विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

Coronavirus in Haryana: अंबाला के मृतक को समधन से हुआ था संक्रमण, महिला पर दर्ज होगा केस

कोरोना महामारी से जान गंवाने वाले अंबाला निवासी मरीज को अपनी बेटे की सास से संक्रमण मिला था।

10 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

यमुना नगर

शुक्रवार, 10 अप्रैल 2020

नेता भी गरीबों और जरूरतमंदों की सहायता के लिए आगे आए

यमुनानगर कई सामाजिक संगठनों से जुड़े व आप नेता सामाज सेवी दलीप दड़वा, योगेन्द्र चौहान उत्तरी हरियाणा जोन आप उपाध्यक्ष, सुशील जैन जिला आप यमुनानगर कार्यकारिणी सदस्य, दिनेश युवा अध्यक्ष आप, सरदार इन्द्र जीत लकी ज्वैलर्स, योगेश सेठी, रिषीपाल गुर्जर हसनपुर, अमरपाल आर्य किसान नेता आप, पिया शर्मा, दीपचंद बाजीगर व आप युनिट आम आदमी पार्टी के सभी लोग मिलजुल कर जनता की सेवा कर रहे हैं। राशन सामग्री, मास्क, सैनेटाइजर जरूरतमंद लोगों को बांट रहे हैं। लोगों को लॉकडाउन का पालन करने के लिए प्रेरित कर रहे हैं। उन्होंने आजादनगर, चिट्टा मन्दिर, बाडीमाजरा, तीर्थनगर, परवालों, बुढ़िया, दयालगढ, कांसापुर के हर जरूरतमंद परिवार को राशन वितरित किया। ... और पढ़ें

31 हजार की सहयोग राशि का चैक शिक्षा मंत्री को सौंपा

Lockdown in Haryana: शिक्षा विभाग का फरमान- ऑनलाइन होगी स्कूलों में पढ़ाई, तय की गई टाइमिंग

प्रदेश के सरकारी स्कूलों के पहली से 12 वीं कक्षा तक के विद्यार्थियों को परिस्थितियां सामान्य होने तक ऑनलाइन ही पढ़ाया जाएगा। स्कूल खुलने तक अध्यापक विद्यार्थियों को घर पर रहकर ही अभिभावकों की मदद से फोन एवं व्हाट्सऐप के जरिए ऑनलाइन पढ़ाएंगे।

शिक्षा मंत्री कंवर पाल ने बताया कि प्रतिवर्ष नया शैक्षिक सत्र पहली अप्रैल से शुरू होता है। लेकिन इस साल कोरोना महामारी के चलते पूरे देश में लॉकडाऊन है। इस कारण यह सत्र अभी शुरू नहीं किया जा सका है। सरकारी स्कूलों में पढ़ने वाले विद्यार्थियों की पढ़ाई का नुकसान न हो, इसलिए शिक्षा विभाग ने विभिन्न ई-लर्निंग प्लेटफॉर्म बनाए हैं।

इस बारे में सभी को पहले ही सूचित भी किया जा चुका है। विभाग ने ई-लर्निंग में मदद करने के लिए वेबसाइट www.haryanaedusat.com बनाई है। एजुसेट नेटवर्क पर टेलीकास्ट की जाने वाली ऑडियो, वीडियो सामग्री भी पोर्टल पर उपलब्ध कराई गई है, ताकि विद्यार्थी उसका उपयोग कर सकें। पढ़ाई के लिए एक सामान्य टाइम टेबल व शेड्यूल भी बनाया गया है, जो वेबसाइट पर उपलब्ध है।

अध्यापक प्रतिदिन सुबह साढ़े 9 बजे से दोपहर साढ़े 12 बजे तक विद्यार्थियों को ऑनलाइन पढ़ाएंगे। विद्यार्थी घर पर रहकर अपने माता-पिता और बड़ों की मदद से क्लास ज्वॉइन करेंगे। इससे विद्यार्थियों को अपनी पढ़ाई में निरंतरता बनाए रखने में मदद मिलेगी। वेबसाइट पर शिक्षा विभाग की विभिन्न पहल जैसे ‘दीक्षा’ और ‘चॉक-लिट’ के लिंक भी हैं।

