विज्ञापन
विज्ञापन
कराएं वसंत पंचमी पर बासर के सरस्वती मंदिर में पूजा, पढ़ाई व प्रतियोगी परीक्षाओं में मिलती है सफलता :29 जनवरी 2020
Astrology Services

कराएं वसंत पंचमी पर बासर के सरस्वती मंदिर में पूजा, पढ़ाई व प्रतियोगी परीक्षाओं में मिलती है सफलता :29 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

आतंकवाद पूरे विश्व के लिए बीमारी, इस लड़ाई में हम अपने दोस्त भारत के साथः इजराइली राजदूत

इजरायल के राजदूत रोन मलका ने कहा कि आतंकवाद पूरे विश्व के लिए एक बहुत बड़ी बीमारी है।

29 जनवरी 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कैथल

बुधवार, 29 जनवरी 2020

आखिरकार दूर हुई शहर में विकास कार्यों में टेंडर लगाने में आ रही सभी बाधाएं

शहर के विकास कार्यों के टेंडर में करीब साल भर से आ रही सभी बाधाएं अब दूर हो गई हैं। आज नगर परिषद द्वारा करीब डेढ़ करोड़ रुपये से शहर की सुंदरता के लिए स्ट्रीट लाइटों का टेंडर लगाया जाएगा। जिसमें सबसे पहले रेलवे ओवर ब्रिज के ऊपर लगी लाइटें लगाई जाएंगी। साथ ही सभी वार्डों में लाइटें लगाकर डीसी के निर्देश अनुसार एक भी ब्लाक स्पॉट न छोड़ने की दिशा में काम किया जाएगा। इसके साथ ही शहर में लटके करीब 200 अन्य विकास कार्यों के लिए भी टेंडर भी इसी सप्ताह लगा दिए जाएंगे।
विदित रहे कि शहर में पहले चुनावी व्यवस्तताओं, फिर एमई के न होने और फिर विभाग की वेबसाइट न चल पाने के कारण टेंडर नहीं लग पा रहे हैं। चार महीने तक शहर में अधिकतर ठेकेदारों द्वारा रिवाईज टेंडर के माध्यम से काम किए जा रहे थे। जिस पर पार्षदों की आपत्ति के बाद रोक लगा दी गई और परिषद की बैठक में भी यह मुद्दा प्रमुखता से उठा था। वहीं विधायक लीला राम ने भी शहर में पार्षदों व अन्य लोगों द्वारा उठाई जा रही समस्याओं के समाधान के निर्देश भी दिए थे। नवनियुक्त डीसी सुजान सिंह ने भी निर्देश दिए थे कि शहर में एक भी जगह रात को ब्लाक स्पॉट नहीं होना चाहिए।
वेबसाइट की बाधाएं दूर होने पर हुआ रास्ता साफ: नगर परिषद के एमई राजकुमार ने कहा कि टेंडर लगाने में जो वेबसाइट संबंधी तकनीकी दिक्कत आ रही थीं, उसे दूर कर लिया गया है। शुक्रवार को शहर के 30 वार्डों में और रेलवे ओवर ब्रिज की लाइटों को ठीक करवाने व नई लाइटें लगाए जाने के लिए डेढ़ करोड़ रुपये का टेंडर लगाया जाएगा। एक वार्ड के लिए 5 लाख रुपये का टेंडर पहले लगाया जा चुका है। इसके बाद लगभग 10 करोड़ रुपये के गलियों, नालियों, सड़कों, कम्यूनिटी सेंटर निर्माण संबंधी टेंडर भी इसी सप्ताह लग जाएंगे। विधायक लीला राम सहित डीसी सुजान सिंह के निर्देशानुसार शहर में कहीं भी ब्लॉक स्पॉट नहीं छोड़े जाएंगे।
ईओ अशोक कुमार ने कहा कि वेबसाइट चलने के बाद ऑपरेटर संबंधी परेशानी आ रही थी। जिसे दूर कर लिया गया है। शुक्रवार से टेंडर लगा दिए जाएंगे। परिषद में जो ऑपरेटर हैं, उन्हीं से ये टेंडर लगवा लिए जाएंगे।
विधायक लीला राम ने कहा कि शहर में लाइटें लगवाए जाने के लिए निर्देश जारी किए गए थे। कुछ तकनीकी दिक्कतें थीं, जिन्हें दूर करने में कुछ समय जरू0र लगता है। लेकिन अधिकारियों को निर्देश दिए गए हैं कि वे शीघ्र ही टेंडर लगाकर गुणवतापूर्वक काम करें। ताकि शहर में लोगों को परेशानी ना हो।
... और पढ़ें

सैल्यूटः एयरफोर्स में जाना चाहते थे पिता, बेटे ने पूरा किया सपना, संभालेगा सुखोई-30 की कमान

रविवार को दक्षिण भारत में भारतीय एयरफोर्स द्वारा अपनी तरह के पहले एयरबेस को विकसित किया गया है। जहां सुखोई 30 एमकेआई विमान पर ब्रह्मोस मिसाइल तैनात होगी। जो हिंद महासागर की निगरानी करेगा।

तमिलनाडु के तंजावुर एयरबेस पर बनाई गई टाइगर शॉर्क नामक इस स्कवॉड्रन में सुपरसोनिक मिसाइल तैनात होने से दक्षिण भारत में भारतीय सुरक्षा को बड़ी मजबूती मिली है। इस स्कवॉड्रन के ग्रुप कैप्टन एवं कमांडिंग ऑफिसर मनोज गेरा कैथल से हैं।

