विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान
Puja

एक माह तक वृंदावन बिहारी जी मंदिर में कराएं चन्दन तुलसी इत्र सेवा , मिलेगा नौकरी व व्यापार से जुड़े समस्याओं का समाधान

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

विज्ञापन
Digital Edition

एसपी कार्यालय में पीओ स्टाफ का हेड कांस्टेबल, उसकी पत्नी, फैक्टरी कर्मियों समेत 11 कोरोना पॉजीटिव

सोनीपत। जिले में कोरोना पॉजिटिव मिलने का सिलसिला लगातार जारी है। यहां बुधवार को 11 कोरोना पॉजिटिव मिले, जिनमें एसपी कार्यालय में पीओ स्टाफ का हेड कांस्टेबल के साथ उसकी पत्नी कोरोना पॉजिटिव मिली है। कुंडली की बैरिंग कंपनी से लगातार कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं और वहां से अब दो पॉजिटिव मिले हैं, जबकि एक महिला पहले पॉजिटिव मिल चुकी है। इनके अलावा दिल्ली में कार्यरत, बंगलूरू से लौटने वाली युवती व उसका भाई कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इस तरह से कोई बाहर से कोरोना संक्रमित होकर आया है तो किसी को पहले से संक्रमित के संपर्क में आने पर संक्रमण हुआ है। इन सभी को खानपुर कलां के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। वहीं अब जिले में 175 कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं, जिनमें से 127 ठीक हो चुके हैं और 47 का सामान्य हालात में उपचार चल रहा है।
जिले में बुधवार को कोरोना पॉजिटिव के 11 मामले मिले हैं। इनमें से कबीरपुर की महिला व उसका पति कोरोना पॉजिटिव मिले। महिला कुंडली की एआरबी बैरिंग कंपनी में काम करती है, जहां दो दिन पहले ही एक महिला कोरोना पॉजिटिव मिली थी और उसके बाद इसका व पति का सैंपल लिया गया था। अब दोनों की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है। इन दोनों के संपर्क में 13 लोगों को चिह्नित किया गया है, जिनके सैंपल लिए जा रहे हैं। इस कंपनी में काम करने वाली हेमनगर की महिला की रिपोर्ट भी कोरोना पॉजिटिव मिली है। इसको बुखार होने पर सैंपल लिए गए थे, जिसके परिवार के चार सदस्यों समेत छह का सैंपल लिया गया है। कोरोना अब एसपी कार्यालय तक भी पहुंच गया, जहां पीओ स्टाफ में शामिल सूरी पेट्रोल पंप वाली गली वेस्ट रामनगर का हेडकांस्टेबल कोरोना पॉजिटिव मिला है। उसकी पत्नी दिल्ली के अस्पताल में स्टाफ नर्स है और इन दोनों के सैंपल कराए गए थे, जिनकी रिपोर्ट अब कोरोना पॉजिटिव मिली है। इनके परिजनों समेत 12 के सैंपल कराए गए हैं, जिनमें कई एसपी कार्यालय में तैनात पुलिस कर्मी शामिल हैं। कुंडली की एक युवती बंगलूरू से वापस लौटी थी, जिससे उसके व भाई के सैंपल जांच को भेजे गए थे। इनको कोरोना के लक्षण मिलने पर जांच कराई गई थी। इन दोनों की कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव मिली है। इनके परिवार के चार सदस्यों के सैंपल कराए गए है, जिससे उनकी जांच हो सके। फिरोजपुर बांगर गांव का व्यक्ति कोरोना संक्रमित मिला है। वह एक फैक्टरी में काम करता है और उसे बुखार व थकावट महसूस होने पर जांच कराई गई थी। उसकी अब जांच रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है। इसके अलावा फिरोजपुर गांव का एक युवक भी कोरोना पॉजिटिव मिला है और वह भी एक फैक्टरी में काम करता है। उसको भी बुखार होने पर जांच कराई गई तो अब उसकी रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है। गढ़ी ब्राह्मणान का एक युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है। यह युवक सर गंगाराम अस्पताल दिल्ली में इलेक्ट्रीशियन कार्यरत है। इसके संपर्क में शामिल छह लोगों के सैंपल कराए जा रहे हैं। इसके अलावा सेक्टर-14 का रहने वाला युवक भी कोरोना पॉजिटिव मिला है। इसने अपनी जांच गुरुग्राम में कराई थी, जिसकी जांच रिपोर्ट अब मिली है। इन सभी को स्वास्थ्य विभाग ने खानपुर कलां के मेडिकल कालेज में भर्ती करा दिया है। डीसी श्यामलाल पूनिया ने बताया कि जिले में अब कोरोना पॉजिटिव 175 मामले हो गए है, जिनमें से 127 ठीक हो चुके हैं।
... और पढ़ें

शराब की गिनती पूरी, आबकारी विभाग की शराब में मिला 60 पेटी का अंतर

सोनीपत। खरखौदा में शराब गोदाम में गिनती का काम पूरा हो गया है। इसमें आबकारी विभाग की शराब में पहले के मुकाबले 60 पेटी का मामूली अंतर मिला है। इसमें यह पेटी ज्यादा मिली हैं। वहीं पुलिस की तरफ से जब्त शराब में यह अंतर करीब डेढ़ फीसदी बताया जा रहा है। हालांकि पुलिस का कहना है कि इसका दोबारा मिलना किया जा रहा है। जिसके बाद रिपोर्ट एसईटी को भेजी जाएगी।
खरखौदा बाईपास स्थित तस्करी के आरोपी भूपेंद्र की मां के नाम लीज पर लिए गोदाम में पुलिस व आबकारी विभाग की केस प्रापर्टी में रखी शराब चोरी हो गई थी। जिसकी जांच में आबकारी विभाग की शराब की पेटियों में करीब 2850 का अंतर मिला था, वहीं पुलिस की करीब 5700 पेटी का अंतर मिला था। जिसके बाद एसईटी जब जांच को आई तो दोबारा से शराब की गिनती कराने का आदेश दिया था। इस बार शराब की गिनती रोहतक एसपी राहुल देव के नेतृत्व में गठित एसआईटी की तरफ से करने को निर्देश दिया गया था। जिस पर एसआईटी डीएसपी जितेंद्र व नरेंद्र की देखरेख में 10 इंस्पेक्टर समेत 50 पुलिस कर्मियों से गिनती कराई गई। जिसमें आबकारी विभाग की गिनती से करीब 60 पेटी ज्यादा मिली हैं। वहीं पुलिस की पकड़ी गई शराब में भी करीब डेढ़ फीसदी का अंतर आया है। इसको पुलिस टूटी पड़ी बोतलों को इस बार गिनती करने से इस मामूली अंतर को बढने का कारण मान रही है। हालांकि अब इसका दोबारा मिलान जारी है। रात को या सुबह इसकी रिपोर्ट एसईटी की भेज दी जाएगी।
-----
शराब की गिनती का काम पूरा हो गया है। इसमें ज्यादा अंतर नहीं मिला है। इस बार टूटी बोतलों को भी गिना गया है। गिनती के बाद दोबारा से मिलान किया जा रहा है। इसकी रिपोर्ट जल्द एसईटी को भेजी जाएगी।
-जितेंद्र सिंह, डीएसपी एसआईटी।
... और पढ़ें