यही नहीं विद्यार्थियों की ई-लर्निंग का परीक्षण करने के लिए वेबसाइट पर ‘ऑब्जेक्टिव टाइप क्वेश्चन बैंक’ भी उपलब्ध हैं।
... और पढ़ें

हरियाणाः कोरोना मामलों वाले गांव कंटेनमेंट व आसपास के क्षेत्र बफर जोन घोषित, पूरी तरह सील रहेंगे

हरियाणा सरकार ने कोरोना संक्रमितों मामलों वाले गांवों, मोहल्लों और क्षेत्रों को कंटनमेंट जोन घोषित किया है। वहीं आसपास के गांव व क्षेत्र प्रतिबंधित क्षेत्र (बफर जोन) में शामिल किए गए हैं। इसका मुख्य उद्देश्य महामारी के फैलाव को रोकना और लोगों को सचेत करना है। इन क्षेत्रों में किसी भी व्यक्ति के आवागमन पर प्रतिबंध रहेगा। आशा वर्कर्स व एएनएम की टीमें इन क्षेत्रों में डोर-टू-डोर स्क्रीनिंग, स्कैनिंग करेंगी और पूरे क्षेत्र को सैनिटाइज किया जाएगा। इस कार्य में लगाए जाने वाले स्टाफ को जरूरी उपकरणों के साथ फेस मास्क, दस्ताने, टोपी, सैनिटाइजर व जूते उपलब्ध करवाए गए हैं।

जानकारी देते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल ने कहा कि सभी जिला उपायुक्तों को अपने-अपने जिलों का कंटेनमेंट प्लान तैयार करने को कहा गया है। इसके साथ ही विभिन्न विभागों के अधिकारियों की कमेटियां गठित करके प्लान को जमीनी स्तर पर क्रियान्वित करने के निर्देश भी दिए हैं। एहतियात के तौर पर सभी जिलों का मॉडल जिला कंटेनमेंट प्लान तैयार करवाया गया है। कंटेनमेंट जोन और बफर जोन में लोगों को राशन, दूध, किरयाना, दवाइयां व सब्जी जैसी आवश्यक जरूरतें पूरी करवाई जाएंगी। इस काम के लिए पर्याप्त स्टाफ लगाया जाएगा।

डिलीवरी करने वाला कर्मचारी अपनी सुरक्षा के लिए हाथ में सुरक्षा उपकरण का प्रयोग करेगा। वह घर के अंदर व किसी व्यक्ति से फिजिकल कॉन्टैक्ट नहीं करेगा। कंटेनमेंट व बफर जोन में निर्बाध बिजली व पानी की आपूर्ति सुनिश्चित की जाएगी। हरियाणा परिवहन की बसों को कर्मचारियों को लाने व ले जाने के कार्य में लगाया गया है।

समझें क्या है कंटेनमेंट जोन और बफर जोन
ये समझना बेहद जरुरी ही है कंटेनमेंट जोन और बफर जोन में क्या फर्क है। तकनीकी रुप से स्थिति को देखते कंटेनमेंट जोन घोषित किए इलाके से सटे 3 किलोमीटर एरिया को सील कर दिया जाता है। किसी भी की आवाजाही पूरी तरह बंद रहती है, जबकि उपरोक्त परिधि के बाद इसके साथ लगते एरिया, जो थोड़ा कम संवेदनशील है, उसको बफर जोन कहा जाता है। हालांकि इसको भी बीमारी के लिहाज से कम सवेंदनशील नहीं माना जाता है।
... और पढ़ें
मुख्यमंत्री मनोहर लाल प्रेस कांफ्रेंस करते हुए मुख्यमंत्री मनोहर लाल प्रेस कांफ्रेंस करते हुए