उनकी इस नई नियुक्ति से परिवार में जश्र का माहौल है। मनोज गेरा के पिता कैथल में बिजनेसमैन हैं। उन्हें रविवार को देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टॉफ मेजर जनरल बिपिन रावत ने बतौर कमांडिंग ऑफिसर स्मृति चिन्ह भी प्रदान किया। इस नियुक्ति पर खुशी जताते हुए ग्रुप कैप्टन मनोज गेरा के पिता मुरानी गेरा व उनके छोटे भाई गोरांग गेरा ने कहा कि मनोज गेरा ने वर्ष 1998 में एनडीए क्लीयर किया था। इसके बाद उन्हें कमीशन मिल गया था।

इसके बाद उन्हें मिग-21 उड़ाने के लिए बतौर पायलेट के तौर पर नियुक्ति मिली थी। अपनी नौकरी के दौरान उन्हें तेजपुर, सिरसा, पूना, बरेली सहित कई इलाकों में तैनाती मिली। इस दौरान उन्हें करीब 3000 घंटे तक मिग-21 उड़ाने का अनुभव प्राप्त है। अभी हाल ही मेें उनकी कमांडिंग ऑफिसर के तौर पर तैनाती हुई थी।

पिता का था एयरफोर्स में जाने का सपना, उड़ते जहाजों को करते थे सैल्यूट, बेटे ने पूरा किया:
मुरारी गेरा ने कहा कि उनका सपना लड़ाकू विमान उड़ाने का था। जिस कारण बचपन में वे जब भी आसमान में उड़ते जहाजों को देखते थे तो उन्हें सैल्यूट करते हुए काफी देर तक खड़े रहते थे। पारिवारिक हालातों के कारण वे एनडीए पास नहीं कर पाए। लेकिन उनके बेटे ने उनका सपना पूरा कर दिया है।

यह बात कहते हुए उनका गला भर आया और कहा कि उनका सपना पूरा होने से उन्हें बेहद खुशी है और उन्हें अपने बेटे पर गर्व है। आज जब उनका बेटा कमांडिंग ऑफिसर बन गया है तो उनका सीना गर्व से चौड़ा हो गया है। मुरारी गेरा कैथल में ही रहकर अपने छोटे बेटे गोरांग गेरा के साथ बिजनेस चलाते हैं।
... और पढ़ें

शुगर मिल में 25 घंटे के ब्रेक से 15 लाख रुपये का नुकसान

गन्ने की कीमत बढ़ाने की मांग के कारण बंद शुगर मिल को 25 घंटे में करीब 15 लाख रुपये का नुकसान हुआ है। धरनारत किसानों किसानों को खदेड़ने के बाद मंगलवार देर रात्रि मिल का दोबारा संचालन हो पाया। अधिकारियों का कहना है कि मिल में आए इस ब्रेक के लिए जो भी व्यक्ति जिम्मेवार है। सरकार के नियमानुसार उसके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। वहीं तीसरे दिन किसान संघ के बैनर तले किसानों ने धरना स्थगित कर दिया और गन्ना आंदोलन के तहत 31 जनवरी को कैथल में बैठक बुलाई है। जिसमें आगामी आंदोलन की घोषणा की जाएगी। बुधवार को भी मिल में भारी पुलिस बल तैनात रहा।
सोमवार व मंगलवार को बंद रही थी मिल: किसानों ने सोमवार को अपना आंदोलन शुरू करते हुए शुगर मिल के धर्मकांटे पर बैठकर धरना दिया था। इसके बाद मंगलवार को भी बाद दोपहर तक तोल का काम बंद रहा। जिस कारण मिल में ब्रेक आ गया और यह नो कैन होने के कारण करीब 25 घंटे बंद रही। जिसमें मिल को लगभग 15 लाख रुपये का नुकसान हुआ है।
बुधवार सुबह फिर किसानों ने मिल के बाहर अपना आंदोलन शुरू करते हुए धरना दिया। जिसमें चिप घोटाले को लेकर भारतीय किसान संघ और गन्ना संघर्ष समिति से जुड़े किसानों ने फिर से तेवर तीखे कर दिए हैं। धरने पर बैठे किसानों ने कहा कि मिल में घोटाले के आरोपियों का सरकार व प्रशासन आज तक कुछ नहीं कर पाई है। सरकार की मंशा घोटाले को दबाने की है, लेकिन किसान ऐसा नहीं होने देंगे। प्रदेश में होने वाली बैठकों में गन्ने के 400 रुपये रेट करने के साथ-साथ इस मुद्दे को भी उठाया जाएगा। जरूरत पड़ी तो किसान आंदोलन भी कर सकते हैं।
31 जनवरी को प्रदेशभर में होंगी बैठक: बुधवार को धरना स्थगित कर गन्ना संघर्ष समिति के प्रधान महेंद्र सिंह, रणदीप सिंह, गुलतान, मिया सिंह, प्रदीप कुमार, बलवान, शमशेर, रामनिवास, कुलदीप सिंह व अजमेर ने बताया कि किसानों ने मिल के गेट से धरना स्थगित कर दिया है, लेकिन उनका संघर्ष समाप्त नहीं हुआ है। वे अपनी मांगों को लेकर संघर्ष लगातार जारी रखेंगे। किसानों ने बताया गन्ने के रेटों में बढ़ोतरी और अन्य मांगों को लेकर 31 जनवरी को किसान संगठनों की प्रदेश भर में जिला स्तरीय बैठकें की जाएंगी। इन बैठकों में किसानों के मुद्दों को लेकर अहम फैसले लिए जाएंगे। गन्ने के रेट के संबंध में आगामी निर्णय भी बैठक में ही लिए जाएंगे।
दूसरी ओर शुगर मिल के प्रबंध निदेशक जगदीप सिंह ने कहा कि किसानों के धरने से मिल का कार्य प्रभावित हआ है, जिससे मिल को आर्थिक नुकसान उठाना पड़ा। मिल प्रबंधन की ओर से कांटे के सामने धरना देने वाले किसानों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी। इस संबंध में मिल द्वारा किसानों के नामों की सूची तैयार की जा रही है। उन्होंने यह भी बताया कि तोल शुरू होने के साथ ही मिल को चलाने का काम शुरू कर दिया गया है।
... और पढ़ें

