विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन
विज्ञापन

From nearby cities

हिमाचल में नौ और जमातियों को कोरोना वायरस, मामलों की संख्या 27 पहुंची

हिमाचल में मंगलवार को कोरोना वायरस के नौ नए मामले सामने आए हैं। संक्रमितों में अधिकतर जमाती हैं। सभी कोरोना पॉजिटिव मरीज ऊना के हैं।

7 अप्रैल 2020

विज्ञापन
विज्ञापन

ऊना

मंगलवार, 7 अप्रैल 2020

युवक ने की आत्महत्या, कोरोना की रिपोर्ट आई है निगेटिव

हिमाचल प्रदेश के ऊना जिले के सरहदी गांव बनगढ़ में 37 वर्षीय युवक ने फंदे से लटककर आत्महत्या कर ली। सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर मामला दर्ज कर कार्रवाई शुरू कर दी है। पुलिस की शुरुआती जांच के मुताबिक गांव के ही कुछ लोगों ने दिलशान मोहम्मद ऊर्फ विपिन पुत्र दिलशाद पर अपने घर में दो जमातियों को शरण देने के आरोप लगाए थे, जिसके चलते एहतियात के तौर पर पुलिस दिलशान को मेडिकल चेकअप के लिए अपने साथ ले गई थी। उसमें कोरोना की आशंका को देखते हुए सैंपल की जांच करवाई गई, जिसकी रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद उसे पुलिस शनिवार शाम को उसके घर छोड़ गई। 

पुलिस के मुताबिक जिन दो लोगों को युवक ने अपने घर में रखा था, उनकी रिपोर्ट भी निगेटिव आई है। घर आने के बाद दिलशान अपनी मां से मिला। मां ने उसे गांव में बेवजह बदनाम करने की बात बताई। मृतक की मां ऊषा देवी ने कहा कि वह पूरी तरह से टूट गया था।

रविवार सुबह वह बाथरूम गया, लेकिन बाहर नहीं आया। पत्नी अमनप्रीत कौर ने जाकर देखा तो वह भीतर फंदे ले लटका मिला। चौकी प्रभारी कुलदीप कुमार ने बताया कि मृतक ने अपनी नसें काटने का भी प्रयास किया है, मौके पर ब्लेड भी मिला है। एसपी ऊना कार्तिकेन गोकुलचंद्रन ने कहा कि मृतक के परिवार की तरफ से अभी कोई ऐसी शिकायत नहीं आई है, जिसमें युवक पर किसी ने कोई आरोप लगाया हो। पुलिस मामले की जांच कर रही है।


डीजीपी सीताराम मरडी ने युवक के लोगों के बायकॉट के चलते आत्महत्या करने को दुखद बताया। उन्होंने कहा कि उसकी कोरोना रिपोर्ट निगेटिव आई थी, लेकिन लोगों ने संदेह के आधार पर उससे सोशल डिस्टेंसिंग के नाम पर सामाजिक भेदभाव किया, जो कि गलत है। उन्होंने लोगों से अपील की कि ऐसे मुश्किल हालात में सब एकजुट रहें और भेदभावपूर्ण व्यवहार न करें।
... और पढ़ें

मंदिर ट्रस्ट चिंतपूर्णी ने पहली बार चैत्र नवरात्रों पर नहीं खोले दानपात्र

कोरोना वायरस को लेकर 14 अप्रैल तक लॉकडाउन से मंदिर भी अछूते नहीं रहे हैं। हिमाचल के विश्वविख्यात चिंतपूर्णी मंदिर में करोड़ों का नकद चढ़ावा मंदिर न्यास को मिलता था, उसमें इस बार बेहद कमी दर्ज की गई है। इसकी पुष्टि मंदिर कार्यालय के सुपरिंटेंडेंट जीवन कुमार ने की है। इतिहास में पहली बार सरकार के आदेशों के बाद चिंतपूर्णी मंदिर के कपाट 17 मार्च को श्रद्धालुओं व स्थानीय लोगों के लिए बंद कर दिए गए थे। 

