विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

पंजाब से पैदल ही पहुंच गए 400 से अधिक लोग, डीसी ने बसों में भेजा घर

पंजाब सीमा से सटे जिले के बैरियरों से सैकड़ों लोग पैदल ही अपने घर पहुंच रहे हैं। रविवार को मैहतपुर, पंडोगा एवं गगरेट बैरियर से करीब 470 हिमाचली पैदल ऊना पहुंचे।

30 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

चम्बा

सोमवार, 30 मार्च 2020

चंबा में फंसे लोगों को होटल और होमस्टे में रहने की मिली रियायत

चंबा। कर्फ्यू के दौरान चंबा में फंसे बाहरी राज्यों और क्षेत्रों के लोगों और विद्यार्थियों को प्रशासन ने होटलों और होमस्टे में रहने की रियायत दे दी है। लोगों को खाने और रहने संबंधित परेशानियों को देखते हुए प्रशासन ने यह फैसला लिया है। सर्किट हाउस चंबा में आयोजित प्रेस वार्ता में जिलाधीश चंबा विवेक भाटिया ने ये बात कही।
उन्होंने कहा कि बाजारों से लोगों की भीड़ कम करने के लिए होम डिलीवरी को शहर चंबा में बढ़ावा दिया गया है। इसके तहत वीरवार सुबह से ही इस सेवा को आरंभ करवा दिया गया है। होम डिलीवरी की सर्विस सुबह सात बजे लेकर रात नौ बजे तक रहेगी।
होम डिलीवरी का काम करने वाले कर्मचारी दोपहिया वाहनों में पेट्रोल भरवाने के लिए किसी भी समय जा सकते हैं। इसके अलावा अन्य लोगों को महज कर्फ्यू के दौरान ही दी जाने वाली ढील के तहत 11 बजे से लेकर दो बजे तक पेट्रोल और डीजल भरवाने की अनुमति रहेगी।
विवेक भाटिया ने कहा कि कर्फ्यू को लेकर जारी की गई अधिसूचना में साफ तौर पर कहा गया है कि स्वास्थ्य संबंधी छूट देते हुए दवाई की दुकानें 24 घंटे खुली रहेेंगी। इससे अस्पतालों और स्वास्थ्य संस्थानों में उपचाराधीन मरीजों को समय पर दवाइयां मिल सके।
पुलिस, स्वास्थ्य और मीडिया को छूट
उन्होंने कहा कि कर्फ्यू के दौरान केवल मात्र मैजिस्ट्रेट ड्यूटी, पुलिस जवानों, गृह रक्षकों, स्वास्थ्य, अग्निशमन विभाग, बिजली, जलशक्ति विभाग, दूर संचार, प्रिंट, इलेेक्ट्रॉनिक मीडिया के प्रतिनिधियों को ही आने-जाने की छूट दी गई है। कोरोना वायरस की दहशत को देखते हुए जिले में लगाए गए कर्फ्यू में लोगों और कर्फ्यू के दौरान दी जाने वाली ढील के दौरान भी 60 वर्ष से अधिक उम्र के बुजुर्गों को घरों में रहने की हिदायत दी गई है।
इन आदेशों की अवहेलना करने वालों के खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई की जा सकती है। उन्होंने कहा कि अन्य लोगों की जरूरतों और सहूलियत को देखते हुए सब्जी, खाद्य सामग्री और दवाइयों की दुकानों में खरीदारी करने के लिए जिले में एक दिन छोड़कर सुबह 11 बजे से 2 बजे तक ढील दी गई है। कोरोना वायरस को लेकर लोगों में जागरूकता आएगी, तब जाकर ही संक्रमण को खत्म किया जा सकता है।
उन्होंने कहा कि डब्लयूएचओ ने भी कोरोना वायरस को महामारी घोषित किया है। ऐसे में जिले के हर व्यक्ति का कर्तव्य बनता है कि जिला प्रशासन के आदेशों की अनुपालना करते हुए घरों में रहें, सैनिटाइजर से बार-बार हाथ धोते रहें। इससे इस संक्रमण को उत्पन्न होने से रोका जा सकता है।
... और पढ़ें