सब्जी मंडी में अव्यवस्थाओं का आलम, लोग परेशान

शहर की नई सब्जी मंडी में अव्यवस्थाओं का आलम है। मंडी के अंदर और बाहर अतिक्रमण इस प्रकार फैला हुआ है कि लोगों को पैदल चलने के लिए भी सही ढंग से रास्ता नहीं मिल रहा। वहीं सफाई का प्रबंध भी सही नहीं है। बूंदाबांदी के कारण मंडी में सड़कों पर कीचड़ फैला हुआ है और जगह-जगह गंदगी के ढेर लगे हैं। इससे सब्जियां और अन्य सामान खरीदने के लिए आने वाले लोगों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। मंडी में पहुंचे रविंद्र, ज्ञानीराम, मोहन लाल, मुकेश कुमार, मनोज, तरसेम, सोनू व मनदीप सिंह ने बताया कि कुछ दुकानदार तो अपनी दुकानें बिल्कुल सड़कों पर लगाते हैं। जब कभी कोई अधिकारी मंडी में दौरा करने के लिए आता है तो ये दुकानों को थोड़ा सा हटा लेते हैं। यहां तक कि पेयजल के लिए रखी गई टंकियों और शौचालयों में जाने वाले रास्तों पर भी अवैध तरीके से दुकानें लगाई जा रही हैं। पार्किंग भी मंडी के अंदर भीड़भाड़ वाली जगहों पर की जा रही है, जिससे लोगों की आवाजाही अवरुद्ध हो रही है। बाहर की सड़कों पर कई बार तो जाम लगा रहता है।
बेसहारा पशुओं की भरमार :
दुकानदार ने ज्ञानीराम ने बताया कि मंडी में बेसहारा पशुओं की भरमार है। दर्जनों गायें और सांड मंडी में दिनभर घूमते रहते हैं। कई बार तो आपस में लड़ते हुए दुकानों में घुस जाते हैं और सब्जियों को इधर-उधर बिखेर देते हैं। अगर कोई व्यक्ति इन्हें हटाने का प्रयास करता है तो ये उसी पर हमला कर देते हैं। सांडों के हमले से मंडी के कई दुकानदार और मजदूर दुर्घटनाओं का शिकार हो चुके हैं। दुकानदारों को इनसे हर समय भय बना रहता है। इन्हें पकड़ कर गोशालाओं में छोड़ना चाहिए।
हल्की सी बरसात में कीचड़ से अट जाती है मंडी :
दुकानदार रविंद्र ने बताया सफाई का प्रबंध भी मंडी में सही नहीं है। मोटा कचरा तो उठा दिया जाता है, लेकिन कुछ दुकानदार मंडी में ही गली-सड़ी सब्जियां सड़क पर डाल देते हैं, जो वाहनों और लोगों के पैरों तले आने से वहीं कीचड़ बन जाती हैं। हल्की सी बरसात में मंडी कीचड़ से अट जाती है, जिससे दापहिया वाहनों के फिसलने का डर लोगों में बना रहता है।
कार्रवाई का थोड़े समय रहता है प्रभाव :
सब्जी विक्रेता मोहन लाल ने बताया कि एक बार तो समस्याओं का समाधान कर दिया जाता है, लेकिन फिर से पहले जैसे हालात बन जाते हैं। अधिकारियों के दौरे या फिर कार्रवाई का असर थोड़े दिन ही लोगों पर रहता है। उन्होंने कहा कि अतिक्रमण और बेसहारा पशुओं को मंडी से बाहर निकालने के लिए समय-समय पर कार्रवाई होनी चाहिए।
ज्यादातर लाइटें भी पड़ी हैं बंद :
दुकानदार पारस ने बताया कि मंडी में लाइटों की व्यवस्था भी सही नहीं है। काफी लाइटें खराब पड़ी हैं। शाम को मंडी में कई जगहों पर अंधेरा छा जाता है। ऐसे में दुकानदारों को खुद बाहर बल्ब लगाने पड़ रहे हैं। मंडी में लाइटों की व्यवस्था को दुरुस्त किया जाए ताकि दुकानदारों और ग्राहकों को दिक्कतें न हों।
जल्द करवाया जाएगा समस्याओं का समाधान :
नगर परिषद के सचिव मोहन लाल ने कहा कि मंडी में सफाई का कार्य लगातार करवाया जा रहा है। अगर थोड़ी बहुत कमी रह जाती है तो कर्मचारियों को कहकर उसको प्रमुखता से दूर करवाया जाएगा। अतिक्रमण हटाओ अभियान चलवाकर रास्तों से सामान व वाहनों को हटावाया जाएगा। पशुओं को पकड़वाने के संबंध में भी अधिकारियों से बातचीत की जाएगी, ताकि मंडी में आने वाले लोगों को किसी प्रकार की दिक्कत न हो।
... और पढ़ें