सीमा से सटे हिमाचल में कोरोना पाॅजिटिव पाया गया जमाती, सीमाएं सील

तब्लीगी जमात के मरकज से लौटे लोगों से पैदा हुआ खतरा घटने का नाम नहीं ले रहा है। प्रदेश की सीमा से सटे हिमाचल प्रदेश के जिला सिरमौर के गांव में कोरोना का एक पॉजिटिव केस मिला है, जो तब्लीगी जमाती का है और मरकज से लौटा है। मामला सामने आने के बाद वीरवार को एडीजीपी आलोक राय ने हिमाचल की सीमा से सटे गांवों का दौरा किया और सीमा को पूरी तरह सील करने के निर्देश दिए। हिमाचल के नालागढ़ क्षेत्र माजरा के रहने वाले पचास वर्षीय सादिक 11 मार्च को तब्लीकी जमात से लौटा था। जमात के दौरान वह मरकज में ही रहा। 11 मार्च को दिल्ली से हरियाणा रोडवेज के यमुनानगर डिपो की बस से यहां पहुंचा। बताया जा रहा है कि यमुनानगर बस स्टैंड से उसने हिमाचल रोडवेज की बस पावंटा के लिए ली थी। शाम पांच बजे वह पावंटा पहुंच गया। इसके बाद वह हरियाणा बॉर्डर के गांव लोहगढ़ की मस्जिद में रहने लगा। मरकज से लोगों के निकलने की सूचना के बाद जमातियों की तलाश शुरू कर दी गई थी, जिसके बाद हिमाचल स्वास्थ्य विभाग की टीम लोहगढ़ मस्जिद पहुंची। इस दौरान उसमें कोरोना के लक्षण दिखाई दिए जिस पर कुल 58 लोगों के हिमाचल स्वास्थ्य विभाग ने सैंपल टेस्ट के लिए भेजे। जिसमें 57 सैंपल की रिपोर्ट नेगटिव आई। जबकि एक सैंपल पॉजिटिव मिला। यह रिपोर्ट सादिक की थी। जिले की सीमा से सटे हिमाचल के गांव में पॉजिटिव केस मिलने की सूचना के बाद आसपास के गांव में लोग चौकन्ने हो गए हैं। विभाग तुरंत हरकत में आया और सीमावर्ती गांव में पहुंचा, यहां की स्थिति का जायजा लिया। इसके बाद एडीजीपी ने भी मौका मुआयना किया और अधिकारियों से हालात की जानकारी ली।
पूरे गांव की हो रही स्क्रीनिंग
कोरोना पॉजीटिव केस जिस गांव में मिला है। वह हिमाचल की सीमा पर स्थित है और यमुनानगर के गांव भगवानपुर से सटा हुआ है। प्रशासन ने इस गांव की सीमाएं सील कर दी हैं। वहीं स्वास्थ्य विभाग ने टीम भेजकर पूरे गांव की स्क्रीनिंग शुरू करवा दी है। टीम घर घर पहुंचकर इसकी जानकारी ले रही है। डॉ. शमा प्रवीन ने बताया कि अधिकारिक सूचना पर गांव की स्क्रीनिंग करवाई जा रही है। लोगों को लॉकडाउन और सोशल डिस्टेंसिंग के प्रति जागरूक किया जा रहा है। लोगों को मॉस्क व हैंडवॉश के बारे में भी बताया जा रहा है।
सीमा पर बना दी गई चौकी
रणजीतपुर चौकी प्रभारी शमशेर सिंह ने बताया कि एडीजीपी के निर्देश पर लोहगढ़ के समीप हिमाचल की सीमा के पास अस्थाई पुलिस चौकी बना दी गई है। उच्चाधिकारियों के निर्देशानुसार दोनों प्रदेशों की सीमाओं से किसी भी व्यक्ति को प्रवेश नहीं करने दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त पहाड़ी क्षेत्रों से प्रदेश की सीमाओं को जोड़ने वाले रास्तों पर भी विशेष नजर रखी जा रही है।
-रणजीतपुर क्षेत्र में अतिरिक्त स्वास्थ्य कर्मियों की ड्यूटी लगाई है, जो घर घर जाकर लोगों के स्वास्थ्य की जांच कर रहे हैं। हिमाचल में जो युवक पॉजिटिव मिला है, वह 11 मार्च को दिल्ली से वाया यमुनानगर बस स्टैंड होते हुए मस्जिद में गया था। हमारी टीमें इस चेन को क्रेक करने में भी लगी हुई हैं।
डा. विजय दहिया, सीएमओ।
... और पढ़ें