शराब घोटाला: निलंबित एएसआई जयपाल भेजा जेल, रिमांड में एसआईटी के हाथ लगे कई सुराग

खरखौदा बाईपास पर गोदाम में रखी शराब तस्करी का षड्यंत्र रचने, धोखाधड़ी, आरोपी को बचाने के लिए उसकी मदद करने और भ्रष्टाचार अधिनियम में दो दिन के रिमांड पर लिए गए जयपाल को पुलिस ने अदालत में पेश किया, जहां उसे न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया। पुलिस पूछताछ में एसआईटी को कई सबूत हाथ लगे हैं।

हालांकि आरोपी ज्यादातर मामलों में भूपेंद्र व जसबीर की मिलीभगत के बारे में ही बोलता रहा। पुलिस अब अन्य आरोपियों की तलाश में दबिश दे रही है। खरखौदा थाने में तैनात रहे निलंबित एएसआई जयपाल के खिलाफ खरखौदा थाना में दो मुकदमे दर्ज हैं। जयपाल की शराब तस्करी के मुख्य आरोपी भूपेंद्र और खरखौदा थाने के एसएचओ रहे बर्खास्त इंस्पेक्टर जसबीर सिंह अच्छी दोस्ती थी। उस पर पुलिस की केस प्रापर्टी को ठिकाने लगाने व आरोपी की मदद करने और भ्रष्टाचार अधिनियम में भी मुकदमा दर्ज हैं।

जयपाल को एसआईटी ने रोहतक से गिरफ्तार से किया था। दोनों मामलों में तीन दिन का रिमांड लेने के बाद उसे डीएसपी खरखौदा हरेंद्र कुमार के नेतृत्व में टीम ने न्यायालय में पेश किया। दोपहर बाद न्यायालय ने जयपाल के अधिवक्ताओं और पुलिस के पक्ष में पेश सरकारी अधिवक्ताओं की सुनवाई के बाद उसे न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया। डीएसपी की टीम ने उसको जिला कारागार में भेज दिया।
... और पढ़ें

पीएम आवास पर तैनात बीएसएफ के जवान, एसपी कार्यालय के एसआई समेत 19 कोरोना पॉजीटिव

सोनीपत। जिले में शुक्रवार को 19 कोरोना पॉजिटिव सामने आए। जिनमें दिल्ली में पीएम आवास पर तैनात बीएसएफ का जवान, एसपी कार्यालय में पीओ स्टाफ का एसआई, दिल्ली पुलिस का जवान, मेडिकल कॉलेज की स्टाफ नर्स, कुंडली की बैरिंग कंपनी के कर्मी शामिल हैं। कोरोना पॉजिटिव मिलने वालों में अधिकतर की केस हिस्ट्री दिल्ली से जुड़ी है, जिससे प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग की परेशानी दोबारा बढ़ गई है। इन सभी को खानपुर कला मेडिकल कॉलेज में भर्ती करा दिया गया है। इस तरह जिले में कोरोना पॉजिटिव केस बढ़कर 199 हो गए हैं। इनमें से 143 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं और 55 का सामान्य हालत में उपचार चल रहा है। वहीं इन पॉजिटिव मामलों को देखते हुए इनके संपर्क में आने वालों की जांच कराई जा रही है तो कंटेनमेंट जोन बढ़ा दिए गए हैं।
जिले में पिछले काफी दिनों से लगातार कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं और यह आंकड़ा वीरवार तक 180 पर पहुंच गया था। इसमें सबसे बड़ी राहत यह थी कि इनमें 140 ठीक होकर घर लौट चुके थे और मेडिकल कॉलेज में केवल 36 कोरोना पॉजिटिव का उपचार चल रहा था। इस तरह कोरोना पॉजिटिव मिलने से ज्यादा रोजाना मरीज ठीक होकर घर लौटने शुरू हो गए थे। लेकिन खानपुर कलां मेडिकल कॉलेज से शुक्रवार दोपहर को स्वास्थ्य विभाग के पास भेजी गई जांच रिपोर्ट में 19 कोरोना पॉजिटिव मिले। अब उन सभी की जांच कराई जाएगी जो इनके परिवार के सदस्य व संपर्क में रहे हैं। यह जितने भी कोरोना पॉजिटिव मिले हैं, इनमें अधिकतर दिल्ली के कारण कोरोना पॉजिटिव हुए हैं तो ऐसे भी लोग है जो संक्रमितों के संपर्क में आए हैं। इनमें शहर से लेकर गांवों तक के रहने वाले हैं, जिससे परेशानी ज्यादा बढ़ती दिख रही है। क्योंकि कोरोना ने गांवों तक में पैर पसारने शुरू कर दिए हैं और इसका सबसे बड़ा कारण लोगों का दिल्ली से आवाजाही बंद नहीं करना है। इस तरह जिले में कोरोना पॉजिटिव मामले 199 हो गए हैं तो मेडिकल कॉलेज से शुक्रवार को तीन अन्य मरीजों को छुट्टी मिली है। इस तरह से 143 मरीज ठीक होकर अपने घर जा चुके हैं और 55 का उपचार चल रहा है।
--
50 से ज्यादा के सैंपल लेने में लगे तो होम क्वारंटीन भी कराए
स्वास्थ्य विभाग ने 19 की कोरोना पॉजिटिव रिपोर्ट मिलने के बाद इनके संपर्क में आने वाले परिजनों व अन्य को तलाशना शुरू किया। ऐसे लगभग 50 को चिह्नित किया गया है, जिनकी जांच कराई जा रही। जिससे कोरोना को लेकर स्थिति साफ हो सके। इसके अलावा इन लोगों को होम क्वारंटीन किया जा रहा है। इस तरह से 19 कोरोना पॉजिटिव मिलने पर स्वास्थ्य विभाग की परेशानी बढ़ गई है और अब इनके संपर्क में आने वालों की जांच रिपोर्ट से आगे की स्थिति साफ होगी।
--
शहर व गांवों में इन जगहों पर मिले कोरोना पॉजिटिव ऐसे हुए संक्रमित
-पटेल नगर का 32 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला जो दिल्ली सरकार का कर्मचारी होने के कारण वहां से संक्रमित हुआ है।
-तारा नगर का 19 वर्षीय युवक भी कोरोना पॉजिटिव मिला है जो दिल्ली के बादली में व्यवसाय के कारण वहां से संक्रमित हुआ है।
-मयूर विहार की 54 वर्षीय महिला व उसका 34 वर्षीय बेटा कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। गृहणी महिला को लैब में नौकरी करने वाला उसका बेटा जोधपुर से लेकर आया था और इनके संक्रमण का पता लगाया जा रहा है।
-शिव कॉलोनी में 45 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है जो बीएसएफ का जवान है और वह पीएम आवास पर दिल्ली में तैनात है। वह पांच दिन की छुट्टी लेकर आया था जो दिल्ली से संक्रमित हुआ है।
-मॉडल टाउन का रहने वाला व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है, जिसके संक्रमित होने का पता लगाया जा रहा है।
-छोटूराम चौक का 57 वर्षीय व्यक्ति कोरोना पॉजिटिव मिला है जो एसपी कार्यालय में पीओ स्टाफ में एसआई है और साथी के पॉजिटिव मिलने पर संक्रमित हुआ है।
-सारंग रोड स्थित भीम नगर का 34 वर्षीय एक युवक भी कोरोना पॉजिटिव मिला है। जिसके संक्रमण का विभाग को पता नहीं लग सका है।
-अशोक विहार का 34 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है जो दिल्ली पुलिस का जवान है और वहां से संक्रमित हुआ है।
-कुंडली का 27 वर्षीय युवक, जाखौली का 28 वर्षीय युवक, नाथूपुर गांव का 37 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिले हैं जो कुंडली की एआरबी बैरिंग कंपनी में कार्यरत है। इस कंपनी में पहले कई पॉजिटिव मिल चुके हैं और यह भी वहां से संक्रमित हुए हैं।
-सबोली गांव में 65 वर्षीय वृद्ध कोरोना पॉजिटिव मिला है, जिसके संक्रमित होने का पता लगाया जा रहा है।
-राई में 38 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है, जिसके संक्रमित होने का विभाग पता कर रहा है।
-बिधलान गांव में 42 वर्षीय व्यक्ति की रिपोर्ट कोरोना पॉजिटिव मिली है जो गुरुग्राम में सिक्योरिटी कर्मी की नौकरी करता है और वहां से संक्रमित माना जा रहा है।
-गढ़ी उजाले खां में 39 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव मिला है, जिसके संक्रमित होने की विभाग जानकारी जुटा रहा है।
-खेड़ी गुर्जर की एक 65 वर्षीय वृद्ध महिला भी कोरोना पॉजिटिव मिली है, जिसके संक्रमित होने का विभाग पता लगा रहा है।
-बीपीएस मेडिकल कालेज खानपुर कलां की 32 वर्षीय स्टाफ नर्स कोरोना पॉजिटिव मिली है जो कालेज से संक्रमित हुई है।
-खरखौदा की 38 वर्षीय महिला कोरोना पॉजिटिव मिली है जो पहले से बीमार रहती है और इस कारण ही संक्रमित होने की बात कही जा रही है।
-अंकित चौहान
... और पढ़ें
खरखौदा में कोरोना पॉजीटिव महिला को आईसोलेट करने के लिए लेने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम खरखौदा में कोरोना पॉजीटिव महिला को आईसोलेट करने के लिए लेने पहुंची स्वास्थ्य विभाग की टीम