व्यापारी का अपहरण कर गाड़ी, नकदी व सोना लूटने के मामले में आरोपी रिमांड पर

कैथल। चीका में व्यवसाय करने वाले राजस्थान निवासी व्यापारी की आंखों में मिर्च पाउडर झोंककर गाड़ी सहित अपहरण करने, वह निसिंग करनाल निवासी एक युवक का अपहरण कर फिरौती वसूल कर हत्या करने के मामले में सीआईए-तीन ने एक और आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है। इससे पहले दो आरोपियों को पुलिस गिरफ्तार कर चुकी है। वारदात के करीब चार घंटे बाद आरोपियों द्वारा पूंडरी एटीएम से लूटे गए कार्ड की मार्फत 20 हजार रुपये निकलवाए गए थे। उस समय सीसीटीवी कैमरे की फुटेज द्वारा एक आरोपी कीपहचान की गई थी । लूटी गई नकदी व गाड़ी की बरामदगी व अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी को आरोपी का 30 जनवरी तक तीन दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है।
एसपी विरेंद्र विज ने बताया कि व। यह गिरफ्तार किए गए इसी आरोपी की है। उन्होंने बताया कि रवि थोरी जिला हनुमानगढ़ राजस्थान करीब चार वर्ष से हुडा चीका में रहते हुए गोविंद राइस मिल में पार्टनर है। 26 दिसंबर की रात अपनी कार में राजस्थान से लौटने के बाद पेट्रोल पंप चीका पर रात को डीजल डलवा कर लौट रहे थे। एक सफेद रंग की गाड़ी ने उनका रास्ता रोक लिया। गाड़ी से उतरे चार युवक उनकी कार में आ गए व आंखों में मिर्च पाउडर फेंककर अपहरण कर लिया। आरोपियों ने रास्ते में पिस्तौल के बल पर मोबाइल फोन, दो तोले की सोना चेन व 30 हजार रुपये नकदी सहित पर्स लूट लिया। पिस्तौल बट्ट से सिर में चोट मारकर धमकी देते हुए एटीएम के पिनकोड की जानकारी प्राप्त कर ली। रात को लगभग 1:15 बजे उसे खरकां से करीब सात किलोमीटर दूरी पर स्थित पंजाब के रसौली गांव में सुनसान स्थान पर छोड़कर फरार हो गए। जहां से उसने नजदीक के डेरा में पहुंचकर अपने पार्टनर संदीप को फोन करके मामले की जानकारी दी। 27 दिसंबर को चीका थाना में रवि थोरी की शिकायत पर अज्ञात व्यक्तियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया था। एसपी ने बताया कि मामले में सीआईए-तीन गुहला प्रभारी सबइंस्पेक्टर जयनारायण की अगुवाई में एसआई राजेंद्र सिंह, हेडकांस्टेबल प्रदीप कुमार व एचसी बजींद्र सिंह की टीम ने करीब 22 वर्षीय आरोपी अमनदीप उर्फ बाबा निवासी निसिंग जिला करनाल को गिरफ्तार कर लिया। आरोपी एक युवक का अपहरण करके ढाई लाख रुपये फिरौती व उसकी युवक की हत्या के मामले में सीआईए करनाल पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया जा चुका है।
पूछताछ के दौरान आरोपी ने कबूल किया कि 20 दिसंबर को उसके दोस्त राजेंद्र उर्फ जिंदा, रविंद्र उर्फ बिंद्र गोंदर व सचिन राणा निसिंग ने अपने परिचित निसिंग निवासी विश्वभारती का फिरौती के लिए अपहरण करने को गाड़ी लूटने की योजना बनाई। 26 दिसंबर को चारों राजेंद्र जिंदा की गाड़ी में सवार होकर चीका पहुंचे। गाड़ी में सवार अकेले युवक को देखकर उसकी गाड़ी लूटते हुए युवक का अपहरण कर लिया। बाद में निसिंग निवासी एक व्यापारी का अपहरण करके उचाना झिलमिल ढाबा करनाल के पास फिरौती वसूल की गई। अपह्त की परने से गला घोंटकर हत्या कर दी व शव को खनौरी पंजाब के पास घगर नहर में फेंक दिया था। आरोपी का न्यायालय से तीन दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है।
... और पढ़ें

नकली सोने की ईंट देकर 25 लाख रुपये नकदी ठगने वाला शातिर काबू

पुलिस ने सोने के नाम पर 25 लाख रुपये की ठगी के मामले में उत्तराखंड से एक शातिर जालसाज को गिरफ्तार किया है। जिसके तार नेपाल से जुड़े बताए गये है। व्यापक पूछताछ के लिए आरोपी का सोमवार को न्यायालय से 30 जनवरी तक 3 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है।
पुलिस अधीक्षक विरेंद्र विज ने बताया कि गांव संडील निवासी बलविंद्र सिंह खेती-बाड़ी के साथ साथ प्राइवेट गाड़ी चलाने का धंधा करता है। जब वह गांव के ताराचंद के साथ नेपाल घूमने गया था, जहां उसकी पहचान अशोक कुमार निवासी टंणकपुर जिला चंपावत उत्तराखंड के साथ हो गई थी। जिसने बताया कि वह नेपाल से सोना लाकर उत्तराखंड में बेचने का काम करता है। उसने उनको विश्वास में लेकर बताया कि वह एक किलो वजनी सोने की ईंट 25 लाख रुपये में घर पर पहुंचा सकता है। क्योंकि उसके परिवार में बच्चों की शादियों के दृष्टिगत उसे सोने की जरूरत थी, उसके बुलाने पर वह दिनांक 21 जनवरी को नैनीताल गए, जहां पर उनकी अशोक के साथ सोने के बारे में बातचीत तय हो गई थी। दिनांक 26 जनवरी को वह उनसे किठाना आकर मिला, जिसने बताया कि उसका आदमी सोना लेकर आ रहा है, पैसे लेकर आ आओ, ढांड में लेनदेन कर लेंगे। ढांड पहुंचकर उन्होंने अशोक को 25 लाख रुपये दे दिए, जिसने करीब 15/20 मिनट बाद वापस आकर उनको एक सोने की ईंट व एक सोने चेन दे दी। सतर्क बलविंद्र द्वारा शक होने उपरांत सोने की जांच करवाई गई, तो 658 ग्राम वजनी सोने ईंट व 60 ग्राम वजनी सोना चेन नकली पाई गई। थाना ढांड में मामला दर्ज करके एसएचओ एसआई शिवकुमार ने बलविंद्र द्वारा काबू किए गए आरोपी अशोक को गिरफ्त में ले लिया। पूछताछ के दौरान आरोपी ने कबूला कि उस पर नेपाल में सोने की तस्करी का मामला दर्ज है, जिसमें उसका काफी पैसा खर्च हो चुका है, जिस कारण उसकी भरपाई के लिए उन्होंने योजनाबद्ध तरीके द्वारा नकदी हड़प ली, जिसे वह अपने साथी को काबू करवा कर बरामद करवा सकता है। हड़पी गई नकदी की बरामदगी सहित व्यापक जांच के लिए आरोपी का 27 जनवरी को न्यायालय से 3 दिन का पुलिस रिमांड हासिल किया गया है।
... और पढ़ें

