विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा
Astrology Services

नवरात्र में कराएं कामाख्या बगलामुखी कवच का पाठ व हवन, पाएं कर्ज मुक्ति एवं शत्रुओं से छुटकारा

विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हिमाचल में ऑनलाइन बनेंगे कर्फ्यू पास, इन व्हाट्सऐप नंबरों पर करें आवेदन

कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए पूरे हिमाचल में कर्फ्यू लागू किया गया है। ऐसे में लोगों को आपात स्थिति में बाहर जाने के लिए कर्फ्यू पास का होना आवश्यक हैं।

28 मार्च 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

कांगड़ा

रविवार, 29 मार्च 2020

धर्मशालाओं में अलग से रखे जाएंगे संक्रमित लोग: अंकुश 16-19-23

ज्वालामुखी (कांगड़ा)। एसडीएम ज्वालामुखी अंकुश शर्मा ने उपमंडल के लोगों से लॉकडाउन का गंभीरता से पालन करने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि इस वायरस की गंभीरता को समझते हुए सरकार ने पहले जिला कांगड़ा और अब पूरे प्रदेश में लॉकडाउन के आदेश दे दिए हैं। इन आदेशों का उपमंडल निवासियों को पालन करना होगा। इस समय हल्की लापरवाही भी पूरे समाज पर भारी पड़ सकती है। क्षेत्र में यदि कोई भी व्यक्ति विदेश से आया है तो वह स्वयं या परिवार के लोग प्रशासन को जानकारी दें। जानकारी छुपाने वालों पर कठोर कार्रवाई की जाएगी। प्रशासन झूठी अफवाह फैलाने वालों पर भी कड़ी कार्रवाई करेगा। एसडीएम ने क्षेत्र के लोगों को आश्वासन देते हुए कहा कि आपातकालीन व्यवस्थाओं से निपटने के लिए उपमंडल में 500 बेड की व्यवस्था की जाएगी। संभावित एवं संक्रमित लोगों को एकांत में रखने हेतु पांच जगह 500 बेड की व्यवस्था की जाएगी। इनमें कुठियाला धर्मशाला, बंसल धर्मशाला, गीता भवन, अग्रवाल धर्मशाला और यात्री सदन को उपयोग में लाया जाएगा। ... और पढ़ें

सात सैक्टरों में बांटा नूरपुर उपमंडल, चार स्थानों पर नाके : एसडीएम

नूरपुर (कांगड़ा)। एसडीएम डॉ. सुरेंद्र ठाकुर ने कहा कि पूरे जिले में लॉकडाउन लागू किया गया है। उन्होंने कहा कि लोग जरूरी न हो तो अपने घरों से बाहर न निकलें और प्रशासन के आदेशों का पूरा पालन करें। उन्होंने कहा कि इन आदेशों की अवहेलना करने वालों पर सख्त कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने कहा कि इस दौरान अस्पताल, मेडिकल स्टोर, ऐनकों, राशन, फल-सब्जी, दूध, ब्रेड, मीट-मछली की दुकानों के खोलने पर छूट रहेगी। इसके अतिरिक्त पेट्रोल-पंप, गैस एजेंसियां, डाकघर, बैंक और एटीएम पूर्ण रूप से क्रियाशील रहेंगे। उन्होंने बताया कि उपमंडल को सात सेक्टरों में बांटा गया है, जिसकी निगरानी के लिए सुरक्षा कर्मियों के अतिरिक्त सात सेक्टर अधिकारी भी नियुक्त किए गए हैं। इसके अतिरिक्त उपमंडल में वक्तपुर, कंडवाल, औंद और जसूर में नाके बनाए गए हैं। उन्होंने बताया कि उपमंडल में चौकसी बढ़ा दी गई है और दिन-रात पेट्रोलिंग सुनिश्चित की गई है। उन्होंने बताया कि जिन लोगों को स्वास्थ्य विभाग की सलाह पर घरों में विशेष निगरानी में रखा गया है, उन लोगों की प्रतिदिन रिपोर्ट लेने के लिए स्वास्थ्य विभाग की निगरानी टीम के अतिरिक्त एक-एक अन्य कर्मी प्रतिदिन उनसे मिलकर उनके स्वास्थ्य के बारे में प्रशासन को विस्तृत जानकारी प्रस्तुत करेंगे। उन्होंने लोगों से झूठी अफवाहों से दूर रहने का आग्रह किया है। उन्होंने कहा कि किसी भी तरह की झूठी अफवाह फैलाने और मैसेज फॉरवर्ड करने वाले ऐसे लोगों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की जाएगी। ... और पढ़ें