चंबा में राशन की होम डिलीवरी करवाने की प्रशासन ने की व्यवस्था

चंबा। शहर के लोगों को अब बाजार जाकर दूध, ब्रेड और अन्य जरूरी सामान नहीं खरीदना होगा। इसके लिए लोग अब सिर्फ एक नंबर पर फोन घुमाकर घर पर ही सामान मंगवा सकते हैं। जिला प्रशासन ने सामाजिक दूरी को कायम रखने के लिए यह पहले शुरू की है। इसके बाकायदा कारोबारियों के नंबर जारी किए हैं। होम डिलीवरी की सुविधा सुबह नौ बजे से लेकर शाम सात बजे तक रहेगी।
इसके लिए शहर के बड़े दुकानदारों से प्रशासन ने वार्ता भी कर ली है। प्रशासन की ओर से दुकानदार का मोबाइल नंबर, दुकान का नाम और डिलीवरी करने वाले कर्मचारी का नाम सहित फोन नंबर सोशल मीडिया और समाचार पत्रों के माध्यम से सार्वजनिक किए गए हैं।
लोग इन नंबरों पर फोन करके आवश्यकता अनुसार घर पर बैठकर ही राशन मंगवा सकते हैं। उन्हें राशन लेने के लिए घर से बाहर निकलने की भी आवश्यकता नहीं पड़ेगी। प्रशासन की ओर से ऐसा इसलिए किया गया है कि ताकि लोग सामाजिक दूरी की पालना कर सकें।
दुकानों में राशन लेने के लिए लोगों को लाइनों में या भीड़ में खड़े होना पड़ता है, इससे सामाजिक दूरी खत्म हो रही है। साथ ही संक्रमण का खतरा बना रहता है। प्रशासन की ओर से सभी लोगों से अनुरोध किया गया है कि वे दुकानदारों के नंबरों पर फोन करके घर पर ही राशन मंगवाएं। इससे वह कोरोना संक्रमण से भी बचे रहेंगे। और उन्हें परिवार का पेट भरने के लिए घर पर ही राशन मुहैया हो जाएगा। होम डिलीवरी की सुविधा सुबह नौ बजे से लेकर शाम सात बजे तक रहेगी।
इन नंबरों पर फोन करके मंगवाए राशन
घर पर राशन मुहैया करवाने वाले दुकानदारों में अनूप महाजन (9736903210),सपड़ी, ओम प्रकाश छाबड़ा (9418042245) हरदासपुरा, इजी डे क्लब मुगला (7304507110) मुगला क्षेत्र, हरदीप सिंह (7832053465) सुल्तानपुर, पंचम महाजन (9882078001) चंबा बाजार, राकेश महाजन (9418001919) और वीरेंद्र महान (9418063929) डोगरा बाजार चंबा के नंबरों पर फोन करके सामान मंगवा सकते हैं।
इनसेट
कोई अन्य दुकानदार भी होम डिलीवरी के तहत लोगों को घर-द्वार राशन पहुंचाने की हामी भरता है तो इसके लिए वह एसडीएम से संपर्क साध सकता है। इसके अलावा होम डिलीवरी करने वाले कर्मचारी और उसके वाहन को कर्फ्यू के दौरान आवाजाही करने की अनुमति होगी। जिससे पूर्व उसे अपने वाहन व स्वयं संबंधी प्रमाण पत्र एसडीएम कार्यालय में जमा करवाने होंगे। साथ ही डिलीवरी कर्मचारी का स्वास्थ्य जांच अनिवार्य रहेगी।
होम डिलीवरी करने वालों की भी होगी चेकिंग
होम डिलीवरी करने वाले कर्मचारियों व सामान की नियमित रूप से चेकिंग होती रहेगी। चेकिंग के दौरान यदि उससे कुछ संदिग्ध वस्तु पाई जाती है तो उस डिलीवरी कर्मचारी सहित उस फर्म या दुकान के मालिक के खिलाफ भी नियमानुसार कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
जिला प्रशासन होम डिलीवरी के लिए जल्द ही सेक्टरों को भी बांट सकता है। जिसके तहत विभिन्न मोहल्लों में एक दुकानदार या फर्म तथा दूसरे सेक्टर में एक दुकान व फर्म द्वारा होम डिलीवरी के तहत खाद्य सामग्री पहुंचाई जाएगी।
एसडीएम चंबा शिवम प्रताप सिंह ने बताया कि लोगों को घर पर राशन की डिलीवरी करने के लिए बड़े दुकानदारों से संपर्क साध कर यह सुविधा शुरू की गई है। ताकि लोग सड़कों पर निकलने की बजाए घर पर ही राशन मंगवा सकें।
जिलाधीश विवेक भाटिया ने बताया कि कोरोना वायरस के संक्रमण के खतरे को देखते हुए लोगों को घरों में ही सभी जरूरत का सामान मिले सके इसके लिए होम डिलीवरी करवाने का फैसला लिया गया है। होम डिलीवरी करने के लिए पहले चरण में सात दुकानदारों को परमिशन दी गई है।
... और पढ़ें