देश में 14 अप्रैल तक लॉकडाउन लगाया गया है। चिंतपूर्णी मंदिर के कपाट बंद हुए 19 दिन हो गए हैं। इस कारण चढ़ावे में भारी कमी आई है। 25 मार्च से 3 अप्रैल तक चैत्र नवरात्र बिना श्रद्धालुओं के हुए। नवरात्रों के बाद मंदिर में रखे दानपात्र नहीं खोले गए। इससे पहले दानपात्रों को खोलने की एक नियमित प्रक्रिया अपनाई जाती थी। मंदिर ट्रस्ट के गणना कक्ष में मंदिर अधिकारी की देखरेख में चढ़ावा नियमित रूप से गिना जाता था, लेकिन इस बार चढ़ावे को नहीं गिना गया। मंदिर में श्रद्धालुओं के आने पर पाबंदी है। लॉकडाउन के चलते पंजाब के सारे बॉर्डर सील हैं। 

पिछले साल चढ़े थे 95 लाख 63 हजार
पिछले साल चैत्र नवरात्रों में मां चिंतपूर्णी के दरबार में श्रद्धालुओं ने 95 लाख 63 हजार 761 रुपये नकद, 101.20 ग्राम सोना, 5.245 किलो चांदी अर्पित की थी। इस बार कोई भी श्रद्धालु मंदिर नहीं आया। दानपात्र में जो दान डाला, वह पुजारियों ने ही डाला। चैत्र नवरात्रों में न के बराबर ही नकद चढ़ावा चढ़ा।

इस कारण मंदिर न्यास ने चढ़ावे की गणना पर रोक लगा दी है। कार्यकारी मंदिर अधिकारी मनोज कुमार ने बताया कि लॉकडाउन के बाद कुछ दिन तक गणना नियमित रूप से की, पर दान पात्र से अपेक्षित राशि नहीं मिली। अब गिनती करने पर रोक लगा दी है। मंदिर के कपाट खुलने के बाद फिर चढ़ावे की गणना होगी।
... और पढ़ें

कोरोना से निपटने को पुलिस ने तैयार की क्यूआरटी

ऊना। जिले में पुलिस ने कोरोना से निपटने के लिए पीपीई किट से लैस क्यूआरटी टीम तैयार कर ली है। जिला पुलिस ने कोरोना वायरस की आपदा से निपटने के लिए पीपीई किट से लैस पुलिस जवानों की करीब पांच टीमें तैयार की हैं। जिला में अगर कहीं पर कोरोना पॉजीटिव के मामले सामने आते हैं तो पीपीई किट से लैस पुलिस कर्मी तुरंत घटना स्थल पर पहुंचेंगे।
कोरोना वायरस से बचाव के लिए जिला प्रशासन के अधिकारियों ने विशेष रूप से पीपीई किट तैयार की है। इस कीट की खासियत यह है कि इसके अंदर कपड़े पूरी तरह ढके होंगे। चेहरे को पूरी तरह से ढकने के लिए विशेष ग्लास का इस्तेमाल किया गया है। हालांकि प्रदेश के अन्य जिलों में अभी तक इस तरह की कोई विशेष पीपीई किट नहीं तैयार की गई है। बताया जा रहा है कि जिला ऊना से कांगड़ा व बद्दी के लिए भी 15 पीपीई किटें पुलिस जवानों के लिए भेजी गई हैं। इस पीपीई किट को तैयार करने के लिए एसपी डॉ. कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन, एडीसी अरिंदम चौधरी, एएसपी विनोद धीमान, डीएसपी ऊना अशोक वर्मा का विशेष योगदान रहा है। एसपी डॉ. कार्तिकेयन गोकुलचंद्रन ने बताया कि पीपीई किट से लैस पुलिस जवानों की टीम में वाहन चालक सहित छह पुलिस जवान तैनात किए गए हैं। उन्होंने बताया कि इस तरह की पांच टीम तैयार की गई हैं।
एसपी ने बताया कि जिले में अगर कहीं कोरोना पॉजीटिव के मामले समाने आते हैं या कहीं से कोरोना के संदिग्ध लोगों का कहीं ले जाने होगा, तो पीपीई किट से लैस क्यूआरटी की टीमें तुरंत कार्रवाई करेंगी। उन्होंने बताया कि जिले में हर सब डिवीजन पर दस पुलिस कर्मियों की टीम तैनात की गई हैं। एसपी ने बताया कि पंजाब के साथ लगती सभी सीमाएं सील कर दी गई हैं। इसमें मुख्य सड़कों सहित गलियों के रास्ते भी बंद कर दिए हैं। एसपी ने बताया कि पंजाब के साथ लगते बार्डर पर जिला भर में करीब 230 पुलिस कर्मी तैनात किए गए हैं।
... और पढ़ें