गला रेत कर की आत्महत्या

इन्दौरा/ठाकुरद्वारा (कांगड़ा)। डमटाल थाना क्षेत्र की सिरत पंचायत में एक घर में किराए पर रह रहे प्रवासी ने ब्लेड से अपने गले की नसों को काट कर अपनी जान दे दी। पुलिस ने मामला दर्ज कर आगामी कार्रवाई शुरू कर दी है।
मृतक राजीव कुमार पुत्र बुधु राम निवासी गांव भमोर तहसील सठिया जिला आजमगढ़ यूपी की बहन रेखा देवी ने पुलिस को दी जानकारी में बताया कि वह पिछले काफी सालों से डमटाल में किसी निजी उद्योग में अपने परिवार के साथ कार्य करती है। उसका भाई राजीव कुमार भी डमटाल में ही साथ लगते मकान में किराए पर रह रहा था कि सोमवार को सुबह 10 बजे उसके भाई के कमरे से चीखने चिल्लाने की आवाजें आने लगीं। जब दरवाजा खोलना चाहा तो उसने अपने कमरे को अंदर से बंद कर रखा था। इस पर मृतका की बहन ने आसपास के रहने वाले लोगों को इकट्ठा किया और जबरन दरवाजा खोला। इस दौरान देखा कि उसका भाई राजीव कुमार ने ब्लेड से अपने गले की सारी नसों को काट लिया था। इस पर राजीव कुमार को घायल अवस्था में इंदौरा सरकारी अस्पताल में ले जाया गया।
पुलिस को मिली सूचना के आधार पर डमटाल पुलिस थाना के एएसआई हामिद ने अपनी पुलिस टीम सहित मौके का निरीक्षण किया और इंदौरा अस्पताल पहुंचे। यहां राजीव की गंभीर अवस्था को देखते हुए उसे नुरपुर अस्पताल रेफर कर दिया गया। नुरपुर अस्पताल में उपचार के दौरान देर सायं उसने दम तोड़ दिया। पुलिस शव का पोस्टमार्टम करवा रही है। डीएसपी नुरपुर डॉ. साहिल अरोड़ा ने मामले के संदर्भ में बताया कि मृतका की बहन ने डमटाल पुलिस थाने में खुदकुशी करने बारे में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। पुलिस मामले की जांच में जुट गई है और सभी पहलुओं को ध्यान में रखकर मामले की जांच को आगे बढ़ाया जा रहा है।
... और पढ़ें

रिड़कुमार से लेकर सल्ली तक भू-स्खलन से सड़क बंद

रिड़कुमार से लेकर सल्ली तक सड़क भूस्खलन से बंद
शाहपुर (कांगड़ा)। उपमंडल शाहपुर के तहत देर रात भारी बारिश के चलते रिड़कुमार से लेकर सल्ली तक तीन जगहों पर भूस्खलन से सड़क बंद हो गई। भूस्खलन से सड़क पर भारी चट्टानें गिरी हैं। इससे दस हजार से अधिक आबादी वाले इलाके में जरूरी खाद्य सामग्री भी नहीं पहुंच सकी।
शनिवार देर शाम तक भी लोक निर्माण विभाग सड़क को बहाल नहीं कर पाया था। उपतहसील दरीणी के नायब तहसीलदार फकीर चंद ने कहा कि उन्होंने लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को सूचित कर दिया है। उधर, लोक निर्माण विभाग मंडल कांगड़ा के अधिशासी अभियंता संजीव महाजन ने कहा कि एसडीएम शाहपुर जगन ठाकुर ने अनुमति प्रदान की है। रविवार सुबह जेसीबी से सड़क को बहाल किया जाएगा।
... और पढ़ें

