विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020
Astrology Services

हनुमान जयंती पर नौकरी प्राप्ति, आर्थिक उन्नत्ति, राजनीतिक सफलता एवं शत्रुनाशक हनुमंत अनुष्ठान - 8 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

कोरोना को हरा घर पहुंची सोनीपत की तमन्ना, लोगों ने बरसाए फूल, थाली बजा किया स्वागत

कोरोना वायरस को हराकर खानपुर मेडिकल कॉलेज के अस्पताल से अपने घर लौटी छात्रा तमन्ना जैन का थाली बजाकर व फूल बरसाकर स्वागत हुआ।

3 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

जींद

शुक्रवार, 3 अप्रैल 2020

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

कंट्रोल रूम पर फोन कर राशन खत्म होने की कही बात, जांच में घर में खाने का मिला सभी सामान

कोरोना वायरस के चलते उपमंडल कार्यालय में प्रशासन द्वारा शुरू किए गए कंट्रोल रूप में फोन आया कि पालवां गांव में घर मे राशन नहीं होने के चलते खाना नहीं बना है। इसलिए जरूरतमंद के घर पर राशन पहुंचाया जाए। जब इसकी जानकारी मिलने के बाद पटवारी रामबिलास, मलखान व वीरेंद्र बताए गए पते पर पहुंचे तो वो देख कर आश्चर्यचकित रह गए कि जिसने फोन किया था उसके पास जरूरत का सारा सामान है। टीम द्वारा सामान की विडियो बनाई गई। यहां आटा, चावल और दाल सहित अन्य जरूरत का सामान था।
एसडीएम राजेश कोथ ने कहा कि बिना जरूरत के जो राशन व भोजन के लिए फोन करेंगे उनके खिलाफ प्रशासन द्वारा कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। अभी पहला ऐसा मामला सामने आया है तो, उसे चेतावनी देकर छोड़ दिया गया है। लोगों को चाहिए कि अगर जरूरतमंद के पास राशन व भोजन नहीं है तो कॉल करें, ताकि जरूरतमंद को ही राशन व भोजन पहुंचाया जा सके। अब जहां से भी इस तरह की कॉल आएगी पहले पता करवाया जाएगा कि फोन करने वाले व्यक्ति को राशन और भोजन की जरूरत है या नहीं। जरूरतमंद परिवार को किसी तरह की परेशानी खाने के लिए नहीं आने दी जाएगी।
... और पढ़ें
पालवां गांव में फोन कर खाना मांगने वाले के घर पहुंचने के बाद पटवारी रामबिलास घर में उपबल्ध खाने-प? पालवां गांव में फोन कर खाना मांगने वाले के घर पहुंचने के बाद पटवारी रामबिलास घर में उपबल्ध खाने-प?