दो डॉक्टर, एक स्वास्थ कर्मी आईसोलेशन वार्ड में भर्ती

ऊना। नकड़ोह की एक मस्जिद में कोरोना वायरस पीड़ित मरीजों की जांच के दौरान उनके संपर्क में आए दोनों डॉक्टरों समेत एक स्वास्थ्य कर्मी को होम क्वारंटीन के बाद जिला स्वास्थ्य विभाग ने अंब अस्पताल में आईसोलेट कर दिया है। दोनों ही चिकित्सकों में बुखार के लक्षण चल रहे हैं। इसके चलते एहतियात के तौर पर डॉक्टरों और स्वास्थ्य कर्मी को अस्पताल के आईसोलेशन वार्ड में भर्ती किया गया है।
हालांकि इन सभी के कोरोना टेस्ट करवा दिए हैं, जो नेगेटिव आए हैं। फिर भी एहतियात के तौर पर इन्हें स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटीन पर रखा था। सीएमओ डॉ. रमन कुमार ने बताया कि दोनों ही चिकित्सकों समेत स्वास्थ्य कर्मी को एहतियात के तौर पर पहले होम क्वारंटीन किया था। लेकिन उनका बुखार नहीं उतर रहा है। इसके चलते उन्हें आईसोलेशन वार्ड में भेजा है। उन्होंने बताया कि दोनों ही डॉक्टर और अस्पताल के कुछ और कर्मी जिले के तीन कोरोना पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आए थे। विभाग इनको लेकर पूरी एहतियात बरत रहा है।
... और पढ़ें

तब्लीगियों ने पहचान छुपाई तो दर्ज होगा हत्या के प्रयास का केस

ऊना। अगर तब्लीगी जमात से जुड़े लोगों ने अपनी पहचान छुपाई और कोरोना का संक्रमण आगे फैला तो उसके खिलाफ आईपीसी की धारा 307 यानी हत्या के प्रयास का केस दर्ज किया जाएगा।
इस संबंध में आदेश जारी करते हुए उपायुक्त संदीप कुमार ने कहा कि अगर कोरोना संक्रमित व्यक्ति की बाद में मौत हो जाती तो आईपीसी की धारा 302 यानी हत्या का केस दर्ज किया जाएगा। उन्होंने सभी तब्लीगियों से अपनी आवश्यक जानकारी नजदीकी पुलिस स्टेशन या फिर अस्पताल के साथ साझा करने की अपील की।
डीसी ने कहा कि ऐसी सूचना है कि निजामुद्दीन दिल्ली से मार्च में कुछ तब्लीगी जिला ऊना में आए हैं। ऊना में ऐसे तीन लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। इनका इलाज टांडा में चल रहा है, जबकि कुछ की रिपोर्ट निगेटिव आई है। कुछ तब्लीगियों को एहतियात के तौर पर क्वारंटीन सेंटर और आईसोलेशन वार्ड में रखा है।
कुछ यूनिट को मिली कर्फ्यू से छूट
डीसी ने कुछ औद्योगिक यूनिट को भी कर्फ्यू से छूट दी है। इनमें मेडिकल ऑक्सीजन गैस, मेडिकल ऑक्सीजन सिलिंडर, लिक्विड ऑक्सीजन रखने वाले क्रायोजेनिक सिलिंडर, लिक्विड क्रायोजेनिक सिलिंडर, लिक्विड ऑक्सीजन क्रायोजेनिक ट्रांसपोर्ट टैंक, एंबियेंट वेपोराइजर तथा क्रायोजैनिक वॉल्व, सिलिंडर वॉल्व बनाने वाले उद्योग शामिल हैं। इस संबंध में जिलाधीश ने बताया कि इन सामानों की ढुलाई पर प्रतिबंध हटा लिया है। संदीप कुमार ने कहा कि इन उद्योगों में काम करने वालों को घर से फैक्ट्री तक आने-जाने के पास दिए जाएंगे, ताकि इनमें काम सुचारू रूप से चल सके।
... और पढ़ें