कोरोना अलर्ट: 10 मार्च के बाद विदेशों से कांगड़ा पहुंचे

धर्मशाला। कोरोना वायरस को लेकर जिला प्रशासन ने हाई अलर्ट जारी किया है। कांगड़ा जिला में 10 मार्च के बाद अभी तक दुनिया के विभिन्न देशों से 802 और देश के अन्य राज्यों से 9800 लोग आए हैं। प्रशासन ने कांगड़ा जिला में पिछले 19 दिन में आए लोगों की सूची तैयार की है, जिनमें 10,602 लोगों का आंकड़ा सामने आया है। उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने इसकी पुष्टि की है।
उन्होंने जिले के सभी लोगों को दो टूक हिदायत दी है कि कोई भी अपने घरों से बिना विशेष जरूरी काम के बाहर न निकलेें। प्रशासन ने सभी उपमंडलों में विदेश व दूसरे राज्यों से आए लोगों की सूची तैयार की है। अभी कांगड़ा जिला में कोरोना वायरस के तीन मामले पॉजिटिव आए हैं, जिसमें एक तिब्बती की मौत के बाद कोरोना वायरस पाए जाने की पुष्टि हुई थी। इसके अलावा दो पॉजिटिव मामलों में से पुरुष मरीज की सात दिन बाद लिए सैंपलों की दोनों रिपोर्ट निगेटिव आई है। उन्होंने कहा कि जिला में बाहर और पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए 807 लोगों को होम आईसोलेशन में रखा गया है। स्वास्थ्य विभाग और प्रशासन की टीमें ऐसे लोगों से लगातार संपर्क बनाए हैं। इसके अलावा बाहर से आए सभी लोगों को परिवार व समाज के अन्य लोगों से कम से कम 14 से 28 दिनों तक दूरी बनाए रखने की हिदायत दी गई है।
टांडा और धर्मशाला अस्पताल की सभी ओपीडी बंद
धर्मशाला। स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना वायरस के चलते जोनल अस्पताल धर्मशाला और डॉ. राजेंद्र प्रसाद मेडिकल कॉलेज व अस्पताल की सभी ओपीडी बंद करने का फैसला लिया है। सिर्फ इमरजेंसी ओपीडी खुली रहेगी। इसके अलावा जिलाभर से रैफर गर्भवती महिलाओं की जांच के लिए चिकित्सक सेवाएं देंगे। सीएमओ कांगड़ा डॉ. गुरदर्शन गुप्ता ने कहा कि टांडा और धर्मशाला अस्पताल में इमरजेंसी को छोड़ सभी ओपीडी बंद रहेगी। दोनों अस्पतालों के विभिन्न विशेषज्ञों के नंबर सोशल मीडिया पर डाले गए हैं। कोई भी व्यक्ति अपनी सामान्य बीमारी से संबंधित जानकारी फोन के माध्यम से चिकित्सक से ले सकते हैं।
... और पढ़ें

कोरोना वायरस का असर: 11 लाख एपीएल परिवारों को भी अप्रैल में दो माह का राशन कोटा

कोरोना वायरस के चलते प्रदेश सरकार अप्रैल में एक साथ सभी साढ़े 18 लाख उपभोक्ताओं को दो माह के राशन कोटे का राशन भेजने की तैयारी में जुट गई है। एनएफएसए के अलावा सभी अंत्योदय, बीपीएल और एपीएल परिवारों को भी दो माह का राशन एकसाथ मिलेगा। सरकार ने खाद्य एवं आपूर्ति निगम को गोदामों से पहली अप्रैल के बाद तुरंत राशन कोटे की सप्लाई भेजने की हिदायत दी है।

