पहले ही यहां से गए हैं, अंतिम संस्कार करके आए हैं एक व्यक्ति का, तब तो किसी ने नहीं रोका। गुरमेश बिश्नोई 1980 से 1991 तक एचपीएससी में रहे। पहले पांच साल तक सदस्य रहे। इसके बाद छह साल तक चेयरमैन रहे।
वर्जन
युवक वहां से निकलने के नाम पर 500 रुपये मांग रहे थे। गाड़ी सर्च करने या रोकने का किसी को अधिकार नहीं है। मेरी भांजी की सास गुजर गई थी। वहां गए थे। जब जाते हुए नहीं रोका गया तो वापसी में क्यों रोका। युवकों का व्यवहार बिल्कुल ठीक नहीं था। मैंने वीडियो क्लीपिंग के साथ एसपी को शिकायत भेजी है।
- गुरमेश बिश्नोई, पूर्व चेयरमैन, एचपीएससी
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us