जलौली-नग्गल टोल प्लाजा : रियायत नहीं देने पर ग्रामीणों ने धरना देकर ज्ञापन सौंपा

Panchkula bureauपंचकुला ब्‍यूरो Updated Tue, 10 Mar 2020 01:54 AM IST
विज्ञापन
कानूनगो हरिओम को ज्ञापन सौंपते हुए ग्रामीण।
कानूनगो हरिओम को ज्ञापन सौंपते हुए ग्रामीण। - फोटो : PKL OFFICE

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर Free में
कहीं भी, कभी भी।

70 वर्षों से करोड़ों पाठकों की पसंद

ख़बर सुनें
बरवाला। टोल प्लाजा पर कस्बा बरवाला समेत आसपास के 20 किलोमीटर क्षेत्र के ग्रामीणों ने सोमवार दोपहर को रियायत नहीं मिलने पर धरना देकर प्रदर्शन किया। जलौली और नग्गल के बीच में एनएचएआई के नवनिर्मित टोल प्लाजा पर दिए धरने को भारतीय किसान यूनियन ने भी अपना समर्थन दिया। इस दौरान किसान यूनियन के नेताओं और कई गांवों के मौजिज लोगों ने धरने पर बैठे लोगों को संबोधित किया। धरने की सूचना मिलते ही पुलिस तंत्र सक्रिय हो गया। ग्रामीणों ने निर्णय लिया कि जल्द ही एक संघर्ष कमेटी बनाई जाएगी, जो हर गांव में जाकर लोगों को इस संघर्ष में अपनी भागीदारी देने के लिए जागरूक करेगी। धरने के दौरान कानूनगो हरिओम को ग्रामीणों ने एक मांग पत्र जिला उपायुक्त और एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर के नाम सौंपकर पांच घंटे बाद धरना समाप्त किया।
विज्ञापन

यहां आना-जाना पड़ता है कई बार
उन्होंने कहा कि इन गांवों के लोगों को बरवाला अनाज मंडी, अलीपुर पुलिस चौकी, राजकीय महाविद्यालय बरवाला, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक विद्यालय गर्ल्स और ब्वायज, बीडीपीओ कार्यालय, उप तहसील कार्यालय, मार्केट कमेटी कार्यालय, फूड एंड सप्लाई विभाग के कार्यालय, ट्रेजरी कार्यालय, बाल कल्याण विकास विभाग कार्यालय, प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र बरवाला, पशु चिकित्सालय, आयुर्वेदिक चिकित्सालय, सभी सरकारी व गैर सरकारी बैंक, सहकारी समितियां कार्यालय सहित कस्बा बरवाला में बाजार आदि से संबंधित निजी कामों के लिए हर रोज कई-कई बार आनाजाना पड़ता है। उन्होंने कहा कि अगर हमें बार-बार टोल फीस देनी पड़ी तो हम पर एक बहुत बड़ा आर्थिक बोझ बढ़ जाएगा जिसे ग्रामीणों को सहन करना काफी मुश्किल है।
पंचकूला विधायक के समक्ष उठा चुके हैं समस्या
ग्रामीणों ने बताया कि अपनी इस समस्या से पंचकूला विधायक एवं विधानसभा स्पीकर ज्ञान चंद गुप्ता को अवगत करा चुके हैं। उन्होंने इस समस्या का हल जल्द करवाने का आश्वासन तो दिया था लेकिन उनके आश्वासन के बाद भी अभी तक इस समस्या का कोई ठोस हल नहीं किया गया है। लोगों को किसी प्रकार की अभी तक रियायत नहीं मिली है। धरने पर मौजूद किसान यूनियन के जिला प्रधान गोपाल राणा खटौली, इनेलो युवा प्रधान राजू राणा मौली, कांग्रेस के वरिष्ठ नेता बहादुर राणा ककराली, मोहन सिंह सरपंच मौली, धर्मपाल शर्मा बरवाला, रणदीप राणा, ओमवीर राणा बरवाला, पुष्पिन्द्र राणा, संजीव कुमार, सोनू, जलौली, जगपाल सुल्तानपुर, रोशन शर्मा उर्फ मिंटु नग्गल, राजबीर राणा बतौड़ समेत अन्य ग्रामीणों ने कहा कि इस टोल प्लाजा के 20 किलोमीटर के क्षेत्र में पड़ने वाले गांवों के लोगों को इस टोल फीस से मुक्त किया जाए।
धरने की सूचना पर पुलिस हुई सक्रिय
ग्रामीणों द्वारा टोल प्लाजा पर धरना देकर प्रदर्शन करने की जानकारी मिलते ही स्थानीय और पंचकूला पुलिस मौके पर पहुंच गई ताकि कोई अप्रिय घटना न हो। ग्रामीणों ने टोल प्लाजा के मैनेजर सचिन गुप्ता को भी धरने पर बुलाकर बातचीत की। उन्होंने कहा कि वे ठेकेदार के टोल मैनेजर हैं। इसमें जो भी रियायत की जा सकती है, वह एनएचएआई के उच्चाधिकारी ही कर सकते हैं, बाकी आपकी इस मांग को एनएचएआई के अधिकारियों के संज्ञान में लाने की कोशिश करूंगा। प्रदर्शन की जानकारी मिलने पर पंचकूला नायब तहसीलदार ने पहले तो पटवारी कुलदीप को भेजा लेकिन ग्रामीणों ने उनकी बात नहीं सुनी। इसके बार कानूनगो हरिओम को भेजा जिनको उन्होंने एक मांग पत्र जिला उपायुक्त और एनएचएआई के प्रोजेक्ट डायरेक्टर के नाम सौंपकर कहा कि अगर एक सप्ताह के अंदर इस समस्या का हल नहीं निकला तो सभी गांवों के ग्रामीणों द्वारा टोल प्लाजा पर अनिश्चितकालीन धरना देंगे। इसके बाद ग्रामीणों ने करीब पांच घंटे बाद अपना प्रदर्शन समाप्त कर दिया।
विज्ञापन
विज्ञापन

रहें हर खबर से अपडेट, डाउनलोड करें Android Hindi News App, iOS Hindi News App और Amarujala Hindi News APP अपने मोबाइल पे|
Get all India News in Hindi related to live update of politics, sports, entertainment, technology and education etc. Stay updated with us for all breaking news from India News and more news in Hindi.

विज्ञापन

Spotlight

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Election
  • Downloads

Follow Us