चंबा मेडिकल कॉलेज से रेफर की जा रही गर्भवति महिलाएं

चंबा। पंडित जवाहर लाल नेहरू मेडिकल कॉलेज चंबा में गर्भवती महिलाओं को टांडा मेडिकल कॉलेज रेफर किया जा रहा है। मेडिकल कॉलेज में तैनात महिला विशेषज्ञ लंबी छुट्टी पर चले गए हैं।
उनके स्थान पर अभी तक कोई वैकल्पिक व्यवस्था नहीं हो पाई है। प्रदेश सरकार को चंबा मेडिकल कॉलेज में महिला विशेषज्ञ भेजने के लिए प्रबंधन दर्जनों बार चिट्ठी भेज चुका है। लेकिन, आज उन चिट्ठियों पर कोई गौर नहीं फरमाया गया।
इसके चलते आज चंबा मेडिकल कॉलेज में यह हालात बन चुके हैं कि कोई भी गर्भवती महिला प्रसव के लिए मेडिकल कॉलेज पहुंचती है, तो उसे दाई और स्टाफ नर्सें प्रसव करवाने का प्रयास करती हैं। जब प्रसव करवाना इनके बस में नहीं होता तो गर्भवती को टांडा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया जाता है। यह सिलसिला चंबा में कई दिनों से चल रहा है।
बुधवार शाम को किहार से एक गर्भवती को प्रसव के लिए चंबा मेडिकल कॉलेज लाया गया। रात आठ बजे तक गर्भवती अस्पताल में कराहती रही। लेकिन, महिला विशेषज्ञ न होने से अस्पताल में उसका प्रसव नहीं हो पाया। इसके चलते गर्भवती को टांडा मेडिकल कॉलेज रेफर कर दिया गया।
परिजन गर्भवती को टांडा ले जाने की बजाए चंबा में संचालित एक निजी अस्पताल में ले गए। यहां पर रात को महिला का सामान्य प्रसव करवाया गया। चंबा मेडिकल कॉलेज के प्रति केंद्र और प्रदेश सरकार की अनदेखी को लेकर जिले के लोगों में भारी रोष पनप रहा है।
लोगों का कहना है कि सरकार को मेडिकल कॉलेज में आवश्यकता अनुसार विशेषज्ञों की तैनाती करनी चाहिए। मगर चंबा मेडिकल कॉलेज में सरकार विशेषज्ञों की तैनाती करने में खासा दिलचस्पी नहीं दिखा रही है।
मेडिकल कॉलेज प्राचार्य डॉक्टर पुरुषोत्तम पुरी ने बताया कि महिला विशेषज्ञ की तैनाती को लकर सरकार को चिट्ठी भेजी गई है। जल्द ही मेडिकल कॉलेज चंबा में महिला विशेषज्ञों की तैनाती होने की उम्मीद है।
... और पढ़ें