एक बार पीला पंजा चलाकर ना जाने क्यों नहीं बढ़ती आगे कार्रवाई

शहर में चारों ओर बन रहीं अवैध कालोनियां पर डीटीपी विभाग की कार्रवाई नजर नहीं आ रही है। एक बार किसी कालोनी पर पीला पंजा जरुर चलता है। लेकिन अधिकतर मामलों में कार्रवाई नहीं हो पाती है। इतना ही नहीं डीटीपी की ओर से दस - बीस साल पुरानी कालोनियों में भी टांग दिए गए खरीद - फरोख्त ना करने के बोर्ड पर भी गंभीर सवाल उठ रहे हैं।
शहर में पिछले छह माह में अवैध कालोनियां पनप रहीं हैं। यह कालोनियां करनाल रोड, अंबाला रोड, ढांड रोड, जींद रोड सहित शहर की अधिकांश जगहों पर हैं। जहां पर नियमानुसार सीएलयू या अन्य कागजी कार्रवाई नहीं हो पा रही है। प्रॉपर्टी मामलों के जानकारों का कहना है कि पिछले छह माह में पीला पंजा चलाए जाने की कार्रवाई तो खूब हुई है। लेकिन मामला आगे नहीं बढ़ता। कुछेक मामलों को छोड़ दिया जाए तो आगे एफआईआर नहीं करवाई जा रही है। लोगों के मन में सवाल है कि आखिर पीला पंजा चलने के बाद कार्रवाई क्यों ठहर जाती है। क्या फिर वह कालोनी नियमित हो जाती है? या फिर पीला पंजा चलाने के मामले में कोई बड़ा खेल खेला जा रहा है।
विधायक लीला राम का कहना है कि यह बात उनकी जानकारी में आई है कि कुछ कर्मचारी व अधिकारी पीला पंजा चलाने के बाद लोगों को परेशान कर रहे हैं। क्योंकि आज तक जनहित में कोई काम उनका नजर नहीं आया। अब चिंता का विषय यह है कि शहर में ऐसी कालोनियों में भी बोर्ड टांग दिए गए हैं, जिन कालोनियों को विकसित हुए दस से बीस साल हो चुके हैं। वहां बोर्ड टांग कर ये अधिकारी ना जाने क्या साबित करना चाहते हैं? वे इस पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट बनाकर माननीय मुख्यमंत्री के समक्ष रखेंगे। ताकि जनता को अनावश्यक परेशानी ना हो।
डीटीपी अनिल नरवाल से मोबाइल पर बात करने की कोशिश की गई लेकिन कोई जवाबनहीं मिला। उनके कार्यालय सहायक मेहरसिंह ने कहा कि विभाग द्वारा समय-समय पर आवश्यक कार्रवाई की जाती है। एफआईआर भी करवाई गई हैं। कितने अभियान चले और कितनी एफआईआर हुई हैं। यह जानकारी पटवारी दे सकते हैं। पटवारी कार्यालय में मौजूद नहीं हैं।
... और पढ़ें