ऊना में कर्फ्यू के बीच मिलेगा पिज्जा

ऊना। लॉकडाउन और कर्फ्यू के बीच पिज्जा के शौकीनों के लिए अच्छी खबर है। जिला प्रशासन ने शहर के एक पिज्जा मेकर को होम डिलीवरी की अनुमति दे दी है। हालांकि प्रशासन के इस निर्णय को लेकर लोगों में कई तरह के मत हैं। बहरहाल हंगरी प्वाइंट को पूरा दिन पिज्जा की होम डिलवरी की अनुमति होगी।
जिला प्रशासन ने इसके लिए कुछ प्रोटोकॉल तय किए हैं। उपायुक्त संदीप कुमार ने पत्र देते हुए हंगरी प्वाइंट को कहा है कि उन्हें स्वास्थ्य और स्वच्छता के प्रोटोकॉल को मानना होगा। सामाजिक दूरी रखनी होगी। किचन की सफाई संबंधी भी निर्देश दिए हैं। डिलीवरी व्हीकल हर बार इस्तेमाल के बाद सैनिटाइज करने होंगे। सभी डिलीवरी ब्वॉयज को डीसी कार्यालय से पास प्राप्त करने होंगे। इस दौरान केवल होम डिलीवरी की ही अनुमति होगी। दुकान का शटर दिन भर बंद रखना होगा। ब्यूरो
... और पढ़ें

बंगाणा में कोई जमाती या संदिग्ध व्यक्ति नहीं

बंगाणा ( ऊना)। बंगाणा पुलिस ने पिपलू, ननावीं, मलांगड़, घरवासड़ा की मस्जिदों में दबिश दी लेकिन वहां कोई भी संदिग्ध नहीं मिला। पुलिस ने सभी मौलवियों को भी कड़े निदेश दिए कि अगर कोई बाहरी राज्य से रिश्तेदार या फिर दिल्ली जमात के किसी व्यक्ति को बिना सूचना के पनाह दी, तो उन पर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।
थाना प्रभारी बंगाणा मनोज कौंडल ने कहा कि उपमंडल की मुस्लिम बहुल क्षेत्र में कोई भी बाहरी राज्य अथवा दिल्ली जमात कोई व्यक्ति नहीं मिला है। कौंडल ने कहा कि सभी पंचायत प्रधान और प्रतिनिधियों से भी मिलकर उन्हें भी चेतावनी दी है कि अगर पंचायत में कोई बाहरी व्यक्ति आए तो बिना देरी प्रशासन और पुलिस को सूचित करें। साथ ही अगर पनाह दी तो उन पर भी कार्रवाई होगी। कौंडल ने कहा कि सोशल मीडिया पर कोई भी नागरिक झूठी अफवाह और हिंदू-मुस्लिम पर गलत पोस्ट न डाले। उपमंडल के कुछ नागरिक हिंदू मुस्लिम पर सोशल मीडिया पर भड़काऊ पोस्ट डाल रहे हैं। कोई भी व्यक्ति किसी प्रकार की कोई अभद्र पोस्ट न डाले और न ही कोई व्यक्ति झूठी अफवाह फैलाए।
... और पढ़ें

जिले से कोरोना जांच के लिए 23 सैंपल भेजे

ऊना। कोरोना से बचाव को लेकर जिला प्रशासन ने स्क्रीनिंग के अलावा व्यापक स्तर पर सैंपलों की जांच शुरू कर दी है। सोमवार को जिले से 23 सैंपल जांच के लिए टांडा स्थित मेडिकल कालेज भेजे गए हैं।
उपायुक्त संदीप कुमार ने बताया कि इनकी रिपोर्ट मंगलवार को आएगी। उन्होंने कहा कि 23 में से 11 लोग तब्लीगी जमात से जुड़े हैं। इन्हें कुठेड़ा खैरला में रखा था। अब उन्हें जेएनवी पेखुबेला में बनाए क्वारंटीन सेंटर में शिफ्ट कर दिया है। इसके अलावा 12 लोग क्षेत्रीय अस्पताल ऊना के आइसोलेशन वार्ड में भर्ती हैं। इनमें से किसी में भी कोरोना के लक्षण नहीं हैं, लेकिन एहतियात के तौर पर इन सभी के टेस्ट करवाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब तक जिले में 41 कोरोना टेस्ट किए हैं, जिनमें से 38 निगेटिव रहे हैं जबकि तीन पॉजीटिव मरीजों का इलाज टांडा में चल रहा है।
राशन के 12 हजार पैकेट बांटे
डीसी ने कहा कि अब लोग स्वयं भी सजग हो रहे हैं। कर्फ्यू के दौरान लोगों का भरपूर समर्थन मिल रहा है। गांवों के बाहर लोग स्वयं बाहर से न आने की अपील करने के बोर्ड लगा रहे हैं। उन्होंने कहा कि अब तक जिले में 12 हजार राशन के पैकेट जरूरतमंदों को वितरित गए हैं, जिसमें एक महीने का राशन दिया गया है।
जिले में सुरक्षा उपकरण पर्याप्त
सीएमओ डॉ. रमण कुमार शर्मा ने कहा कि जिले में स्वास्थ्य कर्मियों के पास पर्याप्त सुरक्षा उपकरण हैं। स्वास्थ्य विभाग के पास 200 पीपीई किट्स हैं। इनमें से 10-10 किट्स ब्लॉक लेवल पर दी गई हैं। इन किट्स का इस्तेमाल पहली पंक्ति में काम करने वाले स्वास्थ्य कर्मी कर रहे हैं। इसके अलावा मास्क और सैनिटाइजर का भी विभाग के पास पर्याप्त स्टॉक है। उन्होंने कहा कि जिले में बनाए बफर क्वारंटीन सेंटर में अब तक 910 लोगों को रखा गया है। इनकी स्क्रीनिंग लगातार की जा रही है। इसके अलावा 899 लोग होम क्वारंटीन में है, जिनमें से 452 लोग विदेश से आए हैं।
... और पढ़ें