सोशल मीडिया पर झूठी अफवाह फैलाकर पैदा किया जा रहा दहशत का माहौल

चंबा। चंबा में कोरोना को लेकर सोशल मीडिया पर झूठी अफवाहें फैलाई जा रही है। इसके चलते लोगों में दहशत का माहौल है। इसको देखते हुए प्रशासन झूठी अफवाह फैलाने वाले लोगों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करेगा। रविवार दोपहर के समय व्हाटसऐप ग्रुप पर चंबा मेडिकल कॉलेज की फोटो डालकर अफवाह फैला दी कि अस्पताल में कोरोना का संदिग्ध मरीज लाया गया है। इसलिए कोई भी लोग घरों से बाहर न निकलें।
यह पोस्ट चुराह के सोशल ग्रुप में वायरल हुई। अफवाह इतनी तेजी से वायरल हुई कि देखते ही देखते पूरे जिले में फैल गई। इससे लोगों में दहशत का माहौल बन गया। इसके चलते मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ. राजेश गुलेरी को सोशल मीडिया पर मेसेज डालना पड़ा कि मेडिकल कॉलेज में कोरोना का कोई संदिग्ध मरीज नहीं आया है। इससे पहले भी सोशल मीडिया पर कोरोना को लेकर भ्रामक अफवाहें फैलाई जा चुकी हैं।
उपायुक्त विवेक भाटिया ने बताया कि उनके ध्यान में झूठी अफवाह फैलाने का मामला आया है। इसका पता लगाया जा रहा है कि कौन सोशल मीडिया पर झूठी अफवाह फैला रहे हैं। ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई अमल में लाई जाएगी।
... और पढ़ें

कर्फ्यू के दौरान जुआ खेलने पर धारा 144 की अवहेला का दर्ज होगा केस

चंबा। कर्फ्यू के दौरान अगर लोग जुआ खेलते हुए पकड़े गए तो उनके खिलाफ प्रशासन कड़ी कार्रवाई करेगा। इसके लिए डीसी चंबा विवेक भाटिया ने फरमान जारी कर दिए हैं। उन्होंने कहा कि अगर लोग ताश खेलते मिलते हैं तो प्रत्येक व्यक्ति को 1000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा और जो लोग तमाशा देखने वाले होंगे, उन्हें 2000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा जिस मकान में जुआ खेला जा रहा होगा, उसके मालिक को पांच हजार रुपये का जुर्माना ठोका जाएगा।
अगर किसी निजी जगहों या किसी सरकारी जगहों पर लोगों जुआ खेलते मिलते हैं, तो सरपंच को 10000 रुपए का जुर्माना लगाया जाएगा। इसके अलावा जुआ खेलते पकड़े जाने वाले लोगों के खिलाफ पुलिस धारा 144 का उल्लंघन करने का मामला भी दर्ज करेगी। इसमें आरोपियों को 3 महीने की सजा हो सकती हैं।
उपायुक्त ने सभी लोगों को सचेत किया है कि वे कानून की पालना करें। कर्फ्यू के दौरान कोई भी ऐसी गतिविधि न करें, जिससे स्थिति ज्यादा बिगड़ जाए। सचेत करने के बाद भी जो लोग आदेशों की अवहेलना करेंगे, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।
... और पढ़ें