खाद्य एवं आपूर्ति विभाग ने सभी डिपोधारकों को दो माह के राशन कोटे की डिमांड एकसाथ भेजने के निर्देश दिए हैं। डिपो में उपभोक्ताओं की भीड़ न लगे, इसके लिए राशन कार्ड की कैटेगिरी के अनुसार राशन वितरण का रोस्टर तैयार किया जा रहा है। इसमें अंत्योदय राशन कार्ड धारकों को सबसे पहले कोटा आवंटित किया जाएगा। उसके बाद एनएफएसए/बीपीएल और अंत में एपीएल राशन कार्ड धारक को राशन दिया जाएगा।

वर्तमान में सूबे में साढे़ 18 लाख राशन कार्ड धारक हैं, जिसमें एपीएल कैटेगिरी के साढे़ 11 लाख उपभोक्ता हैं। बीपीएल में पौने तीन लाख और अंत्योदय/एनएफएसए के लगभग चार लाख उपभोक्ता हैं। उधर, खाद्य एवं आपूर्ति नियंत्रक कांगड़ा नरेंद्र धीमान ने कहा कि अप्रैल-मई माह का कोटा एक साथ वितरित किया जाएगा। इसके लिए खाद्य एवं आपूर्ति निगम को डिमांड भेजी जा रही है।

मार्च का कोटा अगले महीने भी ले सकते हैं उपभोक्ता
सूबे में लगभग 80 प्रतिशत उपभोक्ताओं ने मार्च महीने का राशन कोटा डिपो से उठा लिया है। जो उपभोक्ता किसी कारण से राशन नहीं ले पाए हैं, वह अगले माह भी मार्च महीने का कोटा ले सकते हैं।
... और पढ़ें

कांगड़ा जिला से बाहर जाने पर पूर्ण प्रतिबंध

धर्मशाला। कोरोना कर्फ्यू के चलते अब कांगड़ा जिला से कोई भी व्यक्ति बाहर नहीं जा पाएगा। न ही बाहरी राज्यों और प्रदेश के दूसरे जिलों से कांगड़ा में किसी व्यक्ति को प्रवेश दिया जाएगा। शुक्रवार को कांगड़ा पुलिस ने सोशल मीडिया पर एडवाइजरी जारी की है।
इसमें कांगड़ा जिला से बाहर जाने वालों को दो टूक हिदायत दी गई है कि जो जिले से बाहर जाने का प्रयास करेेंगे, तो वह मुश्किल में फंस सकते हैं। इसके अलावा प्रदेश के दूसरे जिला और बाहरी राज्यों में फंसे कांगड़ा जिले के लोगों को हिदायत दी गई है कि वे जहां पर भी हैं, वहां के स्थानीय प्रशासन से संपर्क करें। वहां का स्थानीय प्रशासन ऐसे लोगों की हर मदद करेगा, जिससे उन्हें अपने घर या कांगड़ा जिला में आने की जरूरत नहीं पड़ेगी। उधर, एसपी कांगड़ा विमुक्त रंजन ने कहा कि कर्फ्यू के दौरान किसी भी सामान्य व्यक्ति को बाहर जाने की अनुमति नहीं दी जाएगी। जो बाहरी जिलों और राज्यों में लोग फंसे हैं, वह वहां के स्थानीय प्रशासन से संपर्क करें। जो भी उनकी जरूरत होगी, पूरी की जाएगी।
... और पढ़ें