पेड़ों की कटाई न होने से अधर में लटका फोरलेन का निर्माण

अंबाला रोड पर न्यू बाईपास से सिटी तक व जींद रोड पर तितरम मोड़ से शहर तक की खस्ताहाल सड़क की फाइलें सरकारी कार्यालयों में धूल फांक रही हैं और वाहन चालकों व लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। इन दोनों सड़कों पर रोजाना हजारों की संख्या में वाहनों की आवाजाही होती है, लेकिन काम पूरा नहीं होने के कारण दोनों जगह वाहन चालकों को परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। शहरवासी इन सड़कों का जल्द से जल्द कार्य पूरा करवाने की मांग कर रहे हैं।
22 करोड़ की लागत से फोरलेन होने वाले अंबाला रोड पर पेड़ नहीं कटने से रुका कार्य-अंबाला रोड पर बाईपास की दिल्ली पब्लिक स्कूल से लेकर शहर तक करीब चार किलोमीटर मार्ग की फोरलेनिंग लोक निर्माण विभाग द्वारा की जानी है। इसकी फोरलेनिंग के लिए विभाग की ओर से करीब 22 करोड़ रुपये की राशि खर्च की जाएगी। इस कार्य के लिए सड़क के दोनों तरफ करीब दो हजार पेड़ों को काटा जाएगा। वन विभाग इन पेड़ों को इसलिए नहीं कटवा रहा, क्योंकि जो पेड़ कटेंगे उससे करीब चार गुना पेड़ इसकी प्रतिपूर्ति के रूप में लगवाने का नियम है। जिले में इन पेड़ों को लगवाने के लिए वन विभाग को जगह नहीं मिल रही, जिस कारण न तो अंबाला रोड बाईपास के दोनों तरफ के पेड़ कट रहे हैं और न ही इसकी फोरलेनिंग का कार्य शुरू हो पा रहा है।
खस्ताहाल है करीब 12 किलोमीटर लंबा जींद रोड-अंबाला रोड बाईपास चौकी से लेकर तितरम मोड़ तक जींद रोड की लंबाई करीब 12 किलोमीटर तक है। इस समय यह रोड एनएचएआई के अधीन है। लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों का कहना है कि जो सड़क उनके अधीन आती है वे उसी पर कार्य करवा सकते हैं। अगर एनएचएआई इस रोड को उन्हें सौंप दे तो वे इसका निर्माण करवा देंगे, लेकिन इससे पूर्व एनएचएआई को इसकी रिपेयर करवानी होगी। ऐसे में इस सड़क का सुधार तभी हो सकता है, जब एक बार एनएचएआई इसे पीडब्ल्यूडी को सौंप दे। जब तक यह प्रक्रिया पूरी न हो यह समस्या भी ज्यों की त्यों बनी रहेगी।
लोक निर्माण विभाग के एक्सईएन कुलदीप चंद ने बताया कि विभाग अंबाला रोड की फोरलेनिंग करवाने के लिए पूरी तरह से तैयार है। उन्हें केवल वन विभाग द्वारा पेड़ों की कटाई होने का इंतजार है। इस संबंध में विभाग को अवगत करवाया गया है। जैसे ही पेड़ों की कटाई का कार्य पूरा होता है, इसका कार्य शुरू कर दिया जाएगा। इसके अलावा जींद रोड पर वे तब तक कार्य नहीं कर सकते, जब तक एनएचएआई उन्हें कार्य नहीं सौंपेगी और निर्धारित नियमों और शर्तों को पूरा नहीं करेगी।
पौधे लगाने की जगह उपलब्ध होने पर की जाएगी मार्ग पर पेड़ों की कटाई-जिला वन अधिकारी राजीव तेजयन ने बताया कि विभाग पेड़ों को तो कटवा देगा, लेकिन काटे गए पेड़ों के स्थान पर उससे करीब चार गुना पौधे लगाने होंगे। उसके लिए उन्होंने अधिकारियों से बातचीत भी की है, लेकिन पौधे लगाने को जगह नहीं मिल रही। विभाग के उच्चाधिकारियों को भी इसके बारे में अवगत करवाया गया है। उनका प्रयास है कि जगह जल्द से जल्द मिल जाए ताकि वे कार्य शुरू कर सकें और लोगों को फोरलेन सड़क का लाभ मिल सके।
... और पढ़ें

नाइट डोमिनेशन के तहत 350 सार्वजनिक स्थानों पर पुलिस ने की जांच

ऑप्रेशन नाइट डोमिनेशन के तहत रात 10 बजे से सुबह चार बजे तक अभियान चलाकर 350 सार्वजनिक स्थानों पर जांच की गई व 18 अजनबी व्यक्तियों के पर्चे काटे गए। रात भर की चेकिंग में पुलिस द्वारा 383 दोपहिया वाहन, 220 चौपहिया वाहन, 208 हल्के और 160 भारी वाहनों की जांच की गई। शराब पीकर वाहन चलाने वाले चालक का वाहन जब्त यिा गया व 23 हल्के एवं दोपहिया वाहनों के चालान किए गए।
पिस्तौल सहित आरोपी गिरफ्तार :
सीआईए-वन प्रभारी इंस्पेक्टर अनूप सिंह ने बताया कि हेडकांस्टेबल तरसेम कुमार की टीम रात को रामगढ़ मोड़ कलायत पर मौजूद थी। खेत में बने कमरे के पास एक युवक खड़ा दिखाई दिया, जिसे पुलिस ने पकड़ लिया। तलाशी के दौरान आरोपी के कब्जे से 315 बोर का एक अवैध पिस्तौल बरामद हुआ। आरोपी की पहचान वार्ड नंबर पांच चीका निवासी अमीर खान के रूप में हुई। आरोपी के खिलाफ चीका थाना में पहले भी शस्त्र अधिनियम व कातिलाना हमला के चार मामले दर्ज हैं। उन्होंने बताया कि पुलिस ने कलायत थाना में आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर लिया।
40 लीटर लाहण सहित आरोपी काबू :
सीआईए-तीन गुहला प्रभारी सबइंस्पेक्टर जयनारायण ने बताया कि नाइट डोमिनेशन के सबइंस्पेक्टर राजेंद्र सिंह, एसआई कृष्ण कुमार, एचसी ईश्वर सिंह व एचसी राजीव कुमार की टीम ककराला से रसुलपुर टी-प्वांइट पर मौजूद थी। गुप्त जानकारी पर पुलिस द्वारा आरोपी गांव रसुलपुर निवासी लखविंद्र सिंह को काबू किया गया। उसके कब्जे से लोहे के ड्रम से 40 लीटर लाहण बरामद हुआ। आरोपी के खिलाफ सीवन थाना में के दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

कैथल में 35 लाख की लागत से बना सीआईडी कार्यालय, सीआईडी चीफ अनिल राव ने किया उद्घाटन

हरियाणा सीआईडी चीफ अनिल राव ने शनिवार को कैथल में गीता भवन मंदिर के निकट 35 लाख रुपये की लागत से बनें सीआईडी जिला कार्यालय का उद्घाटन किया। डीसी सुजान सिंह, एसपी विरेंद्र विज सहित अन्य अधिकारी इस अवसर पर मौजूद थे। सीआईडी चीफ ने पहले पूरे कार्यालय का निरीक्षण किया। इसके बाद मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि हरियाणा का गुप्तचर विभाग तकनीक के क्षेत्र में किसी भी प्रदेश से पीछे नहीं है। बल्कि पूरे देश में अव्वल है। 

गुरुग्राम में स्थापित हमारी लैब में दूसरे राज्यों के कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। सीआईडी को और अधिक तकनीकी तौर पर सक्षम किया जा रहा है। जिसके बारे में पूरी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जा सकती। पिछले दिनों सीआईडी के चर्चा में रहने के सवाल पर उन्होंने बस इतना जवाब दिया कि चाहे कोई भी फील्ड हो। पुलिस का हो, कोई अन्य सरकारी नौकरी हो या फिर प्रेस का, सभी को अपना काम पूरी लगन व प्रोफेशनल ढंग से करना चाहिए। 