जिले में प्रशासन ऑन लाइन बनागा गाड़ियों के पास

चंबा। जिले में अब राशन, सब्जी और दूध की आपूर्ति करने वाली गाड़ियों के पास ऑनलाइन बनाए जाएंगे। इसके लिए आवेदक प्रशासन के जारी व्हाट्सएप नंबर और ई-मेल के जरिये आवेदन कर सकते हैं। जिला प्रशासन ने बाकायदा प्रशासनिक कार्यालयों में कर्मचारियों के नाम, मोबाइल नंबर और प्रशासनिक ई-मेल आईडी सोशल मीडिया और अखबारों के माध्यम से जारी कर दिए हैं। इस सुविधा के बाद अब लोगों को गाड़ियों के पास बनाने के लिए प्रशासनिक कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।
जिले में कर्फ्यू के बाद लोगों को दी जाने वाली ढील के दौरान लोगों की बढ़ रही भीड़ और लोगों की सहूलियत के लिए दैनिक उपयोग की वस्तुओं को लाने ले जाने के लिए प्रशासन ने गाड़ियों को पास मुहैया करवाएगा। गाड़ियों के पास बनवाने के लिए लोगों को प्रशासनिक कार्यालयों में पहुंचना पड़ रहा है। लोगों की सहूलियत को मद्देनजर रखते हुए प्रशासन ने ऑनलाइन गाड़ियों के पास देने की व्यवस्था को शुरू किया है।
इसके तहत जिला मुख्यालय चंबा सहित सभी उपमंडल प्रशासनिक कार्यालयों में कार्यरत कर्मचारियों के नाम, मोबाइल नंबर और प्रशासनिक ई-मेल आईडी भी जारी की है। इसके तहत गाड़ी का पास बनवाने वाले आवेदक ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। इससे लोगों को व्यर्थ में प्रशासनिक कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे।
यह रहेगी व्यवस्था
जिलाधीश कार्यालय में तिलक कुमार 94184 25614 [email protected], एसपी आफिस में सन्नी कुमार 98167 90918 [email protected], एसडीएम ऑफिस चंबा में जगदीप 94181 92467 [email protected], एसडीएम ऑफिस भरमौर में मारुत बक्शी 98169 10043 [email protected], एसडीएम ऑफिस भटियात में अशोक सुपरीडेंट 94185 12399 [email protected], एसडीम ऑफिस डलहौजी में अरुण कुमार 97363 00065 [email protected], एसडीएम ऑफिस तीसा में सन्नी कुमार 88942 [email protected], एसडीएम ऑफिस सलूणी में अंकित चौहान 94180 62049-sdm-sal-cha- [email protected] कर्मचारी मोबाइल नंबर और ई-मेल आईडी जारी की गई है।
जिलाधीश चंबा विवेक भाटिया ने कहा कि कर्फ्यू के दौरान लोगों को सहूलियत देने के चलते प्रशासन ने खाद्य सामग्री, सब्जी और दूध की आपूर्ति करने वाले लोगों को रियायत देते हुए गाड़ियों के पास बनाने के लिए लोगों को प्रशासनिक कार्यालयों के चक्कर नहीं काटने पड़ेंगे। लोगों की जरूरत को देखते हुए इच्छुक आवेदक व्हाट्सएप नंबर और ई-मेल के जरिये भी गाड़ियों के पास के लिए संपर्क कर सकते हैं। इसके तहत भी उन्हें स्वीकृति प्रदान की जाएगी। उन्होंने लोगों से कोरोना वायरस के चलते घरों में ही रहने का आग्रह किया है।
... और पढ़ें