एक जून से चलेंगी एक्सप्रेस व जनशताब्दी ट्रेनें, वंदे भारत एक्सप्रेस से कराया रेलवे लाइन का ट्रायल

सोनीपत। लॉकडाउन के कारण देश के विभिन्न जगहों पर फंसे लोगों की सुविधा के लिए एक जून से एक्सप्रेस व जनशताब्दी ट्रेनें चलाई जाएंगी। ट्रेनों को चलाने के लिए रेलवे लाइन पर ट्रायल कराया जा रहा है। शुक्रवार दोपहर शकूरबस्ती से लेकर सोनीपत रेलवे स्टेशन के बीच वंदे भारत एक्सप्रेस से ट्रायल कराया गया। ताकि एक जून से चलने वाली ट्रेनों के आवागमन के दौरान किसी भी परेशानी का सामना नहीं करना पड़े।
सोनीपत रेलवे स्टेशन पर एक जून से ऊना जनशताब्दी, पश्चिम एक्सप्रेस, शहीद एक्सप्रेस ट्रेनें रुकेंगी। इन ट्रेनों के रुकने से दिल्ली व अंबाला की तरफ आने-जाने वाले लोगों को भी फायदा होगा। इन ट्रेनों में वही व्यक्ति सफर कर सकेगा, जिसका कंफर्म टिकट होगा। कंफर्म टिकट नहीं होने पर उस व्यक्ति को स्टेशन से बाहर कर दिया जाएगा। स्टेशन पर प्रवेश करने से पहले यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग भी की जाएगी। इसके लिए रेलवे स्टेशन पर स्वास्थ्य विभाग, रेलवे अस्पताल, आरपीएफ व जीआरपी के कर्मी तैनात रहेंगे।
कोरोना वायरस संक्रमण फैलने से रोकने को दो माह पहले 22 मार्च को पैसेंजर, एक्सप्रेस समेत सभी ट्रेनें रद्द कर दी थी। लोगों की सुविधा के लिए रेलवे ने एक जून से 200 एक्सप्रेस ट्रेनें चलाने का निर्णय लिया तो 22 मई से को रेलवे स्टेशन पर टिकट रिजर्वेशन काउंटर खोल दिया गया। अभी रोजाना 250 से ज्यादा टिकटें रिजर्वेशन हो रही है। अभी 30 जून तक की टिकटें मिल रही है। किसी भी यात्री को वेटिंग टिकट नहीं दी जा रही। क्योंकि सोशल डिस्टेंस का पालन करते कंफर्म टिकट मिलने पर यात्रियों को ट्रेन में सफर करना पड़ेगा।
एक जून से शुरू होने वाली ट्रेनों को लेकर शुक्रवार को शकूरबस्ती से लेकर सोनीपत रेलवे स्टेशन तक वंदेभारत एक्सप्रेस से ट्रायल कराया गया। यह ट्रेन सोनीपत रेलवे स्टेशन पर दोपहर 12.25 बजे पहुंची और वापसी में यह ट्रेन 12.53 बजे शकूरबस्ती के लिए रवाना हुई।
--
एक जून से सोनीपत रेलवे स्टेशन पर तीन ट्रेनें रुका करेंगी। ट्रेनों में वहीं व्यक्ति सफर कर सकेगा, जिसके पास कंफर्म टिकट होगा। स्टेशन पर प्रवेश करते समय यात्री की थर्मल स्क्रीनिंग भी कराई जाएगी। ट्रेनों के संचालन से पहले वंदे भारत एक्सप्रेस से सोनीपत रेलवे स्टेशन पर ट्रायल भी कराया गया है।
-गजेंद्र कुमार, स्टेशन अधीक्षक सोनीपत
... और पढ़ें

