विज्ञापन
विज्ञापन
नवमी तिथि पर जरूर करें इन चीज़ों का सेवन, पूर्ण होती है समस्त कामनाएं
Navratri Special

नवमी तिथि पर जरूर करें इन चीज़ों का सेवन, पूर्ण होती है समस्त कामनाएं

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
Digital Edition

आलोक वर्मा बने हरियाणा लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष, राज्यपाल ने दिलाई शपथ

हरियाणा के राज्यपाल सत्यदेव नारायण आर्य ने शुक्रवार को सेवानिवृत्त आईएफएस अधिकारी आलोक वर्मा को हरियाणा लोक सेवा आयोग के अध्यक्ष के तौर पर शपथ दिलाई। यहां हरियाणा राजभवन में आयोजित शपथ ग्रहण समारोह में मुख्यमंत्री मनोहर लाल की उपस्थिति में वर्मा ने निष्ठा, पद एवं गोपनीयता की शपथ ली।

पूर्व अध्यक्ष आरके पचनंदा का कार्यकाल गुरुवार को ही पूरा हुआ। आलोक वर्मा को सीएम मनोहर लाल के करीबी होने का फायदा मिला। वह सीएम के एडीसी टूर के अलावा अन्य अहम विभागों का जिम्मा संभाल चुके हैं।
 
22 अक्टूबर 2020 से ही उन्होंने स्वैच्छिक सेवानिवृत्ति ली है। अभी उनकी चार साल की नौकरी शेष थी। वह 6 साल तक आयोग के चेयरमैन रहेंगे। आयोग चेयरमैन का कार्यकाल अधिकतम 6 साल या 62 वर्ष की आयु तक होता है।

शपथ ग्रहण के अवसर पर हरियाणा विधानसभा के अध्यक्ष ज्ञानचंद गुप्ता, शिक्षा मंत्री कंवर पाल, हरियाणा पर्यटन निगम के चेयरमैन एवं विधायक रणधीर सिंह गोलन, विधायक कमल गुप्ता, मुख्यमंत्री के मुख्य प्रधान सचिव डीएस ढेसी, मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल ओएसडी नीरज दफ्तुआर, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव वी. उमाशंकर, मुख्यमंत्री के अतिरिक्त प्रधान सचिव योगेंद्र चौधरी, पुलिस महानिदेशक मनोज यादव, महाधिवक्ता बलदेव राज महाजन, राज्यपाल के सलाहकार अखिलेश कुमार, हरियाणा प्रिंटिंग एवं स्टेशनरी विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव सुनील कुमार गुलाटी, सहकारिता विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव कौशल, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव पीके दास, लोक निर्माण (भवन एवं सड़कें) विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव आलोक निगम व नवनियुक्त अध्यक्ष आलोक वर्मा के परिवार के सदस्य उपस्थित रहे।
... और पढ़ें
आलोक वर्मा बने हरियाणा लोक सेवा आयोग के चेयरमैन। आलोक वर्मा बने हरियाणा लोक सेवा आयोग के चेयरमैन।

हाईकोर्ट हैरान, पूछा- मान-सम्मान के नाम पर अपनों की हत्या करने को कैसे तैयार हो सकते हैं लोग

बढ़ते ऑनर किलिंग के मामलों पर चिंता जताते हुए पंजाब-हरियाणा हाईकोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि कैसे मान सम्मान के नाम पर अंधे होकर लोग अपने बच्चों या उनके चुने साथी की ही हत्या के लिए तैयार हो जाते हैं। हाईकोर्ट ने साथ ही बाल विवाह कानून पर भी सवाल उठाया है और अब इस मामले को लेकर न्यायिक स्तर पर सुनवाई आरंभ होगी।

मामला मोहाली के एक प्रेमी जोड़े की सुरक्षा से जुड़ा हुआ था जिसमें लड़की की आयु विवाह योग्य नहीं थी। याचिका को जोड़े ने वापस ले लिया, लेकिन हाईकोर्ट ने इस तरह आ रही याचिकाओं पर चिंता जताई। हाईकोर्ट ने कहा कि अकसर देखने में आता है कि मान-सम्मान के नाम पर अंधे होकर जन्म देने वाले ही अलग जाति या धर्म में विवाह करने वाले बच्चों की हत्या तक कर देते हैं।