दो दुकानों से एलसीडी, सीसीटीवी और नल ले उड़े शातिर

मंगला (चंबा)। शहर के समीप स्थित मंगला बाजार में दो दुकानों में चोरी का मामला सामने आया है। इस वारदात को अज्ञात चोरों ने शुक्रवार रात को अंजाम दिया। एक दुकान के शौचालय में लगे नलों और दूसरी दुकान में लगे सीसीटीवी कैमरे, एलसीडी, कैश सहित अन्य चीजों पर हाथ साफ किया है। दुकान मालिकों ने शनिवार सुबह पुलिस चौकी सुल्तानपुर को सूचना दी।
प्राप्त जानकारी के अनुसार मंगला बाजार में कर्फ्यू के चलते दुकानें बंद हैं। शुक्रवार रात को अज्ञात चोरों ने ज्ञान चंद और विबेंद्र कुुमार निवासी मंगला की दुकान में चोरी की वारदात को अंजाम दिया। दुकानदारों को इसका पता तब लगा जब दुकान के ताले टूटे हुए पाए। चोरी की सूचना पुलिस चौकी सुल्तानपुर में दी। पुलिस ने दुकानदारों के बयान कलमबद किए। दुकानदारों ने पुलिस प्रशासन से मांग की है कि जल्द आरोपियों को पकड़ा जाए।
पुलिस अधीक्षक चंबा डॉ. मोनिका ने बताया कि इस बारे जानकारी मिली थी। पुलिस ने जांच शुरू कर दी है।
... और पढ़ें

ग्रामीण क्षेत्रों के लोग कर्फ्यू में भी बेच सकते है दूध और सब्जियां

चंबा। जिले में दूध और सब्जियों की किल्लत न हो, इसके लिए जिला प्रशासन ने दूध विक्रेताओं और ग्रामीण क्षेत्रों के सब्जियां बेचने वाले लोगों को रियायत दी है। बशर्ते, दूध विक्रेताओं और हरी सब्जी बेचने के लिए शहर में आने वाले लोगों को एसडीएम चंबा से एक अनुमति पत्र लेना होगा। अनुमति पत्र लेने के बाद दूध विक्रेताओं और सब्जी बेचने के लिए आने वाले लोगों को कर्फ्यू के दौरान कोई भी बेवजह तंग नहीं करेगा। ये अनुमति पत्र उनके लिए आईकार्ड की तरह ही काम आएगा।
कर्फ्यू के दौरान लोगों के घरों से बाहर निकलने पर पूर्ण प्रतिबंध है। प्रशासनिक आदेशों की अवहेलना करने पर बाकायदा कानूनी कार्रवाई करते हुए व्यक्ति के खिलाफ मुकदमा दर्ज करने और उसे गिरफ्तार तक करने का प्रावधान है। ऐसे में शहर के लोगों की जरूरतों को देखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले दूध और सब्जी विक्रेताओं को प्रशासन द्वारा कुछ हद तक रियायत देने का निर्णय लिया गया है। ग्रामीण क्षेत्रों से दूध और सब्जी बेचने के लिए आने वाले लोगों को एसडीएम से एक अनुमति पत्र लेना होगा। इसमें नाम, मोबाइल नंबर, घर का पता और वाहन नंबर पंजीकृत होंगे। अनुमति पत्र मिलने के बाद यह विक्रेता रोजमर्रा की तरह ही अपने कार्य को कर सकते हैं।
लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए प्रशासन ने दैनिक उपयोग की वस्तुओं और दवाइयों के लिए होम डिलीवरी की सेवा भी शुरू की गई है। अब प्रशासन ने ग्रामीण क्षेत्रों से दूध और सब्जियां बेचने के लिए आने वाले लोगों को कुछ रियायत दी गई है। बशर्ते उन्हें संबंधित एसडीएम से इस बाबत अनुमति प्रमाण पत्र लेना होगा।
जिलाधीश चंबा विवेक भाटिया ने कहा कि लोगों की जरूरतों को ध्यान में रखते हुए ग्रामीण क्षेत्रों से आने वाले दूध और सब्जी विक्रेेताओं को रियायत दी गई है। इससे पूर्व उन्हें संबंधित क्षेत्रों के एसडीएम से एक अनुमति प्रमाण पत्र लेना होगा। इसके बाद ही वे अपने कार्य को रूटीन की तरह चालू रख सकते हैं।
... और पढ़ें