दिल्ली-हरियाणा बार्डर सील करने के बाद कुंडली में लगा लंबा जाम, पुलिस के साथ नोकझोंक कर रहे लोग

कुंडली/सोनीपत। जिले में कोरोना संक्रमण के दिल्ली कनेक्शन के चलते एक बार फिर दिल्ली से लगती सीमाओं को सील कर दिया है। प्रदेश में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए गृह मंत्री अनिल विज ने बार्डर सील किए जाने के आदेश दिए थे। जिसका असर शुक्रवार सुबह से ही दिखाई दिया। कुंडली बार्डर पर जरूरी सेवाओं से संबंधित ऐसे सैकड़ों वाहन पहुंचे जिनके पास ई-पास नहीं थे। ऐसे में उन्हें बार्डर पर ही रोक दिया गया। वहीं, पुलिस व चिकित्सीय स्टाफ को भी ई-पास दिखाकर ही एंट्री मिली। यही कारण रहा कि कई बार बार्डर पर खींचतान की स्थिति बनी। पुलिस से नोकझोंक भी हुई, लेकिन पुलिस ने उन्हें समझा-बुझाकर वापस भेज दिया। दोपहर बाद डीसी व एसपी ने भी कुंडली बार्डर पर जाकर निरीक्षण किया।
कोरोना संक्रमण के मामले लगातार बढ़ने से गृह मंत्री अनिल विज ने वीरवार को दिल्ली व पंजाब के चलते मामले बढ़ने की बात कही थी। अचानक से बढ़े मामलों में ज्यादातर इन राज्यों से संपर्क के कारण सामने आए हैं। ऐसे में प्रदेश में सुरक्षा की दृष्टि से फिर से बार्डर सील करने के आदेश दिए थे। इसका असर शुक्रवार को सोनीपत में कुंडली व खरखौदा बार्डर पर दिखाई दिया। कुंडली बार्डर पर डीएसपी हंसराज के अलावा थाना कुंडली प्रभारी रवींद्र कुमार व ट्रैफिक थाना प्रभारी रमेशचंद्र व ड्यूटी मजिस्ट्रेट के नेतृत्व में पुलिस की तैनाती बढ़ा दी गई। हर वाहन चालक से ई-पास पूछा गया। जिसके पास ई-पास नहीं मिला उसे वापस लौटा दिया गया। ऐसे में देखते ही देखते कुंडली बार्डर पर लंबा जाम लग गया। पूरा दिन लोग जाम में फंसे रहे।
ई-पास नहीं मिला तो भेजा गया वापस
जरूरी सामान को लेकर आने वाले वाहनों के चालक बार-बार पुलिस को अपने अनुमति पत्र दिखाते रहे, लेकिन पुलिस नहीं मानी। कुंडली बार्डर पर तैनात डीएसपी हसंराज के अलावा ट्रैफिक इंचार्ज इंस्पेक्टर रमेश, कुंडली एसएचओ रवींद्र कुमार के नेतृत्व में भारी पुलिस बल को शुक्रवार सुबह ही तैनात कर दिया गया था। इस दौरान कुंडली बार्डर पर पहले से ज्यादा बैरिकेडस रखकर मार्ग को सील कर दिया गया। बेहद जरूरी वाहनों को ही निकलने दिया गया। इस दौरान लोग अपने अनुमति पत्र दिखा रहे थे, लेकिन पुलिस ने ई-पास की बाध्यता दोहराई। ऐसे में कई बार गहमागहमी का माहौल भी बना। कई ने पुलिस के साथ नोकझोंक की, लेकिन पुलिस ने उन्हें शांत कर वापस भेज दिया।
शहर के सभी एंट्री प्वाइंट पर लगाए बैरिकेड
प्रशासन ने दिल्ली से आवागमन को पूरी तरह से बंद करने का निर्णय लिया है। दिल्ली की ओर से आने वाले सभी मार्गों पर बैरिकेड लगा दिए हैं। सेक्टर-7, बहालगढ़, बीसवांमील, मुरथल के एंट्री प्वाइंट पर पुलिस तैनात कर दी गई है। अब बिना जांच के लिए शहर में प्रवेश नहीं होगा। वहीं, दिल्ली की ओर जाने वाले सभी लोकल रास्तों पर भी बैरिकेड लगाए जा रहे हैं। किसी भी मार्ग से दिल्ली में आवागमन की अनुमति नहीं होगी।
डीसी और एसपी ने किया निरीक्षण
कुंडली बार्डर को सील किए जाने के बाद शुक्रवार दोपहर को डीसी श्यामलाल पूनिया व एसपी जश्नदीप सिंह रंधावा ने भी बार्डर पर निरीक्षण किया। इस दौरान पुलिस कर्मियों को सख्त हिदायत दी गई कि बिना ई-पास के कोई भी वाहन जिले में एंट्री नहीं करेगा। आवश्यक वस्तु लेकर आने वाले वाहनों की भी जांच करने के बाद ही भेजा जाएगा।
--
कुंडली बार्डर को सील कर दिया गया है। जिन गाड़ियों के चालकों के पास ई-पास है उन्हें ही प्रदेश में आने की अनुमति दी जाए। ई-पास के बिना कोई एंट्री नहीं है। बार्डर पर लगातार लोगों को नियमों की जानकारी दी जा रही है। जाम लगने से बचाने के लिए स्टाफ को भी बढ़ाया गया है।
जश्नदीप सिंह रंधावा, एसपी।
--
जिले में कोरोना संक्रमण के मामलों का दिल्ली कनेक्शन देखते हुए सरकार ने पहले ही कई पाबंदी लगा रखी है। अब ई-पास लेकर आने वालों की यहां से एंट्री मिलेगी। वहीं लोग आवागमन करें, जिन्हें बहुत आवश्यक है। साथ ही अपने-पास अवश्य बनवा लें। उसके बिना एंट्री नहीं होगी।
-श्यामलाल पूनिया, डीसी।
रवींद्र कौशिक
 कुंडली बार्डर पार करने के लिए पुलिस से बहस करते लोग।
कुंडली बार्डर पार करने के लिए पुलिस से बहस करते लोग।- फोटो : Sonipat
कुंडली बार्डर पर लगे जाम में फंसे वाहन।
कुंडली बार्डर पर लगे जाम में फंसे वाहन।- फोटो : Sonipat
... और पढ़ें