साथ ही हाईकोर्ट ने सवाल उठाया कि विवाह योग्य आयु पूरी न होने की स्थिति में लड़की को किसे सौंपना चाहिए। क्या उसे उसकी पसंद के लड़के के साथ जाने देना चाहिए या नारी निकेतन की तरह के संस्थान में भेज देना चाहिए या फिर उसके अभिभावकों के साथ भेजना चाहिए। 

हाईकोर्ट ने कहा कि प्रेमी जोड़ों की स्थिति में लड़की के अभिभावक लड़के के खिलाफ आपराधिक कार्रवाई के लिए शिकायत देते हैं और ऐसा करना उसे अपराधी बनाने की ओर लेकर जाता है और मस्तिष्क में गहरी चोट देता है। संविधान में विवाह करने को लेकर प्रावधान हैं, लेकिन यदि इन प्रावधानों के खिलाफ जाकर भी प्रेमी जोड़ा विवाह करता है तो मान-सम्मान के नाम पर उनकी हत्या की अनुमति नहीं दी जा सकती। 

हाईकोर्ट ने एक अन्य सवाल उठाते हुए कहा कि बाल विवाह अधिनियम के तहत यदि कम उम्र की लड़की से लड़का विवाह करता है तो उसके खिलाफ मुकदमा दर्ज होता है, लेकिन जब विवाह की न्यूनतम उम्र पार कर चुकी युवती किसी नाबालिग से विवाह करती है तो उसके खिलाफ कार्रवाई को लेकर अधिनियम मौन है।

हाईकोर्ट ने याचिका वापस लेने की छूट देते हुए इसका निपटारा कर दिया, लेकिन इसी बीच एडवोकेट लुविंदर सोफत ने कहा कि इस मामले में न्यायिक स्तर पर स्थिति को स्पष्ट करना जरूरी है, ऐसे में वह कोर्ट का सहयोग करना चाहते हैं। हाईकोर्ट ने उन्हें अर्जी दाखिल कर कोर्ट मित्र के तौर पर अदालत की सहायता करने की छूट दे दी।
... और पढ़ें

हरियाणा: सैन्य छावनियों के नाम पर ऑनलाइन ठगी कर रहे अपराधी, सेना की खुफिया विंग अलर्ट

ऑनलाइन ठगी के बढ़ते दौर में अपराधी सैन्य छावनियों के नाम पर भी ठगी करने से चूक नहीं रहे हैं। ये लोग खुद को विभिन्न सैन्य छावनियों का जवान व अफसर बताकर लोगों से ठगी कर रहे हैं। इस तरह कुछ मामले सामने आएं हैं जिसे लेकर न केवल सेना की खुफिया विंग अलर्ट हो गई है, बल्कि ऐसी शिकायतें सेना हाईकमान तक भी पहुंच रही हैं। इस पर सेना भी गंभीर है।

विभिन्न राज्यों में अपराधियों का ये गिरोह सक्रिय है और ऐसी वारदात हरियाणा में भी सामने आ चुकी हैं। अपराधियों ने हिसार आर्मी कैंट का नाम लेकर हजारों रुपये की ठगी की। इस तरह की घटनाओं को लेकर हरियाणा पुलिस भी सतर्क है, क्योंकि हरियाणा का ये मामला सिविल पुलिस के माध्यम से ही पकड़ में आया है। बताते चलें कि हरियाणा, पंजाब, हिमाचल व चंडीगढ़ में सेना की कई महत्वपूर्ण सैन्य छावनियां मौजूद हैं।

वैसे तो इन छावनियों की सुरक्षा चाक चौबंद हैं लेकिन ऑनलाइन ठगी करने वाले शातिर अपराधी लोगों को ठगने में इन सैन्य छावनियों के नाम का इस्तेमाल कर रहे हैं। ये ठग खुद को छावनियों का जवान बताकर विभिन्न तरीकों से ठगी करते हैं। इसके साथ-साथ ये लोग सैनिक स्कूलों में भी दाखिला करवाने के नाम पर भी लोगों से ठगी करने में पीछे नहीं हैं। 

इसके साथ-साथ विभिन्न माध्यमों से ये असामाजिक लोग सेना की छवि भी खराब करने की साजिशों में जुटे रहते हैं। इसी के मद्देनजर सेना की विशेष विंग भी सोशल मीडिया के विभिन्न प्लेटफार्मों के माध्यम से लोगों को ऐसे असामाजिक तत्वों की करतूतों से जागरूक करने में जुटी हुई है।
... और पढ़ें