चंबा-पठानकोट हाईवे पर दो घंटे थमे वाहनों के पहिये

बनीखेत (चंबा)। चंबा-पठानकोट हाईवे भारी बारिश के कारण शनिवार सुबह बाधित रहा। इसके चलते लोगों को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ा। बौंखरी मोड़ और गोली के बीच जगह-जगह पहाड़ी से मलबा गिरा। इस कारण यातायात व्यवस्था ठप रहा। मार्ग बंद होने की वजह से रोजमर्रा की वस्तुओं की गाड़ियां देरी से जिला मुख्यालय पहुंची। सूचना मिलते ही एनएच प्राधिकरण चंबा की मशीनरी मौके पर पहुंची और कड़ी मशक्कत के बाद हाईवे को वाहनों की आवाजाही के लिए बहाल किया।
शुक्रवार रात भर जिले में मूसलाधार बारिश हुई। इसके चलते हाईवे पर जगह-जगह भूस्खलन हुआ। वाहन चालकों रमेश कुमार, सुनील कुमार, देवी चंद, राजेश कुमार का कहना है कि हाईवे पर कई स्थान ऐसे है जहां बारिश होने के बाद मलबा सड़क पर आ गिरता है और वाहनों की आवाजाही थम जाती है। उन्होंने सरकार से मांग की है कि इन स्थानों पर व्यवस्था मजबूत की जाए। ताकि पहाड़ी से गिरने वाले मलबे से किसी वाहन को नुकसान न हो।
राष्ट्रीय उच्च मार्ग प्राधिकरण के सहायक अभियंता कनव बढ़ोत्रा ने बताया कि इस बारे में सूचना मिली थी। मार्ग को बहाल कर दिया गया। जगह-जगह मलबा गिरा था। इस कारण कुछ समय तक यातायात प्रभावित हुआ।
... और पढ़ें

तस्वीरें: मार्च में भी नहीं थम रही बर्फबारी, किसानों-बागवानों को सताने लगी चिंता

भूस्खलन से भरमौर-पठानकोट एनएच पर यातायात रहा ठप

चंबा। मूसलाधार बारिश के कारण भरमौर पठानकोट एनएच विभिन्न जगहों पर भूस्खलन और पेड़ों के गिरने से यातायात ठप रहा। भारी बारिश से करीब एक दर्जन मार्ग भी अवरुद्ध हो गए। एनएच भरमौर-पठानकोट पांच घंटों तक आवाजाही के लिए बंद रहा। ऐसे में पेट्रोलिंग पर तैनात पुलिस जवानों, दूध सब्जियां बेचने के लिए आने वाले लोगों और दोपहर के समय बाजार खोलने पर सामान लेने के लिए आने वाले लोगों की दिक्कतें काफी बढ़ गईं।
सूचना मिलने के बाद एनएच मंडल चंबा और लोक निर्माण विभाग की मशीनरी और लेबर मार्गों को बहाल करने के लिए जुट गई। कोरोना वायरस की दहशत के साथ अब मौसम के बिगड़े मिजाज ने लोगों की परेशानियों को बढ़ा दिया है। शनिवार सुबह चंबा-पठानकोट एनएच परेल, उदयपुर, द्रड्डा, कांदू के पास, केरु पहाड़ के नजदीक भूस्खलन और पेड़ों के गिरने से आवाजाही के लिए बंद हो गया। सुबह करीब दस बजे तक एनएच नहीं खुलने से दैनिक उपयोग की वस्तुएं दूध, अंडा, ब्रेड, सब्जियां, अखबार लेकर चंबा आ रहे वाहन, एंबुलेंस, पेट्रोलिंग पर तैनात जवानों की गाड़ियां फंस गईं। सूचना मिलने पर एनएच मंडल चंबा की ओर से बनीखेत और चंबा की तरफ से जेसीबी मशीन और ऑपरेटरों को मार्ग बहाल करने के लिए भेजा गया। बनीखेत की ओर से केरु पहाड़ के पास पड़े मलबे और पत्थरों को हटाकर मार्ग सुचारु किया गया। मशीनरी देवी देहरा के पास गिरे मलबे को हटाने के लिए रवाना हुई। वहीं, दूसरी ओर चंबा से मशीनरी परेलघार में गिरे मलबे को हटाकर आगे बढ़ी ही थी कि अचानक फिर भूस्खलन होने से मार्ग बंद पड़ गया। मशीन ऑपरेटर ने दोबारा मार्ग को खोलने का कार्य शुरू किया। करीब आधा घंटे की मशक्कत के बाद रास्ता खुला। इसके बाद तडोली, उदयपुर, चनेड़, सरू और कांदू के पास हुए भूस्खलन और सड़क पर गिरे पेड़ों को हटाते हुए आगे की ओर रवाना हुए। सुबह करीब साढ़े दस बजे कड़ी मशक्कत के बाद बंद पड़े मार्गों को यातायात के लिए बहाल किया गया।
भरमौर-पठानकोट एनएच मैहला, खड़ामुख, लाहल धांक, त्रिलोचन महादेव मंदिर के पास भी भूस्खलन के कारण बंद हो गया। जिसे एनएच मंडल की मशीनरी ने बहाल किया।
अधिशासी अभियंता राजिंद्र शेखरी ने बताया कि मूसलाधार बारिश के चलते चंबा-पठानकोट एनएच जगह-जगह भूस्खलन और पेड़ गिरने से बंद हो गया था। एनएच को यातायात के लिए बहाल कर दिया गया है।
... और पढ़ें