छात्रा को शोर मचाकर परेशान करने पर विवाद

शहर की मधु कॉलोनी में छत पर पढ़ाई कर रही छात्रा को शोर मचाकर परेशान करने का विरोध जताने पर दो परिवारों में विवाद हो गया। इस दौरान एक परिवार के लोगों ने तलवार, डंडों व अन्य हथियारों से हमला कर पांच लोगों को घायल कर दिया। पुलिस ने मामले में 11 लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
मधु कॉलोनी निवासी राजबीर ने बताया कि मंगलवार शाम को उसकी भतीजी अपने घर की छत पर बैठकर पढ़ाई कर रही थी। तभी कॉलोनी का राहुल शोर कर पढ़ाई में बाधा पैदा कर रहा था। जब उसकी भतीजी ने उसे ऐसा करने से रोका तो वह नहीं माना। जिसकी जानकारी छात्रा अपने पिता राजकुमार दी। जब उसके भाई राजकुमार ने राहुल के चाचा निक्कू को शोर मचाकर परेशान करने की बात बताई तो निक्कू उल्टा उसे उसके साथ ही गाली गलौच करने लगा। इस दौरान आरोपी ने अपने हाथ में लकड़ी की भट्टी, बिट्टू ने तलवार, सन्नी ने डंडा, काला, राहुल व नाथी ने डंडा लेकर उसके भाई राजकुमार पर हमला कर दिया। बीचबचाव करने आये राजू, रजनी व रोशन पर भी हमला कर घायल कर दिया। आसपास के लोगों ने उन्हें अस्पताल पहुंचाया। जहां उन सभी को उपचार दिया गया। घटना की शिकायत पुलिस को देने पर आरोपी निक्कु, बिट्ट, काला, सन्नी, संजीव, मुंदरी , राहुल, नाथी राम, बबली, मीना व बिटटु पत्नी पर केस दर्ज कर जांच शुरू कर दी है।
मारपीट में दो लोग घायल, चार पर केस दर्ज
वहीं गांव गंदापुरा निवासी राजेंद्र कुमार ने थाना छप्पर पुलिस को दी शिकायत में बताया कि वह अपने दोस्त चतर सिंह के साथ गांव में ही किसी काम से जा रहा था। इस दौरान सुरेंद्र कुमार व जसविंद्र सिंह ने अपने लड़कों मनीष व भूरा के साथ मिलकर उन पर हमला कर दिया। हमले में वह दोनों घायल हो गए। मारपीट की आवाज सुनकर जब अन्य लोग मौके पर पहुंचे तो आरोपी जान से मारने की धमकी देकर फरार हो गए।उन्होंने घटना की सूचना पुलिस को दी। पुलिस ने मामले की जांच के बाद चारों आरोपी के खिलाफ केस दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी।
... और पढ़ें

कोरोना के योद्धा : पति के कंधों पर 13 लाख लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी

जिले के 13 लाख लोगों के स्वास्थ्य की जिम्मेदारी का बोझ, रोजाना पांच से ज्यादा विडियो कांफ्रेंसिंग के साथ कोरोना महामारी को मात देने में दिनरात जुटे हैं कोरोना वारियर्स कपल। हम बात कर रहे हैं जिले के सिविल सर्जन डॉ. विजय दहिया और उनकी पत्नी डॉ. पूनम चौधरी की, जो बिना रूके बिना थके 15 से ज्यादा घंटे तक काम करते हैं और फिर परिवार भी संभालते हैं। डॉ. पूनम दहिया गॉयनो स्पेशलिस्ट हैं और उनके पास जिले के सबसे बड़े जगाधरी सिविल अस्पताल का प्रभार है। पिछले एक महीने से दोनों परिवार, नाते-रिश्तों की परवाह न करके सिर्फ मरीजों की देखभाल में जुटे हैं। दोनों का कहना है कि वो तो सिर्फ देश और समाज की सेवा में अपना छोटा सा योगदान दे रहे हैं। ये उनके जज्बे का ही नतीजा है कि जिले में अब तक एक भी कोरोना पॉजिटिव नहीं आया है। जबकि करीब 100 लोगों के सैंपलों की रिपोर्ट आ चुकी है।
दूसरों की सेवा में जुटे, अपनों से दूरी बनाई
डॉ. विजय दहिया ने बताया कि बेटा और बेटी दोनों डॉक्टरी की पढ़ाई करते हैं। बेटा अभी पांडिचेरी है। जबकि बेटी घर आई हुई है। दिनभर मरीजों के बीच रहना पड़ रहा है। रोजाना पांच से लेकर 10 तक विडियो कांफ्रेंसिंग या अधिकारियों से मीटिंग में हिस्सा लेना पड़ रहा है। इसके बाद कोरोना की तैयारियों पर नजर और रोजाना समीक्षा करनी पड़ती है। तमाम संदिग्धों की सैंपलिंग से लेकर रिपोर्ट आने तक मॉनिटरिंग और उच्चाधिकारियों को अपडेट करना। इतनी व्यस्तता के बीच खुद के स्वास्थ्य का भी ख्याल रखना पड़ रहा है। इस बीच अपनों के लिए टाइम नहीं निकाल पा रहे। राहत की बात ये है कि हमारी पूरी टीम चाहे उसमें डॉक्टर हो, नर्सिंग स्टाफ हो या फिर मेडिकल स्टाफ सभी पूरी जी जान से जुटे हुए हैं। इसी जज्बे से हम कोरोना से जीत रहे हैं।
समाज को हमारी जरूरत, ये समय भी निकल जाएगा
डॉ. पूनम चौधरी का कहना है कि आज समाज को हमारी जरूरत है। परिवार की चिंता होती है, लेकिन जो मरीज यहां भर्ती हैं उनके प्रति भी हमारी जिम्मेदारी बनती है। समय है यह भी कट ही जाएगा। आज जिले के 13 लाख नागरिकों की नजर स्वास्थ्य विभाग पर है। ऐसे में हमारी जिम्मेदारी और ज्यादा बढ़ जाती है। बच्चे भी मेडिकल लाइन से हैं और उन्हें भी हमारी जिम्मेदारी का अहसास है। उन्हें ये भी पता चल रहा है कि ऐसे हालात में किस तरह से अपना फर्ज पूरा करना है।
... और पढ़ें

सुनसान सड़कों पर फर्राटा भर रहे वाहन, कार ने बाइक सवार युवक को कुचला

civic
यमुनानगर। कोरोना वायरस के चलते सरकार द्वारा लगाए गए लॉकडाउन में सड़कें सुनसान पड़ी है। सुनसान सड़कों पर इक्का दुक्का वाहन ही उतर रहे है। वे भी इन सुनसान सड़कों पर फर्राटा भर रहे है। बाड़ी माजरा निवासी विजय कुमार ने पुलिस को दी शिकायत में बताया कि उसका छोटा भाई गुलशन कुमार छछरौली रोड के त्रिकोणी चौक के पास मोबाइल टावर पर काम करता था। देर शाम को वह अपनी बाइक पर सवार होकर नौकरी के लिए घर से निकला था। सहारनपुर रोड पर जब उसका भाई गुलशन अपनी बाइक पर सहारनपुर रोड के खजूरी मोड के पास पश्चिमी यमुना नहर पुल पर पहुंचा तो पीछे से तेज रफ्तार कार सीधी टक्कर मार दी। आरोपी कार चालक उसके भाई को कुचलता हुआ आगे निकल गया। कार के कुचलने से उसके भाई की मौके पर ही मौत हो गई। इस बारे में हमीदा चौकी इंचार्ज प्रमोद वालिया का कहना है कि शव का पोस्टमार्टम करवा दिया गया है। मामले में आरोपी कार चालक के खिलाफ केस दर्जकर लिया गया है। कार उतराखंड की है। नंबर के आधार पर आरोपी कार चालक की तलाश की जा रही है। ... और पढ़ें