नेहा गोयल: कैसे एक साधारण लड़की बनी हॉकी की असाधारण खिलाड़ी, प्रेरणादायक है पूरी कहानी

राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय फलक पर देश का नाम रोशन करने वाली हॉकी खिलाड़ी नेहा गोयल ने विपरीत परिस्थितियों के बाद भी कुछ अलग करने का जो सपना देखा उसे कड़ी मेहनत से साकार कर दिखाया है। बेहद सामान्य परिवार में जन्मी नेहा की मंजिल पाने की जिद ने उन्हें देश में अलग पहचान बनाने में मदद की। वह दूसरों के लिए प्रेरणा बन गई हैं।

सोनीपत के वेस्ट रामनगर में रहने वाली हॉकी खिलाड़ी नेहा गोयल एसएसआईआईडीसी के हॉकी मैदान के पास से गुजरती तो महिला खिलाड़ियों को रंग बिरंगी ड्रेस में अभ्यास करते हुए देखती थी। उनका सपना था कि वह भी हॉकी स्टिक लेकर मैदान में उतरे। एक दिन हॉकी कोच प्रीतम सिवाच की नजर उन पर पड़ी। जब प्रीतम से उनसे बातचीत की तो नेहा ने कहा कि उसे भी हॉकी पसंद है लेकिन उसके पास संसाधन नहीं हैं। यहां तक कि जूते भी नहीं है।

प्रीतम ने कहा था कि उसकी चिंता छोड़िए अगर मेहनत कर सकती हो तो मैदान में आ जाना। उसके बाद तो नेहा का जीवन ही बदल गया। वह राष्ट्रीय चैंपियनशिप में देश की सबसे प्रतिभावान खिलाड़ी बनी और दिल्ली में आयोजित अंतरराष्ट्रीय चैंपियनशिप में भी प्रतिभावान खिलाड़ी का अवार्ड जीता।
... और पढ़ें

कभी 100 मीटर भी नहीं चल पाती थीं अवनि नैन, अब पैरालंपिक में जीत चुकीं हैं स्वर्ण पदक

नेहा गोयल।
एक समय था जब एक विशेष सिंड्रोम के कारण अवनि नैन 100 मीटर तक भी नहीं चल पाती थीं। हालात और समय के साथ अवनि ने अपने सपने बदले और खुद को मजबूती से तैयार किया। अवनि ने इसी वर्ष फरवरी में नेशनल पैरालंपिक की 200 मीटर दौड़ में स्वर्ण पदक जीता।

अवनि अब फरवरी-मार्च में बहरीन में होने वाली अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता का लक्ष्य लेकर तैयारी में जुटी हुई हैं। अवनि के पिता कुलबीर नैन शिक्षा विभाग में कार्यरत हैं, जबकि मां गृहिणी हैं। हर शाम मां पूनम ही अवनि को मैदान में अभ्यास के लिए लेकर जाती हैं।

स्कूलों ने दाखिला देने से कर दिया था इनकार
अवनि के पिता कुलबीर बताते हैं कि अवनि को सेरिब्रल पैल्सि पलसी सिंड्रोम नामक बीमारी है। इसमें शरीर का बैलेंस नहीं बन पाता और पूरे शरीर में कंपन होता है। ऐसे में एक समय था जब अवनि को स्कूल संचालकों ने दाखिला देने से भी इनकार कर दिया था। हाथ में कंपन रहने के कारण वह लिख भी नहीं पाती थीं। बाद में होली एंजल स्कूल ने दाखिला दिया। फिलहाल 12 वर्षीय अवनि 7वीं कक्षा में पढ़ती हैं।

एकता भ्याण ने जगाया था जज्बा
अवनि कहती हैं कि वह एकता भ्याण से मिली तो उन्होंने कहा था कि वह खेलों के क्षेत्र में बहुत कुछ कर सकती हैं। कोई भी इवेंट चुनें और उसके लिए अभ्यास शुरू करें। इससे उसमें कुछ कर गुजरने का जज्बा जगा और अभ्यास के लिए मैदान में जाने लगी।
 