हरियाणा: 24 घंटे में टूटा रिकॉर्ड, सर्वाधिक 217 पॉजिटिव मिले, अब हर जिला कोरोना की चपेट में

हरियाणा में 24 घंटे के भीतर कोरोना के संक्रमण फैलाव ने अपना पिछला रिकॉर्ड तोड़ दिया है। गुरुवार को जहां प्रदेश में 123 सबसे अधिक मामले सामने आए थे, वहीं शुक्रवार शाम तक 1 दिन में सर्वाधिक 217 संक्रमित मरीज सामने आ गए हैं। हरियाणा में तेजी से बढ़ रहे इस संक्रमण ने स्वास्थ्य महकमे की चिंताएं बढ़ा दी हैं। 

राज्य में अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 1721 हो गई है। जिसमें से 940 मरीज ठीक हो गए हैं। जबकि 762 अभी एक्टिव संक्रमित हैं। कोरोना रिकवरी रेट भी घटकर 54.62 प्रतिशत हो गया है। जबकि संक्रमण के फैलाव का रेट बढ़ कर 1.62 प्रतिशत हो गया है। विभिन्न जिलों में 59 मरीज ठीक भी हुए हैं। लेकिन 16 जिलों में 217 नए मरीज भी सामने आए हैं।


यह भी पढ़ें-
शादी के लिए नई शर्त, प्रदेश से बाहर गई बरात तो दूल्हा-दुल्हन समेत बराती होंगे होम क्वारंटीन

गुरुग्राम में 115, फरीदाबाद में 31, सोनीपत में 19, नूंह व भिवानी में 2-2, पलवल और कैथल में 7-7, पंचकूला, सिरसा, फतेहाबाद और कुरुक्षेत्र में 1-1, रोहतक में 6, नारनौल में 3, हिसार, रेवाड़ी, चरखी दादरी में 5-5 नए संक्रमित मरीज सामने आए हैं। अब हरियाणा का कोई भी जिला ऐसा नहीं बचा जो कोरोना संक्रमण से ग्रस्त न हो। 4050 संदिग्ध मरीजों के सैंपल रिपोर्ट आना अभी बाकी है। 

विभिन्न जिलों में अब कुल पॉजिटिव मरीजों में से गुरुग्राम में 520, फरीदाबाद में 307, सोनीपत में 119, झज्जर में 97, नूंह में 68, अंबाला में 47, पलवल में 68, जींद में 29, करनाल में 42, पानीपत में 60, पंचकूला में 26, सिरसा में 15, फतेहाबाद में 12, भिवानी में 13, रोहतक में 30, नारनौल में 39, हिसार में 31, रेवाड़ी में 23 चरखी दादरी में 13, कैथल में 17, कुरुक्षेत्र में 27, यमुनानगर में 9, महेंद्रगढ़ में 33 मरीज सामने आ चुके हैं। 
... और पढ़ें

टिकौला में रेत ठेकेदार ने यमुना में बांध बनाकर पानी रोक डाला, अवैध रूप से रेत खनन

कोरोना जांच
सोनीपत। सरकार नदियों को बचाने के लिए करोड़ों रुपया खर्च कर रही है, लेकिन यहां यमुना नदी में रेत खनन ठेकेदार ने रेत के पहाड़ व बांध बनाकर बुरा हाल कर दिया है। टिकौला में डीएसपी एसोसिएट्स ने यमुना के अंदर रेत के ढ़ेर लगा दिए तो यमुना में कई जगह बांध बना दिए गए हैं। जिससे यमुना की धार बदल गई है और यमुना का पानी यूपी की ओर चला गया है। जिसका सबसे बड़ा नुकसान यमुना किनारे बसे गांवों के किसानों को हुआ है। क्योंकि इस तरह से यमुना का स्वरूप बदलने के बावजूद भी डीएसपी एसोसिएट लगातार जेसीबी मशीनों से खनन कर रही है। जिसपर ठेकेदार के खिलाफ डीसी के पास शिकायत की गई है। इससे पहले भी डीसी जब यमुना पर बाढ़ नियंत्रण को लेकर निरीक्षण करने गए थे तो वहां बांध तोड़ने के आदेश अधिकारियों को दिए थे। उसके बावजूद बांध नहीं तोड़ा गया और वहां अन्य कई बांध बना दिए गए।
जिले में यमुना के अंदर रेत खनन करने के ठेके अधिकतर कंपनियों के खत्म हो गए हैं। क्योंकि वह सरकार का 350 करोड़ रुपये से ज्यादा दबाकर बैठे हुए थे और जिसपर ज्यादा रुपये बकाया थे, उसका ठेका सरकार ने निरस्त करा दिया था। खनन विभाग के अधिकारी उनपर लगातार मेहरबानी दिखा रहे थे, लेकिन खनन मंत्री मूलचंद शर्मा ने सख्ती दिखाते हुए खुद छापामारी करने के साथ ही कार्रवाई कराई। खनन करने वालों पर लगातार कार्रवाई के बाद भी ठेकेदार नहीं सुधर रहे है। अब लॉकडाउन में छूट मिलते ही टिकौला में खनन ठेकेदार डीएसपी एसोसिएट ने यमुना के अंदर रेत के ढ़ेर लगाकर पहाड़ खड़े कर दिए है तो यमुना के अंदर ही अवैध रूप से बांध बना डाला है। जिससे यमुना का पानी हरियाणा की ओर से रोककर यूपी की तरफ मोड़ दिया गया है। इसका सबसे बड़ा नुकसान हरियाणा के किसानों को हुआ है, क्योंकि यहां पहले ही जलस्तर नीचे पहुंच रहा है और अब यमुना में अवैध रूप से बांध बनाकर पानी यूपी की ओर मोड़ने से जलस्तर ज्यादा नीचे पहुंच जाएगा। इसके साथ ही टिकौला में अवैध रूप से रेत खनन भी किया जा रहा है, क्योंकि यमुना में पानी के अंदर खनन नहीं किया जा सकता है तो सुबह 6 से शाम 6 बजे तक ही खनन कर सकते है। इसके बावजूद वहां अवैध रूप से खनन किया जा रहा है। इस पूरे मामले की शिकायत डीसी के पास की गई है।
--
डीसी ने बांध तोड़ने के आदेश दिए, अफसरों की ठेकेदार से मिलीभगत
डीसी श्यामलाल पूनिया ने जिले में आने के अगले दिन ही यमुना में बाढ़ से बचाव के लिए वहां का निरीक्षण किया था। उनको टिकौला में यमुना के अंदर बांध बना हुआ दिखाई दिया तो डीसी ने तुरंत ही उसे तोड़ने के आदेश दिए थे। उसके बावजूद अफसरों ने अभी तक बांध नहीं तोड़ा और बांध बनाने वाली कंपनी के खिलाफ कोई कार्रवाई भी नहीं की गई है। जबकि एनजीटी तक के सख्त आदेश हैैं कि इस तरह यमुना के अंदर अवैध बांध नहीं बनाए जा सकते हैं। बल्कि डीसी के बांध तोडने के आदेश के बाद अफसरों की लापरवाही के कारण कई अन्य बांध वहां बना दिए गए। जिसमें अब डीसी के पास शिकायत की गई है और डीसी को वहां के फोटो व अन्य जानकारी भी भेजी गई है। जिसपर डीसी ने मामले में कार्रवाई के निर्देश दिए हैं।
... और पढ़ें