भोजन के 500 पैकेट वितरित किए गए

यमुनानगर लॉकडाउन के 17वें दिन भगवती मानव कल्याण संगठन एवं भारतीय शक्ति चेतना पार्टी की तरफ से मानवता की सेवा, धर्म रक्षा व राष्ट्र रक्षा के कर्तव्य का पालन करते हुए इस संकट की घड़ी में गरीब व प्रवासी मजदूरों व जरूरत मंद लोगों के लिए भोजन के 500 पैकेट तैयार करके जिला रैड क्रास समिति के कार्यालय में जमा कराए गए। संगठन के प्रदेश सचिव राजेन्द्र भटली व पार्टी के जिला अध्यक्ष दीवान चन्द मंधार ने कहा कि सभी सरकार के निर्देशों व लॉकडाउन के नियमों का पालन करें, अनुशासन में रहे। ये गलत हैं सोच कर लापरवाह मत बने। उन्होंने कहा कि ये मत सोचें कि हमारे क्षेत्र में तो कोरोना वायरस हैं ही नहीं पर उनको पता होना चाहिए कि कुछ दिनों पहले यह हमारे देश में भी नहीं था। इसलिए घर में रहे सुरक्षित रहें। ... और पढ़ें

सभी लोग एकजुट हो तभी कोरोना को जा सकता है हराया: कपूर

यमुनानगर समाजसेविका इंदू कपूर पिछले 18 वर्षों से समाज की सेवा कर रही हैं। फिलहाल वह पिछले 14 दिनों से जरूरतमंद और गरीब लोगों को स्वतंत्र रूप से राशन और पका हुआ भोजन उपलब्ध करा रही है। वीरवार को उन्होंने विश्वकर्मा चौक के पास झुग्गी झोपडी के 100 जरूरतमंद लोगों को खाना प्रदान किया। इस दौरान उन्होंने रोटी, खिचड़ी, पुलाव व आचार दिया। साथ ही झुग्गी झोपडी में रह रहे छोटे बच्चों को बिस्कुट और टॉफियां भी दी। उन्होंने झुग्गी झोपडी के लोगों को वहाँ हाथ धोने, चेहरे ढँकने और जनता के बीच उचित अंतर बनाए रखने के लिए प्रेरित किया। उसने जामू कॉलोनी में 3 परिवारों को कच्चा राशन भी दिया। उन्होंने कहा कि इस समय अगर समाज के सभी लोग एकजुट हो जाएं तो हम कोरोना के खिलाफ लड़ाई जीत सकते हैं। ... और पढ़ें

विद्यार्थियों को दूर संचार के माध्यमों से किया जा रहा शिक्षित

यमुनानगर कोरोना वायरस की स्थिति को मद्देनजर रखते हुए सभी स्कूलों के विद्यार्थियों को दूर संचार के माध्यमों से शिक्षित किया जा रहा हैं। अध्यापक इंटरनेट से विद्यार्थियों से संपर्क कर रहे हैं I विद्यार्थियों के माता-पिता व अभिभावकों को पिछली कक्षा के परिणाम और ऑनलाइन कक्षाओं की योजनाओं से भी अवगत करवाया गया I विद्यार्थियों के लिए अंग्रेजी, गणित, हिंदी, विज्ञान, संस्कृत, कंप्यूटर आदि विषयों की वर्कशीट, असाइनमेंट, पीडीएफ फाइल का प्रयोग किया जा रहा है I इनसे विद्यार्थी अवकाश के दिनों में लाभान्वित हो रहे हैं I सरस्वती विद्या मंदिर विद्यालय की प्रधानाचार्य मोनिका बंसल ने बताया कि विद्यार्थियों के उज्ज्वल भविष्य को देखते हुए अध्यापक वर्ग अपने दिशा निर्देश से उनका मार्ग प्रशस्त कर रही हैं, जिससे वे दिन-रात मेहनत कर विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा दे रहे हैं। ... और पढ़ें