प्रधान, उपप्रधान सड़क पर शराब के साथ पकड़े

हरिपुर/ गुलेर (कांगड़ा)। पुलिस थाना हरिपुर के अंतर्गत कर्फ्यू के दौरान क्षेत्र में गश्त कर रहे पुलिस बल ने विकास खंड देहरा की एक पंचायत के प्रधान और उपप्रधान को बेवजह सड़क पर खड़े हुए पकड़ा। प्रधान और उपप्रधान के पास थैले से शराब की बोतल भी मिली। पुलिस ने कर्फ्यू के उल्लंघन के आरोप में प्रधान और उपप्रधान पर केस दर्ज कर दिया है।
जानकारी के अनुसार वीरवार को कर्फ्यू के दौरान पुलिस बल बनखंडी क्षेत्र से होकर गुजर रहा था तो वहां पर सड़क पर दो व्यक्तियों को खड़े हुए देखा। पुलिस ने जब उनसे वहां पर खड़े होने का कारण पूछा गया तो वे संतोषजनक उत्तर नहीं दे पाए। पुलिस ने जब उनकी बाइक की तलाशी ली तो उनके थैले से एक बोतल शराब की पकड़ी गई। पुलिस ने उनके पास से पकड़ी शराब की बोतल को फेंक दिया। इस पूरी घटना का वीडियो भी बना जो शाम तक सोशल मीडिया में वायरल हो गया। वायरल हुए वीडियो में यह भी दिख रहा था कि उनमें से एक व्यक्ति पर पुलिस ने डंडा भी बरसाया है।
डीएसपी देहरा रणधीर सिंह ने बताया कि हरिपुर पुलिस थाना में एक पंचायत के प्रधान और उपप्रधान पर कर्फ्यू का उल्लंघन करने पर आईपीसी की विभिन्न धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।
... और पढ़ें

सुबह आठ से 11 बजे तक खरीद लें जरूरी सामान

धर्मशाला। हिमाचल सरकार के फैसले के बाद डीसी कांगड़ा राकेश प्रजापति ने भी जिला कांगड़ा में कर्फ्यू में ढील दे दी है। जिला कांगड़ा में शनिवार से सुबह 8 से 11 बजे तक आवश्यक वस्तुओं की दुकानें खुली रहेंगी। सब्जी, राशन और मेडिकल स्टोर सुबह 3 घंटे खुुले रहेंगे। बाजार में जरूरत की चीजों को खरीदने के लिए परिवार से सिर्फ एक ही व्यक्ति जा पाएगा। परिवार में एक से ज्यादा व्यक्ति को सड़क पर चलने की अनुमति नहीं होगी। जरूरत की चीजें खरीदने के लिए कोई भी व्यक्ति सड़क पर गाड़ी नहीं ले जा सकेगा। डीसी कांगड़ा ने लोगों से प्रशासन का सहयोग करने की अपील की है। उन्होंने कहा कि कर्फ्यू का उल्लंघन करने वाले लोगों पर सख्त कानूनी कार्रवाई होगी।
दोनों पॉजिटिव मरीजों की हालत स्थिर
टांडा अस्पताल में भर्ती कोरोना पाजिटिव दोनों मरीजों की हालत अभी स्थिर है। पिछले कुछ दिन से अस्पताल में दो पाजिटिव मरीज भर्ती हैं। इनमें से एक महिला और एक युवक शामिल है।
... और पढ़ें