डीजल टैंक में लगी आग से झुलसे वेल्डर व मेंटीनेंस सुपरवाईजर की उपचार के दौरान मौत

गन्नौर। जीटी रोड पर गढ़ी कला के पास वेल्डिंग करते समय डीजल टैंक में लगी आग से झुलसे वेल्डर और ट्रांसपोर्ट कंपनी के मेंटिनेंस सुपरवाइजर की बुधवार की रात दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल में उपचार के दौरान मौत हो गई। जीटी रोड चौकी पुलिस ने दोनों शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम करवाने के बाद उनके परिजनों को सौंप दिया। इसके बाद मृतक मेंटिनेंस सुपरवाइजर के पिता ने ट्रांसपोर्ट कंपनी एएलपीएल आशुतोष लॉजिस्टिक प्राइवेट लिमिटेड के मालिक व वेल्डिंग सेट के मालिक के खिलाफ लापरवाही बरतने का आरोप लगाते हुए मामला दर्ज करवाया। चौकी पुलिस ने मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
पानीपत जिले के गांव जौरासी खालसा के रहने वाले रोहतास ने पुलिस को शिकायत देते हुए बताया कि उनका बेटा राकेश एलपीएल आशुतोष लॉजिस्टिक प्राइवेट लिमिटेड कंपनी में मेंटिनेंस सुपरवाइजर था। उनको बुधवार को हादसे की सूचना मिली थी। इसके बाद वह गन्नौर के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में पहुंचे, जहां उसका बेटा व वेल्डर सतीश उपचाराधीन थे। इस दौरान उसके बेटे राकेश ने उन्हें बताया कि वेल्डिंग करवाने से पहले कंपनी के मालिक मनोज कुमार को डीजल खाली करवाने के लिए बोला था। लेकिन उन्होंने डीजल खाली करवाने से मना कर दिया। इसके अलावा वेल्डिंग सेट की वायरिंग भी जगह-जगह से कटी हुई थी। उसने वेल्डिंग सेट मालिक चेतन मल्होत्रा को भी वायर बदलने के लिए कहा था, लेकिन उसने वायर नहीं बदली। जिस वजह से वेल्डिंग करते समय उठी चिंगारी से डीजल टैंक में आग लग गई। मृतक के पिता रोहतास का आरोप है कि यह हादसा ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक मनोज कुमार व वेल्डिंग सेट के मालिक चेतन मल्होत्रा की लापरवाही से हुआ है। उनकी लापरवाही की वजह से उसके बेटे राकेश व वेल्डर सतीश को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा। पिता की शिकायत पर जीटी रोड चौकी पुलिस ने मनोज कुमार व चेतन मल्होत्रा के खिलाफ मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

जेल में भिड़े राजू बसौदी और मोनू लल्हेड़ी गैंग के गुर्गे, जमकर चले लात घुसे

सोनीपत। जिला कारागार में दबदबा बनाने को लेकर बुधवार शाम शातिर बदमाश राजू बसौदी और मोनू लल्हेड़ी गैंग के गुर्गों में जमकर मारपीट हुई। इस मारपीट में मोनू भी शामिल रहा। दोनों गैंग के 26 बंदी आमने-सामने आ गए। मारपीट के दौरान कारागार में अफरा-तफरी मच गई। जेल के सुरक्षा कर्मियों को हालात को सामान्य करने में काफी समय लगा। दोनों गैंग लीडर और उनके साथियों के बैरकों से निकलने पर रोक लगा दी गई है। उनको खाना बैरकों के अंदर ही दिया जाएगा। जेल उप अधीक्षक के बयान पर पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।
जिला कारागार में शातिर बदमाश राजू बसौदी और मोनू लल्हेड़ी बंद हैं। इनके गैंग के कई सदस्य भी जेल में हैं। राजू और मोनू में कई दिन से तनाव चल रहा था। राजू जेल में अपना दबदबा चाहता है, जबकि मोनू अपना दबदबा रखना चाहता है। जेल में बंद कुछ युवकों को अपने पक्ष में करने के लिए दोनों प्रयासरत हैं। इसको लेकर इनमें तनाव बना हुआ था। जेल अधिकारी उनको आमने-सामने नहीं आने दे रहे थे। दोनों को अधिकारियों ने व्यवस्था बनाए रखने की चेतावनी भी दी थी। उसके बावजूद बुधवार शाम को जब खाना बांटा जा रहा था। खाना लेने के लिए बंदियों को बैरकों से निकाला गया था। इसी दौरान राजू बसौदी और मोनू लल्हेड़ी गैंग के दो सदस्यों में मारपीट होने लगी। देखते ही देखते दोनों गैंग के कई सदस्य मारपीट में शामिल हो गए। मोनू भी मारपीट में शामिल हो गया। यह देखकर खाना ले रहे अन्य कैदी डर गए। जेल में अफरा-तफरी का माहौल हो गया। जेल का अलार्म बजाकर तुरंत ज्यादा से ज्यादा सुरक्षा कर्मियों को बुलाया गया। जेल अधीक्षक सतविंद्र सिंह गोदारा और जेल उप अधीक्षक रामचंद्र भी मौके पर आ गए। सुरक्षा कर्मियों ने करीब आधा घंटे की मशक्कत के बाद दोनों गैंग के सदस्यों को अलग-अलग किया। हालात सामान्य होने में करीब एक घंटे का समय लग गया। उसके बाद जेल अधिकारियों ने दोनों गैंग के सदस्यों को अलग-अलग बैरक में बंद कर दिया। वहां उनसे घंटों तक पूछताछ की गई। सुरक्षा के चलते पुलिस को भी सूचित किया गया।
मामले को लेकर जेल उप अधीक्षक रामचंद्र ने पुलिस को शिकायत दी है। उनकी शिकायत पर दोनों गुट के 26 लोग नामजद किए गए हैं। जिसमें परमजीत, नितेश, रोहित, प्रवीण, कालू, तरुण, अमरदीप, सुमित, सचिन, योगेश, साहिल, वीरेंद्र, विशाल, नवीन, राजीव और अंकित, श्रद्धानंद, मोनू, पवन, नवीन, दीपक, सोमवीर, अंकित, राकेश, शक्ति, सुमित शामिल हैं। कोर्ट काम्पलेक्स चैकी पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर लिया है।
पांच दिन पहले भी तीन बंदियों में हुई थी मारपीट
जिला कारागार में पांच दिन पहले भी तीन बंदियों में आपस में मारपीट हो गई थी। उनके खिलाफ भी तुरंत कार्रवाई करते हुए मुकदमा दर्ज कराया गया था। जेल प्रशासन का कहना है कि जेल में हालात किसी सूरत में बिगड़ने नहीं दिए जाएंगे।
--
जेल में अपना दबदबा दिखाने के लिए राजू बसौदी और मोनू लल्हेड़ी गैंग के सदस्य आपस में भिड़ गए। दोनों ओर से मारपीट हुई। कई बार इनको चेतावनी दी गई थी, लेकिन यह मनमानी से बाज नहीं आए। दोनों गैंग के सदस्यों को अलग-अलग बैरकों में बंद किया गया है। फिलहाल हालात सामान्य है। दोनों पक्षों के 26 सदस्यों को नामजद करते हुए मुकदमा दर्ज कराया गया है।
-रामचंद्र, जेल उप अधीक्षक, सोनीपत
... और पढ़ें