कर्फ्यू के चौथे दिन बाजार में नहीं दिखी भीड़

चंबा। कर्फ्यू का चौथा दिन, समय सुबह सात बजे, बाजार में सब्जी, राशन व दवाई की दुकानें खुलना शुरू हो गईं। खाद्य, दवाई और सब्जी की दुकानें खुल गईं। इस दौरान पुलिस बल पूरे बाजार में भीड़ को नियंत्रित करने के लिए मौजूद रहा। लोगों ने समझदारी दिखाते हुए भीड़ में न आकर बारी-बारी जाकर बाजार में खरीदारी की। इसके चलते चंबा शहर के मुख्य बाजार में लोगों की भीड़ देखने को नहीं मिली। इसके अलावा प्रशासन की ओर से बाजार में लोगों के चलने के लिए अलग से रास्ता बनाया गया। सड़क किनारे ट्रैफिक बैरिकेड लगाकर लोगों की आवाजाही के लिए रास्ता बनाया गया। दुकानों के बाहर भी इस तरह की व्यवस्था की गई। पुलिस के जवान लोगों को वन-वे के बारे में समझाते हुए दिखाई दिए। हालांकि वीरवार को तीसरे दिन जब बाजार में दुकानें खुली थीं तो बाजार में अफरा-तफरी का माहौल बन गया था। प्रशासन व पुलिस अधिकारी चाहकर भी लोगों की भीड़ को कम नहीं कर पाए थे। इसके चलते प्रशासन ने बाजार में ट्रैफिक बैरिकेड लगाकर लोगों के चलने का रास्ता तैयार करवाया। इसके अलावा दुकानों के बाहर भी लोगों के खड़े होने की व्यवस्था करवाई गई।
शहर के अलावा बनीखेत, डलहौजी, भरमौर, भटियात, चुराह में दुकानों के बाहर लोग सामाजिक दूरी पर खड़े होकर सामान खरीदते हुए नजर आए। वीरवार की अपेक्षा उपमंडल स्तर व ग्रामीण स्तर की दवाई, खाद्य और सब्जी की दुकानों में भीड़ नहीं जुटी। इक्का-दुक्का लोग खरीदारी करने के लिए दुकानों पर पहुंचें। व्यवस्था को कायम रखने के लिए पुलिस जवान भी तैनात रहे। साथ ही लोगों को उचित दिशा-निर्देश भी देते रहे। वहीं व्यवस्था का जायजा लेने के लिए प्रशासनिक अधिकारी भी बाजार में घूमते नजर आए।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us