इस वर्ष फरवरी में जब छत्तीसगढ़ में हुए राष्ट्रीय पैरालंपिक गेम में हिस्सा लेने पहुंचीं तो उसे यकीन नहीं था कि वह 100 और 200 मीटर इवेंट में स्वर्ण पदक जीत लेगी। अवनि ने कहा कि अब वह खेल में ही अपना कॅरिअर बनाएगी और इसके लिए खूब मेहनत करेगी। अवनि के पिता कहते हैं कि एकता भ्याण से मिलने के बाद उनकी बेटी का नजरिया ही बदल गया है। एकता उसकी बहुत मदद करती हैं।
... और पढ़ें

रोहतक : 20 लाख रुपये के लेनदेन में पहलवान से मारपीट फिर जहर देकर हत्या

बुधवार को किराये के कमरे में संदिग्ध हालात में मृत मिले पहलवान की मौत के मामले में नया मोड़ आ गया है। बीस लाख रुपये के लेनदेन के विवाद में पहलवान की मारपीट कर और जहर देकर हत्या की गई थी।

मृतक के परिजनों ने हिंद केसरी अखाड़ा के संचालक व उसके दो बेटों समेत पांच लोगों पर हत्या का केस दर्ज कराया है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराने के बाद शव परिजनों के सुपुर्द कर दिया। आरोपियों की तलाश की जा रही है।

शिवाजी कॉलोनी थाना पुलिस को दी शिकायत में सूरजमल ने बताया कि वह गांव रिटौली का रहने वाला है। वे तीन भाई हैं। जिसमें सबसे छोटा भाई शिवकुमार (25) था। वह न्यू जनता कॉलोनी स्थित सुरेश पहलवान के हिंद केसरी अखाड़ा में अभ्यास करता था। शिवकुमार राष्ट्रीय स्तर का खिलाड़ी भी था।
... और पढ़ें

एक्सक्लूसिव: हरियाणा की माटी में जन्मी अंबाला की रिया अब बेंगलुरु में तैयार कर रही बॉक्सरों की फौज

हरियाणा में 14 की मौत, 1128 नए पॉजिटिव, पंजाब में 12 की मौत, 617 नए मामले

हरियाणा में गुरुवार को कोरोना से 14 और मरीजों की मौत हो गई है, जबकि 1128 नए केस सामने आए हैं। 1292 मरीज ठीक होकर घर चले गए हैं। गुरुग्राम में एक, सोनीपत में दो, अंबाला में एक, हिसार में तीन, झज्जर में एक, भिवानी में एक, कुरुक्षेत्र में एक, यमुनानगर में दो, फतेहाबाद में एक व जींद में एक मरीज ने दम तोड़ दिया है, जबकि 205 मरीजों की हालत नाजुक है। 45 दिन में मरीज दोगुने हो रहे हैं।

हरियाणा में अब कुल संक्रमित मरीजों की संख्या 154495 हो गई है, जिसमें 142798 मरीज ठीक हो गए हैं। 10009 मरीज अभी भी वायरस से ग्रस्त हैं। रिकवरी रेट 92.43 प्रतिशत है। संक्रमण की दर 6.31 प्रतिशत है। संक्रमण से मृत्यु दर 1.09 प्रतिशत है। प्रदेश में स्वास्थ्य महकमे ने 182046 मरीजों को मेडिकल सर्विलांस के दायरे में रखा है। 5632 संदिग्ध मरीजों की सैंपल रिपोर्ट का इंतजार है। प्रदेश में अब तक इस संक्रमण से कुल 1688 मरीज दम तोड़ चुके हैं।

हरियाणा में पिछले 24 घंटे में फरीदाबाद में 199, गुरुग्राम में 324, सोनीपत में 51, रेवाड़ी में 65, अंबाला में 23, रोहतक में 30, पानीपत में 11,  करनाल में 28, हिसार में 137, पलवल में 46, पंचकूला में 22, महेंद्रगढ़ में 39, झज्जर में 27, भिवानी में 34, कुरुक्षेत्र में 18, नूंह में 8, सिरसा में 21, यमुनानगर में 11, फतेहाबाद में 11, कैथल में 4, जींद में 10 व चरखी दादरी में 9 नए मरीज सामने आए हैं।
... और पढ़ें
Election
  • Downloads

Follow Us

विज्ञापन
X

प्रिय पाठक

कृपया अमर उजाला प्लस के अनुभव को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।
डेली पॉडकास्ट सुनने के लिए सब्सक्राइब करें

क्लिप सुनें

00:00
00:00
X