प्री मैच्योर बच्चा भी ऐसे मरने को बास्केट में नहीं डाल सकते, डीसी बोले जांच रिपोर्ट मिलते ही कार्रवाई होगी

सोनीपत। शहर के एक निजी अस्पताल में जिंदा बच्ची का वजन कम बताते हुए बास्केट में डालने और उसके बाद में उसकी मौत होने के मामले में डीसी ने खुद कड़ा रुख अपना लिया है। जहां डीसी के निर्देश पर इस मामले में एसडीएम आशुतोष राजन ने सीएमओ को जांच के लिए पत्र लिखा हुआ है, वहीं डीसी ने साफ कर दिया है कि किसी भी हालत में प्री मैच्योर बच्चा भी ऐसे मरने को बास्केट में नहीं डाल सकते हैं। डीसी का कहना है कि इसमें अब केवल जांच रिपोर्ट का इंतजार है और उसके बाद ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
शहर के एक निजी अस्पताल में मानवता को शर्मसार करने का मामला सामने आया था। यहां एक प्रसूता ने दो बच्चों को जन्म दिया था। इनमें पहला बच्चा मृत था तो इसे दफना दिया गया। वहीं दूसरी बच्ची को जन्म लेने के बाद मरने के लिए बास्केट में डाल दिया गया था। इस मामले में एक युवक रवि दहिया ने पुलिस में शिकायत दी और अस्पताल में पुलिस को अपने साथ लेकर पहुंचा था। वहां पुलिस के सामने डाक्टर ने तर्क दिया था कि बच्ची प्री मैच्योर है और उसका वजन भी काफी कम है। इसलिए उसे नर्सरी या जीवनरक्षक उपकरणों पर नहीं रखा गया है। हालांकि उसके बाद रवि ने पुलिस की मदद से बच्ची को नागरिक अस्पताल में भर्ती कराया था और वहां उसकी मौत हो गई थी। इस शर्मसार करने वाली घटना के सामने आने पर डीसी श्यामलाल पूनिया के निर्देश पर एसडीएम आशुतोष राजन ने सीएमओ को जांच के लिए पत्र लिखा था। वहीं डीसी श्यामलाल पूनिया ने कहा कि बच्ची प्री मैच्योर होने के बाद भी अगर जिंदा है तो उसे इस तरह बास्केट में नहीं डाला जा सकता है। यह मेडिकल के नियमों के पूरी तरह से खिलाफ है। बच्ची का उपचार जरूर होना चाहिए था। डीसी ने कहा कि इस पूरे मामले में सीएमओ की रिपोर्ट का इंतजार है और उसके बाद ऐसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