कुछ लोग मुझे भी कहते हैं कि आप की चर्चा है तो मैं बस अपना काम करता हूं। कैथल में सीआईडी कार्यालय के उद्घाटन के संबंध में उन्होंने कहा कि सीआईडी को मुश्किल से कई जिलों में जगह मिलती है। यहां अच्छा कार्यालय बनाया है।

उन्होंने कैथल में एसपी रहते हुए अपने दिनों को याद किया और कहा कि यहां बतौर एसपी काम करके काफी अच्छा लगा था और यहां के लोगों से काफी सहयोग मिला था। इस अवसर पर जिला इंचार्ज गुरदयाल सिंह, डीएसपी बलजिंद्र सिंह, एसएचओ सिटी प्रदीप कुमार व अन्य अधिकारीगण भी मौजूद थे। 

उद्घाटन पट पर ना विधायक का नाम और ना ही निमंत्रण:-
एक बार फिर जिला मुख्यालय पर हुए प्रशासनिक कार्यक्रम में विधायक लीला राम को आमंत्रित नहीं किया गया। ना ही शिलापट्ट पर उनका नाम अंकित नजर आया। इससे पूर्व एक जिलास्तरीय आयोजन में भी निमंत्रण देरी से मिलने के कारण नाराज विधायक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे थे। सीआईडी के जिलास्तरीय कार्यालय का जिला मुख्यालय पर उद्घाटन था। जिस पर करीब 35 लाख रुपये की लागत आई है। 

सीआईडी चीफ ने इस कार्यालय का उद्घाटन किया। जिसके उद्घाटन पत्थर पर विधायक लीला राम का नाम ना होने का जवाब एसपी विरेंद्र विज ने दिया। उन्होंने कहा कि यह पुलिस का कार्यक्रम है। इसीलिए ऐसा हुआ है। 
दूसरी ओर विधायक लीला राम ने कहा कि वे इस संबंध में कुछ नहीं कह सकते कि क्यों नहीं बुलाया गया। लेकिन उनके पास इस संबंध में कोई निमंत्रण नहीं है।
... और पढ़ें

तकनीक के मामले में देश में अग्रणी है हरियाणा की सीआईडी-राव

हरियाणा सीआईडी चीफ अनिल राव ने शनिवार को कैथल में गीता भवन मंदिर के निकट 35 लाख रुपये की लागत से बनें सीआईडी जिला कार्यालय का उद्घाटन किया। डीसी सुजान सिंह, एसपी विरेंद्र विज सहित अन्य अधिकारी इस अवसर पर मौजूद थे। सीआईडी चीफ ने पहले पूरे कार्यालय का निरीक्षण किया। इसके बाद मीडिया से अनौपचारिक बातचीत में कहा कि हरियाणा का गुप्तचर विभाग तकनीक के क्षेत्र में किसी भी प्रदेश से पीछे नहीं है। बल्कि पूरे देश में अव्वल है।
गुरुग्राम में स्थापित हमारी लैब को पूरे देश में दूसरे राज्यों में के कर्मचारियों को ट्रेनिंग दी जा रही है। सीआईडी को ओर अधिक तकनीकी तौर पर सक्षम किया जा रहा है। जिसके बारे में पूरी जानकारी सार्वजनिक नहीं की जा सकती। पिछले दिनों सीआईडी के चर्चा में रहने के सवाल पर उन्होंने बस इतना जवाब दिया कि चाहे कोई भी फील्ड हो। पुलिस का हो, कोई अन्य सरकारी नौकरी हो या फिर प्रेस का, सभी को अपना काम पूरी लग्र व प्रोफेशनल ढंग से करना चाहिए। कुछ लोग मुझे भी कहते हैं कि आप की चर्चा है तो मैं बस अपना काम करता हूं। कैथल में सीआईडी कार्यालय के उद्घाटन के संबंध में उन्होंने कहा कि सीआईडी को मुश्किल से कई जिलों में जगह मिलती है। यहां अच्छा कार्यालय बनाया है। इस अवसर पर जिला इंचार्ज गुरदयाल सिंह, डीएसपी बलजिंद्र सिंह, एसएचओ सिटी प्रदीप कुमार व अन्य अधिकारीगण भी मौजूद थे।
उद्घाटन पट पर ना विधायक का नाम और ना ही निमंत्रण: एक बार फिर जिला मुख्यालय पर हुए प्रशासनिक कार्यक्रम में विधायक लीला राम को आमंत्रित नहीं किया गया। ना ही उद्घाटन पत्थर पर उनका नाम अंकित नजर आया। इससे पूर्व एक जिलास्तरीय आयोजन में भी निमंत्रण देरी से मिलने के कारण नाराज विधायक कार्यक्रम में नहीं पहुंचे थे। सीआईडी के जिलास्तरीय कार्यालय का जिला मुख्यालय पर उद्घाटन था। जिस पर करीब 35 लाख रुपये की लागत आई है। सीआईडी चीफ ने इस कार्यालय का उद्घाटन किया। जिसके उद्घाटन पत्थर पर विधायक लीला राम का नाम ना होने का जवाब एसपी विरेंद्र विज ने दिया। उन्होंने कहा कि यह पुलिस का कार्यक्रम है। इसीलिए ऐसा हुआ है। दूसरी ओर विधायक लीला राम ने कहा कि वे इस संबंध में कुछ नहीं कह सकते कि क्यों नहीं बुलाया गया। लेकिन उनके पास इस संबंध में कोई निमंत्रण नहीं है।
... और पढ़ें