कर्फ्यू में ढील के दौरान गाड़ी चलाई तो होगी जब्त

मैहतपुर (ऊना)। कर्फ्यू के दौरान जरूरी सामान की खरीदारी के लिए मिलने वाली ढील में अगर कोई वाहन चलाते हुए पाया जाता है, तो ऐसी स्थिति में वाहन जब्त किया जा सकता है। यातायात पुलिस मैहतपुर ने 24 मार्च से शुरू लॉकडाउन और कर्फ्यू के दौरान आदेश की पालना न करने वाले वाहन चालकों के खिलाफ सख्त कार्रवाई की है। इस दौरान 68 वाहन चालकों के ऑनलाइन चालान काटे हैं। इस दौरान एक कार तथा दो बाइक जब्त की है।
जिला प्रशासन ने साफ निर्देश दिए हैं, कि कर्फ्यू के दौरान मिलने वाली ढील में खरीदारी करने के लिए परिवार का एक सदस्य बाजार से जरूरी सामान खरीद सकता है। बाजार जाने के लिए वाहन चलाने की इजाजत नहीं है। इसके बावजूद देखा गया है कि ढील के दौरान लोग दोपहिया वाहनों, कारों से बाजारों को सामान खरीदने आ जा रहे हैं। यह जिला प्रशासन के आदेश का उल्लंघन है। जिले के सीमावर्ती क्षेत्र मैहतपुर में स्थानीय यातायात पुलिस ने ऐसे लोगों के खिलाफ शिकंजा कस दिया है। यातायात प्रभारी राजीव कुमार ने कहा कि नियमों की अवहेलना पर अब तक 68 चालान किए हैं। इनमें एक कार तथा दो बाइक जब्त की हैं।
... और पढ़ें

गद्दी समुदाय को पशुपालन विभाग ने दिया राशन

बंगाणा (ऊना)। पशुपालन विभाग ने गद्दी समुदाय को धुंधला और नलूट में गद्दी समुदाय को राशन, कृमिनाशक दवाइयां, कैल्शियम और लीवर टॉनिक खनिज लवण बांटा। डिप्टी डायरेक्टर डॉ. जेएस सेन, सहायक निदेशक सुरेश धीमान, उपमंडलीय वरिष्ठ पशु चिकित्सक अधिकारी डॉ. सतिंद्र ठाकुर ने कहा कि पशुपालन विभाग जिला ऊना एवं उपमंडल बंगाणा की संयुक्त टीम ने घुमंतू भेड़-बकरी पालकों की मदद की।
उन्होंने कहा कि विभाग ने ओम प्रकाश की 450, अंगत राम की 400, अर्जुन राम की 350 भेड़-बकरियाें के लिए राशन दिया। इन्होंने टांडा लठियानी तरखांका गांव में डेरा डाला है। उनको मौके पर जाकर राहत दी है। राज्य सरकार की तरफ से दी जा रही राशन किट भी मुहैया करवाई गई है। पशुपालन विभाग ने घुमंतू भेड़ बकरियों का भी निरीक्षण किया।
पशुपालन विभाग ने जिला ऊना वासियों से निवेदन किया कि कोई भी व्यक्ति सोशल मीडिया पर भयंकर कोरोना वायरस को राजनीति से न जोड़े और जिला उना के प्रशासन स्वास्थ्य विभाग पुलिस विभाग और मीडिया कर्मियों का आभार प्रकट करें। जो दिन-रात हमारी सुरक्षा के लिए डटे हैं। 14 अप्रैल तक देश में हुए लॉकडाउन का पालन करें। अपने घरों में परिवार सहित सुरक्षित रहें।
... और पढ़ें