जरूरतमंद लोगों के ठहरने के लिए जिले में बनाए गए 31 अस्थायी आश्रय स्थल

कोरोना के संभावित संक्रमण को रोकने के लिए सरकार की ओर से घोषित लॉकडाउन के दौरान जरूरतमंद लोगों को ठहरने और खाने-पीने की सुविधा देने के उद्देश्य से 31 अस्थायी आश्रय स्थल बनाए गए हैं। यह जानकारी डीसी डॉ. आदित्य दहिया ने दिया है। उन्होेंने बताय कि जींद में सात, जुलाना में चार , सफीदों में छह, पिल्लूखेड़ा में दो, नरवाना में पांच, उचाना में तीन और अलेवा में चार आश्रय स्थल बनाए गए हैं।
डीसी ने कहा कि अस्थायी आश्रय स्थलों में दूसरे राज्यों से आए लोगों के लिए शौचालय, बिजली और अच्छे बिस्तरों का इंतजाम किया गया है। इससे वहां पर ठहरने वालों को किसी प्रकार की कोई परेशानी नहीं हो। इसके लिए 31 नोडल अधिकारी बनाए गए हैं।
डीसी ने बताया कि जींद में राजकीय पीजी कॉलेज व राजकीय पीजीआई महिला कॉलेज के लिए पंचायती राज विभाग के कार्यकारी अभियंता प्रेम सिंह को नोडल अधिकारी बनाया गया है। जिनका मोबाइल नंबर 946725150 है। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय व राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के लिए सिंचाई विभाग के कार्यकारी अभियंता धर्मवीर मोर को नोडल अधिकारी बनाया गया है, जिनका मोबाइल नंबर 9416854061 है। राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय डिफेंस कॉलोनी व राजकीय हाई स्कूल बाल आश्रम जींद के लिए जिला नगर योगनाकार सुनैना को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है, जिनका मोबाइल नंबर 9518555552 है।
शांति विद्या मंदिर भिवानी रोड व राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय जुलाना, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय जुलाना के लिए जिला सैनिक बोर्ड के सचिव कर्नल राजेंद्र सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है। इनका मोबाइल नंबर 8527528330 है। जेबीएम रिलीजियंस एंड एजुकेशनल एसोसिएशन शादीपुर जुलाना और राजकीय महाविद्यालय जुलाना के लिए मार्केट कमेटी जुलाना के सचिव देवेंद्र सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 941631201 है। सफीदों में सैनी धर्मशाला के लिए जनस्वास्थ्य विभाग के कार्यकारी अभियंता गुरमीत सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 9896672130 है। राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय व राजकीय कन्या कॉलेज के लिए नगरपालिका सचिव पंकज जून को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 8901180040 है। राजकीय पीजी कॉलेज व राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय के लिए मार्केटिंग बोर्ड के डीएमईओ को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 9416076078 है।
राजकीय मिडिल स्कूल के लिए बीडीपीओ सफीदों कीर्ति सिरोहीवाल को नोडल अधिकारी बनाया गया है, जिनका मोबाइल नंबर 9468068629 है। उचाना में राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय उचाना मंडी व उचाना कलां के लिए उचाना मार्केट कमेटी के सचिव जोगेंद्र सिंह को नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। जिनका मोबाइल नंबर 9896073795 है। ओल्ड कमेटी बिल्डिंग के लिए एसडीओ मैकेनिकल नरवाना हिमांशु गोयल को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 8800172935 है। नरवाना में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय व राजकीय केएम कॉलेज नरवाना के लिए बिजली विभाग के कार्यकारी अभियंता विकास मोहन को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 8221901451 है।
राजकीय कन्या वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय व राजकीय प्राथमिक पाठशाला मोर पत्ती के लिए महिला एवं बाल विकास की डीपीओ उषा मुआल को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिसका मोबाइल नंबर 9416244919 है। पब्लिक धर्मशाला नरवाना के लिए सिंचाई विभाग नरवाना के कार्यकारी अभियंता बलराज चौहान को नोडल अधिकारी नियुक्त किया है, जिनका मोबाइल नंबर 9988615665 है।
उचित दूरी बनाए रखना बहुत जरूरी
डीसी डॉ. आदित्य दहिया ने कहा कि अस्थायी आश्रमों में वहां पर ठहरने वाले जरूरतमंद लोगों के लिए उचित दूरी बनाए रखना बहुत जरूरी है। लॉकडाउन के दौरान आमजन को कोई परेशानी नहीं हो इसके लिए प्रशासन विशेष ध्यान रख रहा है। आवश्यक वस्तुओं की आपूर्ति के लिए जिले में पूरा प्रशासन सतर्क है।
... और पढ़ें