डीएवी कॉलेज के शिक्षकों ने शुरू कराई ऑनलाइन पढ़ाई

साढौरा (यमुनानगर) कोरोना ने पूरे देश में हर संस्थान को बंद करा दिया है। ऐसे में सबसे ज्यादा प्रभावित छात्र-छात्राएं हो रहे हैं। लोक डाउन होने के कारण विद्यार्थियों का शिक्षण कार्य प्रभावित ना हो इसीलिए उच्चतर शिक्षा विभाग पंचकूला और कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय कुरुक्षेत्र एवं डीएवी प्रबंधक समिति दिल्ली के निर्देशानुसार कॉलेज का समस्त स्टाफ विद्यार्थियों के व्हाट्सएप ग्रुप बनाकर उन्हें शिक्षा प्रदान कर रहा है कॉलेज प्रधानाचार्य डॉ रणपाल सिंह ने बताया कि सभी शिक्षकों को निर्देश दिए गए हैं कि वे विद्यार्थियों के ग्रुप बनाकर उन्हें नोट्स भेज कर यूट्यूब पर वीडियो बनाकर पीपीटी द्वारा और स्काइप आदि के माध्यम से शिक्षण कार्य करवाएं ताकि लॉक डाउन के कारण कॉलेज के विद्यार्थियों की पढ़ाई किसी प्रकार से बाधित ना हो। कॉलेज के सभी शिक्षक अपने कर्तव्य का निर्वहन करते हुए विद्यार्थियों को ऑनलाइन शिक्षा प्रदान कर रहे हैं ताकि आने वाली परीक्षाओं की तैयारी सभी विद्यार्थी घर बैठकर ही उचित प्रकार से कर सकें। ... और पढ़ें

प्राध्यापकों को फोन पर जानकारी देने में कतरा रहे लोग

यमुनानगर उच्च शिक्षा विभाग की ओर से सभी गवर्नमेंट, गवर्नमेंट एडिड और सेल्फ फ़ाइनेंसिंग कॉलेज को लेटर भेजा गया। जिसके साथ कॉलेज के स्टाफ सदस्यों को कुछ मोबाइल नंबरों की लिस्ट और प्रफोर्मा भी भेजे गए है। सभी प्राध्यापकों की ड्यूटी लगाई गई कि हर प्राध्यापक 50 नंबरों पर फोन करकर उनसे उनकी व उनके परिवार की जानकारी प्राप्त करेंगें और यह डाटा ऑनलाइन फिल करेंगें। इसी के चलते राजकीय कॉलेज के प्राध्यापक इन दिनों उन 50 नंबरों पर फोन करकर इसकी डिटेल ऑनलाइन भर रहे हैं। बिलासपुर राजकीय कॉलेज के प्रिंसिपल डॉ. सुनील तनेजा ने बताया कि डीएचई की तरफ से कॉलेज के हर प्राध्यापक को 50 नंबर की लिस्ट प्राप्त हुई है। सभी प्राध्यापक उन नंबरों पर फोन करके उसकी डिटेल ऑनलाइन प्राप्त प्रफोर्मा भर कर विभाग को भेज रहे हैं। उन्होंने बताया कि प्राप्त लिस्ट में हरियाणा प्रदेश के विभिन्न ज़िलों के तहत आने वाले गांवों और शहरों में रहने वाले लोगों के नंबर हैं। जिला शिक्षा अधिकारी बलजीत कौर ने बताया कि जो भी उच्च शिक्षा विभाग की तरफ से दिशा निर्देश प्राप्त हो रहे हैं, उनके अनुसार कार्रवाई की जा रही है। उच्च शिक्षा विभाग द्वारा प्राप्त की मोबाइल नंबरों की लिस्ट पर प्राध्यापक फोन करके डाटा विभाग को मुहैया करा रहे हैं। उन्होंने बताया कि उन्हें फोन नंबरों की लिस्ट दी गई हैं। हर एक नंबर पर फोन करके परिवार के मुखिया से कुछ प्रश्न किए जा रहे हैं। ज्योतिबा फूले राजकीय कॉलेज रादौरी की प्राध्यापिका डॉक्टर रिंकू ने बताया कि कुछ लोग फोन उठाकर डिटेल देने से मना कर देते हैं, कहते हैं कि हम अपनी डिटेल ऐसे किसी को नहीं देंगें। उन्होंने कहा कि लोगों के इसी रवैये की वजह से उन्हें एक एक फ़ॉर्म भरने में समय लग रहा हैं। जिनको फोन करते हैं उनको पहले विश्वास में लेना पड़ता है तब जाकर वो जानकारी देने को तैयार होते है। ... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us