डीसी ने किया शहर में लाइटों का निरीक्षण

डीसी सुजान सिंह शहर में सौंदर्यकरण व खराब पड़ी लाइटों को ठीक करने के निर्देश के बाद डीसी सुजान सिंह ने स्थिति का जायजा लेने के लिए शुक्रवार देर सांय शहर में चौक-चौराहों व पार्कों का दौरा किया। उन्होंने कई जगह जाकर रंग बिरंगी लाइटें लगाए जाने के कार्य की समीक्षा की। डीसी सांय के समय पिहोवा चौक, महेश चौक, शहीद भारद्धाज चौक, वाल्मीकि चौक, अंबेडकर चौक, अर्जुन नगर, भगत सिंह चौक, कबूतर चौक पर पहुंचे। दौरे के दौरान डीसी सुजान सिंह ने नगर परिषद के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जो लाइटिंग दुरुस्त करवाई गई हैं, इन पर निरंतर निगरानी रखें, यदि खराब हो जाती हैं हैं तो उसे तुरंत बदलना सुनिश्चित करें। शहर को सुंदर बनाने के लिए अधिकारी पूरी मेहनत से कार्य करें। बता दें कि पिछले दौरे के दौरान डीसी ने नगर परिषद परिषद के अधिकारियों को मुख्य चौकों पर रंगीन लाइट लगाने के निर्देश दिए थे, इन्हीं निर्देशों की पालना करते हुए नगर परिषद द्वारा शहर के चौक पर रंगीन लाइट लगवा दी गई है, जिसका निरीक्षण उपायुक्त द्वारा किया गया।
उन्होंने पिहोवा चौक पर ट्रैफिक लाइट का समय सही करने के निर्देश दिए, ताकि लोगों को कोई परेशानी ना आए। जींद रोड कैथल बाईपास का भी निरीक्षण किया और नगर परिषद के अधिकारियों को निर्देश दिए कि वह शहर के सभी एंट्री प्वाइंट पर साइन बोर्ड के अलावा लाइटिंग लगाना सुनिश्चित करें। इस अवसर पर नगर परिषद के कार्यकारी अधिकारी अशोक कुमार, एमई राजकुमार शर्मा के अलावा अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।
स्ट्रीट लाइटों के लिए ढेड़ करोड़ रुपये के टेंडर लगाए गए:शुक्रवार को नगर परिषद द्वारा शहर में विभिन्न वार्डों सहित रेलवे ओवर ब्रिज की लाइटों को ठीक करने के लिए करीब डेढ़ करोड़ रुपये के स्ट्रीट लाइटों के टेंडर लगा दिए गए। ईओ अशोक कुमार ने बताया कि शीघ्र ही ये टेंडर अलॉट करके काम पूरा करवाया जाएगा। इसके बाद शहर में कहीं भी ब्लैक स्पॉट नहीं बचेंगे।
... और पढ़ें

आरटीए के सहायक सचिव व रोजगार विभाग के अधिकारियों को कारण बताओ नोटिस जारी

डीसी सुजान सिंह ने कहा कि सरल पोर्टल को लेकर आयोजित अधिकारियों की बैठक में न पहुंचने पर आरटीए के सहायक सचिव, रोजगार विभाग के अधिकारी को कारण बताओ नोटिस जारी करने के निर्देश दिए। उन्होंने एचएसएएमबी, ट्रांसपोर्ट, अनुसूचित जाति एवं जन जाति कल्याण विभाग, महिला एवं बाल विकास, लेबर, रोजगार, नगर निकाय विभागों से संबंधित लंबित सेवाओं के एक-एक करके समीक्षा की और अधिकारियों को निर्देश दिए कि जल्द सभी को पोर्टल पर अपलोड करें।
उन्होंने कहा कि सरल केंद्र में काम कर रहे ऑपरेटर को विशेष हिदायत दें कि लोगों के कार्य समय पर करें। जो ऑपरेटर ठीक कार्य नहीं करेगा, उसके खिलाफ आवश्यक कार्रवाई अमल में लाई जाएगी। उन्होंने जिला कल्याण अधिकारी कार्यालय को निर्देश दिए कि अंत्योदय भवन का समय-समय पर दौरा किया जाए। बिजली, पानी, शौचालय जैसी सभी मूलभूत सुविधाएं वहां होनी चाहिए। अंत्योदय सरल केंद्र में आने वाले लोगों को सरकार की स्कीमों का लाभ लेने के लिए अधिक इंतजार नहीं करना पड़े, ऐसी व्यवस्था करनी सुनिश्चित की जाए। डीसी सुजान सिंह लघु सचिवालय स्थित कॉन्फ्रेंस हॉल में सरल पोर्टल पर दी जा रही सेवाओं की समीक्षा बैठक उन्होंने विभागाध्यक्षों को निर्देश दिए कि अपने-अपने विभाग से संबंधित दी जाने वाली सेवाएं सरल केंद्र के माध्यम से दी जाएं। सरकार की महत्वपूर्ण योजनाओं का लाभ लापरवाही के कारण संबंधित व्यक्ति को समय पर नहीं मिलता। इसलिए सभी सूचित करें कि लोगों को समयद्ध सेवाओं का लाभ मिले। इस मौके पर मुख्यमंत्री सुशासन सहयोगी पुलीन सिंह, डीआईओ दीपक खुराना सहित अन्य संबंधित अधिकारी मौजूद रहे।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer

अपनी वेबसाइट पर हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर अनुभव प्रदान कर सकें, वेबसाइट के ट्रैफिक का विश्लेषण कर सकें, कॉन्टेंट व्यक्तिगत तरीके से पेश कर सकें और हमारे पार्टनर्स, जैसे की Google, और सोशल मीडिया साइट्स, जैसे की Facebook, के साथ लक्षित विज्ञापन पेश करने के लिए उपयोग कर सकें। साथ ही, अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।

Agree
Election
  • Downloads

Follow Us