तब्लीगी जमात से लौटे व्यक्ति का लिया सैंपल, किया गया आइसोलेट

दिल्ली में आयोजित तब्लीगी जमात में भाग लेकर लौटे आठ लोगों की जिला प्रशासन ने पहचान कर ली है। इन सभी को एहतियात के तौर पर क्वारंटीन किया गया है। वहीं अन्य राज्यों से आने वाले चार लोगों के सैंपल लिए गए हैं, जिनमें से एक की रिपोर्ट नेगेटिव आ चुकी है। अन्य तीन लोगों की रिपोर्ट आनी बाकी है।
तब्लीगी जमात के बाद बढ़े संक्रमण के बाद जिला प्रशासन ने काफी तेजी से कार्रवाई करते हुए सभी लोगों की पहचान की। हालांकि इनको दूसरे लोगों से अलग करने में काफी समय लगा दिया गया। राहत की बात यह है कि अभी तक जिले में कोरोना वायरस के संक्रमण का कोई भी मामला सामने नहीं आया है। दरअसल तब्लीगी जमात में भाग लेने वालों पर नजर रखने के लिए प्रशासन ने बुधवार को अभियान चलाया था। इन सभी लोगों से स्वास्थ्य संबंधी जानकारी ली गई। इसके बाद वीरवार को इनको स्वास्थ्य विभाग की टीम ने प्रशासन द्वारा बनाए गए क्वारंटीन में भेज दिया गया। इनमें एक व्यक्ति को जींद के नागरिक अस्पताल में रखा गया है, जबकि तीन को कंडेला गांव स्थित गंगापुत्र अस्पताल व तीन को सफीदों में रखा गया है। एक व्यक्ति को रोहतक भेज दिया गया है।
अब तक बाहर से आए 527 लोग
जिले में अब तक दूसरे देशों व राज्यों से 527 लोग पहुंचे हैं। इनकी निगरानी प्रशासन द्वारा की जा रही है। अब तक चार लोगों के सैंपल लिए गए हैं। इनमें से एक की रिपोर्ट नेगेटिव आई है। तीन लोगों की रिपोर्ट का इंतजार है। 94 लोगों को 14 दिन की निगरानी के बाद सुरक्षित घोषित कर दिया गया है।
दिल्ली प्रकरण के बाद बढ़ रहा तनाव
दिल्ली में हुए कार्यक्रम के बाद एक समाज के लोगों को लेकर कई जगह तनाव बढ़ रहा है। वीरवार को कई गांवों से सूचनाएं प्रशासन को दी गई कि यह लोग दिल्ली गए थे। एक परिवार के बारे में तो कहा गया कि उसके तीन लोगों को लगातार खांसी-जुकाम व बुखार है। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम ने जांच की तो कोई भी व्यक्ति बीमार नहीं मिला। न ही परिवार के लोग कहीं गए थे।
अफवाह नहीं फैलाएं लोग
प्रशासन के पास इस प्रकार की सूचनाएं आई हैं कि जमात मामले के बाद कुछ जगहों पर माहौल खराब करने का प्रयास किया गया है, जो सही नहीं है। प्रशासन ने अपने स्तर पर ऐसे सभी लोगों को चिह्नित कर लिया है, जो जमात में आए थे। जो लोग अभी नहीं पहुंचे हैं, उनके परिवारों को बोला गया है कि वे उनको वहीं रोक दें, जहां भी हैं। फिर भी यदि कोई व्यक्ति बाहर से आता है तो उसकी सूचना प्रशासन को दें। अफवाह नहीं फैलाएं। आठ लोगों को क्वारंटीन किया गया है। इनकी निगरानी की जा रही है। एक व्यक्ति का सैंपल भी भेजा गया है।
डॉ. आदित्य दहिया, डीसी।
... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

जांच के लिए पहुंचे चिकित्सक फाइल फोटो
क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें

ग्रामीणों ने की कोरोना के संदिग्ध होने की शिकायत, नहीं मिला कोई लक्षण, तीन को जांच के लिए लाए नागरिक अस्पताल

क्षेत्र के गांव फतेहगढ़ में लोगों ने एक परिवार के लोगों के दिल्ली जाने के संदेह में प्रशासन को सूचना दी। ग्रामीणों ने आशंका जताई कि इन लोगों में कोरोना संक्रमड़ हो सकता है। स्वास्थ्य विभाग की टीम ने दिन में गांव जाकर जांच की। स्वास्थ्य विभाग के अनुसार जांच में पाया कि न तो परिवार का कोई व्यक्ति दिल्ली गया है और न ही कोई बीमार है। इसके बाद दोपहरबाद फिर से गांव के लोगों ने इस बात पर विवाद कर दिया और सूचना प्रशासन को दी। इस पर स्वास्थ्य विभाग की टीम तीन लोगों को जांच के लिए जींद के नागरिक अस्पताल लाई है। जुलाना के एसएमओ डॉ. नरेश वर्मा के अनुसार परिवार के लोगों में कोई लक्षण नहीं हैं। फिर भी ग्रामीणों की तस्सली के लिए जांच करवाई जा रही है। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us