गर्भवती को देरी से उपचार देने का आरोप

ऊना। क्षेत्रीय अस्पताल में गर्भवती के परिजनों ने अस्पताल के स्टाफ पर उपचार में देरी का आरोप लगाया है। परिजनों ने इसकी शिकायत सीएम हेल्पलाइन को भेजी है।
गर्भवती के पति शमीर पुत्र सत्तर दीन ने सीएम हेल्पलाइन पर भेजी शिकायत में अस्पताल प्रबंधन पर उपचार में लापरवाही का आरोप लगाया है। शिकायतकर्ता ने बताया कि उसकी पत्नी नीलम गर्भवती है। पांच अप्रैल को डिलीवरी की डेट थी। वे पांच अप्रैल को सुबह 7.15 बजे के करीब ऊना अस्पताल में एंबुलेंस से पहुंचे। जब वे पहुंचे तो उनके साथ अस्पताल के स्टाफ ने बदतमीजी की और कहा कि तब्लीगी जमात के चलते उनके परिवार का पहले टेस्ट होगा।
इसके बाद ही उन्हें एडमिट किया जाएगा। शिकायतकर्ता ने बताया कि वह तब्लीगी जमात में नहीं गए थे। वे सैंपल देने के लिए भी तैयार थे, लेकिन बाद में किसी ने भी उनके सैंपल नहीं लिए। उन्होंने बताया कि सुबह आठ बजे जब दूसरी शिफ्ट खत्म हुई तो दूसरी स्टाफ नर्स ने उनकी पत्नी को एडमिट किया। 12 बजे के करीब डिलीवरी हुई। सीएमओ ऊना डॉ. रमन कुमार का कहना है कि मामले की सूचना उन्हें मिली है। उन्होंने कहा कि एसएमओ को मामले की जांच करने के लिए कहा गया है।
... और पढ़ें

नहीं उतर रहा पॉजिटिव मरीजों के संपर्क में आए डॉक्टरों का बुखार

ऊना जिले के नकड़ोह स्थित एक मस्जिद में कोरोना पीड़ित मरीजों की जांच के दौरान उनके संपर्क में आए दो डॉक्टरों का बुखार नहीं उतर रहा है। स्वास्थ्य विभाग इन्हें आईसोलेशन सेंटर में भेजने की तैयारी कर रहा है। चिकित्सकों के बाकायदा कोरोना टेस्ट करवाए गए हैं। ये निगेटिव आए हैं।

एहतियात के तौर पर उन्हें स्वास्थ्य विभाग ने होम क्वारंटीन पर रखा है। हैरत की बात यह है कि एक सप्ताह से होम क्वारंटीन में उपचार के बावजूद इन चिकित्सकों का बुखार नहीं उतर रहा है। सीएमओ डॉ. रमन कुमार ने बताया कि दोनों चिकित्सकों को एहतियात के तौर पर होम क्वारंटीन किया गया है।

उनका बुखार नहीं उतर रहा है। आवश्यकता हुई तो उन्हें आईसोलेट किया जाएगा। दोनों डॉक्टर और अस्पताल के कुछ और कर्मचारी कोरोना पॉजिटिव लोगों के संपर्क में आए थे। विभाग पूरी एहतियात बरत रहा है। अगर सोमवार शाम तक डॉक्टरों की सेहत में सुधार नहीं हुआ तो इनका आईसोलेशन में उपचार किया जाएगा।
... और पढ़ें
अपने शहर की सभी खबर पढ़ने के लिए amarujala.com पर जाएं

Disclaimer


हम डाटा संग्रह टूल्स, जैसे की कुकीज के माध्यम से आपकी जानकारी एकत्र करते हैं ताकि आपको बेहतर और व्यक्तिगत अनुभव प्रदान कर सकें और लक्षित विज्ञापन पेश कर सकें। अगर आप साइन-अप करते हैं, तो हम आपका ईमेल पता, फोन नंबर और अन्य विवरण पूरी तरह सुरक्षित तरीके से स्टोर करते हैं। आप कुकीज नीति पृष्ठ से अपनी कुकीज हटा सकते है और रजिस्टर्ड यूजर अपने प्रोफाइल पेज से अपना व्यक्तिगत डाटा हटा या एक्सपोर्ट कर सकते हैं। हमारी Cookies Policy, Privacy Policy और Terms & Conditions के बारे में पढ़ें और अपनी सहमति देने के लिए Agree पर क्लिक करें।
Agree
Election
  • Downloads

Follow Us