पांच कोरोना पॉजिटिव और मिले, 13 मरीज ठीक हुए

सोनीपत। जिले में कोरोना संक्रमण लगातार फैल रहा है। वीरवार को पांच कोरोना संक्रमित और मिले हैं। इनमें भाजपा नेता और पूर्व नप चेयरपर्सन के पति के अलावा कुंडली की फैक्टरी में कार्यरत युवती व दिल्ली में नौकरी करने वाले शामिल हैं। सभी को खानपुर कलां के मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है। इनके संपर्क में आने वालों के सैंपल लेकर जांच कराई जा रही है। राहत की बात यह है कि वीरवार को 13 मरीज ठीक होकर भी अपने घर लौटे हैं, जिससे 180 कोरोना पॉजिटिव में 140 मरीज ठीक हो चुके हैं और अब 39 मरीजों का उपचार चल रहा है।
जिले में वीरवार को पांच कोरोना पॉजिटिव मिले हैं। इनमें जवाहर नगर की सरदारों वाली गली की 36 वर्षीय एलएनजेपी अस्पताल दिल्ली में तैनात नर्सिंग ऑफिसर कोरोना संक्रमित मिली हैं। इसके परिवार के पांच सदस्यों समेत सात की जांच कराई जा रही है। पबसरा गांव की एक युवती कोरोना पॉजिटिव मिली है, जिसने खांसी, जुकाम, बदन दर्द व थकावट होने पर सिविल अस्पताल में जांच करवाई थी। जिसकी रिपोर्ट आने पर कोरोना वायरस की पुष्टि हुई है। यह कुंडली की एआरबी बैरिंग कंपनी में काम करती है। इसके परिवार के चार सदस्यों समेत सात की जांच कराई जा रही है। जाखौली गांव के मुख्य बाजार का 29 वर्षीय युवक भी कोरोना पॉजिटिव मिला है। इसका पहला सैंपल 14 मई को लिया गया था, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आई थी। इसके बाद 25 मई को इसका दोबारा सैंपल लिया गया, जिसकी रिपोर्ट अब पॉजिटिव मिली है। यह जाखौली गांव की उस महिला का परिजन हैं जो दो दिन पहले ही ठीक होकर घर लौटी है। मॉडल टाउन के रहने वाले भाजपा नेता कोरोना पॉजिटिव मिले हैं जो नप की पूर्व चेयरपर्सन के पति हैं। इनकी करोलबाग में जूतों की दुकान है तो वह पिछले कई साल से डायबिटीज व हृदय रोगी हैं। इनके संपर्क में रहने वाले पांच परिजनों की जांच कराई जा रही है। बहालगढ़ का भी एक 80 वर्षीय वृद्ध कोरोना पॉजिटिव मिला है। इसके बेटे बहालगढ़ मार्केट में जूतों की दुकान करते हैं, लेकिन बुजुर्ग घर में रहता था। उसके कोरोना पॉजिटिव होने के कारण का स्वास्थ्य विभाग पता लगा रहा है। इसके संपर्क में आने वाले 11 लोगों की जांच कराई जा रही है। इस तरह जिले में 180 कोरोना पॉजिटिव हो गए हैं। वहीं मेडिकल कॉलेज से वीरवार को जिले के 13 मरीजों को ठीक होने पर छुट्टी मिली है। इनमें मेडिकल कॉलेज की छह स्टाफ नर्सों के अलावा किशोरा, भिगान, मिमारपुर, फाजिलपुर, टीडीआई सिटी कुंडली व जैनपुर के मरीज शामिल हैं।
--
दिल्ली जाने वाले 2474 की सूची तैयार, जांच कराई जाएगी
जिले में जिस तरह से दिल्ली आवाजाही करने वाले सबसे ज्यादा कोरोना पॉजिटिव मिल रहे हैं। उसको देखते हुए डीसी श्यामलाल पूनिया ने ऐसे लोगों की लिस्ट तैयार कराई है। जिसमें अभी 2474 लोगों को शामिल किया गया है। इन सभी की सूची स्वास्थ्य विभाग को भेजी गई है, जिससे इनकी जांच कराई जा सके। डीसी का कहना है कि इन सभी की जांच हो जाएगी तो कोई पॉजिटिव भी मिलता है तो उससे अन्य में संक्रमण फैलने से रोका जा सकता है।
--
कंटेनमेंट और बफर जोन घोषित किए
डीसी श्याम लाल पूनिया ने सैनी चौपाल वाली गली कबीरपुर, मैसर्स एआरबी इस्टन बैरिंग कुंडली, कुंडली की गली नंबर 19, हेमनगर की गली, सूरी पेट्रोल पंप वाली गली वेस्ट राम नगर, गढ़ी ब्राह्मणान की एक गली, श्री गणेश इंटर प्राइजेज गांव फिरोजपुर बांगर, सेक्टर 14 सोनीपत की एक गली को कंटेनमेंट जोन घोषित किया है। इसके अलावा आसपास के क्षेत्र को बफर जोन घोषित किया गया है।
... और पढ़ें

बर्खास्त इंस्पेक्टर जसबीर की अग्रिम जमानत याचिका रद होने के बाद गिरफ्तारी को बढ़ाई पुलिस ने दबिश, हर ठिकाने पर की जा रही तलाश

सोनीपत। खरखौदा शराब तस्करी मामले के मुख्य आरोपी बर्खास्त इंस्पेक्टर जसबीर की अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद एसआईटी ने उसकी गिरफ्तारी को दबिश तेज कर दी है। इसके लिए दर्जनभर टीमें लगा दी गई हैं और प्रदेश के साथ ही दिल्ली में जसबीर के हर संभावित ठिकाने पर दबिश दी जा रही है। जसबीर की गिरफ्तारी इस मामले में पुलिस के लिए काफी अहम मानी जारी है। वहीं जांच एजेंसी अभी यह पता लगाने में जुटी है कि नामजद लोगों के अलावा और कितने अधिकारी-कर्मचारी तस्कर से मिले हुए थे। उसके तस्करी के ट्रकों को पास कराने का सिस्टम क्या था, इसमें जांच का दायरा काफी बढ़ा है?
अंतरराज्यीय शराब तस्कर भूपेंद्र के सरेंडर करने के बाद खुलासा हुआ था कि इंस्पेक्टर जसबीर उसके काले धंधे में साथ था। उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज करने के साथ ही उसे बर्खास्त तक कर दिया था। पुलिस उसके बारे में पता लगा रही है, लेकिन सुराग नहीं लगा पाई। इसी बीच जसबीर की तरफ से कोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका लगाई गई, लेकिन वह निरस्त हो गई। इसके बाद एसआईटी ने अब दर्जन भर टीमों का गठन कर उसके हर संभावित ठिकाने पर दबिश तेज कर दी है। हरियाणा में ही दर्जन भर ठिकानों के साथ ही पुलिस ने दिल्ली में भी कई जगह रेड की। हालांकि उसका सुराग नहीं लग पाया। एसआईटी का दावा हैै कि इस मामले में जल्द पुलिस को अच्छी सफलता मिलेगी। पुलिस के हाथ कई अहम सुराग लगे हैं। जसबीर की गिरफ्तारी भूपेंद्र की तरह बहुत अहम है।
खरखौदा गोदाम में शराब की गिनती पूरी, अधिकारी स्तर पर मिलान कर भेजी जाएगी रिपोर्ट
एसआईटी ने खरखौदा के गोदाम में रखी शराब की गिनती को पूरा कर लिया है। जिसमें काफी कम अंतर मिला है। हालांकि अभी तक अधिकारी स्तर पर गिनती का मिलान किया जाना बाकी है। अधिकारी इसका अपने स्तर पर मिलान करेंगे। इसके बाद शराब की रिपोर्ट एसईटी को सौंपी जाएगी।
खरखौदा से पंजाब तक जांच का दायरा
तस्करी के आरोपी भूपेंद्र के बारे में जांच बारीकी से हो रही है। जांच का दायरा खरखौदा से पंजाब तक है। टीम तस्करी के लिए शराब आने, अलग तरह के पैकिंग तैयार करने, अलग राज्यों की शराब बनाने और बेरोकटोक सप्लाई करने की गहनता से जांच कर रही है। वह पंजाब स्थित डिस्टलरी से सीधे शराब की तस्करी कराता था। वहां से शराब लाकर उसको मनमाने ब्रांड और प्रदेश में बिक्री का लेबल लगा दिया जाता था। पुलिस पंजाब तक इस मामले में जांच करेगी।
--
शराब तस्करी के पूरे मामले का खुलासा किया जाएगा। जसबीर तस्करी के मामले में महत्वपूर्ण कड़ी है। उसकी गिरफ्तारी काफी अहम है। जांच खरखौदा से लेकर पंजाब तक प्रत्येक स्तर पर की जाएगी। कोई भी शामिल होगा पकड़ा जाएगा। शराब की गिनती पूरी हो चुकी है। जिसका अधिकारी स्तर पर मिलान कर एसईटी को जल्द भेज दी जाएगी।
- जितेंद्र सिंह, डीएसपी एसआईटी।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us