आईसोलेशन पर रखा निजी अस्पताल का स्टाफ कर रहा हंगामा

धर्मशाला। कोरोना वायरस से 69 वर्षीय तिब्बती बुजुर्ग की मौत के बाद कांगड़ा के निजी अस्पताल में आईसोलेशन पर रखे स्टाफ के कुछ लोगों ने हंगामा शुरू कर दिया है। ये घर जाने की जिद कर रहे हैं। नाम न छापने की शर्त पर इन लोगों ने कहा कि वे होम आईसोलेशन में रहना चाहते हैं। अस्पताल के अंदर व्यवस्था सही नहीं है।
इनका दावा है कि तिब्बती मरीज को जब अस्पताल लाया गया था तो वे उसके संपर्क में नहीं आए थे। स्टाफ के करीब 6 लोग ही मरीज के संपर्क में आए थे। अब इतने दिन से हम अस्पताल के अंदर आईसोलेशन में हैं। बाहर पुलिस तैैनात है। चार दिन से हम नहाए नहीं हैं। जब खाना दिया जा रहा है तो भीड़ हो जा रही है। हमें डर लग रहा है कि कहीं हम भी कोरोना वायरस के शिकार न हो जाएं। इसलिए उन्हें घर भेज दिया जाए। उधर, यह लोग अस्पताल के बाहर तैनात पुलिस कर्मियों से भी उलझ रहे हैं। इन लोगों का आरोप है कि न तो यहां ढंग का खाना मिल रहा है न ही सोने की उचित व्यवस्था है। जब वह रोगी के संपर्क में ही नहीं आए तो प्रशासन ने उन्हें जबरदस्ती अस्पताल में क्यों बंद कर दिया है? डीसी राकेश प्रजापति ने कहा कि सरकार को कांगड़ा के हरेक व्यक्ति के स्वास्थ्य की चिंता है। इसलिए रोजाना महत्वपूर्ण निर्णय लिए जा रहे हैं। बाहर कोरोना का संक्रमण न फैले इसलिए पूरे स्टाफ को एहतियात के लिए अस्पताल में क्वारंटीन पर रखा गया है। जिन लोगों में लगा कि उनमें इस तरह के लक्षण होने की संभावना नहीं है, उन्हें घर भी भेजा गया है। देर रात चार एंबुलेंस में स्टाफ के कुछ लोगों को होम आइसोलेशन में भेजा गया है। प्रशासन कोई रिस्क नहीं लेना चाहता। अस्पताल के अंदर पूरे स्टाफ को खाना और अन्य जरूरी सुविधाएं दी जा रही हैं। इस संकट की घड़ी में बेवजह हंगामा करना उचित नहीं है। ऐसे में स्टाफ को हंगामा करने के बजाय प्रशासन का साथ देना चाहिए। प्रशासन दिन-रात लोगों की हिफाजत के लिए ही काम कर रहा है।
... और पढ़ें

थोक विक्रेता किसी भी समय कर सकते हैं खाद्य वस्तु की सप्लाई

धर्मशाला। कर्फ्यू के दौरान आमजन को राहत के लिए जिला प्रशासन ने एक और फैसला लिया है। अब थोक विक्रेता किसी भी समय कांगड़ा जिला में खाद्य वस्तुओं सहित दवाइयों की सप्लाई कर सकते हैं। प्रशासन ने थोक विक्रेताओं को आठ से 11 बजे तक की पांबदी नहीं लगाई है, जबकि रिटेलर सिर्फ दिन में तय तीन घंटों में ही लोगों को सामान देने के दुकानें खोल सकते हैं।
पिछले दो दिन में कांगड़ा जिला के कई बाजारों में खाद्य वस्तुओं की सप्लाई नहीं हो पाई थी, जिसके बाद अब वीरवार को प्रशासन ने थोक विक्रेताओं को किसी भी समय सप्लाई देने के निर्देश दिए हैं। सप्लाई देने वाले वाहन में चालक के अलावा एक और व्यक्ति को रहने की छूट है। साथ ही खाद्य सामग्री के बिल आदि दस्तावेज पूरे होने चाहिए। दूध की सप्लाई भी पूरी तरह बहाल हो गई है। कांगड़ा जिला के धर्मशाला, बैजनाथ, नगरोटा बगवां सहित कई कस्बों में दूध-ब्रेड की आपूर्ति भी नहीं आई थी। उधर, उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति ने कहा कि थोक विक्रेता किसी भी समय खाद्य वस्तुओं की आपूर्ति कर सकते हैं। रिटेलर सुबह के तीन घंटे ही दुकानें खुली रखेंगेे।
गैस, पेट्रोल, डीजल की आपूर्ति बहाल
डीसी ने कहा कि आईओसी, इंडेन और एचपी गैस की आपूर्ति पूरे जिला में सुचारु रूप से आ रही है। एचपी गैस की आपूर्ति दो दिन नहीं आई थी, जो पंजाब से आती है। अब होशियारपुर जिला के उपायुक्त ने बात हुई है, उन्होंने आपूर्ति रूटीन में भेजने की हामी भरी है। इसके अलावा पेट्रोल व डीजल की आपूर्ति भी आ रही है।
जमाखोरी करने वाले नपेंगे
उपायुक्त ने कहा कि जिला प्रशासन जमाखोरी करने वालों के खिलाफ सख्ती से निपटेगी। इसके अलावा एसडीएम और खाद्य एवं आपूर्ति विभाग के अधिकारियों व निरीक्षकों को भी जमाखोरी करने वालों पर निगरानी रखने की हिदायत दी है।
... और पढ़ें

गुजरात से पहुंचे 2

राजा का तालाब (कांगड़ा)। दो दिन पहले अहमदाबाद से उपमंडल फतेहपुर की खेहर पंचायत के एक भट्ठे पर पहुंचे लगभग 28 प्रवासी मजदूरों व उनके बच्चों को एसडीएम फतेहपुर बलवान चंद मंडोत्रा ने बुधवार को आइसोलेट कर दिया।
एसडीएम ने भट्ठा मालिक को हिदायत दी कि इन लोगों को 28 दिन के लिए न किसी से मिलने न दिया जाए न ही बाहर कहीं जाने दिया जाए। वहीं राशन व सर्दी से बचाव के लिए सभी को गर्म वस्त्र उपलब्ध करवाने के दिशा-निर्देश भी जारी किए। इस मौके पर उन्होंने साथ आए चिकित्सा अधिकारी आयुष शर्मा व उनकी टीम को निर्देश देते हुए कहा कि इनके स्वास्थ्य पर कड़ी नजर रखते हुए हर रोज जांच की जाए। इस अवसर पर स्थानीय पंचायत प्रधान मीनाक्षी देवी, चिकित्सा अधिकारी आयुष शर्मा व उनकी टीम , वेटरनेरी फार्मासिस्ट अनिल कुमार विशेष रूप से शामिल रहे।
उक्त सभी प्रवासी मजदूर दो दिन पहले ही ट्रेन के माध्यम से जनरल वार्ड में अहमदाबाद से राजस्थान, हरियाणा और पंजाब होकर यहां पहुंचे हैं। कोरोना वायरस के डर के साये में रह रहे स्थानीय लोगों को जब इसकी जानकारी मिली तो उन्होंने स्थानीय पंचायत प्रधान मीनाक्षी देवी को सूचित किया। वहीं प्रधान ने इसकी सूचना एसडीएम, पुलिस व चिकित्सा अधिकारियों को दी।
... और पढ़ें

कोरोना: कतर से आए भांजे को छिपाने के आरोप में मामा पर केस

हिमाचल के कांगड़ा में पुलिस चौकी रैहन में मामा और भांजे पर पुलिस ने मामला दर्ज किया है। यह मामला कतर से आए भांजे को छिपाकर अपने घर पर रखने के चलते दर्ज किया गया है। अब पुलिस ने परिवार के सात लोगों को भी होम क्वारंटीन पर रखा है। 

जानकारी के अनुसार उपमंडल फतेहपुर पुलिस चौकी रैहन में मंगलवार को भांजे और उसके मामा के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई है। आरोप है कि भांजा कतर से आया था। इस दौरान वह अपने मामा के पास चिकित्सा अधिकारियों को सूचित किए बिना छिपकर रहने के लिए चला आया। इस बावत उसने रैहन और पठानकोट में चिकित्सा अधिकारियों को सूचित तक नहीं किया।

इस बारे में गोलवां के लोगों ने इसकी सूचना रैहन के चिकित्सा अधिकारी और पुलिस को दी।  पुलिस और स्वास्थ्य विभाग की टीम मौके पर पहुंची तो मामा ओंकार सिंह ने वहां से भागने में मदद की। इस बात की पुष्टि एसडीएम फतेहपुर बलवान चंद मंढोत्रा ने की है।

उन्होंने बताया कि केवल कृष्ण और उसके मामा ओंकार सिंह के खिलाफ दो एफआईआर दर्ज करने का आदेश दिया गया है। ओंकार सिंह के परिवार के सात सदस्यों को होम क्वारंटीन पर रखकर किसी अन्य के संपर्क में न आने के दिशा निर्देश जारी किए गए हैं।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us